POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag:

Blogger: akhtar khan akela at आपका-अख्तर खा...
ऑक्सीजन खत्म है, होने दो, चाय थोड़ी हैये सब गरीब बच्चे हैं, कोई गाय थोड़ी हैआएगा वक्त तो रो लेंगे मिल-जुल करअभी इस प्रदेश में चुनाव थोड़ी है.. www.akhtarkhanakela.blogspot.com... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   2:03am 11 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
सादर अभिवादन आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है (शीर्षक आदरणीय शास्त्री सर की रचना से )ग़ज़ल "कल हो जाता आज पुराना" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री )सुमन सीख देते हैं सबकोआज खिले कल है मुरझाना“रूप” न टिकता कभी किसी काक्षमा न करता कभी ज़माना -------------------"कब बोल... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   6:31pm 10 May 2021 #
Blogger: noopuram at नमस्ते namaste ...
"चाय देना एक भाई ! "कमज़ोर सी आवाज़ में अतीत बोला । चाय वाले ने अतीत की ओर देखा । डेढ़ पसली का आदमी दो-तीन दिनों में ही झटक गया था । उसका सारा परिवार कोरोना ग्रस्त अस्पताल में पङा था । ये जाने कैसे बच गया था । ख़ैर ..यहाँ तो एक से एक केस थे । बचे लोग देखभाल करने वाले, तो वे सारे अस... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   1:42pm 10 May 2021 #
Blogger: Randhir Singh Suman at लो क सं घ र्ष !...
 साथी पुरुषोत्तम मौर्य  का निधन हो गया ,श्री मौर्य एआईएसएफ, वाराणसी इकाई के अध्यक्ष थे। बीएचयू में दक्षिण डेलिगेसी स्टूडेंट्स यूनियन के अध्यक्ष के रूप में चुना गया। बाद में, उन्हें बीएचयू कर्मचारी संघ के महासचिव के रूप में चुना गया। इस तरह, स्वर्गीय पुरुषोत्तम मौ... Read more
clicks 7 View   Vote 0 Like   11:19am 10 May 2021 #
Blogger: akhtar khan akela at आपका-अख्तर खा...
 आज अम्मी का दिन है , जिसे लोग मदर्स डे , मातृ दिवस भी कहते है , ,लेकिन हमारे यहाँ तो, रोज़ ही अम्मी का दिन होता है ,,, कोई अहसान नहीं , यह होना ही चाहिए , जो कुछ भी चलता है ,,अम्मी की डांट डपट ,,उनकी दुआओं से ही चलता है ,,,उनका हाथ सर पर है , तो दुनिया से टकराकर भी जीतने की हिम्मत है ,, इस... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   2:43am 10 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज चर्चा की शीर्षक पंक्ति -'फ़िक्र से भरी बेटियां माँ जैसी हो जाती हैं'  आ. प्रतिभा कटियार 'जीके सृजन से ली गई है ।मातृ दिवस के उपलक्ष्य में आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ । आइए पढ़ते हैं आज की कुछ चुनिंदा रच... Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   6:31pm 9 May 2021 #
Blogger: umesh kumar shrivastava at Meri Gajale Mere Geet (मेरी...
कौन कहता फूल बड़े नाजुक होते हैंमैने देखा है उन्हे धूप में तप मुस्कुराते हुए।झुकना तहजीब मेरी , मजबूरी नही ,गुरुर पाल तू , खुद को, ज़मीदोज करता क्यूं है ၊.......उमेश... Read more
clicks 14 View   Vote 0 Like   4:37am 9 May 2021 #
Blogger: shalini kaushik at ! कौशल !...
 वो चेहरा जो        शक्ति था मेरी ,वो आवाज़ जो      थी भरती ऊर्जा मुझमें ,वो ऊँगली जो     बढ़ी थी थाम आगे मैं ,वो कदम जो    साथ रहते थे हरदम,वो आँखें जो   दिखाती रोशनी मुझको ,वो चेहरा   ख़ुशी में मेरी हँसता था ,वो चेहरा   दुखों में मेरे रोता था ,... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:45am 9 May 2021 #
Blogger: akhtar khan akela at आपका-अख्तर खा...
 अजीब डर का माहौल है बीबी खाने में नमक डालना भूल गई और उधर पति टेंशन में आ गया कि खाने में स्वाद नहीं आ रहा डर गया बिना कुछ कहे आफिस निकल लिए, इधर बीबी टेंशन में आ गयी कि बिना पूरा खाना खाये निकल गए बाद में उसने जब टेस्ट किया तो नमक नही था बीबी भी डर गई की कही गुस्से में तो न... Read more
clicks 68 View   Vote 0 Like   2:47am 9 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
सादर अभिवादन ! रविवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक अभिनन्दन !आज चर्चा की शीर्षक पंक्ति -"माँ के आँचल में सदा, होती सुख की छाँव।।"  आ. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'जीके दोहे से ली गई है ।मातृ दिवस के उपलक्ष्य में आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभका... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   6:31pm 8 May 2021 #
Blogger: JHABUA ALERT NEWS at Jhabua Alert News...
झाबुआ । सहायक संचालक जनसम्पर्क विभाग झाबुआ श्री बी.एस.रावत का कोरोना से निधन गत रात्रि को हो गया। श्री रावत जिला अस्पताल अलिराजपुर (गृह निवास ) में इलाज के लिये भर्ती थे। श्री रावत के निधन पर जनसम्पर्क विभाग भोपाल से प्रमुख सचिव म.प्र. शासन श्री शिवशेखर शुक्ला, आयुक्त ... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   3:36pm 8 May 2021 #
Blogger: Randhir Singh Suman at लो क सं घ र्ष !...
जगन्नाथ सरकार का जन्म 25 सितम्बर 1919 को उड़ीसा के पुरी में हुआ था। वहां उनके पिता डा अखिलनाथ सरकार असिस्टेंट सर्जन के पद पर थे। उनकी माता का नाम बीनापाणि था। कहा जाता है कि वहां के मंदिर का रथ का कार्य उनकी मां पवित्र कार्य के रूप में करती थी  जब जगन्नाथ सरकार पेट में थे।इस... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   5:42am 8 May 2021 #
Blogger: akhtar khan akela at आपका-अख्तर खा...
 दिल की बातें करते रहे सभीफेंफड़े का कुछ बताया ही नहीं, फेंफड़ा भी स्वाभिमानी निकलागुस्सा था, पर जताया ही नहीं।इतना नाराज थे ऐ दोस्त!तो कम से कम जताया तो होतादिल की जगह तुम भी ले सकते थे बस एक बार बताया तो होता। दिल का क्या है वो तो टूटता हैफिर जुड़ जाया करता है,ऐ फेंफड़... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   1:43am 8 May 2021 #
Blogger: Pratibha Saksenas at लालित्यम्...
 राग-विराग - 11.अनेकों अवान्तर कथाओं द्वारा रोचकता बढ़ाने के साथ नई-नई जानकारियां देते हुए तुलसीदास का  कथा-क्रम चलने लगा था. बीच-बीच में गाये जानेवाली उनकी स्वरचित स्तुतियाँ और आत्म-निवेदन सुन कर श्रोतागण मुग्ध हो जाते. उनकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही थी.लोक ने उन्हें स... Read more
clicks 30 View   Vote 0 Like   1:13am 8 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
सादर अभिवादन। शनिवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज भूमिका में वरिष्ठ साहित्यकार आदरणीया कल्पना मनोरमा जी की रचना से वाक्यांश- सांझ का लाल मुखमंडल देखकर लग रहा था कि सूरज अस्ताचल की ओर मुखातिब हो चला था। पश्चिम की ओर क्षितिज पर लग रहा था, किसी स्त्री ... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   6:31pm 7 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" at चर्चामंच...
सादर अभिवादन ! शुक्रवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन !  आ.दिलबाग सिंह जी के थोड़ा अस्वस्थ होने के कारण कल की चर्चा अंक के लिए  क्षमा याचना के साथ मैं मीना भारद्वाज आपके सम्मुख आज चर्चा के साथ उपस्थित हूँ । आजकल सभी चिंत... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   6:31pm 6 May 2021 #
Blogger: devendra gautam at ग़ज़लगंगा.dg...
 सभी की बात सुनती हो, वही सरकार होती है.हुकूमत में लचीलेपन की भी दरकार होती है. सियासत के लिए बर्बाद कर देते हो क्यों आखिरबड़ी मुश्किल से कोई नस्ल जो तैयार होती है. खुली आंखों से जो तसवीर दिखती है निगाहों कोवही तो बंद आंखों में कहीं साकार होती है. हवेली दर हवेली राख... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   9:22am 6 May 2021 #
Blogger: Jaydeep Shekhar at कभी-कभार...
       चिकित्सा से सम्बन्धित सलाह उसी को देनी चाहिए, जिसके पास इसका लाइसेन्स (किसी भी तरह का) हो, दूसरों को ऐसी कोशिश नहीं करनी चाहिए- इस सिद्धान्त के तहत मैं आज की इस पोस्ट को अब तक नहीं लिख रहा था, लेकिन देख रहा हूँ कि एक वायरस के संक्रमण से हाहाकार मचा हुआ है, जो कम ... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   8:50am 6 May 2021 #
Blogger: Praveen Kumar Gupta at HAMARA VAISHYA SAMAJ - हमार...
PRATEEK GANDHI - प्रतीक गांधी का संघर्षप्रतीक गांधी का संघर्ष:'स्कैम 1992'के एक्टर ने बताया- सूरत में आई बाढ़ ने छीन लिया था हमारा घर, फिर पूरा परिवार एक रूम-किचन वाले घर में रहाप्रतीक गांधी एक भारतीय थिएटर और फिल्म अभिनेता हैं, जो मुख्य रूप से गुजराती थिएटर और सिनेमा में काम करते हैं... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   7:25am 6 May 2021 #
Blogger: Jagdanand Jha at Sanskritbhashi संस्कृ...
                                                                                                                                 लेखिका               &nb... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   6:25am 6 May 2021 #
Blogger:  at cool thoughts...
‌‌‌आइए जानते हैं आग कितने प्रकार की होती है ?aag kitne prakar ki hoti hai ? आग बुझाने के सिद्धांत ,आग दहनशील पदार्थों का तीव्र ऑक्सीकरण है, जिससे उष्मा, प्रकाश और अन्य अनेक रासायनिक प्रतिकारक उत्पाद जैसे कार्बन डाइऑक्साइड और जल आदि पैदा होते हैं।और ईंधन के अंदर मौजूद अशुद्धियों की वजह ... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   3:54am 6 May 2021 #
Blogger: akhtar khan akela at आपका-अख्तर खा...
 केंद्र सरकार और केंद्र के सुप्रीमो शर्म करो यार, दिल्ली ऑक्सीजन संकट को सुधारने की जगह , हाईकोर्ट में झूँठ प्रोस रहे हो , टिप्पणी ठीक रही , शतुरमुर्ग की तरह रेत के ढेर में मुंह छुपा रहे हो , दिल्ली ने आपको वोट नहीं दिया , तो भी वोह है तो हिंदुस्तानी , मत मारो उन्हें ऑक्सी... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   2:04am 6 May 2021 #
Blogger: Ravindra K Ranjan at My Letter...
- दीनू मेघवालहर तरफ वार्डब्वॉय और परिवारजन मृतकों से ऑक्सीजन हटा कर जीवितों को लगा रहे थे। जिसके बच सकने की उम्मीद थी, उसे किसी तरह हाथ-पैर मारकर बचाना चाह रहे थे। इस कोलाहल के बीच मैं भी थोड़ा बहुत बचा हुआ था, लेकिन समाज की अंतरात्मा की तरह मैंने भी सोए रहना चाहा। सिंले... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   10:24am 5 May 2021 #

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194119)