POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: नमस्ते namaste

Blogger: noopuram
"चाय देना एक भाई ! "कमज़ोर सी आवाज़ में अतीत बोला । चाय वाले ने अतीत की ओर देखा । डेढ़ पसली का आदमी दो-तीन दिनों में ही झटक गया था । उसका सारा परिवार कोरोना ग्रस्त अस्पताल में पङा था । ये जाने कैसे बच गया था । ख़ैर ..यहाँ तो एक से एक केस थे । बचे लोग देखभाल करने वाले, तो वे सारे अस... Read more
clicks 0 View   Vote 0 Like   1:42pm 10 May 2021 #
Blogger: noopuram
मेरे कमरे कीखिङकी का यह कोनाजिसमें फूला है मोगरा, धूप में जितना तपताउतना ही बढ़िया खिलताऔर सुगंध बिखेरता !मेरे कमरे कीखिङकी का यह कोनाजिसमें फूला है मोगरा, खुशियों का है टोटका !खाद,पानी,धूप का होना, और प्यार से यदि सींचामेहनत का फूल खिलेगा!मेरे कमरे कीखिङकी का यह ... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   9:56am 4 May 2021 #
Blogger: noopuram
अलविदा २०७७ ।आ ही गया तुम्हारे अस्त होने का समय ।बहुत कष्ट पाया तुमने ।अलग-थलग सबसे विलगमौन हो गए और हो गए विलय नवागन्तुक प्रहर की लहर में विलीन ।अब मिलना होगा नव संवत्सर की चौखट पर ।सुना है,अब जो आओगे पोटली में होंगे सुदामा के चावल।मित्रवत स्वागत तुम्हारा हृदय तल से... Read more
clicks 34 View   Vote 0 Like   4:23pm 13 Apr 2021 #
Blogger: noopuram
ये शहरों की रौनक ।दिन-रात की चहल-पहल ।ये लहलहाते खेत ।नदी किनारे मंगल गान ।मैदानों में दौङ लगाते,खेलते-कूदते,पढ़ते-लिखते अपना मुकद्दर गढते बच्चे ।हँसती-खिलखिलाती,सायकिल की घंटी बजातीस्कूल जाती बच्चियाँ ।मिट्टीु के कुल्हड़ में धुआँतीचाय की आरामदेह चुस्कियां ।थाल... Read more
clicks 10 View   Vote 0 Like   4:14am 11 Apr 2021 #
Blogger: noopuram
कभी-कभी कोई वजह नहीं होतीपास हमारे, आज का पुल पार कर के, कल का अभिनंदन करने की ।ज़िन्दगी बन जातीमशक्कत बेवजह की ।ऐन वक्त पर लेकिन आपत्ति जता देती,एक नटखट कलीजो खिलने को थी ।यह बोली कलीजाने की वेला नहीं,निविङ निशि ।टोक लग जाती ।फूल रही जूहीसुगंध भीनी-भीनी,बि... Read more
clicks 28 View   Vote 0 Like   2:42pm 6 Apr 2021 #
Blogger: noopuram
चाँद का झूमर सितारों की बाली, किरणों का हार चुनरिया धानी ।भाता है मुझको सजना संवरना,हर दिन खुद को खुशियों से रंगना ।लेकिन ठहरो ज़रा मेरी बात सुनना,बस इतना ही तुम मुझको न समझना ।कभी मेरे भीतर बहती नदी को,तट पर बैठे-बैठे महसूस करना ।कल-कल अविरल शांत बहता जल, लहर-लहर उमङ... Read more
clicks 59 View   Vote 0 Like   3:37pm 8 Mar 2021 #
Blogger: noopuram
भले आदमी थेजल्दी चले गए ।जल्दी चले गए ?अच्छे चले गए  !जो लंबे रह गए ।वो पछता रहे !जल्दी जाने वाले,अचानक जाने वाले,कम से कम सोचिए..खुशफ़हमी में तो गएकि उनके जाने से सबके दिल बहुत दुखे ।जी जाते अगर लंबे तो सारे भ्रम दूर हो जाते ।चकनाचूर हो जातेइरादे अपने अनुभव से सबको ... Read more
clicks 73 View   Vote 0 Like   4:39pm 4 Mar 2021 #
Blogger: noopuram
Remember the glowing street lamps ?Down the old lane in the nights ..When we studied in our homesSurrounded by reassuring comforts..In breaks we looked out of our windowsTo feel the cool breeze in the trees,Admiring the flower like street lightsBeaming like blessings on the boys,Sitting under them studying religiouslyHolding the books close to their eyes.For the mellow yellow light of the lampsWas all they had cradling their hopes.They blinked and scribbled their notesIn their stained one - sided used sheets.So many of them sitting on torn chataaisDetermined to overcome life's adversities.Stubbornly challenging their difficult destinies.Once they would pause to eat chapatis.Looking up at the... Read more
clicks 30 View   Vote 0 Like   5:00pm 22 Feb 2021 #
Blogger: noopuram
विलक्षण है निस्संदेह आपकी बहुआयामी प्रतिभा ।किंतु क्या करें बताइए आपकी विद्वता का ?जिसके भार तले साधारण जन मनदबते चले जाते हैं ।धराशायी हो जाता है आत्मविश्वास इनका,तिनका-तिनका जोङाजो साहस जुटा कर ।लाभ क्या हुआ?यदि ज्ञान आपकाहमेशा आंखें तरेरता,तत्काल कर दे स... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   11:01am 21 Feb 2021 #
Blogger: noopuram
उठो अब जागो !दरवाज़ा कोईखटखटा रहा,आतुर है तुम्हें बुलाने को,साथ ले जाने को ।बाहर निकलो ।देखो दुनिया की रौनक, चहल-पहल ।काम पर सब के सब निकल पङे हैं ।तुम क्यों हताश हो ?जीवन से क्यों निराश हो ?भागदौड़ आपाधापी से निरर्थक व्यस्तता से त्रस्त हो ?चले जा रहे हैं सारे बेतहा... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   5:50pm 12 Feb 2021 #
Blogger: noopuram
शाम ढले देखा,सामने की छत पर पहने नारंगी जामाटहल रहा था सूरज,अब तक ढला न था ।असमंजस में था ।मन में सोच रहा थाआज अगर छत परसो जाऊं मैं चुपचाप ?देखूँ कैसे दिखते हैं तारे दूर गगन में झिलमिलाते ।कैसा लगता है चंद्रमा ?नभ के भाल पर चमकता ।और चांदनी का उजियारा ।इतने में कोई वहा... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   5:55pm 10 Feb 2021 #
Blogger: noopuram
जन्मभूमि के लिए जो जिये और मरे,उनका अनुकरण कर पाएं हम ..साहस का उनके कर वरण,नित करें स्मरण और वंदन ।शहीदों और वीरों केबलिदान का हर क्षण,अमिट छाप छोङेयुवा मानस पर ।जो न्योछावर हुए देश की माटी पर,उन पर न्योछावर देश की धङकन ।श्वास श्वास कृतज्ञशत शत नमन,सदा सेवा म... Read more
clicks 108 View   Vote 0 Like   10:43am 26 Jan 2021 #
Blogger: noopuram
सब कुछ छिन जाने के बाद भी कुछ बचा रहता है ।सब समाप्त होने के बाद भी शेष रहता है जीवन, कहीं न कहीं ।सब कुछ हार जाने के बाद भी, बनी रहती है विजय की कामना ।फिर तुम्हें क्यों लगता है,कि तुममें कुछ नहीं बचा ?न कोई इच्छा, न कोई भावना ?न ही तुम्हारी कोई उपयोगिता  ..अ... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   4:15am 24 Jan 2021 #
Blogger: noopuram
इस मिथ्या जगत में एक सच्ची अनुभूति कीआस है मुझे, इसलिए हर करवट में दुनिया कीदिलचस्पी है मेरी ।इतने शानदार खेल-तमाशे चप्पे-चप्पे पर जिसने सजाए,वो जो हो हमारे-तुम्हारे लिए,नीरस तो नहीं होगा ।कुछ तो होगा ऐसा,जिसके लिए जी-जान लगा केमेंहदी की तरह रचता गया ..रचता गया संस... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   9:25am 22 Jan 2021 #
Blogger: noopuram
सुबह सुबह सांकल खटका के,चंचल हवा आ बैठी सिरहाने ।हाथों में थामे थी चरखी और पतंग, बातों से छलके थी बावली उमंग !बोली जल्दी चलो खुले मैदान में !सूरज भी आ डटा है आसमान में !झट से रख लो संग पानी की बोतल !मूंगफली,तिल के लड्डू,रेवङी,गजक !देखो टोलियाँ तैनात हैं आमने-सामने !पतंगें भ... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   6:16pm 14 Jan 2021 #
Blogger: noopuram
टहनियों पे खिलते फूल ।पूजा की टोकरी में रखे फूल ।माला में पिरोए फूल ।चित्रों में सजीव फूल ।किताबों में संजोए फूल ।गुलदस्तों से झांकते फूल ।सेहरे की लङियों में फूल ।वेणी में गुंथे गजरे के फूल ।मन की टोह लेते फूल ।मन की टोह लेते फूल ।मर्म को छू लेते हैं फूल ।ख़ैरियत का पैग... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   1:28pm 20 Dec 2020 #
Blogger: noopuram
आज संध्या समयजो बाला दिया, बहुत देर तकजलता रहा ।अकंपित लौतम के भाल पर तिलक समानशोभायमान ।लक्ष्य केवल साध्य पूर्णतः समर्पित ध्यानावस्थित लौ ।जब-जब दीप बाला,जगमगाता देखा अंतर के देवालय काछोटा-सा आला ।... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   7:07pm 4 Dec 2020 #
Blogger: noopuram
कोई कोई दिन होता है ऐसा ..स्वाद उतरा हुआ साफीका ..मन परास्त हार मान लेता,जब काम सधते नहीं किसी तरह भी ।तब ही अकस्मात नज़र पड़ी बाहररखे गमले पर ।जिस पौधे की सेवा बहुत की थी,फिर छोङ दी थीसारी उम्मीद ।उसी पौधे परनाउम्मीदी को सरासर मात दे कर,खिला था एक रुपहला फू... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   7:18am 29 Sep 2020 #
Blogger: noopuram
होने चाहिएहर आदमी कीज़िंदगी मेंमुट्ठी भर ऐसे लोगजो आपकी चुप्पी काबहुत बुरा मानें ।अपनी नाराज़गी सेआपको खंगालें,मजबूर कर दें,अपनी चुप्पीउंडेल देने को ।ये जताने को कि फ़र्क पड़ता है उन्हेंहमारे होने याना होने से ।आश्वस्त करने के लिएकि वो हमेशा रहेंगेमौजूद कहीं आसपासआ... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   8:42am 31 Aug 2020 #
Blogger: noopuram
फूल नहीं,फूल की खुशबू नहीं ।आकाश का छलकतागहरा नीला रंग नहीं ।बादलों के पंख नहीं ।चंद्र और सूर्य नहीं ।बारिश में भीगीमिट्टी की सुगंध नहीं ।नदी का भंवर नहीं ।कल कल बहता जल भी नहीं ।नैया नहीं, खेवैया नहीं ।आँगन के कुँए का मीठा पानी भी नहीं ।रूप की लुनाई नहीं ।शिशु की क... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   5:32pm 23 Aug 2020 #
Blogger: noopuram
सुबह हो गई है ।देखो ठंडी हवा बह रही है ।पहाड़ी चमेली खिली है ।अमलतास झूम रहा है ।तमाल ध्यानावस्थितऔर भी घना लग रहा है ।तुलसी के पौधे मानोसंकीर्तन में मग्नठाकुर द्वारे पर समवेतप्रफुल्लित प्रतीक्षारतहरि को समर्पित होने को तत्पर ।वो दूर खड़ी कर्णिकासोच में डूबी हुई सी... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   11:54am 7 Jul 2020 #
Blogger: noopuram
रिश्ते रेत के महल होते हैं ।भव्य सुंदर मनोरमपर एक लहर आएतो ढह जाते हैं ।उंगलियों के बीच सेरेत की तरह फिसल जाते हैं,देखते-देखते ।जतन ना करने सेऔर कई बारबिना किसी वजहरीत जाते हैं ।संबंधछीज जाते हैं ।जैसे छलनी में सेजल ।अश्रु जल सेबह जाते हैं,जब बांधटूट जाता है ।भवित... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   3:02pm 26 Jun 2020 #
Blogger: noopuram
तिरेपन तुरपनों के बादबार-बार उधड़ी सिलाइयों की,तिरेपन पैबंद जोड़ने के बाद,रंग कुछ फीके पड़ने के बाद,जैसा भी है कथा ताना-बाना,कुल मिला कर बुरा नहीं रहा,हिसाब-किताब लेन-देन का,बही खाते में जो दर्ज हुआ ।जुलाहे ने जतन से जो बुना था ।साधारण पर कच्चा नहीं था धागा ।धागों और बुनावट ... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   10:31am 11 Jun 2020 #
Blogger: noopuram
खुश रहने को कौन बहुत सामान चाहिए !सुबह जल्दी आँख खुलीखुश हो गए !एक नई चिड़िया देखीखुश हो गए !बड़े दिनों में चिट्ठी आई खुश हो गए !आज चहेती सखी मिलीखुश हो गए !गमले में इक कली खिलीखुश हो गए !नल में पानी देर तक आयाखुश हो गए !मुश्किल सवाल हल हो गएखुश हो गए !अच्छा-सा इक गीत सुनाखुश ... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   10:23am 5 Jun 2020 #
Blogger: noopuram
एक पेड़ का धराशायी होना,टूट कर गिरना,हतप्रभ कर देता है ।एक सदमे की तरहआघात करता है ।कुछ तोड़ देता हैअपने भीतर ।एक पेड़ कोठूंठ बनते देखातो लगा,क्या फ़र्क है,पेड़ के सूखनेऔर भावनाओं केजड़ हो जाने में ?इसीलिए जबठूंठ भी ना रहा,हृदय की तरलअनुभूति भीजाती रही ।जड़ों के बिना कोईजी प... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   10:22am 1 Jun 2020 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194120)