POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: चर्चामंच

Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। करोना-काल की भयावहता से गुज़रते भारत में जिजीविषा का संघर्ष जारी है।महत्त्वपूर्ण सूचना              आज चर्चामंच अपने नियमित सुधी पाठकों से एक निवेदन करना चाहता कि करोना महामारी के चलते हमारे चर्चाक... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   6:30pm 16 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! रविवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक अभिनन्दन करती हूँ !आज की चर्चा का शीर्षक आ. शास्त्री सर द्वारा सृजित  पुरानी रचना   "हम बसे हैं पहाड़ों के परिवार में"से लिया गया है ।--आइए अब बढ़ते हैं आज के चयनित सूत्रों की ओर-"हम बसे हैं प... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   6:31pm 15 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 सादर अभिवादन। शनिवारीय चर्चा अंक में आपका स्वागत है। आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित चंद चुनिंदा रचनाएँ-ग़ज़ल "राह में चलते-चलते" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')मंजिल सभी को है चलने से मिलतीठहरना नहीं, राह में चलते-चलते रखना नजर प... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   6:31pm 14 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! शुक्रवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन !  आज की चर्चा का शीर्षक "आ चल के तुझे, मैं ले के चलूँ:"विकास नैनवाल 'अंजान'जीलेख से लिया गया है।--आइए अब बढ़ते हैं आज के चर्चा सूत्रों की ओर-"अनुभावों की छिपी धरोहर"गीत और ... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   6:31pm 13 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है भारत के लिए परीक्षा की घड़ी है और साथ ही यह मानवता के लिए भी| सोशल मीडिया पर रोज मित्रों का बिछुड़ना आहत करता है, लेकिन सांत्वना भरे बोलों के सिवा देने को कुछ नहीं| हाँ, दुआ की जा सकती है| दुआ करते रहो, शायद यह किसी के काम आए चलते हैं ... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   7:00pm 12 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है (शीर्षक आदरणीय शास्त्री सर की रचना से )ग़ज़ल "कल हो जाता आज पुराना" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री )सुमन सीख देते हैं सबकोआज खिले कल है मुरझाना“रूप” न टिकता कभी किसी काक्षमा न करता कभी ज़माना -------------------"कब बोल... Read more
clicks 23 View   Vote 0 Like   6:31pm 10 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज चर्चा की शीर्षक पंक्ति -'फ़िक्र से भरी बेटियां माँ जैसी हो जाती हैं'  आ. प्रतिभा कटियार 'जीके सृजन से ली गई है ।मातृ दिवस के उपलक्ष्य में आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ । आइए पढ़ते हैं आज की कुछ चुनिंदा रच... Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   6:31pm 9 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! रविवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक अभिनन्दन !आज चर्चा की शीर्षक पंक्ति -"माँ के आँचल में सदा, होती सुख की छाँव।।"  आ. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'जीके दोहे से ली गई है ।मातृ दिवस के उपलक्ष्य में आप सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभका... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   6:31pm 8 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन। शनिवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। आज भूमिका में वरिष्ठ साहित्यकार आदरणीया कल्पना मनोरमा जी की रचना से वाक्यांश- सांझ का लाल मुखमंडल देखकर लग रहा था कि सूरज अस्ताचल की ओर मुखातिब हो चला था। पश्चिम की ओर क्षितिज पर लग रहा था, किसी स्त्री ... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   6:31pm 7 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! शुक्रवार की प्रस्तुति में आप सभी प्रबुद्धजनों का पटल पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन !  आ.दिलबाग सिंह जी के थोड़ा अस्वस्थ होने के कारण कल की चर्चा अंक के लिए  क्षमा याचना के साथ मैं मीना भारद्वाज आपके सम्मुख आज चर्चा के साथ उपस्थित हूँ । आजकल सभी चिंत... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   6:31pm 6 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादनआज की प्रस्तुति मे स्वागत है आप सभी का (शीर्षक और भूमिका आदरणीय दिगंबर जी की रचना से)शास्त्री सर तो पहले से ही बीमार थे ,अब अनीता जी की भी अस्वस्थ होने की खबर मिली है इसीलिए आज मैं फिर से उपस्थित हूँ लेखन और पठन दोनों से मन उचट सा रहा है... प्रस्तुति लग... Read more
clicks 57 View   Vote 0 Like   6:31pm 4 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन समय की ये निष्ठुरता अब सहन नहीं हो रही कितने अपनों को छिनेगी ये,कब तक यूँ ही खून के आँसू रुलायेगी हमेंआदरणीया  वर्षा जी तो शायद खुद एक डॉक्टर थी, यकीनन जानकर भी थी और सतर्क भी मगर...फिर भी इस क्रूर काल से खुद को बचा नहीं पाई। हाँ,यकीन ही नहीं हो रहा है न क... Read more
clicks 28 View   Vote 0 Like   6:31pm 3 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
शीर्षक पंक्ति: आदरणीय रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'जी की रचना से।  सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित चंद चुनिंदा रचनाएँ-"डूबा नया जमाना" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")भूल गये हैं हम उनको,जो जग से हैं जाने वाल... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   7:19pm 2 May 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन। आज की प्रस्तुति में आदरणीय शास्त्री सर के अस्वस्थ होने के कारण मैं उपस्थित हूँ चयनित सूत्रों के साथ । इसी  कामना के साथ कि वे शीघ्रातिशीघ्र स्वस्थ हो कर आपके लिए अपने चिरपरिचित अंदाज़ में चर्चाएं प्रस्तुत करें ।आइए पढ़ते हैं आज की पसंदीदा रचनाएँ-  --... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   6:31pm 20 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है (शीर्षक और भूमिका आ. अनीता जी की रचना से)"श्वासें कीमती हैं कितनी यह बात सिखा रहा है एक वायरस आज""अब भी जीवन को समझों और उसकी कद्र करों अपनों के महत्व को समझों, उनके साथ और प्यार की कद्र करों"समझा रहा है ये अन... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   6:31pm 19 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।अब भारत करोना का भयावह दौर झेल रहा है,वक़्त का कैनवास देखो कौन किसे ढकेल रहा है।    #रवीन्द्र_सिंह_यादव आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित कुछ रचनाएँ-बालकविता "गर्मी को अब दूर भगाओ" (डॉ.रूपचन्द्र ... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   6:31pm 18 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 मित्रों रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।--बालगीत  "ककड़ी मौसम का फल अनुपम" लम्बी-लम्बी हरी मुलायम।ककड़ी मोह रही सबका मन।।कुछ होती हल्के रंगों की,कुछ होती हैं बहुरंगी सी,कुछ होती हैं सीधी सच्ची,कुछ तिरछी हैं बेढंगी सी,ककड़ी खाने से हो जाता,शीतल-शीतल मन का उ... Read more
clicks 46 View   Vote 0 Like   6:31pm 17 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 शीर्षक पंक्ति: आदरणीया यशोदा अग्रवाल जी । सादर अभिवादन। शनिवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।कुछ अपनी कुछ अपनों की छोटी-छोटी ख़्वाहिशें उँगली थामती हैं। क़दम-दर-क़दम मुस्कान को अपना बनाती हैं तब ज़िंदगी के मायने ही कुछ और होते हैं। न क़दम लड़खड़ाते हैं और न ही... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   6:31pm 16 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन ! शुक्रवार की प्रस्तुति में आप सभी विज्ञजनों का पटल पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन !आज की चर्चा प्रस्तुति का शीर्षक आदरणीयाडॉ. वर्षा जीद्वारा सृजित दोहे की पंक्ति "वन में छटा बिखेरते, जैसे फूल शिरीष"है ।--अब पढ़ते हैं आज के अद्यतन सूत्र- --"महापर्व में कुम... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   6:31pm 15 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत हैCBSE ने दसवीं की परीक्षा रद्द कर दी ही है और +2 की परीक्षा स्थगित, जबकि कुंभ के मेले पर खूब भीड़भाड़ है| शिक्षा को छोड़कर अन्य जगहों पर कोरोना कोई प्रभाव क्यों नहीं दिखाता, यह  विचारणीय विषय है| यदि एक बार यह मान भी लिया जाए कि बोर्ड सामूह... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   7:00pm 14 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 आप सबको भारतीय नव वर्ष, चैत्र नवरात्र और अम्बेदकर जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएँ।--आइए अब शुरू करते हैं चर्चा का क्रम। ----नव वर्ष आप सभी के जीवन में मंगलमय रहे  ...सुगना फाउंडेशन Sawai Singh Rajpurohit, Active Life  --संवत २०७८ चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा,है हिन्दू नववर्ष।नव संव... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   6:31pm 13 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
सादर अभिवादन आज की प्रस्तुति में आप सभी का स्वागत है। (शीर्षक आदरणीया बीना सिह जी की रचना से )क्या खूब लिखा है बीना जी ने "काश में सोलह की हो जाती" एक बार तो ये ख्याल सभी को आता ही है... क्यूँ है न ?मगर इन दिनों तो ये ख्याल आ रहा है... "काश, हमारे पुराने दिन लौट आते"म... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   6:32pm 12 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 सादर अभिवादन। सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। भरी महफ़िलों में भी तन्हाइयों का है साया,कैसी अजब होती है दर्द-ए-जिगर की माया।#रवीन्द्र_सिंह_यादव लीजिए अब पढ़िए विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित कुछ ताज़ा-तरीन रचनाएँ-    -- कार यात्रा ♥ फोटोफीचर ♥ च... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   1:00am 12 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।--   सत्य कहूँ तो हम चर्चाकार भी बहुत उदार होते हैं। उनकी पोस्ट का लिंक भी चर्चा में ले लेते हैं, जो कभी चर्चामंच पर झाँकने भी नहीं आते हैं। कमेंट करना तो बहुत दूर की बात है उनके लिए। लेकिन फिर भी उनके लिए तो धन्यवाद बनता ही है जो निस... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   6:31pm 10 Apr 2021 #
Blogger: डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
 शीर्षक पंक्ति: आदरणीया अमृता तान्या जी । सादर अभिवादन। शनिवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।आज भूमिका में वरिष्ठ साहित्यकार आदरणीया अमृता तान्या जी की रचना से वाक्यांश-    हृदय के बीचों-बीच कहीं परमाणु विखंडन-सा कुछ हुआ है और सबकुछ टूट गया ह... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   6:31pm 9 Apr 2021 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3990) कुल पोस्ट (194118)