POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Tag: विश्वास

Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
      मेरे पिता का अस्पताल का कमरा उनसे मिलने आए मेहमानों के ठहाकों से गूंज उठा: दो वृद्ध ट्रक चालाक, एक भूतपूर्व लोक-गीत गायक, एक कारीगर, और पड़ौस के फ़ार्म से आई दो महिलाएँ तथा मैं, वहाँ पिताजी मिलने आए हुए थे। उस कारीगर ने अपनी कहानी को आगे बताते हुए कहा “...फिर वह उठा ... Read more
clicks 190 View   Vote 0 Like   3:15pm 27 Dec 2018 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   मेरे एक मित्र ने मुझे कुछ ऐसे लोगों के समूह के विषय में बताया जो मसीह में व्यक्तिगत विश्वास के दृढ़ बंधन से परस्पर बंधे हुए थे। उन में से एक 93 वर्षीय महिला का कहना था, "मुझे लगता है कि मैं आप में से किसी को भी, आवश्यकता पड़ने पर, रात के दो बजे भी बुला सकती हूँ, और आपकी इस सहा... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   3:15pm 18 Sep 2017 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   मुजे मेरी प्राथमिक शिक्षा के लिए अपने माता-पिता से दूर, एक अन्य परिवार के साथ रहना पड़ा था। वह परिवार मुझ से बहुत प्रेम करने और देखभाल करने वाला था, तथा मेरी देखरेख बहुत अच्छे से करता था। एक दिन एक पारिवारिक अवसर को मनाने के लिए सभी बच्चे एक स्थान पर एकत्रित हुए। उस स... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   3:15pm 6 Aug 2017 #विश्वास
Blogger: सु-मन (Suman Kapoor) at बावरा मन...
हे निराकार !तू ही प्रमाण , तू ही शाखतू ही निर्वाण , तू ही राख तू ही बरकत , तू ही जमाल तू ही रहमत , तू ही मलालतू ही रहबर , तू ही प्रकाशतू ही तरुबर , तू ही आकाशतू ही जीवन , तू ही आस तू ही सु-मन , तू ही विश्वास !!*******मन में विश्वास है और विश्वास में तुममेरे आकारित परिवेश के तुम एकमात्र प्र... Read more
clicks 233 View   Vote 0 Like   7:47pm 28 Jun 2017 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   बच्चों का अपने माता-पिता के परमेश्वर में विश्वास के उदाहरण का अनुसरण न करना आश्चर्यजनक हो सकता है। ऐसे ही अनेपक्षित उस व्यक्ति का मसीह यीशु में विश्वास तथा प्रतिबध्ता होती है जो किसी ऐसे परिवार से आया है जहाँ यह विश्वास कभी था ही नहीं। प्रत्येक पीढ़ी के प्रत्येक ज... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   3:15pm 2 May 2017 #विश्वास
clicks 122 View   Vote 0 Like   7:15am 6 Mar 2017 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   अमेरिका की अंतरिक्ष शोध संस्था नासा ने जब एक नए प्रकार की दूरबीन से प्रकाश के विभिन्न वर्णक्रमों को लेकर अंतरिक्ष की तस्वीरें खींचना आरंभ किया तो शोध कर्ता एक चित्र को देखकर दंग रह गए। उस चित्र में एक हाथ की ऊँगलियों, अँगूठे और खुली हुई हथेली के समान कुछ दिखता है ज... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   3:15pm 27 Jan 2017 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   क्रिस्टोफर लॉक पुराने भोंपू, तुरही, फ्रेंचहॉर्न आदि खरीदता है और उन्हें फिर आईफोन्स और आईपैड्स के लिए ध्वनि आवर्धन कर देने वाले उपकरण बना देता है। उसकी ये रचनाएं सन 1800 के अन्त के समय में आए ध्वनि तथा संगीत बजाने वाले प्रथम फोनोग्राफ्स के भोंपू-समान स्पीकरों पर आध... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   3:15pm 30 Oct 2016 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   टेलिविज़न पर युद्ध से ध्वस्त एक देश से विस्थापित हुए शरणार्थियों की बदहाल दशा पर रिपोर्ट प्रसारित हो रही थी। उन शरणार्थियों में एक दस वर्षीय लड़की की दृढ़निश्चयता को देखकर मैं चकित हुआ; यद्यपि उनके वापस अपने देश लौट पाने कि संभावनाएं ना के बराबर थीं परन्तु फिर भी उस... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   3:15pm 20 Mar 2016 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   हाई स्कूल के दिनों में मैं और मेरा निकटतम मित्र एक दोपहर को घोड़ों पर बैठकर घूमने निकले। हम आराम से जंगली फूलों से भरे मैदानों और पेड़ों के झुरमुटों में होकर इधर-उधर विचरण करते रहे। अपना घूमना समाप्त करने के पश्चात जब हम ने अपने घोड़ों को घर की ओर मोड़ा तो दोनों घोड़े सर... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   3:15pm 24 May 2015 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   एक 85 वर्षीय वृद्धा जो उस समय एक मठ में अकेली थी, लिफ्ट में 4 रात तथा 3 दिन तक फंसी रही। संयोग से उसके पास एक बर्तन में पानी, कुछ खाने का सामान और खाँसी की गोलियाँ थीं। उसने पहले तो लिफ्ट का दरवाज़ा खोलने और सेल-फोन का सिग्नल प्राप्त करने का असफल प्रयास किया, और फिर प्रार्थ... Read more
clicks 25 View   Vote 0 Like   3:15pm 11 Oct 2014 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   सन्तुष्ट रहना बहुत कठिन है। विश्वास के नायक, प्रेरित पौलुस को भी सन्तुष्ट रहना सीखना पड़ा (फिलिप्पियों 4:11); उसके लिए भी सन्तुष्टि, चरित्र का एक स्वाभाविक गुण नहीं था। पौलुस के द्वारा यह लिखा जाना कि वह हर परिस्थिति में सन्तुष्ट रहता है वास्तव में अचरजपूर्ण है, क्यों... Read more
clicks 32 View   Vote 0 Like   3:15pm 2 Oct 2014 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   मैं मिशिगन प्रांत के ऊपरी प्रायद्वीप गया हुआ था, वहाँ एक स्थान पर घूमते हुए दो पेड़ों की ओर मेरा ध्यान गया। यद्यपि बहुत हलकी सी ही हवा चल रही थी और अन्य पेड़ों के पत्ते उस से हिल भी नहीं रहे थे परन्तु फिर भी उस हलकी सी हवा में इन दोनों पेड़ों के पत्ते अच्छे से हिल रहे थे। ... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   3:15pm 1 Oct 2014 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   क्या एक मसीही विश्वासी जो अपने विश्वास की बातों को लेकर कभी-कभी सन्देह में पड़ जाता है, प्रभु यीशु की सेवकाई प्रभावी रीति से करने पाएगा? कुछ लोगों का मानना है कि परिपक्व एवं विश्वास में उन्नति करते रहने वाले मसीही विश्वासी कभी भी अपने विश्वास की बातों पर कोई सन्देह ... Read more
clicks 33 View   Vote 0 Like   3:27pm 12 Aug 2014 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   दूसरे विश्वयुद्ध के समय यूरोप पर हावी नाट्ज़ी जर्मनी के आताताईयों के ज़ुल्म का प्रतिरोध करने की अन्तिम सीमा ब्रिटेन ही रह गया था, और जर्मनी से हो रहे अनवरत आक्रमण के आगे यह प्रतिरोध टूटने की कगार पर पहुँचने लगा था, क्योंकि ब्रिटेन के पास वो संसाधन नहीं थे जिनकी सहाय... Read more
clicks 39 View   Vote 0 Like   3:15pm 23 Feb 2014 #विश्वास
Blogger: Anita nihalani at मन पाए विश्रा...
चलो, कुछ करें  चलो उठ खड़े हों, झाड़ें सिलवटों को मन के कैनवास को फैला लें क्षितिज तक प्यार के रंगों से फिर कोई खूबसूरत सोच रंग डालें बांटे आपस में हर शै जो अपनी हो चलो आँखें बंद करें, गहरे उतर जाएँ जानें पर्त दर पर्त अंतर्मन को आत्मशक्तियाँ जागृत होकर एक हो जाएँ अपन... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   9:26am 22 Nov 2013 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   क्वेकर जॉन वूलमैन अमेरिका में एक मसीही प्रचारक थे जो स्थान स्थान पर जाकर मसीह यीशु का प्रचार करते थे। वे एक ऐसे व्यक्ति भी थे जिन्होंने उस समय के उपनिवेशी अमेरिका में रंग-भेद और दासत्व के अन्त के लिए अभियान चला रखा था। वे दासों के मालिकों से मिलते और उन्हें दास प्र... Read more
clicks 53 View   Vote 0 Like   3:15pm 21 Oct 2013 #विश्वास
Blogger: अज्ञात मित्र Agyatmitra at अनकही...
बादल,पागल,चले ज़मीन आसमान एक करनेखाई का फ़रक लगे भरने,बेअक्ल या बेलगाम, सुरज की रोशनी को मुँह चिढाते,इतराते,इठलाते,भरमाते,नरमाते,पल-पल उम्मीदों को अजमाते, खड़े रहो कंचनजंघा अहम के साथइस भरम में कि उंचाई विजय है,और बस एक छोटा सा टुकड़ा, जिसे न अहम है न वहमखोते-खोते होता हु... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   3:37am 17 Oct 2013 #विश्वास
Blogger: Anita nihalani at मन पाए विश्रा...
बच्चे मुस्कानों की खेती करते स्वयं हँसते औरों को हँसाते सदा बिखेरें धूप ख़ुशी की न गम के बादल उन पर डालो ! अपनापन झलके आँखों से अधरों से विश्वास टपकता, जैसे रब से डोर बंधी हो खुले नहीं ये देखो भालो ! पल-पल में उजास बिखराते अभी स्वच्छ है पट अंतर का वे जीवन हैं, वे आ... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   3:51am 23 Sep 2013 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   मैं एक सज्जन से बात कर रहा था, हाल ही में उसकी पत्नि का देहान्त हुआ था। उस सज्जन ने मेरे साथ एक आप-बीति बाँटी - उसकी पत्नि के देहान्त के बारे में जानने के बाद उसके एक मित्र ने उससे कहा, "मुझे शोक है कि आपने अपनी पत्नि खो दी है"; और उसने अपने उस मित्र को तुरंत उत्तर दिया, "अर... Read more
clicks 44 View   Vote 0 Like   3:15pm 12 Sep 2013 #विश्वास
Blogger: अपर्णा त्रिपाठी at palash "पलाश"...
बहुतमुश्किलसेवोअपनेदिलकेदरवालोंकोबन्दकरपायीथी, मगरफिरभीजैसेदराजोंसेसूरजकीकिरणेंछनकरआहीजातीहै, वैसेहीउसकेजेहनमेंभीवोपलदस्तकदेरहेथेजिनपलोंमेंउसकोपहलीबारप्यारजैसीमासूमसीभावनाकाअहसासहुआथा।पिछलेछःमहीनोंमेंजिसरिश्तेकीइमारतकोउसनेअपनेछोटेछोटेअर... Read more
clicks 97 View   Vote 0 Like   1:16pm 1 Sep 2013 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   परमेश्वर के वचन बाइबल के प्रथम खण्ड - पुराने नियम में एक पुस्तक है "रूत"। यह पुस्तक एक बड़ी ही अद्भुत लेकिन सच्ची कहानी कहती है, एक गैरइस्त्राएली स्त्री रूत की। कहानी का आरंभ होता है एक इस्त्राएली स्त्री नाओमी के परिवार से, जो इस्त्राएल में पड़े अकाल से बचने के लिए ... Read more
clicks 27 View   Vote 0 Like   3:15pm 21 Jun 2013 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   हाल ही में मैंने एक ऐसे खेल के बारे में सुना जिसकी कल्पना करना भी मेरी सोच के बाहर था - पैर के अँगूठों की कुश्ती! यह मेरी समझ के बाहर है कि कोई इसे खेलने में रुचि कैसे ले सकता है; लेकिन हर साल संसार भर से लोग इंगलैंड आकर इस खेल की अन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेते ह... Read more
clicks 47 View   Vote 0 Like   3:15pm 13 May 2013 #विश्वास
Blogger: rozkiroti at रोज़ की रोटी -...
   झाड़ी में एक घोंसला था और उसमें से चिड़िया के बच्चों के चहचहाने की आवाज़ें आ रही थीं। मैं अपना कैमरा लेकर गई कि उनकी फोटो खींच सकूँ; जैसे ही मैंने झाड़ी में जगह बनाकर कैमरा उन बच्चों के पास किया, तुरंत ही उन बच्चों ने अपनी आँखें खोले बिना ही बड़ा सा मूँह खोल दिया और पूरे... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   3:15pm 12 May 2013 #विश्वास
Blogger: पूरण खण्डेलवाल at शंखनाद...
किसी भी लोकतांत्रिक शासन प्रणाली की सफलता के लिए वहाँ कि जनता का अपने संविधान में आस्था होना और लोकतांत्रिक और संवैधानिक संस्थाओं में विश्वास होना जरुरी है ! और इन संस्थाओं में विश्वास होने का मतलब यह कतई नहीं है कि इन संस्थाओं के भवनों में विश्वास हो बल्कि जनता का उन ... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   1:35pm 30 Apr 2013 #विश्वास
[Prev Page] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3969) कुल पोस्ट (190592)