POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: हालात-ए-बयाँ

Blogger: Abhishek Kumar Jha Abhi
साग़र की लहरों ने,इतना सिखाया है,दौर ग़मों के आते-जाते दिखाया है ।मेरे मन अब- अधीर न होना,वक़्त ऐसा आयेगा,निर्मल बहता जायेगा ।साग़र की लहरों ने……पर्वत को देख ज़रा,कैसे अडिग है खड़ा !कितने ही थपेड़े पड़ते,फिर भी मुस्कुराता है ।मेरे मन अब-धीरज रख ले,हर दौरे-ज़िंदगी को,हँस के सह ले ।सा... Read more
clicks 78 View   Vote 0 Like   2:39pm 19 Jul 2013 #
Blogger: Abhishek Kumar Jha Abhi
रात है सुनसान,सड़कें हैं वीरान… इस सुनसान-वीराने में भी, इन काली काली रातों में भी,कुछ निशाचर जाग रहे हैं…  कुछ भूख से, कुछ प्यास से कुछ मस्ती से, कुछ मौज़ से,कुछ दहशत से,कुछ वैहशत से,कुछ सोच से,कुछ निसंकोच से…कोई नशे में थक के चूर है। कोई थक के नशे में चूर है। कोई दूसरों से म... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   1:52pm 18 Jul 2013 #
Blogger: Abhishek Kumar Jha Abhi
इश्क़ में जीत और हार, नहीं होता।ये इबादत, जाय़ा य़ार, नहीं होता।काम में ईमानदारी, बर्ती जाए, तो,कोई काम नाक़ाम य़ार, नहीं होता।एहतियात के साथ आगे बढ़ता चल,कोई भी दौर कठिन य़ार, नहीं होता।ओह! वो अपने को इंसां कहता है !सियासत में इंसां य़ार, नहीं होता।'अभी' कहता है, कोई भी बात दिल से,मान... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   5:28am 11 Jul 2013 #
Blogger: Abhishek Kumar Jha Abhi
दूरियाँ इतनी ना हो, क़ि फ़िर मुलाक़ात ना हो..रह जाएँ सिर्फ़ बातें, ज़िंदगी में जज़्बात ना हो..मिट्टी के खिलौने हैं, जब मिट्टी में है मिलना,फ़िर मद में तू अपने, इतना मग़रूर ना हो..रह जाएगी सारी दौलत, यहीं धरी की धरी,इंसानियत का क़ातिल, कोई ज़हाँ में ना हो..सोचने,देखने,सुनने की, जब ताक़त तेर... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   1:59pm 2 Jul 2013 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3972) कुल पोस्ट (190673)