Hamarivani.com

Vyom ke Paar...व्योम के पार

ग़लती से क्लिक हुई छाया एक साए की आज सागर का किनारा ,गीली रेत,बहती हवा कुछ भी तो रूमानी नहीं था.बल्कि उमस ही अधिक उलझा रही थीमाया और लक्ष्य !तुम मुक्त हो माया! लक्ष्य ने कहा।मुक्त?हाँ ,मुक्त !ऐसा क्यों कहा लक्ष्य?माया ,मैं हार गया हूँ ! तुम खुदगर्ज़ हो  ,तुम किसी को प्यार नही...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अल्पना वर्मा
  December 5, 2014, 6:08 pm
होता है कई बार जब मन में विचारों का इतना उठाना-गिरना होता है कि लगता है कितनी टूट -फूट हो गयी है  Iदेह की भांति मन भी थक जाता है I वह कहीं दूर जाना चाहता है ,शायद कल्पनाओं  के देश....  जहाँ उसकी अपनी दुनिया होती है जैसे चाहे वैसे सुकून पाता है ,जैसे चाहे मौसम बना लेता है ,हव...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अल्पना वर्मा
  November 25, 2014, 2:10 am
*****बहुत दिनों बाद ब्लॉग की चुप्पी को तोडा जाए .:).............*****चित्र -साभार : शायक आलोक कुछ चित्र बोलते हैं और  मुझे ऐसा ही एक चित्र यह लगा ! शायक आलोक जो स्वयं एक उम्दा  कवि हैं लेकिन जब तस्वीरें खींचते हैं  तो वे भी छवि न रहकर कविता  बन जाती है ,इसी चित्र पर मैंने कुछ पंक्तिय...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :कविताएँ
  October 25, 2014, 1:59 pm
अजब इत्तेफ़ाक़ है मूर्ख दिवस  अर्थात अप्रैल एक से नए शैक्षणिक सत्र  शुरुआत हुई. पिछले सत्र की उथल -पुथल से अभी उबरे भी नहीं थे कि  नया सत्र आरम्भ हो गया.कुछ नए नियम कानून लिए। नयी उलझने, नयी चुनौतियाँ लिए ! :( यह तो हर क्षेत्र में होता ही होगा इस लिए इस विषय पर अधिक न बात करें त...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :
  April 21, 2014, 11:49 pm
भावनाएँ? भ्रमजाल है माया! -------------------------------- ---------------------------------------- ------------------------------------------------- लगता  है कुछ ठहरा हुआ सा है . ज़िन्दगी मानो एक धुरी पर घूमते घूमते रुक गयी है . ठिठक कर जैसे कोई पथिक आस-पास देखने लगता है . अचानक ही जैसे जानेपहचाने माहौल में अजनबीपन के साए दिखने लगे हों. ऐसी तमाम पर...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अल्पना वर्मा
  March 8, 2014, 12:43 pm
माघ में ऋतु परिवर्तन होते ही मानो प्रकृति मदनोत्सव मनाने लगती है. यहाँ भी मौसम अंगडाई ले रहा है , जाती हुई सर्दी पलट कर वापस ऐसे  आई है जैसे कुछ भूला हुआ वापस लेने आई हो. भावों की सुगबुगाहट और अहसासों का  कोमल स्पर्श लिए मन ओस की बूंदों में खुद को भिगो देना चाहता है त...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :कविताएँ
  February 16, 2014, 8:55 pm
२०१४ आने वाला है इस अवसर पर सभी को नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाएँ! नववर्ष के स्वागत हेतु शौपिंग मॉल  में सजावट - बर्फ का किला -दुबई मॉल में  मॉल ऑफ़ एमिरेट्स [दुबई ] अल ऐन मॉल ,अल ऐन बवादी मॉल ,अल ऐन ग्लोबल विलेज -दुबई --आज कल बहुत भीड़ नहीं है .दुबई शोपिंग फेस्टिवल २ तारीख से शु...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अल्पना वर्मा
  December 29, 2013, 10:01 pm
२०१४ आने वाला है इस अवसर पर सभी को नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाएँ! नववर्ष के स्वागत हेतु शौपिंग मॉल  में सजावट - बर्फ का किला -दुबई मॉल में  मॉल ऑफ़ एमिरेट्स [दुबई ] अल ऐन मॉल ,अल ऐन बवादी मॉल ,अल ऐन ग्लोबल विलेज -दुबई --आज कल बहुत भीड़ नहीं है .दुबई शोपिंग फेस्टिवल २ तारीख से श...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अल्पना वर्मा
  December 29, 2013, 10:01 pm
ये ज़िद्दी बच्चे ! आम आदमी पार्टी को ‘जिद्दी बच्चों का जमावड़ा’ कहा जाए तो गलत नहीं होगा. जिस तरह से उन्होंने एक जिद्द पकड़ कर उसको ही सही ठरते हुए यहाँ तक पहुँच गए हैं वह काबिले तारीफ़ है. इस सिस्टम में जहाँ भ्रष्टाचार की जड़ें गहरी समाई हुई हैं उस दलदल में पाँव जमा कर खड़े होन...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अन्ना आंदोलन
  December 24, 2013, 2:30 pm
'ज्योति मुखरित हो,हर घर के आँगन में, कोई भी कोना ,ना रजनी का डेरा हो, खिल जाएँ व्यथित मन,आशा का बसेरा हो, करें विजय तिमिर पर ,अपने मन के बल से, दीपों की दीप्ती यह संदेसा लाई है, करें मिल कर स्वागत,दीवाली आई है.'  “आप सभी को दीपावली  के इस पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ” ============...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :
  November 2, 2013, 6:34 pm
PIcture by Alpana- 'ज्योति मुखरित हो,हर घर के आँगन में, कोई भी कोना ,ना रजनी का डेरा हो, खिल जाएँ व्यथित मन,आशा का बसेरा हो, करें विजय तिमिर पर ,अपने मन के बल से, दीपों की दीप्ती यह संदेसा लाई है, करें मिल कर स्वागत,दीवाली आई है.'  “आप सभी को दीपावली  के इस पावन पर्व की हार्दिक शुभकाम...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अल्पना वर्मा
  November 2, 2013, 6:34 pm
==================================== =================================== ================================== ================================ छाया: सुनो माया ,तुम्हारे पंख कहाँ हैं? माया :पंख तो जब उतारे तभी से न जाने कहीं खो गए  हैं । छाया:तो अब क्या करोगी ? माया : नए पंख बना रही हूँ । छाया: कब तक बन जायेंगे?  माया :मालूम नहीं ! छाया: तब तक ? माया :तब तक धरती प...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अल्पना वर्मा
  October 14, 2013, 3:22 am
१४ सितम्बर ' हिंदी दिवस वर्ष बिता  कर लौट आया है. 'हिंदी दिवस की शुभकामनाएँ ' भारत में ८५० भाषाएँ हैं लेकिन जिस भाषा को हम देश की जीवन रेखा कहते हैं ,राष्ट्र को एकता में बाँधने वाला कहते हैं ,उसे एक दिन का सम्मान मिलता है फिर अंग्रेजी के मानस पुत्रों द्वारा होता है  वही रो...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :article
  September 14, 2013, 4:07 am
भारत में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी आज के दिन ‘शिक्षक दिवस’ मनाया जा रहा है। यहाँ एमिरात में अधिकतर विद्यालय ८ सितम्बर से खुलेंगे इसलिए इस औपचारिकता तो उसी हफ्ते किसी दिन पूरा किया जाएगा। दो मास का ग्रीष्म अवकाश समाप्त होने में मात्र दो दिन रह गए हैं। शिक्षकों को मान-...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :लेख
  September 5, 2013, 2:47 pm
कल कृष्ण जन्माष्टमी खूब धूमधाम से मनाई गई।  कान्हा के नाम कुछ हायकू मैंने लिखे हैं ,जिन्हें मैं यहाँ प्रस्तुत कर रही हूँ ---   कन्हा के नाम --हायकू  १-कृष्ण-लीला  बाँवरा  कान्हा  करे अठखेलियाँ  बलिहारी मैं. २-भक्ति  कृष्णमय हो  भवसागर तरना  जीवन तप  ३-प...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :हायकू कवितायें
  August 29, 2013, 2:03 pm
इस साल २०१३ का स्वतंत्रता दिवस आने ही वाला है ,हर वर्ष की भांति वही औपचारिकताएँ दोहराई जाएँगी। भारत व भारत के बाहर भारतीय समुदायों में झंडा फहराया जाएगा,भाषण दिए जाएँगे ,मार्च पास्ट ,तरह -तरह के आयोजन एवं प्रतियोगिताएँ आदि होंगी। समारोह समाप्त होने के बाद देशभक्ति की ...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :article
  August 13, 2013, 3:10 pm
अगस्त शुरू हुए एक हफ्ता गुज़र गया ,स्कूलों के ग्रीष्म अवकाश की आधी अवधि भी समाप्त हो गयी !छुट्टियाँ शुरू होने से पहले ही कई योजनाएँ बनती हैं कि ये करेंगे वो करेंगे ..मैंने भी बनायी थीं कई सारी.… .कुछ पूरी हुईं अधिकतर  अधूरी हैं.. जैसे कई किताबें रखी थीं अलमारी से निकाल कर...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :हाइकु
  August 8, 2013, 5:00 pm
अगस्त शुरू हुए एक हफ्ता गुज़र गया ,स्कूलों के ग्रीष्म अवकाश की आधी अवधि भी समाप्त हो गयी !छुट्टियाँ शुरू होने से पहले ही कई योजनाएँ बनती हैं कि ये करेंगे वो करेंगे ..मैंने भी बनायी थीं कई सारी.… .कुछ पूरी हुईं अधिकतर  अधूरी हैं.. जैसे कई किताबें रखी थीं अलमारी से निकाल कर...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :हायकू कवितायें
  August 8, 2013, 3:50 pm
क्या आप सुन सकते हैं ?हाँ..तो आप को सुनना ही होगा.. अगर मैं आप से कहूँ कि आप अपने कानो को अच्छी तरह से बंद कर लें..और इसी तरह कम से कम एक घंटा अपनी सामान्य दिनचर्या करने का प्रयास करें .क्या आप कर सकेंगे?अगर हाँ ,तो कितनी देर तक? है न मुश्किल? हम जानते हैं कि हमारी पाँच इन्द्रिय...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :article
  July 31, 2013, 2:16 pm
एमिरात में तापमान ५० से ऊपर पहुँच गया है.कल के अखबार में हमारे शहर में ५१ डिग्री तापमान बताया गया है।  घर के बाहर निकल कर ज़रा देर को आप छाया में ही खड़े हो जाए तो पहने हुए कपड़े तक एकदम गरम हो जाते हैं।  रात ९ बजे भी फर्श गरम रहता है और नल का पानी गुनगुना।  ए.सी.१८ [न्यूनतम] ...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :article
  July 11, 2013, 3:12 am
कभी -कभी कुछ चित्रों को देखकर अभिव्यक्ति शब्द बुनने लगती है,ऐसे ही कुछ शब्द त्रिवेणी बनकर इन चित्रों के लिए उभर आए हैं। ये चित्र श्री सुब्रमनियम जी के बाग़ के हैं उन्हीं के द्वारा खींचे हुए हैं, मैंने इनके पिक्सल कम करके यहाँ लगाए हैं। इनके मूल आकार उनके फेसबुक अल्बम म...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :अल्पना वर्मा
  July 7, 2013, 2:21 am
 --१--धूप में चलते हुए,इस ख़ुश्क ज़मीन पर क़दम ठिठके ज़रा छाँव मिलीलगा किसी दरख्त के नीचे आ पहुंची हूँ.मगर नहीं ,यह  तो बादल का एक टुकड़ा है जो ज़रा बरसा और पानी बन कर बह गया,धूप अब और तेज़ लगने लगी है मुझको !---------..............................................................................................-२-पलकों...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :कविताएँ
  June 7, 2013, 1:38 am
दोपहर ३ बजे..अप्रैल ,२०१३ बरसात का मौसम किसे नहीं भाता?अमीरात में पिछले दो साल से बारिश नहीं हुई थी..कुछ महीने पहले  हलकी सी  हुई थी लेकिन पिछले दो दिन से यहाँ ऊपरवाले  की ऐसी मेहरबानी है कि बादलों से ढके आसमान ने रूक- रूक कर अभी  तक बरसाना जारी रखा है।न जाने कितने सालों बाद...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :
  April 28, 2013, 5:45 pm
दोपहर ३ बजे..अप्रैल ,२०१३  बरसात का मौसम किसे नहीं भाता? अमीरात में पिछले दो साल से बारिश नहीं हुई थी..कुछ महीने पहले  हलकी सी  हुई थी लेकिन पिछले दो दिन से यहाँ ऊपरवाले  की ऐसी मेहरबानी है कि बादलों से ढके आसमान ने रूक- रूक कर अभी  तक बरसाना जारी रखा है। न जाने कितने सालों ...
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :
  April 28, 2013, 5:45 pm
??????????????????????????????????????????????????न यहाँ कौरव थे , न शतरंज की बिसात कातर  स्वर और पुकार क्यों कान्हा तुमने सुना नहीं?देह उघडी,हुई रूह छलनी ,और  शर्मसार मानवता .--------------------------------------------------................................................अल्पना ..................................................
Vyom ke Paar...व्योम के पार...
Tag :Poem
  April 23, 2013, 2:00 am


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3879) कुल पोस्ट (189277)