POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: प्यारा हिमाचल

Blogger: naresh thakur
Khajjiar is often reffered to as "Gulmarg of Himachal Pradesh". The lush green meadows are surrounded by thick pine and cedar forests. Grazing herds of sheep, goats and other milch cattle present a prefect pastoral scenery. There is a small lake in the center of the saucer shaped meadow which has in it a floating island. Much of the lake has degenerated into slush because of heavy silting during rains. Still the landscape of Khajjiar is picturesque and a photographer's delight.A little away from the lake is the temple of Khajji Nag belonging to 12th C. AD. In the mandapa of the temple one can see the images of the Pandavas and the defeated Kaurvas hanging from the roof of the circumambulator... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   1:47am 15 May 2014 #
Blogger: naresh thakur
Shimla, formerly the summer capital of India during the British Rule, bears many interesting stories. The Scandal Point is a very prominent place at Shimla and a well known tourist spot. The spot is found in middle of the famous Mall road of Shimla. This name has been derived from a story of the Maharaja of Patiala. The Maharaja of Patiala fell in love with the daughter of the then Viceroy of India. One day while she was taking a stroll in this place, the Maharaja kidnapped her. As a consequence of this, the British Government banned him from entering Shimla. He countered this move by setting himself at a new summer capital at Palace Chail, 45 km from Shimla. The Shimla Scandal Point is... Read more
clicks 186 View   Vote 0 Like   1:40am 12 May 2014 #
Blogger: naresh thakur
काला घगरा सियाई के, ओ धोबण पाणीये जो चल्ली है मैं तेरी सो...मत जांदी धोबणे तू मेरिये ओथु राजेयाँ डा डेरा है मैं तेरी सो..........धोबणे घड़ा सिरे चुकया धोबण पानीये जो गयी है मैं तेरी सो.........पहलिया पोडिया उत्तरी, राजे गिट्टूये दी मारी है मैं तेरी सो...........दूजिया पोडिया उत्तरी ओ रा... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   1:18am 3 May 2014 #हिमाचली लोक गीत
Blogger: naresh thakur
पराशर झील हिमाचल प्रदेश के मंडी नगर से चालीस किलोमीटर दूर उत्तर–पूर्व में नौ हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित है। दूर से देखने पर इस झील का आकार एक तालाब की तरह लगता है, लेकिन इस झील की वास्तविक परिधि आधा किलोमीटर से कुछ कम है। झील के चारों ओर ऊंची–ऊंची पहाड़ियाँ द... Read more
clicks 221 View   Vote 0 Like   3:20am 14 Apr 2014 #
Blogger: naresh thakur
ऐसे कई पहाड़ी फल जो हमें बहुत स्वादिष्ट लगते हैं किन्तु उनके लाभों की हमें जानकारी ही नहीं होती। आइये इन्हीं फलों में एक की विशेषता आपको बताते हैं। इस फल का नाम है किवी जो एंटीएजिंग से लेकर डायबिटीज़ तक में लाभकारी होता है।1- इसमें विटामिन ई और एंटीआक्सीडेंट्स की बड़ी ... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   11:24am 13 Apr 2014 #किवि
Blogger: naresh thakur
जाखू मंदिर हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। यह प्रसिद्ध मंदिर 'जाखू पहाड़ी'पर स्थित है। भगवान श्रीराम के अनन्य भक्त हनुमान को समर्पित यह मंदिर हिन्दू आस्था का मुख्य केंद्र है। मंदिर परिसर में बहुत से बंदर रह... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   11:17am 13 Apr 2014 #शिमला
Blogger: naresh thakur
कमरूनाग झील हिमाचल प्रदेश की प्रसिद्ध झीलों में से एक है। यह झील मंडी घाटी की तीसरी प्रमुख झील है। यहाँ पर कमरूनाग देवता का प्राचीन मंदिर भी है, जहाँ जून माह में विशाल मेले का आयोजन होता है।हिमाचल प्रदेश के मंडी नगर से 51 किलोमीटर दूर करसोग घाटी में स्थित ... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   2:25pm 12 Apr 2014 #
Blogger: naresh thakur
गोम्पा के लिए प्रसिद्ध ताबो ऊंची पहाडि़यों से घिरा है। तिब्बत के थुलिग गोम्पा के बाद दूसरा प्राचीन गोम्पा ताबो में स्थित है। इसमें कई प्राचीन पांडुलिपियां संग्रहीत हैं…थिरोटलाहौल और चंबा जिले की सीमा पर पट्टन घाटी में थिरोट गांव है। यहां हिमाचल प्रदेश बिजली बोर... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   1:31am 10 Apr 2014 #
Blogger: naresh thakur
कांगड़ा कला ने कांगड़ा कलम के रूप में अपनी सबसे सुंदर कलेत्मक कृत्तियां भेंट की थीं, लेकिन महाराजा संसार चंद की मृत्यु के बाद इसके भरण-पोषण की स्थिति का अंत हो गया। रास्तों के खुल जाने पर बाहरी दुनिया से संपर्क बन गया था। कलाकारों के लिए कला की अनुशीलता के अनुकूल परि... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   1:22am 10 Apr 2014 #
Blogger: naresh thakur
Rajiv K. PhullIt was beginning of the 20th century when Satyanand Stokes introduced apple cultivation for the first time in Himachal Pradesh. At the same time, apple orchards were established in Kullu also but it was only after 1950 that apple production gained momentum. From 712 hectare under apple production in 1950, now 1.3 lakh hectares has been brought under apple orchards in Himachal with Shimla district accounting for major production. It has revolutionized economy as the Himachal produces apple worth Rs. 2,500 crore and is livelihood of six lakh growers. Kinnauri apple is famous globally because of its quality. However, the impact of global warming is also witnessed in its produ... Read more
clicks 185 View   Vote 0 Like   10:14am 27 Nov 2013 #
Blogger: naresh thakur
This is regarding Himachal This Week’s cover story of October 26, “Revival of Kangra Tea.” Dham is always a special attraction though its dishes may vary from one district to another in Himachal. Kangri and Mandiali dhams stand apart even as dhams in Chamba and Bilaspur also have special recipes. A lot of effort is required in preparing a perfect dham. Using a unique technique, specialised botis (chefs) prepare dishes that are served on pattals (leaf plates) to people sitting in lines. Though every Himachali enjoys dham served during festivities but it is also a unique experience if anyone from other states happens to attend such an occasion.Virender Kumar, SundernagarGr... Read more
clicks 122 View   Vote 0 Like   10:08am 27 Nov 2013 #
Blogger: naresh thakur
हिमाचल में पांडवों के अज्ञातवास के अनेकों ऐसे किस्से हैं जो लोगों को हैरत में डाल देते हैं। ऐसा कहा जाता है कि प्रदेश के मंडी जिला के जंजैहली गांव में पांडवों ने अज्ञात वास के दौरान काफी समय गुजारा था।इस गांव में भीम शिला है जिसमें लोगों की गहरी आस्था है। नाम के मुता... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   2:17am 6 Nov 2013 #पांडव
Blogger: naresh thakur
गरम पानी के स्त्रोतों के लिए मशहूर ,वशिष्ठ ,..जो कि मनाली से मात्र ३ किलो मीटर दूर है I ..यहाँ पे भगवान राम का मंदिर है I..यह स्थल देशी-विदेशी सैलानियों से भरा रहता है I...यह ऋषि वशिष्ठ कि तपोस्थली रही है I...यहाँ का गरम पानी शरीर के विकारों व् जोड़ों के दर्द से निजात दिलाता है Iवशिष... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   3:38am 17 Oct 2013 #
Blogger: naresh thakur
 सायर मेला उत्सव सोमवार को मशोबरा के तलाई में बडी धूमधाम से मनाया गया। इस मेले में कसुम्पटी के विधायक राणा अनिरुद्ध सिंह ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की। इस अवसर पर एसडीएम शिमला ज्ञान सागर नेगी भी उपस्थित थे। मशोबरा पंचायत के प्रधान नें मुख्य अतिथि को शॉल और टोपी ... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   8:35am 25 Sep 2013 #
Blogger: naresh thakur
कोटखाई एक छोटा सा शहर है, जो हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले में 1800 मीटर की ऊंचाई पर स्तित है। जगह का यह नाम एक खाई पर स्थित राजा के महल से पड़ा। 'कोट' का शाब्दिक अर्थ है महल और 'खाई' का खाई। जगह का शांतिपूर्ण वातावरण और प्राकृतिक सौंदर्य दूर-दराज के क्षेत्रों से पर्यटकों को आकर... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   9:32am 11 Sep 2013 #
Blogger: naresh thakur
Maa Bala Sundri Devi is considered to be the 'Bal Roop' of Maa Vaishno DeviThere are various temples of Maa Bala Sundari Devi situated in India and this is the main temple. This Mata Temple is situated approximately 24 Kms South-West Direction of Nahan. This great temple is situated at a hight of 430 Mts on a hill above the Trilokpur Gaon. The temple is at a scenic spot.This Maa Devi has 3 main roops:Maa Lalita DeviMaa Bala Sundari DeviMaa Tribhavini DeviMaa Lalita Devi's Temple is situated 4Kms away from Trilokpur Gaon towards the east direction on a hill. Maa Tribhavini Devi's Temple is situated in the North Western Side. And Maa Baladundari Devi's temple is situated in the middle of these... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   9:13am 15 Aug 2013 #
Blogger: naresh thakur
हिमाचल प्रदेश उन क्षेत्रों में से है जहां पर्यटन पूरे साल भर अपने यौवन पर रहता है। यहां का हर स्थल पर्यटन के लिहाज से अपने में खास है। लेकिन इनमें से कुछ जगहें ऐसी हैं, जिन्हें हर शख्स बार-बार देखने की तमन्ना रखता है। क्योंकि ये जगहें किसी भी सैलानी के मानसपटल पर प्रकृत... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   1:30am 15 May 2013 #सांगला घाटी
Blogger: naresh thakur
शाहपुर थाना की स्थापना वर्ष 1912 में की गई थी तथा इसके अधीन 251 वर्ग मील क्षेत्र था। वर्ष 1868 में देहरा में पुलिस चौकी की स्थापना की गई तथा उसी समय के भवन में आज भी वर्ष 1988 में बना देहरा पुलिस थाना संचालित किया जा रहा है। स्थापना के समय इस थाना के अंतर्गत 4042 वर्ग हेक्टेयर क्षेत्र ... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   1:37am 5 May 2013 #देहरा
Blogger: naresh thakur
 वर्ष 1905 में कांगड़ा घाटी में आए प्रलयकारी भूकंप के बाद वर्ष 1910 में धर्मशाला में पुलिस थाना भवन निर्मित किया गया था। उस समय इस थाना के अधीन 18 हजार 341 वर्ग मील क्षेत्र आता था। धर्मशाला में पुलिस थाना भवन निर्माण से पहले कोतवाली के रूप में पुलिस थाना धर्मशाला के कोतवाली बाज... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   1:34am 5 May 2013 #धर्मशाला
Blogger: naresh thakur
 ब्रिटिश हुकूमत काल में स्थापित जिला कांगड़ा के छह पुलिस थाना इमारतें होंगी हैरीटेज सूची में शामिल, प्रदेश पुलिस मुख्यालय प्रकाशित करेगा कॉफी टेबल बुक। वर्ष 2007 में जिला कांगड़ा पुलिस ने जिला के छह पुलिस थानों धर्मशाला, पालमपुर, नूरपुर, शाहपुर, इंदौरा व देहरा की इमारत... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   1:31am 5 May 2013 #नूरपुर
Blogger: naresh thakur
पहाड़ों की हसीन वादियों में घूमते हुए रेस्टोरेंट में विभिन्न व्यंजनों के लुत्फ को हमेशा के लिए यादगार बनाना है तो नालदेहरा में इस तरह का रेस्टोरेंट खुल गया है। शिमला के पर्यटन स्थल नालदेहरा में घूमता हुआ रेस्टोरेंट बनाया गया है। जमीन से 100 फीट की उंचाई में बने विशेष घ... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   2:18am 21 Apr 2013 #नालदेहरा
Blogger: naresh thakur
ज्वालामुखी देवी हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में कांगड़ा से करीब दो घण्टे की दूरी पर है। ज्वालामुखी एक शक्तिपीठ है जहाँ देवी सती की जीभ गिरी थी। सभी शक्तिपीठों में यह शक्तिपीठ अनोखा इसलिए माना जाता है कि यहाँ ना तो किसी मूर्ति की पूजा होती है ना ही किसी पिंडी की, बल्क... Read more
clicks 163 View   Vote 0 Like   5:37am 11 Feb 2013 #ज्वालामुखी देवी
Blogger: naresh thakur
यह ऊना जिले में नारी गांव के पास स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्‍थल है जो ऊना से 10 किमी. की दूरी पर बना हुआ है। यह मंदिर हिंदू धर्म के भ्रगवान शिव के रूद्रानंद को समर्पित है। इस मंदिर को 1850 में संतो द्वारा नहीं बल्कि स्‍वंय निर्मित मंदिर है।यहां की पवित्र राख को अखंड डोना कहा ज... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   9:54am 23 Dec 2012 #डेरा बाबा रूद्र
Blogger: naresh thakur
तीर्थ यात्राओं में कैलाश मानसरोवर की यात्रा सबसे कठिन मानी जाती है। उसके बाद अमरनाथ यात्रा का नंबर आता है। लेकिन श्रीखण्ड महादेव की यात्रा ऐसी है, जिसे अमरनाथ यात्रा से भी ज्यादा कठिन माना जाता है। लोगों का कहना है कि श्रीखण्ड यात्रा में जितनी कठिनाईयों का सामना करन... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   1:13am 2 Dec 2012 #श्री खंड
Blogger: naresh thakur
Nestling in the shelter of virgin forests which cover many untrodden hills, Chail is a tiny resort in the Shiwalik region of Himachal Pradesh. The present Chail is spread over an area of 72 acres on three adjacent hills-the Rajgarh Hill where the Palace is built, the Pandava Hill where the old Residency ‘Snow View’ is located and where the British Resident lived, and finally the Siddh Tibba, where the temple of Baba Sidhnath is located at a height of 2226 ft.  With the majestic snow-capped Shivalik peaks in the background and the beautiful orchards and sylvan pine valleys around reminding one of the many wonders of nature, Chail is sure to cast a spell. Maharaja Bhupinder Singh develop... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   2:52pm 27 Nov 2012 #chail

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3971) कुल पोस्ट (190638)