Hamarivani.com

अजित गुप्‍ता का कोना

www.sahityakar.comमेरे देश में साम्प्रदायिकता कहीं खो गयी है, मैं उसे हर बिल में खोज चुकी हूँ, गली-मौहल्ले में भी नहीं मिली, आखिर गयी तो गयी कहाँ? यह तो छिपने वाली चीज थी ही नहीं, देश की राजनीति में तो यह शाश्वत बन गयी थी! भला ऐसा कौन सा चुनाव होगा जब यह शब्द ही ब्रह्मास्त्र ना बनो हो! सा...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  May 14, 2019, 10:09 am
www.sahityakar.comआज सुबह से ही मन अपने अन्दर बसी माँ को ढूंढ रहा है। ढूंढते-ढूंढते कभी अपनी माँ सामने खड़ी हो जाती है, कभी अपनी बेटी सामने होती है तो कभी अपनी बहु सामने आ जाती है। तीन पीढ़ियों की तीन माँ की कहानी मेरे अन्दर है। एक माँ थी जिसे पता ही नहीं था कि दुलार क्या होता है! बस वह ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  May 12, 2019, 12:31 pm
www.sahityakar.comसत्य के प्रयोग – गाँधी इन्हीं प्रयोगों के नाम से प्रसिद्ध हैं। वे सत्य के प्रयोग अपने ऊपर करते रहे लेकिन वे देश के ऊपर झूठ के प्रयोग कर बैठे। मैं गाँधी की प्रशंसक रही हूँ लेकिन जब गाँधी उपनाम को लेकर चर्चा चली तब एक बात ध्यान में आयी कि यह गाँधीजी का उपनाम देने का ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  May 10, 2019, 9:43 am
www.sahityakar.comयह ब्लेकमेलिंग नहीं तो क्या है? खुले आम हो रही है ब्लेकमेलिंग, सबसे ज्यादा मीडिया कर रहा है ब्लेकमेलिंग। कई दिन पुराना साक्षात्कार कल सुना, मीडिया की एक पत्रकार मोदीजी से प्रश्न करती है कि आपने मुस्लिमों के लिये क्या किया, क्यों आपसे मुस्लिम दूरी बनाकर रखते हैं?...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  May 9, 2019, 9:24 am
www.sahityakar.comसेकुलर बिरादरी और मुस्लिम बुद्धिजीवी दोनों ही होच-पोच होने लगे हैं। अन्दर ही अन्दर देगची में ऐसा कुछ पक रहा है जिससे इनकी नींद उड़ी हुई है। महिलाएं आजाद होने की ओर कदम बढ़ाने लगी हैं। कभी तीन तलाक सुर्खियों में आता है तो कभी बुर्का! पुरुषों का अधिपत्य पर पत्थर फ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  May 5, 2019, 8:58 am
www.sahityakar.comकौन कहता है कि राहुल गाँधी उर्फ रौल विंसी कमअक्ल हैं? हो भी सकता है कि कमअक्ल हों लेकिन इस गुड्डे में चाबी भरने वाला जरूर अक्लवान है। मतलब यह है कि दोनों में से एक तो चतुर है ही। अब रौल विंसी कह रहे हैं कि मोदी की ताकत उनकी इमेज है, मैं इसे खत्म कर दूंगा! व्यक्ति में क...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  May 4, 2019, 9:26 am
www.sahityakar.comमुझ जैसी महिला के लिये हर रोज सुबह एक नयी मुसीबत लेकर आती है, आप पूछेंगे कि ऐसा क्या है जो रोज आती है! सुबह नाश्ते में क्या बनेगा और दिन में खाने में क्या बनेगा, एक चिन्ता तो वाजिब ही है, क्योंकि इस चिन्ता से हर महिला गुजरती है लेकिन मेरी दूसरी चिन्ता भी साथ-साथ ही चल...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  May 2, 2019, 8:52 am
www.sahityakar.comएक जमाना था जब अंगुली पर स्याही का निशान लगने पर मिटाने की जल्दी रहती थी लेकिन एक जमाना यह भी है कि अंगुली मचल रही है, चुनावी स्याही का निशान लगाने को! कल उदयपुर में वोट पड़ेंगे, तब जाकर कहीं अंगुली पर स्याही का पवित्र निशान लगेगा। देश में लोकतंत्र है, इसी बात का तो ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 29, 2019, 9:59 am
www.sahityakar.comमैं चोरी-छिपे तुझे सौगात भेजूँ और तू है कि सबको ढोल बजाकर बता दे कि दीदी ने सौगात भेजी है! तू देख, अब मैं तुझे कंकर वाले लड्डू भेजूंगी।दीदी नाराज क्यों होती हो? कोई भी सौगात भेजे तो उसे बताने पर तो उसका सम्मान ही बढ़ता है ना! कहीं ऐसा तो नहीं है कि एक तरफ तुम मंचों से ग...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 28, 2019, 9:05 am
www.sahityakar.comभारत की नाक और दादी की नाक का संघर्ष होते-होते रह गया! नाक को नापने जितना भी समय नहीं दिया गया! हमने तो अरमान पाल रखे थे कि दो नाकों का महायुद्ध होगा और भारत की नाक भारी पड़ेगी या फिर दादी की नाक! लेकिन हाय री किस्मत ऐसा कुछ नहीं हुआ! दिल के अरमां आँसुओं में बह गये! कल व...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 27, 2019, 8:56 am
www.sahityakar.comटीवी रूम में रिमोट के लिये हर घर में उठापटक मची रहती है, घर के मर्द के पास रिमोट ना हो तो मानो मर्दानगी ही रुक्सत हो गयी हो, ऐसे में घर की स्त्री भी किसी ना किसी बहाने आँख दिखाकर रिमोट पर कब्जा करती दिख ही जाती है, बच्चे तो रिमोट पर अपना हक ही जमा बैठते हैं और नहीं मिले...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 26, 2019, 8:48 am
www.sahityakar.comकोई किसी महिला से पूछे कि तेरा नाम क्या है? तेरा उपनाम क्या है? तेरा देश क्या है? तो महिला सोचने का समय लेगी। क्यों लेगी! इसलिये लेगी कि विवाह के बाद उसका कहीं नाम बदल जाता है, उपनाम तो बदल ही जाती है और कभी देश भी बदल जाता है। इसलिये वह सोचती है कि कौन सा नाम बताऊँ, कौन ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 21, 2019, 10:16 am
www.sahityakar.comकिसी ने न्याय को देखा है क्या? विकास को भी तो नहीं देखा था ना! प्रजा के किसी अदने से बंदे ने राजा को ललकार दिया, तत्काल सर कलम कर दिया गया, राजा ने कहा कि हो गया न्याय! न्याय का निर्धारण राजा की पसन्द से होता है। जो राजा के हित में हो बस वही न्याय है। 1975 याद है ना, शायद नौज...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 18, 2019, 10:14 am
www.sahityakar.comकहावत है कि दिल्ली दिलवालों की है, जब दिलवालों की ही है तो चटपटी होना लाजमी है। चटपटी कहते ही चाट याद आती है और चाट के नाम से ही मुँह में पानी आता है। मुँह में पानी आता है मतलब आपकी स्वाद ग्रन्थियाँ सक्रिय हो रही हैं। स्वाद ग्रन्थियाँ सक्रिय होती है तो जो भी खाया जा...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 5, 2019, 9:10 am
www.sahityakar.comकल कांग्रेस का घोषणा पत्र घोषित हुआ, बहुत आलोचना हो रही है लेकिन मुझे नया कुछ नहीं लग रहा है। कांग्रेस की राजनीति स्पष्ट है, उनके समर्थक भी भलीभांति समझते हैं इसलिये ही दृढ़ता के साथ उनके पीछे खड़े रहते हैं। राजनीति का अर्थ होता है राज करने की नीति। एक राजनीति हो...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 4, 2019, 9:23 am
www.sahityakar.comटाटा स्काई और नेटफ्लेक्स ने समानान्तर फिल्में बनाकर अपनी दुनिया खड़ी की है। नेटफ्लेक्स का तो मुझे अनुभव नहीं है लेकिन टाटा स्काई की बॉलीवुड प्रीमियर को काफी दिनों से देख रही हूँ। छोटे बजट की छोटी फिल्में बना रहे हैं और कहानी भी हमारी जिन्दगी के आसपास ही घूमती ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  April 3, 2019, 9:22 am
www.sahityakar.comफतेहसागर की पाल पर खड़े होकर आकाश में विचरते पक्षियों का कलरव सुनने का आनन्द अनूठा है, झुण्ड के झुण्ड पक्षी आते हैं और रात्रि विश्राम के स्थान पर चले जाते हैं। कल मैंने ध्यान से देखा, तोते ही तोते थे, हजारों की संख्या में तोते स्वतंत्र होकर उड़ रहे थे। हम तो सुनते ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  March 30, 2019, 9:43 am
www.sahityakar.comहाथ में टीवी का रिमोट होना ही महसूस करा देता है कि घर की सत्ता हमारे हाथ में है। कभी घर की दादी पूजा कर रही होती थी, पूजा की घण्टी बजाते-बजाते भी निर्देश देती थी कि बहू दूध देख लेना, कहीं उफन ना जाए, पोते को कहती कि बेटा जरा मेरा चश्मा पकड़ा जाना, फिर जोर से बेटे को आवा...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  March 28, 2019, 11:40 am
www.sahityakar.comघर में यदि छिपकली आ जाए तो हड़कम्प मच जाता है, मानो दुश्मन का सिपाही ही घर में घुस आया हो! कल ऐसा ही हुआ, हड़कम्प तो नहीं मचा क्योंकि बहादुर युवा पीढ़ी घर में नहीं है, बस हम ही पुरातनपंथी लोग रहते हैं। आजकल नूडल्स का बड़ा फैशन है और वह भी उसके खाने के तरीके का। बच्चे ल...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  March 27, 2019, 9:17 am
www.sahityakar.comखबरे आ रही हैं कि लोग भाग रहे हैं, जहाँ सींग समाए वहीं भाग रहे हैं। उत्तर से दक्षिण तक की दौड़ लगाने की योजना है, बस छिपने की जगह मिल जाए। चूहे के पीछे बिल्ली पड़ी है, बिल्ली झपट्टा मारने को तैयार है। चूहे के गाँव में पहले कभी बिल्ली नहीं आयी, चूहा निर्भीक होकर घूम रह...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  March 27, 2019, 9:12 am
www.sahityakar.comदिल बार-बार रस्सी तोड़कर भागने की कोशिश कर रहा है, कभी कहता है कि यह लिख और कभी कहता है कि वह लिख! चारों तरफ विषय बिखरे पड़े हैं लेकिन सारी मशक्कत बेकार सी लग रही है। ऐसा लग रहा है जैसे किसी भरे पेट वाले के सामने भोजन परोसने का प्रयास किया जा रहा हो। राजनीति में लोग आ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  March 23, 2019, 12:50 pm
www.sahityakar.comसखी! चुनाव ऋतु आ गयी। अपने-अपने दरवाजे बन्द कर लो। आँधियां चलने वाली है, गुबार उड़ने वाले हैं। कहीं-कहीं रेत के भँवर बन जाएंगे, यदि इस भँवरजाल में फंस गये तो कठिनाई में फँस जाओंगे। पेड़ों से सूखे पत्ते अपने आप ही झड़ने लगेंगे। जिधर देखों उधर ही पेड़ पत्रविहीन हो ज...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  March 22, 2019, 10:12 am
www.sahityakar.comहमारे पिता बड़े गर्व से कहते थे कि मेरी बेटियाँ नहीं हैं, बेटे ही हैं। हमारा लालन-पालन बेटों की ही तरह हुआ, ना हाथ में मेहँदी लगाने की छूट, ना घर के आंगन में रंगोली बनाने की छूट, ना सिलाई और ना ही कढ़ाई, बस केवल पढ़ाई। हम सारा दिन लड़कों की तरह खेलते-कूदते, क्रिकेट से ल...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  March 8, 2019, 11:04 am
www.sahityakar.comकहावत है कि गंगा में बहुत पानी बह गया। हमारा मन भी कितने भटकाव के बाद लेखन के पानी का आचमन करने के लिये प्रकट हो ही गया। न जाने कितना कुछ गुजर गया! कुम्भ का महामिलन हो गया और सरहद पर महागदर हो गया। राजनैतिक उठापटक भी खूब हुआ और सामाजिक चिंतन भी नया रूप लेने लगा। कई ल...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  March 7, 2019, 10:37 am
www.sahityakar.comयदि आप ध्यान से सुने और गौर करें तो टीवी के चैनल बदलते-बदलते न जाने कितने ऐसे बोल सुनाई दे जाएंगे जो आपको सोचने पर विवश करते हैं। कल ऐसा ही हुआ, टीवी से आवाज आयी – हुकूमत इनके खून में बहती है। तभी मेरे दिल ने कहा – गुलामी हमारे खून में बसती है। हमारे देश में कौन राजा ...
अजित गुप्‍ता का कोना...
ajit gupta
Tag :
  January 25, 2019, 10:37 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3872) कुल पोस्ट (188652)