Hamarivani.com

पागलखाना PAAGAL-KHAANAA

‘मैं नहीं लूंगा’, एक ने कहा।दूसरों ने शुक्र मनाते हुए ठंडी सांस ली-‘हमपर है ही कहां जो देंगे’इसके साथ ही सब मिलजुलकर खीखी करते हुए मुर्दाघर में दफ़न हो गए।-संजय ग्रोवर10-03-2017...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :horror
  March 11, 2017, 6:33 pm
सभी नालायक एक-दूसरे को बहुत लाइक/पसंद करते हैं।एक जैसे जो होते हैं।वैसे वे किसी काम के हो न हों पर एक-दूसरे के बहुत काम आते हैं।मिलजुलकर भी अकेले सच से वे डरते हैं।अंततः एक दिन वे ख़ुदको श्रेष्ठ और अकेले सचको नालायक घोषित कर देते हैं।मज़े की बात यह है कि उसके बाद भी उनका ड...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :satire
  February 24, 2017, 11:11 am
लघुकथावह हमारे घरों, दुकानों, दिलों और दिमाग़ों में छुपी बैठी थी और हम उसे जंतर-मंतर और रामलीला ग्राउंड में ढूंढ रहे थे।-संजय ग्रोवर05-02-2017...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :deception
  February 5, 2017, 2:26 pm
सवा अरब लोग अगर एक हो जाएं तो क्या नहीं कर सकते ?और कुछ नही तो मिलजुलकर चुप तो रह ही सकते हैं।-संजय ग्रोवर14-01-2017...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :escape
  January 14, 2017, 4:35 pm
लघुकथा/व्यंग्य‘एक बात बताओ यार, गुरु और भगवान में कौन बड़ा है ?’‘तुम लोग हर वक़्त छोटा-बड़ा क्यों करते रहते हो.....!?’‘नहीं.....फिर भी .... बताओ तो ....?’‘गुरु बड़ा है कि छोटा यह बताने की ज़रुरत मैं नहीं समझता पर वह भगवान से ज़्यादा असली ज़रुर है क्यों कि वह वास्तविक है, हर किसीने उसे देखा ...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :disciple
  January 7, 2017, 4:48 pm
लघुव्यंग्यअपने यहां लोग अकसर अपने बारे में कुछ बातें बहुत अच्छे से जानते हैं। जैसे मैं देखता हूं कि कई लोग दूसरों से तो कहते ही हैं-‘बिज़ी रहो-बिज़ी रहो’, ख़ुद भी अकसर बिज़ी रहने की कोशिश करते पाए/पकड़े जाते हैं। वे कभी ख़ाली हों तो झट से टीवी चला देते हैं, एफ़एम सुनने लगते है...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :empty
  December 8, 2016, 5:04 pm
उपन्यासांशमेजर के ओंठ गोल हो गए।केस बहुत उलझा हुआ था। वह एक-एक तस्वीर ध्यान से देख रहा था।विरोधी ऐसे खड़े थे जैसे होली मिलने आए हों। कई तो वीडियो में भी मुस्करा रहे थे। खाने-पीने का विरोध कोई नहीं कर रहा था। वे ऐसी किसी चीज़ का विरोध कर रहे थे जो वहां कहीं हो ही नहीं रही थी। ...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :buff
  October 17, 2016, 10:39 am
पज़लइधर भी फ़र्ज़ी उधर भी फ़र्ज़ीसिलते-सिलते थक गए दर्ज़ीनीचे वाला चमचा बोलाऊपर वाले तेरी मर्ज़ीबहरे, मोहरे, चेहरे, दोहरेटोपें-तोपें गरज़ी-वरज़ीझूठ ही जीता, झूठ ही हारा‘सच’ बोला यही मेरी मरज़ीराज़ छुपाना काम है जिनकाउन्हींको दो पाने की अरज़ीउनका तो नाटक भी दुख हैमेरी तो बांछे भ...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :humor
  October 5, 2016, 8:33 pm
ग़ज़लअक़्ले-बेईमां तुझे हुआ क्या हैअपनी नज़रों से छुप रहा, क्या है!मुझको ख़ुदसा बनाना चाहे है!ख़ुद तुझीमें, बता, तिरा क्या है ?पास जिनके रहन है तेरा ज़हनउनके बारे में सोचता क्या है ?हमने ठुकरा दिए जो सब ऑफ़रइसमें इतना भी चिढ़ रहा क्या है !हम हैं असली औ’ ज़िंदगी असलीफिर अदाकारी ...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :humor
  September 20, 2016, 3:50 pm
...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :funny
  September 6, 2016, 8:30 pm
लघुकथा/व्यंग्यमुझे उससे बात करनी थी।‘मेरे पास आज जो कुछ भी है सब ईश्वर का दिया है’, वह बोला।‘जो करता है ईश्वर ही करता है, उसकी मर्ज़ी के बिना पत्ता भी नहीं हिलता’, वह फिर बोला।‘आप मेरे पास बात करने आए, ईश्वर की बड़ी मेहरबानी है’, एक बार फिर उसने किसी ईश्वर के प्रति अपनी कृतज...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :deception
  August 21, 2016, 6:20 pm
एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं....
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :formless
  August 18, 2016, 8:54 am
छोटी-सी छाती पर से बड़े-बड़े रीति-रिवाज गुज़रते रहे........
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :funny
  August 11, 2016, 10:27 pm
एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं....
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :humor
  August 10, 2016, 5:24 pm
एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं....
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :criminal
  August 6, 2016, 2:07 pm
एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं....
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :funny
  August 3, 2016, 10:12 am
एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं....
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :conspiracy
  July 29, 2016, 4:53 am
एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं....
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :funny
  July 28, 2016, 10:29 pm
एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं-2...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :atheist
  July 27, 2016, 1:18 am
एक ऐसी जगह है जहां लोग, अकसर, घंटों अकेले बातचीत करते हैं....
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :funny
  July 25, 2016, 8:16 pm
पिता पर लेख लिखना था।लड़का बड़ा लायक था। दोस्तों, गुरुओं और लाइब्रेरियों से पिता पर क़िताबें जमा की, इंटरनेट पर पिता को खोजा और कुल मिलाकर एक अच्छा-ख़ासा लेख लिख डाला।लेख छप गया।‘पापा! देखो, मेरा लेख छपा है!’पापा ने पूरा पढ़ा और चैन की सांस ली, ‘शुक्र है मुझपर कुछ नहीं लिखा.’-...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :Parrots
  May 27, 2016, 2:52 pm
हर कोई बच्चे से यही कह रहा था,‘‘बेटे बड़ा आदमी बनना, क़ामयाब बनना, माँ-बाप का नाम रोशन करना.......’’एक आदमी न जाने कहां से निकलकर आया, बोला, ‘‘बेटे, आदमी बनना, सच्चा आदमी बनना.....’’बच्चा ग़ौर से उसकी तरफ़ देखने लगा-और तब से परिवार परेशान है, लोग घबराए हैं, बाज़ार उदास है, दुनियादारी स...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :fear
  May 7, 2016, 4:04 pm
आप समझ लीजिए, यूंही समझ लीजिए, पागलख़ाने में हम ऐन-ग़ैन बातें करते ही रहते हैं इसलिए समझ लीजिए कि एक कोई देश है, नाम कुछ समझिए कि है तनढोंगूमनढोंगू देश। यूं तो देशों में राजा लोग आते-जाते रहते ही हैं और विपक्ष उनका विरोध भी करता ही है ; इसबार राजा आया है, नाम रख लीजिए फ़ासीलाल...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :conspiracy
  March 30, 2016, 3:44 pm
कविताहमविज्ञापन कला केसर्वाधिक प्रभावशाली दौर सेगुज़र रहे हैंभगतसिंह, गांधी और अंबेडकर जैसे नामविभिन्न राजनैतिक दलों और संस्थाओं के लिएमरणोपरांत मॉडलिंग कर रहे हैं.-संजय ग्रोवर24-03-2016(एक पुरानी कविता थोड़े बदलाव के साथ)...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :advertising
  March 24, 2016, 9:46 am
लघुव्यंग्यकथामहापुरुष वहां घास की तरह उगते थे।गधे कभी भी उन्हें चर जाते थे।-संजय ग्रोवर05-03-2016...
पागलखाना PAAGAL-KHAANAA...
Tag :farce
  March 5, 2016, 5:27 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163637)