Hamarivani.com

वीरांशवीरांश

अब हमने धक्का देना छोड़ दिया है! रिश्तों को कांधों पर ढोना छोड़ दिया है | या हम दाना हुए या तुम में वो बात नहीं, या इश्क ने ही जादू टोना छोड़ दिया है | रिश्तों को कांधों पर ढोना छोड़ दिया है… कोई पूछे तो अब भी तेरा ही नाम लेते हैं, मुद्दत [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  June 4, 2013, 10:09 am
मेरे लफ्ज़ मुझसे पराये तो नहीं, मेरी तरह वो तुम्हें पसंद आये तो नहीं | क्या लफ़्ज़ों को है गिला-शिकवा बहुत ? क्या कहीं वो भी मेरे सताये तो नहीं | मेरे लफ्ज़ मुझसे पराये तो नहीं… सहरा तक पहुँचती हर एक मौज से पूछो, क्या उसने कोई सफीने डुबाये तो नहीं | मेरे लफ्ज़ [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  June 4, 2013, 9:36 am
आखरी वस्ल था लंबे फिराक से पहले, दोनों खामोश थे दिल-ए-बेबाक से पहले | अब के जो फूँक से उड़ा देते हो मुझे, मैं जो शोला था मुश्त-ए-ख़ाक से पहले | आखरी वस्ल था लंबे फिराक से पहले… पहचान नहीं पाता हूँ इस दिल को मैं, ये जो गुलिस्तां था हज़ारों चाक से पहले | [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  April 24, 2013, 5:28 pm
तेरी मामूली सी बातों में, न-मामूली सा प्यार छुपा है | खामोश गहरी आँखों में, मीठा सा इकरार छुपा है | न तुमने कोई कसमें दी, न मैंने कोई अहद किया | मगर दोनों के दरमियाँ, अनकहा सा ऐतबार छुपा है | तेरी मामूली सी बातों में, न-मामूली सा प्यार छुपा है… दो जिंदिगियाँ वैसे [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  April 24, 2013, 4:39 pm
क्या तुमसे बयां करूँ सबब-ए-हिज्र हमनफस, पैरों में तेरे बेडियाँ हैं और हाथ मेरे बंधे हुए | कहने को एक जिंदिगी दोनों के पास है मगर, इन मुस्कुराते चेहरों के पीछे हैं दिल जले हुए | पैरों में तेरे बेडियाँ हैं और हाथ मेरे बंधे हुए… एक आंधी चली और गुबार से उड़ गए हम, ज़माना [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  April 5, 2013, 9:20 pm
किसी को कुछ समझाया न करो, लोगों को ठोकर से बचाया न करो | वो अपनी गलती के मालिक हैं, बेवजह अपना खून जलाया न करो | किसी को कुछ समझाया न करो… तजुर्बे का निचोड़ अपनी हलक में रखो, अपना फ़साना जुबां तक लाया न करो | किसी को कुछ समझाया न करो… खाई [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  March 25, 2013, 7:30 pm
कीमती जिंदिगी लुटाते फिर रहे हैं, हम खुद को बहलाते फिर रहे हैं | तुम्हारा होने की सज़ा मिली है हमें, ज़र्रा ज़र्रा खुद को मिटाते फिर रहे हैं | हम खुद को बहलाते फिर रहे हैं… मुझे ज़माने भर में बाट आया है वो, हर शख्स से खुद को बचाते फिर रहे हैं | [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  March 16, 2013, 5:09 pm
बस खामोश हूँ मगर बेज़ुबां नहीं हूँ, एक आग है मेरे अंदर सिर्फ धुआं नहीं हूँ | पत्थर की लकीर नहीं हैं उसूल मेरे, दिल रखता हूँ, गुलाम ए इमां नहीं हूँ | एक आग है मेरे अंदर सिर्फ धुआं नहीं हूँ… वक्त आने पर बता देंगे कूबत क्या है, काबलियत से वाकिफ हूँ, बदगुमां [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  March 16, 2013, 4:40 pm
सच, क्या तुझे भी सच सुनना पसंद है ? मैं झूठ हूँ, मुझे सच बुनना पसंद है | गाँठ जीस्त की खोल रहा है गुज़रता वक्त, मैं लम्हा हूँ, मुझे उलझना पसंद है | उम्मीद की डोर से पिरोई है आरजू मगर, मैं हसरत हूँ, मुझे बिखरना पसंद है | मेरे बाद तुझे तलब न [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  March 16, 2013, 4:23 pm
कहीं माँ का दुलार नहीं मिलता, कहीं बाप का प्यार नहीं मिलता | कुछ अभागि औलादें ऐसी भी हैं, जिन्हें अपना अधिकार नहीं मिलता | उम्र भर ढूंढते फिरते हैं बेगानों में, मगर कोई तलबगार नहीं मिलता | जैसे किसी वीरान पड़े मकां को, बरसों किरायेदार नहीं मिलता | मौत से एक लम्हें का भी, [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :कविता
  March 16, 2013, 4:05 pm
दुआ मांगते बहुत हैं पर इबादत चंद से होती है, इश्क बहुतों से हुआ पर मोहब्बत कम से होती है | तुम मेरी आवाज़ को यूँ नज़रंदाज़ मत किया करो, हर इंकलाब की आगाज़ ज़ुल्म ओ सितम से होती है | इश्क बहुतों से हुआ पर मोहब्बत कम से होती है… कभी मेरे इस ज़हन [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  March 1, 2013, 8:49 pm
वक्त से पहले ही मिल गयी मंजिल मुझे, और फिर न हुआ ताउम्र कुछ हासिल मुझे | मैं पूरा समंदर पी गया था लड़कपन में, फिर कभी दोस्त सा न मिला साहिल मुझे | और फिर न हुआ ताउम्र कुछ हासिल मुझे… और कोई नहीं बस एक ही खता हुई तुझसे, क्यों दे दिया तुने [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  March 1, 2013, 8:14 pm
निभा रहा था अब-तलक वो मेरा किरदार नहीं है, आईने में जो शख्स है वो मेरा वफादार नहीं है | उस तक पहुँचते-पहुँचते खो दिया है खुद को, अब उस तक पहुंचा हूँ जो मेरा तलबगार नहीं है | आईने में जो शख्स है वो मेरा वफादार नहीं है… सबका अलग रास्ता है और सबका अपना [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  March 1, 2013, 8:01 pm
मिलता है मगर बिछड़ने की शर्त पर, जिंदा तो है मगर मरने की शर्त पर | जिंदिगी तेरी अदा है या बेबसी मेरी, होसला मिलता है मगर डरने की शर्त पर | जिंदा तो है मगर मरने की शर्त पर… पल दो पल से ज़्यादा कहीं भी रुकता नहीं, वक्त अच्छा आता है गुजरने की [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  March 1, 2013, 7:35 pm
शब्दों के वार से अभिमान मरोड़ा गया, फिर मेरे आत्मसम्मान को तोड़ा गया| टूट के जब में गिरा अपनी नज़रों से, फिर मुझे रिश्तों की गोंद से जोड़ा गया| शब्दों के वार से… यही क्रम चलता रहा सालों साल निरंतर, … Continue reading →...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  July 10, 2012, 11:30 am
मुझ पर दावा-ए-हक का तलबगार न बन, ये शौक़ है ज़माने का, तुम पर जचता नहीं | रोज़ कमाते हैं तब ही रोज़ खाते हैं, महीने के आखरी में, जेब में कुछ बचता नहीं | ये शौक़ है ज़माने का, … Continue reading →...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  June 18, 2012, 11:42 am
चल उठ के देर हो गयी है घर जाने में, तेरे सिवा अब कोई नहीं, इस मयखाने में | एक लम्हा था जो कमज़ोर कर गया मुझे, वरना एक उम्र छोटी थी, उसको भुलाने में | तेरे सिवा अब कोई नहीं, … Continue reading →...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  June 15, 2012, 12:09 pm
अपना सर उठाने की, एक कीमत होती है, हर किसी को कहाँ नसीब, ये ज़ीनत होती है | ख्वाब तो हर आँख में होते हैं मगर, सब में कहाँ इन्हें जीने की नीयत होती है | अपना सर उठाने की, एक कीमत होती है … मुश्किल हालत से गुज़रते … Continue reading →...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  June 14, 2012, 8:23 am
इस शहर की दुकानों में, मुझे बेंच रहा है हुनर मेरा| मैं खरीद रहा हूँ अपने रास्ते, और नीलाम हो रहा है सफ़र मेरा| एक शख्स मेरे अन्दर मुझे, जीस्त की मजबूरियां गिनाता है| मैं ढल रहा हूँ बदलते सांचों में, और बदनाम हो रहा है सफ़र मेरा| मैं खरीद रहा हूँ अपने रास्ते, … Continue reading →...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  June 13, 2012, 10:54 am
अंदाज़ मेरा मुझे बेगाना सा लगने लगा है, हर ख्याल कोई दुश्मन पुराना सा लगने लगा है| एक लम्हें में इतनी दूर चला आया हूँ सबसे, ये दिन भी गुजरा ज़माना सा लगने लगा है| अंदाज़ मेरा मुझे बेगाना सा … Continue reading →...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  June 7, 2012, 10:55 am
ख्वाब देखा न करो, खुली आँखों से, इसकी कीमत देनी होती है, अधूरी सांसों से| हकीकत बदलती नहीं बस धुंधला जाती है, लकीरें कहाँ मिटती हैं, किसी के हाथों से| ख्वाब देखा न  करो, खुली आँखों से… आदमी अकेला था और अकेला ही रहेगा, क्या उम्मीद लगाई है तुमने रिश्ते-नातों से| ख्वाब दे...
वीरांशवीरांश...
Tag :ख्याल
  June 7, 2012, 10:29 am
न खैरात में मिला है, न वसीयत काम आई है, एक-एक रुपया मेरी जेब का, गाढ़े पसीने की कमाई है| न शागिर्दी है मिजाज़ में, न बेपनाह हुनर है कोई, मैंने ठोकरें खा-खा कर, अपनी रह बनाई है| एक-एक रुपया … Continue reading →...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  April 30, 2012, 3:33 pm
सब आसपास हैं तो फिर मुलाक़ात क्यों नहीं होती? अरसा गुज़र जाता है, दिल से दिल की बात नहीं होती| ये दुनिया भी अजीब शय है दोस्तों, साथ रहती है मगर साथ नहीं होती| दिल से दिल की बात नहीं होती… दिन मान भी जाता है लकीरों के लिखे को, तुम्हारे बिन मगर गुज़र ये रात [...]...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  April 24, 2012, 6:21 pm
मुझे ये कलाकारी, बर्दाश्त नहीं होती| ये नकाबों की बिमारी, बर्दाश्त नहीं होती| मैंने देखे हैं तुम्हारे कई सुन्दर रंग, मुझसे तुम्हारी अदाकारी, बर्दाश्त नहीं होती| मुझे ये कलाकारी, बर्दाश्त नहीं होती… हमने फूँका है खुद को वफ़ा में मगर, अब तंज की चिंगारी, बर्दाश्त नहीं होत...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  April 24, 2012, 3:50 pm
...
वीरांशवीरांश...
Tag :ग़ज़ल
  April 6, 2012, 10:36 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167897)