POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: रोज़ की रोटी - Daily Bread

Blogger: rozkiroti
      1950 के दशक में, हमने कभी रंग-भेद पर कोइ प्रश्न उठाया ही नहीं था; हमारे रहने के स्थान पर रंग-भेद रखना एक सामान्य और स्वीकार्य प्रथा थी जिसे दैनिक जीवन में बड़ी सहजता से देखा जा सकता था। स्कूलों, रेस्टोरेंटों, सार्वजनिक वाहनों, पड़ौसियों आदि के मध्य त्वचा के रंग के ... Read more
clicks 10 View   Vote 0 Like   3:15pm 15 Jan 2020 #प्रयत्नशील
Blogger: rozkiroti
      मसीही आराधना के सबसे प्रचलित गीतों, विशेषकर बच्चों के लिए, में से एक है “Jesus loves me this I know, for the Bible tells me so” (“यीशु मुझ से प्यार करता, यह मैं जानता हूँ, क्योंकि बाइबल मुझे बताती है”)। इस गीत को एन्ना बी. वार्नर ने लगभग 200 वर्ष पहले लिखा था, और इस गीत के बोल बड़ी कोमलता से प्रभु क... Read more
clicks 10 View   Vote 0 Like   3:15pm 14 Jan 2020 #जानना
Blogger: rozkiroti
      ली अपने कार्यस्थल में एक ईमानदार और भरोसेमंद कर्मचारी है। परन्तु फिर भी अपने मसीही विश्वास के निर्वाह के कारण वह अपने आप को औरों से अलग पाता है। और यह उसके व्यावाहारिक जीवन में प्रत्यक्ष दिखाई देता है, जैसे कि जब किसी संगति में कोई अनुचित अथवा भद्दी बातें ह... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   3:15pm 12 Jan 2020 #संसार
Blogger: rozkiroti
      मैंने अपनी सहेली, एमिली, से, उसकी बेटी द्वारा अपने छोटे से हाथों में पकड़ी हुई कपड़े की गुडिया की सराहना की, तो उसने मुझ से पूछा, “क्या तुम देखना चाहोगी कि उस गुड़िया के अन्दर क्या है?” तुरंत ही कौतुहल के कारण मैंने कहा, “अवश्य।” एमिली ने उस गुड़िया को लिया, घुमाकर उ... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   3:15pm 11 Jan 2020 #सत्य
Blogger: rozkiroti
      कई बार जब मैं इंटर्नेट चालू करके फेसबुक पर जाती हूँ, तो फेसबुक मुझे पिछले वर्षों में, उस दिन मैंने फेसबुक पर क्या पोस्ट किया था, उन बातों की स्मृतियाँ दिखाती है। ये स्मृतियाँ कुछ फोटो हो सकती हैं, जैसे कि मेरे भाई के विवाह की फोटो, या मेरी बेटी का मेरी दादी के स... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   3:15pm 9 Jan 2020 #विश्वासयोग्य
Blogger: rozkiroti
      मैं जिस दफ्तर में काम करता हूँ, एक दिन उसके भवन की एक दीवार के साथ-साथ चलते हुए मैंने कॉन्क्रीट के स्लेबस के बीच की दरार में से होकर एक पौधे को उगे हुए और उसमें बहुत सुन्दर फूल को लगे हुए देखा। मैं उसे देखकर बहुत चकित हुआ; उसकी विपरीत परिस्थितयों के बावजूद उस प... Read more
clicks 40 View   Vote 0 Like   3:15pm 2 Jan 2020 #दृढ़
Blogger: rozkiroti
      सभी पाठकों को नव-वर्ष की शुभ कामनाएं।      दिसंबर के अंत में जब क्रिसमस से संबंधित उत्सव मनाने की सभी प्रक्रियाएं समाप्त हो जाती हैं, तो मेरे विचार आने वाले वर्ष की और जाते हैं। जब मेरे बच्चे स्कूल गए हुए होते हैं, और हमारी दिनचर्या की कार्यवाही कुछ धी... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:15pm 1 Jan 2020 #आरंभ
Blogger: rozkiroti
      परमेश्वर के स्तुतिगान के स्वरों से भरे चर्च में प्रवेश करते ही मैंने उस नए-साल की पूर्व संध्या पर एकत्रित हुए लोगों की भीड़ को देखा, और उसपर एक नज़र दौड़ाई। उन सब को देखकर मेरा हृदय आनन्द और आशा से भर गया; मुझे बीते हुए वर्ष की प्रार्थनाएं स्मरण हो आईं। हमारी चर्... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:15pm 31 Dec 2019 #धन्यवाद
Blogger: rozkiroti
      हिन्दी में फूलचुसनी कही जाने वाली चिड़िया को अंग्रेज़ी में हमिंगबर्ड कहते हैं, क्योंकि इसके तेज़ी से फड़फड़ाते हुए पंखों के कारण एक गुनगुनाने की सी ध्वनि उत्पन्न होती है। अन्य भाषाओं में भी इस चिड़िया के विभिन्न नाम हैं, पुर्तगाली में इसे फूलों का चुम्बन लेने व... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:15pm 29 Dec 2019 #अजूबा
Blogger: rozkiroti
      पोलैंड के एक मसीही मठ में रहने वाले एक साधु, सिलेसियस ने सन 1657 में अपनी एक कविता “काश आपकी आत्मा शांत रात बन जाती”, लघु कविताओं के संग्रह, द चेरुबिक पिलग्रिम में प्रकाशित की थी, जो उस शांत धन्य रात के बारे में थी, जब प्रभु यीशु मसीह का जन्म हुआ। यह जोसफ मोहर और फ्... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:15pm 22 Dec 2019 #परमेश्वर
Blogger: rozkiroti
      परमेश्वर के वचन बाइबल के पुराने नियम खण्ड के अंत में ऐसा लगता है मानो परमेश्वर कहीं छिप गया है। चार सदियों तक, यहूदी प्रतीक्षा करते रहे, असमंजस में पड़े रहे। परमेश्वर निष्क्रीय, बेपरवाह, और उनकी प्रार्थनाओं के प्रति कानों को बंद किए हुए बैठा रहा। एक ही आशा शे... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:15pm 20 Dec 2019 #कार्य
Blogger: rozkiroti
      कुछ वर्ष पहले की बात है, मेरी एक मित्र का पुत्र शिकागो के यूनियन स्टेशन की भीड़ में चलते हुए उससे अलग हो गया। कहने की आवश्यकता नहीं है कि यह उसके लिए बहुत ही भयावह समय था। बहुत चिंता और व्याकुलता के साथ वह उसके नाम को पुकारती हुई, नीचे उतरने वाली स्वचालित सीढ़िय... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:15pm 19 Dec 2019 #ढूढना
Blogger: rozkiroti
      जीवन की परेशानियां हमें चिड़चिड़ा और तुनक मिज़ाज़ बना सकती हैं, परन्तु इस प्रकार के बुरे व्यवहार के लिए हमें बहानों के पीछे छिपने के प्रयास नहीं करने चाहिएं क्योंकि ऐसे व्यवहार से हमारे आस-पास दुःख का वातावरण रहता है तथा यह उन्हें, जिनसे हम प्रेम करते हैं, निरा... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:15pm 17 Dec 2019 #नम्रता
Blogger: rozkiroti
      हम कार चलाते हुए उत्तरी मिशिगन से होकर निकल रहे थे, कि मेरी पत्नि मार्लीन ने आश्चर्यचकित होकर कहा “विशवास नहीं होता है कि हमारा संसार इतना बड़ा है!” उसने या टिप्पणी तब की जब हमने उस संकेत को पार किया जो भूमध्य रेखा और उत्तरी ध्रुव के मध्य की दूरी के बीच में स्थ... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   3:15pm 16 Dec 2019 #जगत
Blogger: rozkiroti
      हम “अपोलो 13” फिल्म देखने गए थे; फिल्म आरंभ होने से पहले जब बत्तियाँ बन्द होने लगीं तो मेरे मित्र ने दबी आवाज़ में कहा, “दुःख की बात है, उन सबकी मृत्यु हो गई।” मैं 1970 के उस अंतरिक्ष यात्रा की फिल्म देखने लगी, उस दुर्घटना के घटित होने की प्रत्याशा में, और तब अन्त के ... Read more
clicks 105 View   Vote 0 Like   3:15pm 9 Nov 2019 #अनन्त
Blogger: rozkiroti
      मुझे और मेरी पत्नि को पैरिस में लुवरे संग्रहालय जाने के सौभाग्य मिलने बाद, हमने अपनी ग्यारह वर्षीय पोती से फोन पर बात की। जब हमने उसे बताया कि हमने वहाँ पर सुविख्यात “मोना लिसा” चित्र को देखा, तो उसने तुरंत पूछा, “क्या वह मुस्कुरा रही है?” इस चित्र से संबंधित... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   3:15pm 4 Nov 2019 #आशा
Blogger: rozkiroti
      मुझे जेन योलेन द्वारा लिखित निबंध “Working Up to Anon” (Anonymus - अज्ञात) बारंबार पढ़ना बहुत अच्छा लगता है, और मैं इसे कई बार पढ़ चुका हूँ। मैंने इस निबंध की एक प्रति कई वर्ष पहल ‘द राईटर’ पत्रिका से ली थी। जेन ने लिखा है कि सबसे अच्छे लेखक वे होते हैं जो वास्तव में, अपने दिल की गह... Read more
clicks 39 View   Vote 0 Like   3:15pm 2 Nov 2019 #महत्व
Blogger: rozkiroti
      मैं जब विद्यार्थी था, तो जब भी कक्षा में आकर अध्यापक ये भयभीत करने वाले शब्द कहते कि, “अपने डेस्क पर से सब कुछ हटा लो, और एक कोरा कागज़ तथा पेन्सिल निकाल कर रख लो” तो हम समझ जाते थे कि परिक्षा देने का समय आ गया था।      परमेश्वर के वचन बाइबल में मरकुस 4 अध्या... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   3:15pm 1 Nov 2019 #प्रश्न
Blogger: rozkiroti
      प्रभु यीशु मसीह को अपने जीवन समर्पित करने से पहले, मैं और मेरे पति गंभीरता से तलाक लेने पर विचार कर रहे थे। परन्तु परमेश्वर से प्रेम करने और उसके आज्ञाकारी बने रहने के प्रति समर्पित होने के पश्चात, हम दोनों ने एक बार फिर एक दूसरे के प्रति समर्पण किया। हमने बु... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   3:15pm 29 Oct 2019 #भरोसा
Blogger: rozkiroti
      हमारे मित्र नए घर में गए; वहाँ अपना बगीचा बनाते समय उन्होंने पड़ौसी के मकान के बाड़े के निकट एक सुगन्धित फूल वाला पौधा लगाया, जिस में फूल आने में पाँच वर्ष का समय लगना था। वे उस पौधे की देखभाल करते रहे और फिर दो दशकों से अधिक तक उसके सुगन्धित फूलों का आनन्द लिया; ... Read more
clicks 20 View   Vote 0 Like   3:15pm 28 Oct 2019 #जड़
Blogger: rozkiroti
      मेरी बेटी और मैं एक पारिवारिक उत्सव में जाने की तैयारीयां कर रहे थे। क्योंकि वह यात्रा के विषय घबरा रही थी, इसलिए मैंने कार चलाने की पेशकश की। उसने सहमत होते हुए कहा, “ठीक है; परन्तु मुझे अपनी कार में अधिक सुरक्षित लगता है। क्या आप उसे चला सकते हैं?” मुझे लगा क... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   3:15pm 21 Oct 2019 #सहायता
Blogger: rozkiroti
      सदियों से युद्ध और लड़ाईयाँ झेल रहे यरूशलेम शहर का वर्तमान आधुनिक भाग, उसके अपने ही मलबे पर बना हुआ है। जब हम पारिवारिक भ्रमण पर यरूशलेम गए हुए थे , तो हम ‘विया डोलोरोसा’ अर्थात पीड़ा के मार्ग पर से भी होकर चले, जिसके लिए कहा जाता है कि प्रभु यीशु मसीह अपने क्रूस... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   3:15pm 18 Oct 2019 #प्रेम
Blogger: rozkiroti
      मैं अपनी बहिन के घर गई हुई थी; दोपहर के भोजन के समाप्ति के समय मेरी बहिन ने अपने बेटी से कहा कि अब उसके जाकर सोने का समय हो गया है। मेरी वह तीन वर्षीय भांजी चौंक गई, उसकी आँखों में आँसू आ गए, और उसने शिकायत की, “लेकिन आंटी मोनिका ने मुझे अभी तक तो गोद में लिया ही नह... Read more
clicks 35 View   Vote 0 Like   3:15pm 14 Oct 2019 #प्रेम
Blogger: rozkiroti
      मैं अपने पति के साथ अस्पताल के कमरे में थी और चिन्तित होकर प्रतीक्षा कर रही थी। हमारे बेटे की आँखों का ऑपरेशन होना था, और मैं चिन्तित तथा बेचैन होकर कभी बैठती, कभी इधर से उधर टहलती। मैंने बैठकर प्रार्थना करने का भी प्रयास किया, कि परमेश्वर मुझे अपनी शान्ति प्... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   3:15pm 12 Oct 2019 #चरवाहा
Blogger: rozkiroti
      उन वर्षों में जब मैं बहुत यात्राएं किया करता था और प्रत्येक रात्रि को किसी भिन्न शहर में सोया करता था, तो सोने के लिए होटल में जाते समय मैं उनसे मुझे प्रातः उठाने के लिए समय बता दिया करता था। अपने व्यक्तिगत अलार्म के साथ, मुझे प्रातः जागृत हो जाने के लिए टेली... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   3:15pm 10 Oct 2019 #जागृत
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3928) कुल पोस्ट (194171)