Hamarivani.com

आज का आध्यात्म

धर्मनिरपेक्षता राजनैतिक पाखण्ङघर-घर जाकर पूँछा, किसी ने अपने को इस्लाम, किसी ने हिन्दु, किसी ने ईसाई और किसी ने सिख धर्म का अनुयायी बताया, अपने आपको। मैने उन्हे धर्मनिरपेक्ष होने को कहा पर कोई तैयार न हुआ और मेरी बात पर लोग मरने मारने का तैयार हो गये। लोगों ने यहाँ तक कह...
आज का आध्यात्म...
Tag :
  April 14, 2013, 9:46 pm
ङर क्यों लगता है  ?      कुछ दिन से लगातार समाचार पत्रों और इलेक्ट्रानिक मीङिया में लगातार मुलायम सिंह जी का यह कथन  कि ‘‘ काँग्रेस धोखेबाजों की पार्टी है,’’पढने-सुनने मिल रहा है ।प्रश्न यह खङा होता है कि जब श्री मुलायम सिंह जी यह सब जानते हैं और यदि उन्हें धोखेबाज लोग पस...
आज का आध्यात्म...
Tag :
  March 30, 2013, 8:52 pm
               ङर क्यों लगता है  ?      कुछ दिन से लगातार समाचार पत्रों और इलेक्ट्रानिक मीङिया में लगातार मुलायम सिंह जी का यह कथन  कि ‘‘ काँग्रेस धोखेबाजों की पार्टी है,’’पढने-सुनने मिल रहा है ।प्रश्न यह खङा होता है कि जब श्री मुलायम सिंह जी यह सब जानते हैं और यदि उन्हें धोखेब...
आज का आध्यात्म...
Tag :
  March 30, 2013, 8:40 pm
                    अब न भायें रंग मुझको , सब बनावट से बने,                    प्रेम, सौहार्द, भाई चारा रह गये औपचारिक सब ।                     खो दिये संस्कार हमने, इन्सानियत बदरंग हुई,                    रो रहा है दिल तो मेरा, संवेदनाऐं अब मर रही ।                    प्रेम है तो रंग है वरना शान्ति भंग है,   ...
आज का आध्यात्म...
Tag :
  March 25, 2013, 9:15 pm
      ज्ञान दो प्रकार का होता है। शास्त्र ज्ञान और अनुभवजन्य अर्थात् अनुभूत ज्ञान। शास्त्रों का ज्ञान दूसरों का अनूभूतज्ञान है अर्थात् वह ज्ञान जो दूसरों ने कार्यानुभव के बाद  वर्णित या प्रतिपादित किया  है , जो स्दयं का अनूभूत ज्ञान न हो। बात हम आध्यात्मिक ज्ञान की कर ...
आज का आध्यात्म...
Tag :
  March 19, 2013, 11:00 am
यह तस्वीर उस समय की है जब मै पंडित श्यामाचरण शुक्ल महाविद्यालय (2002) में पढ़ा करता था । इस दौरान मेरे कुछ अच्छे दोस्त भी बने। जिसमे श्वेतराज सिंह गौतम, कृष्णा साहू, ललिता विश्वकर्मा , गूंजा शर्मा, विनीता देवांगन, हेमलता शर्मा, दीपक गवली , श्वेता मरुत्कर , कुमारी साहू शामिल है...
आज का आध्यात्म...
Tag :
  August 21, 2010, 12:09 am
जिंदगी में कुछ घटनाएं ऐसी होती हैं, जिन्हें इंसान चाह कर भी कभी भूल नहीं पाता है। कुछ ऐसी ही एक घटना ने मेरी जिंदगी को झकझोर दिया है। इस वाकिये में तकरीबन तीन से चार साल उम्र की एक लड़की ने मुझे अंदर से हिला कर रख दिया। सुबह करीब 8 बजकर 45 मिनट पर मेरी बड़ी बहन ने मुझसे यह कहा कि...
आज का आध्यात्म...
Tag :
  January 25, 2010, 12:13 pm

...
आज का आध्यात्म...
Tag :
  January 1, 1970, 5:30 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169554)