POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Nayekavi

Blogger: Basudeo Agarwal
मंजुल मुद आनंद, राम-चरित कलि अघ हरण।भव अधिताप निकंद, मोह निशा रवि सम दलन।।हरें जगत-संताप, नमो भक्त-वत्सल प्रभो।भव-वारिध के आप, मंदर सम नगराज हैं।।शिला और पाषाण, राम नाम से तैरते।जग से हो कल्याण, जपे नाम रघुनाथ का।।जग में है अनमोल, विमल कीर्ति प्रभु राम की।इसका कछु नहिं तो... Read more
clicks 31 View   Vote 0 Like   11:24am 11 Jan 2020 #सोरठा
Blogger: Basudeo Agarwal
बिल्ली रानी आवत जान।चूहा भागा ले कर प्रान।।आगे पाया साँप विशाल।चूहे का जो काल कराल।।नन्हा चूहा हिम्मत राख।जल्दी कूदा ऊपर शाख।।बेचारे का दारुण भाग।शाखा पे बैठा इक काग।।पत्तों का डाली पर झुण्ड।जा बैठा ले भीतर मुण्ड।।कौव्वा बोले काँव कठोर।चूँ चूँ से दे उत्तर जोर।।य... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   11:12am 11 Jan 2020 #वर्ष छंद
Blogger: Basudeo Agarwal
प्रचंड रह, सदैव बह, कभी न तुम, अधीर हो।महान बन, सदा वतन, सुरक्ष रख, सुवीर हो।।प्रयत्न कर, बना अमर, अटूट रख, अखंडता।कभी न डर, सदैव धर, रखो अतुल, प्रचंडता।।निशा प्रबल, सभी विकल, मिटा तमस, प्रदीप हो।दरिद्र जन , न वस्त्र तन, करो सुखद, समीप हो।।सुकाज कर, गरीब पर, सदैव तुम, दया रखो।मिटा ... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   11:09am 11 Jan 2020 #वरूथिनी छन्द
Blogger: Basudeo Agarwal
बह्र:- 2122  1212   22इश्क़ की मेरी इब्तिदा है वो,हमनवा और दिलरुबा है वो।मेरा दिल तो है एक दरवाज़ा,हर किसी के लिए खुला है वो।खुद में खुद को ही ढूंढ़ता जो बशर,पारसा वो नहीं तो क्या है वो।जब से खुद को ख़ुदा समझने लगा,अपनी धुन में रमा हुआ है वो।बाँध पट्टी जो जीता आँखों पे,बैल जैसा ही ज... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   6:54am 6 Jan 2020 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
बह्र:- 212*4आपके पास हैं दोस्त ऐसे, कहें,साथ जग छोड़ दे, संग वे ही रहें।दोस्त ऐसे हों जो बाँट लें दर्द-ओ-ग़म,दिल की पीड़ा को संग_आपके जो सहें।धैर्य रख जो सुनें बात हैं मित्र वे,और जो साथ में भावना में बहें।बेरुखी पे जहाँ की लगे आग तो,मित्र के सीने में भी वे शोले दहें।मित्र सच्चे 'नम... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   6:47am 6 Jan 2020 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
1222   1222   1222   1222तेरे चहरे की रंगत अर्गवानी याद आएगी,हमें होली के रंगों की निशानी याद आएगी।तुझे जब भी हमारी छेड़खानी याद आएगीयकीनन यार होली की सुहानी याद आएगी।मची है धूम होली की जरा खिड़की से झाँको तो,इसे देखोगे तो अपनी जवानी याद आएगी।जमीं रंगीं फ़ज़ा रंगीं तेरे आगे न... Read more
clicks 29 View   Vote 0 Like   6:40am 6 Jan 2020 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
2*7 (नेताओं पर मुसलसल ग़ज़ल)माल पराया खाएँ हम,नेता तब कहलाएँ हम।नाटक जनता से कर के,आँसू खूब बहाएँ हम।देश भले लुटता जाए,अपनी फ़िक्र जताएँ हम।अपनी तो तिकड़म सारी,कैसे कुर्सी पाएँ हम।'नमन'किसे परवाह यहाँ,भाएँ या ना भाएँ हम।बासुदेव अग्रवाल 'नमन'तिनसुकिया2-5-19... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   6:34am 6 Jan 2020 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
सीपी में आँखों की,मौक्तिक चंदा भर,भेंट मिली पाँखों की।नव पंख लगा उड़तीसपनों के नभ में,प्रियतम से मैं जुड़ती।तारक-चूनर ओढ़ी,रजनी की मोहक,चल दी साजन-ड्योढ़ी।बादल नभ में छाये,ढ़क लें चंदा को,फिर झट मुँह दिखलाये।आँख मिचौली करता,चन्द्र लगे ज्यों पिय,प्रेम-ठिठौली करता।सूनी जीव... Read more
clicks 4 View   Vote 0 Like   7:51am 28 Dec 2019 #माहिया
Blogger: Basudeo Agarwal
जापानी विधा चौका5-7, 5-7, 5-7 -------- +7गुलाब बनोसौरभ बिखराओ,राहगीर कोकाँटे मत चुभाओ,चिराग बनोआलोक छिटकाओ,आग लगा केघर मत जलाओ,बिजली बनोजग जगमगाओ,पर दीन पेगिर कर उसका,अस्तित्व न मिटाओ।बासुदेव अग्रवाल 'नमन'तिनसुकिया30-06-19... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   7:47am 28 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
आता सीटी सा ये बजाता,फिर नभ के गोते लगवाता,मिटा दूरियाँ देता चैन,क्या सखि साजन?ना सखि प्लैन।सीटी बजा बढ़े ये आगे,पहले धीरे फिर ये भागे,इससे जीवन के सब खेल,क्या सखि साजन? ना सखि रेल।इसको ले बन ठन कर जाऊँ,मन में फूली नहीं समाऊँ,इस बिन मेरा सूना द्वार,क्या सखि साजन? ना सखि कार।... Read more
clicks 5 View   Vote 0 Like   7:44am 28 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
बहर:- 122 122 122 12 (भुजंगी छंद)गरीबी रहे ना यहाँ पे कभी।रहे देश का नाम ऊँचा तभी।।रखें भावना प्यार की सबसे हम,दुखी जो हैं उनके करें दुख को कम,दिलों में दया भाव धारें सभी।रहे देश का नाम ऊँचा तभी।।मिला हाथ आगे बढ़ें सब सदा,न कोई रहे कर्ज़ से ही लदा,दुखी दीन को दें सहारा सभी।रहे देश का न... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   7:02am 24 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
(तर्ज़- दिल में तुझे बिठा के)(2212  122 अंतरा 22×4 // 22×3)भारत तु जग से न्यारा, सब से तु है दुलारा,मस्तक तुझे झुकाएँ, तेरे ही गीत गाएँ।।सन सैंतालिस मास अगस्त था, तारिख पन्द्रह प्यारी,आज़ादी जब हमें मिली थी, भोर अज़ब वो न्यारी।चारों तरफ खुशी थी, छायी हुई हँसी थी,ये पर्व हम मनाएँ, तेरे ही ग... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   6:42am 24 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
जिंदा जब तक थे अपनों के हित तो याद बहुतआये,लिख वसीयतें हर अपने के कुछ कुछ तो ख्वाब सजाये,पर याद न आयी उन अन्धो की जीवन की वीरानी,जिन के लिए वसीयत हम इन आँखों की कर ना पाये।(2*15)**********परछाँई देखो अतीत की, जब तू था बालक लाचार।चलना तुझे सिखाया जिनने, लुटा लुटा कर अपनाप्यार।रोनी र... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   6:24am 24 Dec 2019 #विविध मुक्तक
Blogger: Basudeo Agarwal
रुबाई-4हाथी को दिखा आँख रहा चूहा है,औकात नहीं कुछ भी मगर फूला है,कश्मीर न खैरात में बँटता है ए सुन,लगता है तु पैदा ही हुआ भूखा है।रुबाई-5झकझोर हमें सकते न ये झंझावात,जितनी भी मिले ज़ख्मों की चाहे सौगात,जीते हैं सदा फ़क्र से रख अपनी अना,जो हिन्द में है वैसी कहाँ ओर ये बात।रुबा... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   6:09am 24 Dec 2019 #रुबाई
Blogger: Basudeo Agarwal
7 भगण (211) की आवृत्ति के बाद 2 गुरुपैर मिले करने सब तीरथ, हाथ दुखारिन दान दिलाने।कान मिले सुनिए प्रभु का जस, नैन मिले छवि श्याम बसाने।बैन मिले नित गा हरि के गुण, माथ दयानिधि पाँव नवाने।'बासु'कहे सब नीक दिये प्रभु, क्यों फिर पेटहु पाप कमाने।।बासुदेव अग्रवाल 'नमन'तिनसुकिया03-09-17... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   7:13am 21 Dec 2019 #मत्तगयंद सवैया
Blogger: Basudeo Agarwal
माटी की महक लिए, रीत की चहक लिए,प्रीत की दहक लिए, भाव को उभारिए।छातियाँ धड़क उठें, हड्डियाँ कड़क उठें,बाजुवें फड़क उठें, वीर-रस राचिए।दिलों में निवास करें, तम का उजास करें,देश का विकास करें, मन में ये धारिए।भारती की आन बान, का हो हरदम भान,विश्व में दे पहचान, गीत ऐसे गाइए।।बासु... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   7:06am 21 Dec 2019 #मनहरण घनाक्षरी
Blogger: Basudeo Agarwal
काफ़िया = आये, रदीफ़ = शब्दमान और अपमान दउ, देते आये शब्द।अतः तौल के बोलिये, सब को भाये शब्द।।सजा हस्ति उपहार में, कभी दिलाये शब्द।उसी हस्ति के पाँव से, तन कुचलाये शब्द।।शब्द ब्रह्म अरु नाद हैं, शब्द वेद अरु शास्त्र।कण कण में आकाश के, रहते छाये शब्द।।शब्दों से भाषा बने, भाषा ... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   6:44am 21 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
धोती कुर्ता पागड़ी, धवल धवल सब धार।सुड़क रहे हैं चाय को, करते गहन विचार।।करते गहन विचार, किसी की शामत आई।बैठे सारे साथ, गाँव के बूढ़े भाई।।झगड़े सब निपटाय, समस्या सब हल होती।अद्भुत यह चौपाल, भेद जो सब ही धोती।।बासुदेव अग्रवाल नमनतिनसुकिया29-06-18... Read more
clicks 4 View   Vote 0 Like   3:42am 9 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
कल पे काम कभी मत छोड़ो, आता नहीं कभी वह काल।आगे कभी नहीं बढ़ पाते, देते रोज काम जो टाल।।किले बनाते रोज हवाई, व्यर्थ सोच में हो कर लीन।मोल समय का नहिं पहचाने, महा आलसी प्राणी दीन।।बोझ बने जीवन को ढोते, तोड़े खटिया बैठ अकाज।कार्य-काल को व्यर्थ गँवाते, मन में रखे न शंका लाज।नहीं ... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   3:28am 9 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
जो भी विषय रखो तुम आगे, प्रश्न सभी के मन में मेरे।प्रश्न अधूरे रह जाते हैं, उत्तर थोड़े प्रश्न घनेरे।।रह रह करके प्रश्न अनेकों, मन में हरदम आते रहते।नहीं सूझते उत्तर उनके, बनता नहीं किसी से कहते।।झूठ, कपट ले कर के कोई, जग में जन्म नहीं लेता है।दिया राम का सब कुछ तो फिर, राम ... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   3:18am 9 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
फागुन मास सुहावना आया।मौसम रंग गुलाल का छाया।।पुष्प लता सब फूल के सोहे।आज बसन्त लुभावना मोहे।।ये ऋतुराज बड़ा मनोहारी।दग्ध करे मन काम-संचारी।।यौवन भार लदी सभी नारी।फागुन के रस भीग के न्यारी।।आज छटा ब्रज में नई राचे।खेलत फाग सभी यहाँ नाचे।।गोकुल ग्राम उछाह में झूमा... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   2:48am 9 Dec 2019 #रोचक छंद
Blogger: Basudeo Agarwal
माँ कालिका, लपलप जीभ को लपा।दुर्दान्तिका, रिपु-दल की तु रक्तपा।।माहेश्वरी, खड़ग धरे हुँकारती।कापालिका, नर-मुँड माल धारती।।तू मुक्त की, यह महि चंड मुंड से।विच्छेद के, असुरन माथ रुंड से।।गूँजाय दी, फिर नभ अट्टहास से।थर्रा गये, तब त्रयलोक त्रास से।।तू हस्त में, रुधिर कपाल... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   2:43am 9 Dec 2019 #रुचि छंद
Blogger: Basudeo Agarwal
नारी शक्ति को समर्पित मुसलसल ग़ज़ल।बह्र:- 1222   1222   1222   1222चढ़ी है एक धुन मन में पढ़ेंगे जो भी हो जाए,बड़े अब इस जहाँ में हम बनेंगे जो भी हो जाए।कोई कमजोर मत समझो नहीं हम कम किसी से हैं,सफलता की बुलन्दी पे चढ़ेंगे जो भी हो जाए।हमारे दरमियाँ जो भेद कुदरत का सुनो मर्दों,बराबर ... Read more
clicks 2 View   Vote 0 Like   12:08pm 4 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
बह्र:- 122  122  122  122लगाए बहुत साल याँ आते आते,रुला ही दिया क़द्र-दाँ आते आते।बहुत थक गए हम रह-ए-ज़िन्दगी में,थकीं पर न दुश्वारियाँ आते आते।घुटी साँस ज्यूँ ही गली आई उनकी,न मर जाएँ उनका मकाँ आते आते।करें याद गर वो ज़रा भी नहीं ग़म,निकल जाए दम हिचकियाँ आते आते।बड़ी गर्मजोशी से दा... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   11:59am 4 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
Blogger: Basudeo Agarwal
बह्र:- 122  122  122  12चरागों के साये में बुझते रहे,अँधेरे में पर हम दहकते रहे।डगर गर न आसाँ तो परवाह क्या,भरोसा रखे खुद पे चलते रहे।जमाना हमें खींचता ही रहा,मगर था हमें बढ़ना बढ़ते रहे।जहाँ से थपेड़े ही खाये सदा,मगर हम मुसीबत में ढलते रहे।जवानों के जज़्बे का क्या हम कहें,सदा हा... Read more
clicks 3 View   Vote 0 Like   11:53am 4 Dec 2019 #बासुदेव अग्रवाल
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3928) कुल पोस्ट (194171)