POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: LIFE

Blogger: anupriya
उस उम्र की नजाकत को बार  बार देखना है...मुझे हर बार तुम्हेंपहली बार देखना है।जरा सा इश्क, जरा सी आसजरा सी शर्म,जरा सी प्यास,जरा सा ख्वाबों में तुमकोबेकरार देखना है...मुझे हर बार तुम्हेंपहली बार देखना है।वो चुप चाप आंखों सेजो बातें बोल जाते थे,ना जाने गीत कितने मेरी क... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   3:00pm 24 Nov 2021 #
Blogger: anupriya
बंद आंखो के भीतरएक नया संसार बुनना चाहती हूं।मैं खामोशी सुनना चाहती हूं।हृदय की ताल होएकांत गाए,एक ऐसा गीत गुनना चाहती हूं।मैं खामोशी सुनना चाहती हूं।किसी अनजान पथ पे खुद को खोना,बड़ा सुन्दर है जानो शून्य होना,वहीं सौन्दर्य चुनना चाहती हूं।मैं खामोशी सुनना चाहती ह... Read more
clicks 49 View   Vote 0 Like   5:08pm 10 Apr 2021 #
Blogger: anupriya
लिख के नाम कागज पेगजल सा गुनगुनाऊं तुम्हें...त्योहार हो तुम प्रेम काआओ! मनाऊं तुम्हें...तुम्हें माथे मैने सजा लियामेरी जिंदगी का श्रृंगार तुमतुम्हें अंग मैने लगा लियामेरे हृदय पे रखा हार तुम।तुम सांझ ,मेरी भोर तुममैं पतंग ,मेरी डोर तुमतुम लक्ष्य और मैं रास्तामैं चलूं ,... Read more
clicks 98 View   Vote 0 Like   3:27am 16 Feb 2021 #
Blogger: anupriya
ठहर गई है जिंदगीबस चल रही हूं मैं,सांसों की आंच में देखोपिघल रही हूं मैं।ख्वाब ख्वाहिशें जुस्त - जू सब बीती बातें हैं'आज 'ह&... Read more
clicks 50 View   Vote 0 Like   4:50am 14 Sep 2019 #
Blogger: anupriya
जरासम्भाल कर कागज पे रखोटुकड़ा स्याही का,जज़्बात लिखना इतना भी आसान नहीं है।तख्तें पलट जाती हैं इनके इक इशारे पे,लब्जो... Read more
clicks 65 View   Vote 0 Like   4:41am 4 Apr 2019 #
Blogger: anupriya
लब्जों को क्या चाहिएबस एक ख्यालजिसे अपनी बाहों में समेटवो मुक्कमल हो जाए।मिटा के नामों- निशानअपना वजूद, अपनी पहचाननदी ... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   5:11pm 6 Feb 2019 #
Blogger: anupriya
तुम्हारेलम्हों से सदियों के बीचके सफर मेंवो जो सूकून के दो पल है नाउसी में है मेरा आशियाना,                             &#... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   4:26pm 17 Jan 2019 #
Blogger: anupriya
मैं लिखती हूं ,तुम गा देना।                     वो काव्य जो बहता है प्रतिक्षण                     हम दोनों की आंखों में, &#... Read more
clicks 96 View   Vote 0 Like   10:58am 8 Jan 2019 #
Blogger: anupriya
पाँव जैसे धरती,सूरत अम्बर,नन्ही  सी बिटियाआई मेरे घर।चिड़ियों सी चहके,फूलों सी महके,झूले झूलासपनों पर।प्यारी सी बिटियाआई मेरे घर।चीनी की बोरी  है ,चंदा चकोरी है ,मत देखोलग जाएगी नज़र।भोली सी बिटियाआई मेरे घर।मक्खन की मटकी ,है रंगों की रंगोली,रूनकी -झुनकी ,रोली -पोली,ल... Read more
clicks 249 View   Vote 0 Like   2:08pm 15 Mar 2013 #
Blogger: anupriya
अजीब जिद है...ना  कहने  देते हो,ना चुप रहने देते हो.ना ख़ामोशी में आराम,ना शिकवे में है  सुकून,आज कह   ही दो तुम आखिर मुझसे चाहते क्या हो...तुम जैसा सनम जिसका उसे किस ठौर  मिले  चैन,ना जीने में भला हो और   ना मरने में भला हो...अब इस दीवानेपन का क्या जवाब दे कोई,जो देखे तो हो  ... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   7:04pm 9 Nov 2011 #
Blogger: anupriya
आज से ठीक १ साल पहले हमने उन्हें खो दिया...अजीब बात ये है कि जिस वक़्त वो जीवन और मृत्यु की लड़ाई लड़ रहे थे, ठीक उसी वक़्त मैं उनसे दूर बैठी अपना ब्लॉग अकाउंट बना रही थी...आने वाली दुर्घटना से अनजान मैं, अनजाने में ही अपने लिए वो मंच तैयार कर रही थी जिसने दुःख, अवसाद, और अकेले... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   9:14am 28 Mar 2011 #
Blogger: anupriya
आज पुरानी डायरी में बरसों पुराना ख्वाब मिला. एक शाम घर कि छत पर बैठी सूर्यास्त देख रही थी. मुझे सूर्योदय और सूर्यास्त देखना बेहद पसंद है. आसमान के बदलते रंगों में जैसे जीवन की सारी उर्जा संचित होती है. १८ -१९ साल की उम्र थी तो कल्पनाएँ और सपने भी सूरज की लालिमा की तरह ह... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   2:19pm 20 Feb 2011 #अनुप्रिया...
Blogger: anupriya
valentine's day special मैं जिन्दगी हूँ तेरी, ये जानती हूँ लेकिनकभी खुद से जो कह देते,तो कुछ और बात होती...खामोशियों की जुबां भी समझती हूँ लेकिनजो अल्फाज होते,तो कुछ और बात होती...जो मोहब्बत लहू सी बसी हो रगों में,वो मोहताज़ इजहार की तो नहीं हैं,कभी डूब कर मेरी आँखों में लेकिनइजहार ... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   2:08pm 12 Feb 2011 #
Blogger: anupriya
मोहब्बत   दिल में थी, जाने क्यों जुबा पे लाई  ना गई.हमसे कही ना गई, तुमसे जताई  ना गई...जो तुममें -मुझमें  थावो हमसे  तो  पोशीदा रहा.मगर वो बात जमाने से ही छुपाई  ना गई...सिलवटें गिनती रही सारी रात बिस्तर की,आग सीने की किसी शय से बुझाई ना गई...तुम्हारे प्यार में इस बाँवरी ने ... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   6:35am 8 Feb 2011 #
Blogger: anupriya
तू  इजाजत दे  अगरछोटी सी शरारत कर लूँ...मैं तेरे दिल तक पहुँचने  कीहिमाक़त कर लूँ.ख्वाब आँखों में सजा लूँ आसमान वाले,चाँद पाने की जरा सीमैं भी हिम्मत कर लूँ...दस्ताने-इश्क लिख दूँआफताब के नूर से, हीर-राँझा, लैला मजनूं सी मुहब्बत कर लूँ...रंग होठों से चुरा लूँ,रौशनी रुखसार ... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   9:07am 3 Feb 2011 #
Blogger: anupriya
काश ऐसा होता !मेरा ख्वाब हकीकत बन जाता,और वक़्त का पहिया चलते-चलतेइन लम्हों में थम जाता...काश ऐसा होता !तुम्हारे बाँहों के घेरे मेंमेरी तनहाइयाँ खो जाती,तुम्हारी आँखों कि गहराई मेंमेरी पूरी कायनात गुम हो जाती...काश, ऐसा होता !तुम्हारी आँखों के सारे मोतीसिमट आते मेरे आँचल ... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   11:23am 29 Jan 2011 #
Blogger: anupriya
  जिन्दगी क्या है,एक सफ़र तनहा...दोस्त लाखों हैं,हम मगर तनहा...ख़ुशी की सुबह में तो भीड़ बहुत थी लेकिन,उदास शाम  हुई तो रहा वो घर तनहा...जिसकी हर शाख थीआशियाँ परिंदों का,           ढली बहार तो रह  गयावो शजर तनहा...दर्द बरसता रहा आँखों से सावन बन कर, भींगती रही मैं भीरात भर तनह... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   1:08pm 23 Jan 2011 #
clicks 132 View   Vote 0 Like   12:24pm 23 Jan 2011 #
Blogger: anupriya
क्या बात है जनाब, मुस्कुरा भी रहे हैं,दिल का दर्द आँखों में छुपा भी रहे हैं...ये अदा तो आपकी नई - नई लगी,कहते हैं राज की बात है, बता भी रहे हैं...मेरी आँखों में अश्क आपको अच्छे नहीं लगते,खुद ये कह कर हमें रुला भी रहे हैं...साया हैं हम, तनहा नहीं छोड़ेंगे आपको जानते हैं, दामन को छुड... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   12:28pm 21 Jan 2011 #
Blogger: anupriya
खामोशियों को ना  बेजुबां समझो, बंद होठों से ये हर नज्म गुनगुनायेंगी,तुम  लब्ज  टटोलते रहना  ,ये बात राज की  कह जाएँगी.रंग बदलेगा जब उनके गालों का,मोहब्बत भी बयां हो  जाएगी,इश्क अल्फाज कहाँ ढूंढेगा,कयामत जब दिलों पे आएगी.उलझे जुल्फों से होंगी फरियादें,कसम नज़रों से उठ... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   5:51am 19 Jan 2011 #
Blogger: anupriya
माफ़ करें, ये कोई कविता नहीं है...ये वो पीड़ा है जिसे हर औरत  रोज कमो-वेश सहती हैं...परन्तु अब बस...हाँ! मैं औरत हूँ,तो इसलिएक्या तुम मेरे अस्तित्वपर प्रश्नचिन्ह उठाओगे?मेरी  गरिमा की परिधि नापोगे,मेरे स्वाभिमान की  सीमा बताओगे.तुम,जिसे साँसे लेना मेरे गर्भ ने सिखाया,जिसे ... Read more
clicks 122 View   Vote 0 Like   4:33am 17 Jan 2011 #
Blogger: anupriya
आँखें...शरीर का सबसे सुन्दर हिस्सा, मन का आइना, आत्मा की परछाई. आज एक रचना उनकी खुबसूरत  आँखों के लिए...शोरो-गुल मच गया है दिल के नगर में,मन के मौसम में फैली अजब सी खुमारी...एक नज़र में सुना डाली पूरी कहानी,बहुत बोलती हैं ये आखें तुम्हारी.कभी है ये चंचल, हो जैसे कोई झरना,विरानो... Read more
clicks 203 View   Vote 0 Like   8:16am 8 Jan 2011 #
Blogger: anupriya
उसे प्यार हो गया था...एक ऐसे लड़के से जिसने कभी उसकी तरफ देखा ही नहीं. शायद इस लिए कि रंग रूप में बड़ी साधारण थी वो. पर जिस तरह वो उसे चाहती थी वैसी चाहत ना  मैंने  देखी ना सुनी.उस  लड़की के इकतरफे प्यार की बेचैनी, उसकी तड़प को समझने की कोशिश करती एक रचना...तुम्हारा ह्रदयपत्थर की ... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   9:53am 5 Jan 2011 #
Blogger: anupriya
आज जो कह रही हूँ वो शब्द तो मेरे हैं पर अहसास किसी और के है. अरे! आप गलत समझ रहे हैं, वो अनपढ़ नहीं है, इंजिनियर है भाई...MNR ,इलाहाबाद, toper { (: with scholarship :) },लेकिन भावनाए व्यक्त करना इंजिनियरस के बस कि बात कहाँ. ये जनाब मेरे 'वो' हैं, सोचा इनसे भी मिला दूँ...बताइयेगा जरुर, मुलाकात कैसी लगी?... Read more
clicks 136 View   Vote 0 Like   3:22pm 24 Dec 2010 #
Blogger: anupriya
जाने दो , क्या हांसिल होगा अपने जख्म दिखाने  से,हमको नहीं उम्मीद जरा भी इस बेदर्द ज़माने से.जिसको हमने बचा  के रखा दुनिया भर की आफत से,दिल भारी हो जाता है मुझ पर उसी के  पत्थर उठाने से.दिल टुटा ,रिश्ते टूटे और टूटे ख्वाब ना जाने कितने,बस हिम्मत की डोर ना टूटी वक़्त के ताने ब... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   7:00am 21 Dec 2010 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3997) कुल पोस्ट (196195)