POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: सफर के सजदे में

Blogger: शारदा अरोरा
याद आते होंगे तुम्हें कभी-कभी वो फेवर्स भी (तरफदारियाँ ) जो तुम्हारे पापा से , घर वालों से या दुनिया से पँगा लेते हुए भी ,माँ ने तुम्हारे लिये किये होंगे माँ होती है बच्चों की पहली-पहली दोस्त तो पहली-पहली दुश्मन भी वो बनती है काँटों की बाड़ भी कभी-कभी ऐसे सारे लम्ह... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   11:43am 9 Nov 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
मेरी यादों में गाँव , मेरे सपनों में गाँव बचपन की सोंधी मिट्टी सा महकता मेरा गाँव अलगनी पे टंगी जैसे मेरी छाँव ड्योढ़ी में बैठे पिता , चाचा , मेहमान दालान में बँधे ऊँठ ,घोड़ा और गाय-भैंसें अन्दर के आँगन में गूँजती दादी के चरखे की धुन याद आते भाई-बहनों के संग गुज... Read more
clicks 57 View   Vote 0 Like   3:10am 17 Oct 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
क्या कहें ,वो अपने बड़े प्यारे थे , जो आज दीवार पर हैं फोटो फ़्रेमस में जड़े हुए हम जी रहे हैं उन्हीं गलियों के उजाले लिए हुए वो दे गए हमें मन भर, हम अर्पण कर रहे भर  गाय , कौआ ,कुत्ता , चींटी ... Read more
clicks 24 View   Vote 0 Like   9:37am 22 Sep 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
 मैं और मेरी कविताएँ अक्सर बतियाते रहते हैं वो कहती हैं ,हम जन्मीं थीं जब तुम हार गईं थीं दुनिया से घबरा कर अपने अन्तस में लौटीं थीं वो भाव तुम्हारे पन्नों पर  क़दमों में तुम्हारा दम बन कर हम हस्ताक्षर सी मौजूद रहेंगी जब-जब तुम छूट गईं अकेले हमने ... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   7:02am 8 Sep 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
बेशक घर के बाहर नेम प्लेट में नाम नहीं है मेरा मगर ये न कहना कि नहीं है अस्तित्व कोई भी मेरा तेरी तन्हाई में मै , बच्चों के बचपन में मैं तेरा हर दिन रौशन मुझसे घर की व्यवस्था भी चाक-चौबन्द मुझसे जर्रे-जर्रे पे छाप है मेरी कहाँ नहीं हूँ मैं घर की नींव में मुस्... Read more
clicks 45 View   Vote 0 Like   8:31am 31 Jul 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
खिलौने दे के बहलाये गये हैं बच्चों की तरह फुसलाये गये हैं नसीब से तो जँग होती नहीं है हर ठोकर पे समझाये गये हैं कोशिशों का ही नाम है चलना ज़िन्दगी से कदम मिलाये गये हैं चन्द गुलाबों की खातिर ही कितना हम काँटों पे चलाये गये हैं जो मिला वो कभी त... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   12:05pm 15 May 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
 तेरे आने की जबसे हलचल उठ्ठी आम के बौर हैं चौंधियाए हुए नीबू शरीफे के फूल हैं मुस्काये जाते और सारी बेलें हैं कानाफूसियाँ करतीं सिन्दूरी आमों की डलिया भी इतरा है रही मेरे दिन-रात हैं सिन्दूरी से जगमगाये हुए कितने चन्दा हैं आसमान में उग आये हुए&nbs... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   12:45pm 3 Apr 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
वो स्नेहमई ,त्याग से भरीं , ममता की मूरत सी थीं दुनिया से जुदा ,निष्छल सी कोई सूरत सी थीं घर की बड़ी बेटी किसी स्तम्भ सी थीं किस को मालूम था यूँ चली जायेंगी असमय मुझको तो भूली नहीं उनके पसीने की गन्ध भी ,न ही भूला है उनकी उंगलियों का स्वाद उनकी मौजूदग... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   7:10am 17 Feb 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
वही सड़कें हैं ,वही शहर है मगर बस आप नहीं हैं चीजों की मियाद होती है बस आदमी की नहीं है कोई ऐसे भी जाता है क्यूँ दुनिया से न जी भर के की बातें ,न कस कर के कोई झप्पी न अलविदा ही कहा मेरी यादों की दुनिया सूनी हो गई जो इक युग था मेरे सीने में ,वो कहानी हो गया मेरे ... Read more
clicks 109 View   Vote 0 Like   12:39pm 15 Feb 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
बड़ी दीदी ,जैसे माँ की छत्रछाया प्यार और अपनत्व का खजाना वो आपका गले लगाना कि जैसे हो रूह प्यासी दिलेर पिता की दिलेर बेटी ,शाहों के शाह की शाहणी कॉंटों के सेज पर महकता गुलाब ऊँचा कभी न बोला किसी को ,ऐसी नम्रता की मिसाल थीं आप हर बार फोन पर मुझे गुड ... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   9:12am 24 Jan 2021 #
Blogger: शारदा अरोरा
 सुबहें गुलाबी हों ,शामें हों आसमानी मेरी बिटिया ,ऐसी हो तेरी ज़िन्दगानी तेरी आँखों से मैंने देखी दुनियातेरे हौसले हैं उड़ान मेरी तेरे पँख हैं मेरी ताकत घर की बड़ी बेटी होती है घर का स्तम्भ (पिलर )जिसे हिलना मना है तेरी मुस्कानों से मेरा गुलशन खिला है त... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   11:11pm 8 Dec 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
आज के दिन नन्हीं चिड़िया ने थीं आँखें खोलीं हमारी दुनिया में किलकारी गूँजी हमारे अँगना में दीदी चहकी 'बहना आई ,बहना आई 'घर मेरा गुलजार हुआ बिन पूछे तुमने कभी कोई काम न था किया वक्त पर सोना ,जगना ,पढ़ना ,अव्वल आना इतना अनुशासन कहाँ से सीख कर आईं थीं !अचरज ह... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   5:21am 19 Oct 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
बढ़ती जा रही है कोरोना से त्रस्त लोगों की सँख्यासुन तो रहे हैंसुन्न भी होते जा रहे हैंहवाओं में है कोरोना का ज़हरज़ेहन में हैं मेरे जाँ-बाज सिपाहीसेना , डॉक्टर ,सफाई कर्मचारीलगा कर दाँव पर खुद को हीनिकले हैं किसी अभियान परशुक्रिया कर रहा है मेरे देश का कण-कणअम्बर से ... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   10:36am 5 Oct 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
Down the memory lane यादों के गलियारे से कुछ अल्हड़पन है , कुछ नादानियाँ उम्र की हैं कुछ खामियाँ ख़्वाब भी थे ,सुरख़ाब भी थे पलकों पे रखे मेहताब भी थे और झिलमिलाते सितारे साथ भी थे ज़मीनी हकीकत माँगती कुर्बानियाँ कुछ चेहरे भी हैं ,ठण्डी हवाएँ भी हैं तो गर्म सदाएँ भी है... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   3:45pm 25 Sep 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
 जब सुबह उठने की कोई वजह नहीं मिलती जब सिर पर कोई छाँव नहीं होती हर सुबह कोई कैसे उठे ये कैसे चेहरे इकट्ठे किये थे आस-पास वक्ते-जरुरत कोई एक भी आया न सँभालने और मौत ने ज़िन्दगी से साँठ-गाँठ कर ली सुख में तो सभी बन जाते हैं अपने साथ वो है जो दुख में छोड़े न क... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   5:58am 28 Aug 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
किसी के लिये पतझड़ है महज़ एक मौसम गुजर जायेगा , पत्ते झड़ेंगे , फिर नये कलेवर के साथ सब कुछ नया-नया सा होगा किसी के लिये ठहर जाता है सीने में पीले पड़ते हुए पत्ते मटमैले रँग के शेड्स हो जाते हैं ये बेरँग धूल-धूसरित से रँग ज़िन्दगी के सबक सिखाते हुए ढँग... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   12:08pm 18 Aug 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
माँ , आप चली गईं हैं ,मेरे ज़ेहन के चप्पे-चप्पे पर छाप आपकी हैनहीं भूलता है माँ की आँखों की पुतलियों का रँग भीवो ममता भरी आँखों में तैरता हुआ निष्छल सा प्यारवो पलने में झुलाती हुई माँ और नन्हीं जान का रिश्ताउम्र भर साथ चलता है वो ठण्डी  छॉंव सा नातानहीं आसान होता है या... Read more
clicks 94 View   Vote 0 Like   4:45am 22 Jul 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
कौन जाने , कौन कितना अकेला है भीड़ में भी तन्हां है, जिसके आस-पास रौशनी का मेला है इतनी चकाचौंध थी तो नाक के नीचे इतना अँधेरा क्यों ?सलोने से चेहरों की उदास दास्तानें बुलन्दी पे पहुँचे हुए सितारों की टूटन  वो अकेलापन , वो घुटन क्यों उठा लेता है मन अनचीन्हा ? स... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   3:22pm 16 Jun 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
कहाँ धूमिल पड़ते हैं इम्प्रेशन्सजो नक्श खुद गये सीने मेंनहीं मिटते हैं उम्र भरवो पहली-पहली बार के देखे-सुनेजो राय कायम कर ली किसी के बारे मेंआदमी बदलना भी चाहे तोआड़े आ जाती हैं अपनी ही मान्यताएँजो कल था वैसा ,आज भी वैसा ही मिलेगातू नहीं बदला , करता रहा ये तेरा है ये म... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   12:10pm 5 Jun 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
धूप की सुनहली बातें धूप से है रौशनी पेड़-पौधे , जीव-जन्तु ,सारे नज़ारे धूप दुनिया का सबब है धूप से है कुल जहान धूप गढ़ती है कसीदे ,आदमी की शान में पाँव के छाले ये कहते ,धूप के टुकड़ों ने लिक्खी तेरी हिम्मत है नादान आदमी को चाहिए गुनगुनी हो धूप तो मजा ले सु... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   11:24am 26 May 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
तुझे बाहर न देख कर ,फिजाँ भी है खामोश ,ऐ इन्साँआये हैं परिन्दे बस्तिओं के करीब ,तेरा दिल बहलाने कोपेड़ों ने ली अँगड़ाई है , नव-अंकुर फूलेकोयल भो कूकती हैमौसम तो खिला हुआ हैनजर भर के तूने कभी देखा ही नहींपर्वत जँगल अब दूर से ही साफ नजर आने लगे हैंसुन रहे हैं कि जँगली जानवर अ... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   8:23am 15 May 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
हौसले की जँग ज़िन्दगी के लिएऐ ज़िन्दगी बता , और क्या चाहिए बन्दगी के लिएहर शर्त सर-माथे परज़िन्दगी की , ज़िन्दगी के लिएलबों पे हो मुस्कराहटकाबू में हो धड़कन की सुर-तालबजा ले मुझको ऐ ज़िन्दगी ,और क्या चाहिए साजिन्दगी के लिएधूप-छाया की कहानियों में उलझे तेरे किरदारतेरे ... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   9:56am 27 Apr 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
दिया है प्रकाश का नाम जिसके आगे अन्धकार हारा है मन की बाती और संकल्पों का तेल और फिर देखो दिव्यता का खेल सम्पूर्ण विश्व साथ हो सर पर माँ भारती का हाथ हो मँगल की है कामना माँगल्य का ही वास हो सँताप न व्यापे कभी और दिव्यता का साथ हो poems... Read more
clicks 99 View   Vote 0 Like   11:52am 5 Apr 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
क्या कहें अब मूक ज़ुबानें सुलगती चिंगारियाँ और फुंके घर-बार दुकानें कुर्बान हो गईं कितनी ज़िन्दगियाँ नफरत की जलती मिसालें अब नहीं बनना है कहानियाँ हमको नहीं झेलने हैं और बँटवारे के दर्द सदियों को झेलना पड़ता है ढोतीं हैं पीढ़ियाँ बोझा खोल के देख ले तू ... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   3:23pm 29 Feb 2020 #
Blogger: शारदा अरोरा
वो भी डोलती होगी किसी के अँगने में होगी वो भी किसी की जाँ ,झूलती होगी ममता के पलने में प्यार उमड़ता है मुस्करा उठते हैं अहसास उठते हैं रह-रह के सीने में सींचता है कोई माली हर फूल को आबाद रहे हर फूल की दुनिया गुलशन के कोने-कोने में बड़ा मुबारक है आज का दिन सूर... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   10:44am 8 Jan 2020 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3994) कुल पोस्ट (195656)