Hamarivani.com

Amit Mishra

*****स्वयंवर*****तोड़ धनुष जब शिव जी कामन  ही  मन  राम  हर्षाये थेभये  प्रसन्न  सब देव स्वर्ग मेंनभ  से  ही  पुष्प बरसाये थेप्रत...
Amit Mishra...
Tag :
  July 13, 2018, 9:02 pm
कुछ यादें इस दिल से निकाली नही जातीकुछ निशानियाँ हैं जो  संभाली नही जातीकुछ  ख़्वाबों की  तामील भी  इस तरह  हुईशिद्दत से माँगी दुआ कभी ख़ाली नही जातीजवानी  यूँ ही सारी  भाग दौड़ में  गुजार दीमगर पीरी तलक भी ये बदहाली नही जातीहर   सहर   आफ़ताब  आया  कड़ी ...
Amit Mishra...
Tag :
  July 5, 2018, 3:06 pm
ख़ज़ान  के  दिनों  में  धूप  सहा नही करतेउस बूढ़े शज़र पे अब परिंदे रहा नही करतेबेटे बड़े होकर  अब ख़ुद में मशगूल  रहते  हैंहक़ ë...
Amit Mishra...
Tag :
  July 3, 2018, 11:46 am
बेख़ुदी में अपनी एक अलग ही सुकूँ आया हैदिल ने आज सारे रंज-ओ-ग़म को भुलाया हैक़िरदारों के पीछे  असली चेहरे देख लिये वक़्त से पह...
Amit Mishra...
Tag :
  June 28, 2018, 10:40 am
रिश्तों को  इस तरह  कोई बिगाड़ता नही हैअपना ही आशियाना कोई उजाड़ता नही हैआइना  घर का  उदास रहा करता है  अबतेरे बाद उसकी ओर &#...
Amit Mishra...
Tag :
  June 23, 2018, 11:38 am
पिछला भाग पढ़ने के लिये इस लिंक पर:https://poetmishraji.blogspot.com/2018/03/blog-post_24.html सुनी मैंने तुम्हारी चाय और वो बातें...हाँ  मुझे  तो  सब  कुछ  याद हैवो  चाय  और  अपनी  वो  सारी  बातेंपर शायद तुम कुछ भूल रहे होचाय के बहाने अपनी हसीन मुलाकातें...कैसे  भूल  सकती  हूँ   उन  पल...
Amit Mishra...
Tag :
  June 19, 2018, 11:10 am
इस वीराने में  भी शोर  सुनाई  देता हैबिन बारिश के ही मोर दिखाई देता हैबौराया पगलाया सा  यूँ ही  फिरता हूँअब यहाँ मुझे हर &#...
Amit Mishra...
Tag :
  June 14, 2018, 8:34 pm
आधी रात का समय था अचानक रवि की आँख खुल गयी, पास में पड़े मोबाइल को उठाया और देखा तो रात के 12.30 हो रहे थे. वो क्या था आज रवि दफ़्तर से &#...
Amit Mishra...
Tag :
  June 12, 2018, 10:38 am
जो बनना हो इतिहास मुझेतो महाभारत मैं हो जाऊँपांडव कौरव में भेद नहीमैं किरदारों में ढल जाऊँजो मोह त्याग की बात चलेमैं भीष्म पितामह हो जाऊँशांतनु संग गंगा करे मिलनमैं ताउम्र अकेला रह जाऊँजो पतिव्रता ही बनना होमैं गांधारी बन आ जाऊँफिर अँधियारा मेरे हिस्से होमैं नेत्र...
Amit Mishra...
Tag :
  June 4, 2018, 12:16 pm
आँखें जो खुली तो उन्हें अपने क़रीब पाया ना थाकभी थे रूह में शामिल आज उनका साया ना थाबेपनाह मोहब्बत की जिनसे  उम्मीदें लिय...
Amit Mishra...
Tag :
  June 1, 2018, 10:39 am
वोकवितासीस्वच्छंदसदामैंग़ज़लोंसालयबद्धरहूँवोप्रेमत्यागकीपरिभाषामैंउसकेलियेनिबंधरहूँवोचाँदसीएकलालिमालियेमैंतारोंसाबिखराहीरहूँवोनदियोंसीहरओरबहेमैंसागरसाठहराहीरहूँवोनाज़ुककलीजोफूलबनेमैंपौधेसाबढ़ताहीरहूँवोमस्तहवाकेझोंकेसीमैंआँधीसाचलताहीरहूँव...
Amit Mishra...
Tag :
  May 26, 2018, 5:26 pm
बीती रात वो कुछ इस तरह हमें बरगलाते रहेतलब थी खट्टे आम की  वो अंगूर खिलाते रहेहसरतें थी  उन्हें  सारी रात  जगाये  रखने क...
Amit Mishra...
Tag :
  May 25, 2018, 10:36 am
एक इशारे पे मर मिटा कोई दीवाना होगाबिन शमा जल गया कोई  परवाना  होगारोशन है ये महफ़िल  कई चिराग़ों से अभीसहर होते ही  बंजर ज&...
Amit Mishra...
Tag :
  May 21, 2018, 6:55 am
जब से हमें अपने परायों की पहचान हो गयीतन्हा ही रहता हूँ  पूरी दुनिया  वीरान हो गयीहँसी के ठहाके गूँजा करते थे  जिन गलियो&...
Amit Mishra...
Tag :
  May 18, 2018, 6:46 am
तेरी गुस्ताखियां  हर दफ़ा  दरकिनार करते रहेतेरी खताओं को नादानी समझ प्यार करते रहेतेरी बातों में तो कभी जिक्र मेरा आया &#...
Amit Mishra...
Tag :
  May 10, 2018, 10:38 am
सुनो आजकल देख रही हूँ तुम बदल गये हो..अभी तो गर्मियाँ शुरू भी नही हुई और तुम अभी से दूर जाने लगे हो..ऐसा भी क्या हो गया अचानक? अ&#...
Amit Mishra...
Tag :
  May 9, 2018, 8:53 am
शब-ए-इश्क में जब वो हद से गुजर गया होगारंग-ए-हया से  फिर रुख्सार  निखर गया होगाजुल्फों के साये में  कुछ वक़्त तो  गुजरा होगा...
Amit Mishra...
Tag :
  May 4, 2018, 10:05 am
नजदीकियां बढ़ाने वाले  अक्सर  बदल जाते हैंदिल में आशियाना बना चुपके से निकल जाते हैंराह-ए-जिंदगी में तन्हा बढ़ना ही मुना&#...
Amit Mishra...
Tag :
  April 30, 2018, 10:20 pm
हवा के झोंके सा हरदम ही बहता हूँमदमस्त हूँ  मैं अपनी धुन में रहता हूँनकाबों में छुपे  असली चेहरे हैं  देखेगिरगिट से पहल&#...
Amit Mishra...
Tag :
  April 28, 2018, 6:54 pm
यूँ  खुद तो गम  मेरे दरवाजे नही आया होगाजरूर किसी अपने ने पता मेरा बताया होगाचेहरे पे नमी सी  जो मालूम पड़ती है  आजकल रात व...
Amit Mishra...
Tag :
  April 24, 2018, 10:07 pm
कभी उत्साही और उद्दंड है,  कभी खुद पे ही  घमंड हैकभी प्रखर कभी प्रचंड है, सोच का न कोई मापदंड हैअगर जो ये  कुरूप है,  फिर कार...
Amit Mishra...
Tag :
  April 21, 2018, 7:42 pm
सफर लंबा है अभी तू बस मंजिल का इंतज़ार करकमजोर ना पड़े राहों में पहले खुद को तैयार करसंकरे रास्ते और तंग गलियां हैं जरा मुश...
Amit Mishra...
Tag :
  April 19, 2018, 6:42 am
जाने क्यों हर रोज बस एक ख़्वाब आता हैबोसे लेने को इस जमीं पे माहताब आता हैसवालों की फ़ेहरिश्त बड़ी लंबी हो चली थीदूर फ़लक से उ&#...
Amit Mishra...
Tag :
  April 15, 2018, 2:15 pm
उस रोज  हम  खुशनसीब  होते हैंजिस रोज वो हमारे करीब होते हैंअहबाब हैं  बहुत  जिंदगी में मेरीउन सबमें ख़ास वो हबीब होते है...
Amit Mishra...
Tag :
  April 11, 2018, 11:52 am
ज़िक्र ना करो दास्तान-ए-इश्क़ का हम डर जायेंगेअरमानों का जनाजा उठ चुका हम भी मर जायेंगेबड़े  जतन  से  समेटा है  टूटे दिल  के&n...
Amit Mishra...
Tag :
  April 8, 2018, 11:28 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3769) कुल पोस्ट (178745)