Hamarivani.com

Dr. Hari Mohan Gupt

स्नान मात्र से तो केवल, नर तन सदा शुद्ध होता है,जो भी दान करे जीवन में, तो धन सदा शुद्ध होता है l जिसमें आई सहनशीलता, तो मन सदा शुद्ध होता है,जो रखता ईमान साथ में, जीवन सदा शुद्ध होता है l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  December 3, 2018, 10:25 am
  माँ मेरी ममता मयी मातु, तुमको प्रणाम है,धरा धाम में, जग में ऊँचा धन्य नाम है l               गीले में सो कर, सूखे में मुझे सुलाया,              धूप शीत से बचने को आंचल फैलाया l               लोरी गा कर, मेरे मन को नई बहलाया, ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  November 28, 2018, 10:23 am
सत्साहित्य सदा कवि लिखता, चाटुकारिता नहीं धर्म है,वह उपदेशक है समाज का, सच में उसका यही कर्म है l परिवर्तन लाना  समाज  में, स्वाभाविक बाधाएँ  आयें,कार्य कुशलता के ही कारण, सम्मानित है, यही मर्म है l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  November 16, 2018, 9:45 am
सब बुराई ही खोजते, अच्छा देखें आप,उसका प्रतिफल देखिये, पड़े अनूठी छाप |          जब बुराई हम देखते,मन में हो संताप,           अच्छाई तो  देखिये, बड़े  बनेगें  आप | रकम मिले यदि चेक से, करो चेक भुगतान,नगद पाई है यदि रकम, लौटा दो धर ध्यान |     ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  November 14, 2018, 10:07 am
बारम्बार प्रयास करो  तो, मिले  सफलता,चिंता और निराशा  छोडो, गई  विफलता.असफलता से विमुख न हो,संघर्ष करो तुम,जब अवसर अनकूल,प्रगति पर जीवन चलता |...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  November 12, 2018, 10:02 am
बना कर देह का दीपक,जलाओ स्नेह की बाती,मिटे मन का अँधेरा भी,प्रकाशित हो धरा सारी |         दिवाली रोज मन जाये,         विनय है ईश से मेरी,         प्रभुल्लित आप रह पायें,         यही शुभ कामना मेरी |...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :javascript:;
  November 6, 2018, 10:43 am
तन सुखी रहता सदा जग रीत से,मन सुखी जो हार बदले जीत में,है लड़ाई आज भी, जग में यहाँ,लड़ सकें कैसे यहाँ अन रीत से l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 29, 2018, 9:39 am
मुँह जुंबा हो बन्द वे ताले मिले,बाद मेहनत हाथ को छाले मिले.भूख से  तरपें नहीं  बच्चे  मेरे,आबरू बेची, तब  निवाले  मिले | ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 25, 2018, 9:25 am
सदा सफलता चरण चूमती, हार न मानो,सम्बन्धों को जीवन में व्योपार न मानो.चरैवेति ही जीवन का सिध्दान्त सदा से,कठिन परिश्रम को जीवन में भार न मानो |...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 23, 2018, 11:10 am
 रावणईर्ष्या,द्वेष,दम्भ धरा अगर रहेंगे,तो फिर अहंकार का रावण यहीं रहेगा |शोषण, अनाचार से जो लंका बसायगा, व्यक्ति स्वयं ही अपना कोष भरेगा |     पौराणिक आख्यान भले ही कथा सार हो,     यदि यह दुर्गुण हैं समाज में, तो यह मानो,     अब भी रावण जन्मेगा, हर युग में, स...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 19, 2018, 8:59 am
तुम करो मेहनत अभी से, लक्ष्य हो परहित तुम्हारा,देश की  हो  सहज सेवा,  धर्म  होता  है  हमारा |एक जुट हो कर  करेंगे, फल तभी  हमको मिलेगा,है यही उद्देश्य सबका, हो,  प्रगति  ढूढें  किनारा |...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 16, 2018, 9:27 am
 यात्रा पर जब जा रहे , कुछ बन जाते ढाल,            नाम, पता,कुछ फोन के, नम्बर रखें सँभाल              हस्ताक्षर ही  तब  करें, पढ़े  उसे  इक बार,              नहिं विचार इस पर किया, पछताओ हर बार | निर्णय लेना बाद में, हट  ज...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 15, 2018, 10:04 am
आप प्रशंसा तो करें, जिससे हो तकरार,बस प्रभाव तब देखिये, माने वह उपकार |           क्षमा करें इक बार ही, किन्तु नहीं दो बार,           दया व्यर्थ हो जायगी, क्षमा किया हर बार |...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 14, 2018, 10:04 am
           घर में  यदि व्यंजन बने, रखो  पड़ोसी ध्यान,           सुख मिलता है सौ गुना, बनती निज पहिचान |मन में आये माँग कर, वाहन सुख का ख्याल,ईधन  पूरा  भरा  कर,   लौटाओ   तत्काल |...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 13, 2018, 10:39 am
सब बुराई ही खोजते,अच्छा देखें आप,              उसका प्रतिफल देखिये, पड़े अनूठी छाप |जब बुराई हम देखते, मन में हो संताप,               अच्छाई  तो  देखिये,  बड़े  बनेगें  आप | ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 11, 2018, 10:41 am
कुछ बातें हैं काम की, इनको करिये रोज,उनका फल फिर देखिये, आप मनाएं मौज.          कुछ मित्रों के जनम दिन, अगर आपको याद,          उसे  याद उस दिन करें,  वह भी देगा दाद.         ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  October 7, 2018, 10:12 am
 लघु कथा  आनन्दप्रकाश को महानगर में आये अभी दस ही वर्ष हुये थे, इन्हीं वर्षों में उन्होंने अपना कारोबार बढ़ा लिया और नगर में ऐक अच्छी कोठी जिसमें कई फलदार वृक्ष थे बनवा ली थी, बेटा अच्छे स्कूल में पढ़ रहा था, पत्नी कुशल गृहणी थी और स्वयं भी “सादा जीवन उच्च विचार” में विश...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  September 25, 2018, 11:23 am
जब कभी भी यदि बिगड़ते आचरण,स्वार्थ लिप्सा का तने यदि आवरण l                                                  तो  आज मानव धर्म समझाएं उसे,दायित्व है अपना, करें हम जागरण l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  September 18, 2018, 9:54 am
पापों का  परिणाम जानता, व्यक्ति मृत्यु से  है  घवड़ाता , व्याकुल हो  डरता रहता है, इसीलिये  हर  क्षण पछताता. धर्म, कर्म, सत्संग करोगे, तो भविष्य  भी  होगा उज्ज्वल, यदि यह हो विश्वास हृदय में, स्वर्ग,मोक्ष ही वह नर पाता....
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  September 13, 2018, 10:54 am
इस सदी में, आपके चेहरे  पे  भी मुस्कान है,पूंछता हूँ,दिल तुम्हारा क्या बना पत्थर का है ?...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :प्रश्न
  September 7, 2018, 7:30 am
फल देतें  हैं  सदा सभी को, वृक्ष नहीं कुछ खाते,धरती   को सिंचित करते ही,बादल फिर उड़ जाते l प्यास बुझाती प्यासे की ही, सरिता लब जल पीती,पर  उपकारी  जो  होते  हैं, धन्य  वही  हो पाते l...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  September 7, 2018, 7:13 am
इर्ष्या मन में जगे, समझ लो यही डाह है,पाने  की  इच्छा हो मन में, यही चाह है l प्रगति पन्थ पर बढने की जिज्ञासा मन में,सत्य  यही  है, “जहाँ चाह है  वही राह है”l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  September 2, 2018, 10:38 am
श्री पूरन  जी जिला जालौन के प्रसिद्ध कवि एवं रंगकर्मी थे,पूरन जी  अब  नहीं रहे  हैं, कौन किसे  बतलाये,पंचतत्व  में  लीन  हो  गये,  इसे  कौन  झुठलाये.अब तो पूर्ण विराम लग गया, मौन हुये हैं हम सब,साहित्य जगत में  सूनापन है, कौन राह दिखलाए.              &nb...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  August 29, 2018, 9:31 am
भारत रत्न स्मृति शेष श्री अटल बिहारी बाजपेई श्रृद्धांजलिओ महान कवि,युग द्रष्टा,ओजस्वी वक्ता,जो जीवन में, सदा नये रंगों  को भरता.नई दिशा  दी भारत को, आगे बढ़ने की,ओ दधीच! तुम जैसा कोन य्हन्हो सकता?           मौत खड़ी हो जहाँ सामने उसको भी ललकारा,      ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  August 24, 2018, 3:48 pm
मुर्गा जो बांग दे कर, सुबह  सबको जगाता है,शाम को प्लेट में सजकर, सदा को सो जाता है,उसके उत्सर्ग का यह हश्र होगा, वह क्यों सोचे ?जगाने  का फर्ज  है उसका, वह  तो निभाता है l ...
Dr. Hari Mohan Gupt...
Tag :
  August 11, 2018, 9:09 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3825) कुल पोस्ट (184171)