Hamarivani.com

silent

देश में दलितों के साथ कितना बुरा बर्ताव किया जा रहा है यह भीमा-कोरेगांव की घटना से लगाया जा सकता है. इस बात का पहले ही पता था कि दलित समाज के शौर्य दिवस के 200 साल पूरे होने पर भीमा-कोरेगांव में लाखों की तादाद में ​दलित एकत्रित होंगे. इसलिए वहां होटल, रेस्टारेंट, ढाबों और अन्...
silent...
Tag :
  January 3, 2018, 6:13 pm
रानी पद्मिनी पर 1964 में भी महारानी पद्मिनी के नाम से फिल्म बन चुकी है. जसवंत झावेरी के निर्देशन में बनी इस फिल्म में कलाकार जयराज, अनिता गुहा, सज्जन, इंदिरा, श्याम ने अभिनय किया था. जिन तथ्यों को लेकर संजय लीला भंसाली की पद्मावती को लेकर विवाद हो रहा है कुछ ऐसे ही तथ्य महारा...
silent...
Tag :
  November 20, 2017, 1:34 pm
देश के राष्ट्रपति दलित है, लेकिन क्या इससे दलितों की स्थिति में सुधार हो पाया; नहीं। शायद कभी हो पाए इसकी गारंटी भी नहीं। शादी में दलित दुल्हे को घोड़ी पर नहीं बैठने दिया जाता है। अगर घोड़ी पर सवार हो भी जाते हैं तो उन्हें जबरन घोड़ी उतरने को मजबूर कर किया जाता है। राजस्...
silent...
Tag :
  November 14, 2017, 1:00 pm
पद्मावती Padmavati लगभग रिलीज को तैयार है. एक सवाल है जो मन में रह—रह कर खटक कर रहा है. क्या दर्शक एक आततायी या उसके कृत्यों से घृणा कर पाएंगे? क्योंकि यहां आततायी के कैरेक्टर को इस तरह से बनाया गया है जहां घृणा के बदले उससे सहानुभूति और प्यार हो सकता है। अगर आप उस पात्र (Charac...
silent...
Tag :
  November 7, 2017, 1:52 pm
antivirus or virusजिसे फ्री वाला एंटी वायरस समझकर डाउनलोड कर लिया गया था दरअसल वह वायरस की भांति काम करने लगा है. अब कोई भी यह कह सकता है कि वह सिर्फ मतिभ्रम था. या कोई ऐसा आवरण था जो ज्यादातर  की आंखों पर चढ़ गया था, जिसके बाहर कुछ दिखाई नहीं दे रहा था. जो दिखाया जा रहा था वही दिख रहा ...
silent...
Tag :
  October 24, 2017, 1:12 pm
अमितशाहजी,आपराजस्थान दौरे पर आ रहे हैं और जयपुर में दलित परिवार के घर पर खाना भी खाएंगे। अगर आप वास्तव में #दलित #प्रेमी हैं तो आप दलितों के घर पर खाना खाने जाने के बजाय दलितों को अपने घर पर बुलाकर खाना खिलाइए। क्योंकि आप उनके घर पर खाना खाने जाते हैं तो आपके जाने से एक तो ...
silent...
Tag :
  July 20, 2017, 5:29 pm
यह बात उस दौर की है जब देव आनंद को फिल्मों में एंट्री करने के लिए बड़ा संघर्ष करना पड़ा। उस वक्त एक मशहूर अभिनेता ने तो यहां तक कह दिया था कि वह किसी भी एंगल से अभिनेता नहीं लगते हैं। उनके बड़े भाई चेतन आनंद का भी उस वक्त फिल्मों में कोई अस्तित्व नहीं था, रंगमंच पर जरूर काम कर...
silent...
Tag :
  December 5, 2011, 8:13 pm
गजल सम्राट जगजीत सिंह से मेरी मुलाकात उस दौरान हुई थी जब दिसम्बर, 2006 में जयपुर समारोह के तहत जगजीत सिंह नाइट शो रखा गया था। मुझे जगजीत सिंह का इंटरव्यू करने के लिए कहा गया। मुझे इस बात से खुशी महसूस हो रही थी कि मेरी मुलाकात इतने बड़ी शख्सियत से होने जा रही है लेकिन इंटर...
silent...
Tag :
  October 11, 2011, 7:55 pm
भारतीय समाज में प्राय: बकी जाने वाली गालियां (अश्लील भाषा) एक-दूसरे के बीच दूरियां बनाती हैं लेकिन जब यह गालियां अश्लील कॉमेडी के तौर पर सिनेमाई पर्दे पर दिखाई जाती है तो उसका विरोध किया जाता है। कोर्ट-कचहरी में याचिकाएं दायर की जाती हैं। यह कहां का इंसाफ है? जब सेंसर बो...
silent...
Tag :
  July 10, 2011, 11:12 pm
खबर छोटी हो या बड़ी लेकिन उस पत्रकारों की नजर अलग-अलग होती है। हो सकता है कोई खबर किसी पत्रकार के लिए बकवास हो लेकिन वही खबर किसी अन्य पत्रकार की नजर पडऩे पर उससे शोहरत हासिल कर लेता है। एक ही खबर पर डेस्क भी राय में भिन्नता होती है। पहले तो मामला रिपोर्टर और संपादक के बी...
silent...
Tag :
  May 26, 2011, 11:24 pm
बेंगलूरु स्थित महात्मा गांधी रोड (एमजी रोड) हर किसी की जुबां पर रहता है। किसी खास कारणवश, यह तो पता नहीं। पर आज एक अजीब वाकया घटा। हम महात्मा गांधी रोड स्थित ब्रिगेड रोड के कोने पर खड़े थे। कुछ देर, बहुत देर, यह तो हमें पता नहीं। क्यों यह भी हमें पता नहीं। शायद, निर्माणाधीन...
silent...
Tag :
  May 17, 2011, 10:28 pm
अन्ना हजारे का आंदोलन क्या बाबा रामदेव द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन की धार कुंद करने के लिए कांग्रेस नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार द्वारा कराया गया नाटक था? जन लोकपाल प्रारूपण समिति की पहली बैठक में इस आंदोलन के अगुवा अन्ना हजारे का सुर बदलने से यह चर्चा आ...
silent...
Tag :
  April 20, 2011, 10:54 pm
इस दिन और उस दिन में बहुत फर्क है। आज भारतीय क्रिकेट के बिना क्रिकेट को अधूरा माना जाता है। लेकिन जिस दौरान कपिल देव के नेतृत्व में 1983 में टीम इंडिया ने विश्वकप जीता था, उससे पहले विश्व में भारतीय क्रिकेट बहुत मायने नहीं रखता था। हां, विश्वकप जीतने के बाद भारतीय क्रिकेट ...
silent...
Tag :
  April 6, 2011, 4:19 pm
क्या किसी ने सोचा था कि रेलवे टिकट कलेक्टर के तौर पर काम कर चुके किसी शख्स की मेहनत के माध्यम से टीम इंडिया फिर विश्वविजेता बनेगा? पर सवा करोड़ भारतीयों के भरोसे को भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने यह सच कर दिया। धोनी ने सही वक्त पर बेहतरीन प्रदर्शन ही ...
silent...
Tag :
  April 3, 2011, 10:35 pm
प्रणाम,अरुंधति रॉय जी,एक लेखिका के तौर पर हम आपका सम्मान और आदर करते हैं। एक आम आदमी का दर्द आप महसूस करती हैं, हमें अच्छा लगता हैं। एक महिला होने पर भी इतनी दौड़ धूप करती है। सुनकर दिल को सुकून मिलता है। पर आज हमें आपकी एक बात बहुत खटक रही है। हमारा सिर शर्म से झुक रहा है क...
silent...
Tag :
  October 27, 2010, 6:39 pm
कि अगर इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने अयोध्या मामले का फैसला कुशलतापूर्वक सुनाया तो भारत में राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन भी सुखद रहेगा। हुआ भी यही। 28 सितम्बर को 'चलो! सब संभल कर'में हमने कहा था कि 30 सितम्बर तक अयोध्या मामला व राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजन ही दो ऐसे म...
silent...
Tag :
  October 15, 2010, 11:14 pm
कर्नाटक की भाजपा सरकार ने सोमवार राज्य विधानसभा में विवादास्पद विश्वास मत के जरिए अपनी सरकार तो बचा ली। मगर, पता नहीं कर्नाटक की राजनीति कर्नाटक को किसी राह लेकर जाएगी। यहां जिस तरह की राजनीति हो रही है, उसे आम जनता देख रही है। कौन सही है और कौन गलत? इसका जवाब तो अगले विध...
silent...
Tag :
  October 11, 2010, 11:23 pm
किसी ने सोचा भी ना था कि अयोध्या के विवादित स्थल के मालिकाना हक के मामले का पटाक्षेप इनता 'सुखद'होगा। यह मामला देशभर के लिए कसौटी पर था। और इस कसौटी में हर समाज की विजय हुई हैं। न्यायपालिका अग्रिम पंक्ति में खड़ी नजर आई। इससे न्यायपालिका पर समाज का विश्वास और सुदृढ़ हो ...
silent...
Tag :
  September 30, 2010, 9:47 pm
दिल्ली हो या बेंगलूरु, कोलकाता हो या चेन्नई या फिर जयपुर या भोपाल। हर तरफ दो ही मुद्दें छाए हैं। पहला अयोध्या मामले के फैसले को लेकर और दूसरा राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजन का। देश का ऐसा कोई कोना या कोई व्यक्ति नहीं बचा, जहां और जो इसकी चर्चा ना कर रहा हों। रिहायशी इलाकों स...
silent...
Tag :
  September 28, 2010, 10:10 pm
आपको सिर्फ मेरी खुशी मालूम, मेरा दर्द कोई ना जाने, फिर भी आपको शुक्रिया। यह दर्द किसी आम इंसान का होता, तो पचा भी जाता, लेकिन जब कर्नाटक के लोकायुक्त न्यायमूर्ति एन. संतोष हेगड़े यह बात कहे तो मन पसीजना लाजिमी है। भला वातानुकूलित कक्ष में बैठने वाले, सरकारी गाड़ी में आने-...
silent...
Tag :
  June 25, 2010, 7:15 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3823) कुल पोस्ट (184015)