Hamarivani.com

राहें

 दिल पर कविताएं दोस्तों ये जो दिल है ना ,कहते हैं बड़ा ही पागल होता है|ये जानकार भी कि अगर आपने किसी से दिल लगाया तो आपको बहुत सारी परेशानियां हो सकती हैं मगर ये कहाँ मानता है | दिल की कुछ नादानी और बचकानी हरकतों को बयान करती यह दो कवितायें पढ़िये| |जब दो दिल मिल गएजब ...
राहें...
Tag :
  August 18, 2017, 8:54 am
हास्यकविता "अपने बच्चे कम थे क्या "अपने बच्चे कम थे क्या कि पड़ोस के भी आ गएअब तो लगता है जैसेमेरे बच्चों के भी भाव बड़ेकभी मांगते चिप्स के पैकेटऔर कभी मांगते कुरकुरेनींद तो पहली ही कम मिलती अब होश भी हैं मेरे उड़ गए न जाने शाम तक आते-आतेकितनी बार बर्तन धोने पड़ेंघर को ब...
राहें...
Tag :हास्यकविता
  August 16, 2017, 9:56 am
हास्यकविता "हमारी नैनीताल यात्रा"☂☂☂☂☂☂☂☂☂☂☂जनवरी के महीने में हमनेनैनीताल का प्लान बनायासोचा था के नई साल परछुट्टियों का जाये लुफ्त उठायापर हो गयी बहुत बड़ी गड़बड़रात में आ गयी बारिश झर-झरगये थे हम छोटे बच्चों को लेकरबहुत पछताए फिर वहां जाकर बच्चों को लग गयी उल्टिय...
राहें...
Tag :
  August 16, 2017, 9:54 am
हास्य कविता "बबलू भैया की कार "बबलू भईया गाँव चलेनई कार में खूब जचेचश्मे,टोपी में चमकेंस्टाइल दिखाये बिना नहीं रुकेतीन घंटे में जब गाँव पहुंचे उन्हें देख बच्चे उछलेभईया ख़ुशी से बहुत अकड़ेसोचे बच्चे कितना याद करेंपर बच्चे निकल गए साइड सेगाड़ी पर  सब जा चिपकेकोई  बै...
राहें...
Tag :
  August 16, 2017, 9:45 am
सेल्फी पर कविता" हंसती-सेल्फी रोती सेल्फी"हंसती-सेल्फी रोती सेल्फीउठते-सेल्फी सोते सेल्फीबड़े-छोटे सब लेते सेल्फीमुझको भी यह लत लगीपहाड़ पर सेल्फी पानी में सेल्फीपाउट बना बना करना मस्तीनए- नए से पोज़ देने के चक्कर  मेंआईस-क्रीम कपड़ों पर पिघल गिरीइंडिया-गेट पर सेल्फ...
राहें...
Tag :
  August 16, 2017, 9:42 am
भाई के लिए एक प्यारी कविता छोटा सा है मेरा भाई बातें लेकिन बड़ी बनायेतुतला के ऐसे है बोले आधों के समझ न आयें मटक-मटक के नाच दिखाता सारे घर का दिल बहलातारीदी-रीदी कह कर मुझसेमेरे पीछे भागा आताजब भी कोई त्योहार आता  वो तो बहुत खुश हो जातानये- नये कपड़े पहनकरबहुत स...
राहें...
Tag :
  August 16, 2017, 9:36 am
एक दोस्त की शादी पर दूसरे ने जबर्दस्त खुशी मनाई किसी के कारण पूछने परबोला लो इसकी भी शामत आई इसने मेरा व्यंग बनायाघड़ी-घड़ी था मुझे चिढ़ायाआज घोड़े पर शान से है बैठाजिएगा फिर तो गधे की लाइफमुझको कहता था "जोरू का गुलाम,बिन भाभी इजाज़त कर ले कुछ काम" तब समझेगा मेरे मन की ...
राहें...
Tag :
  August 16, 2017, 9:34 am
कृष्ण जन्म बधाई गीत "आओ सखियों  दे दें बधाई"आओ सखियों दे दें बधाईआज नन्द के लाला आयो हैनाचे जाएँ खुशी मनाएँ वो जगत दुलारा आयो हैलड्डू लाओ मिस्री लाओआकर इसको भोग लगाओवस्तर लाओ पैजनी लाओआकर इसको रूप सजाओ पर काला टीका ना भूल जानापर काला टीका ना भूल जानामेरा कान्हा ब...
राहें...
Tag :
  August 15, 2017, 11:41 pm
हे वीर जवान तुम्हें प्रणामतुम से ही भारत की शानतुम बलशाली , शौर्यवानहँसते-हँसते तजते प्राणहे वीर जवान तुम्हें प्रणामहे वीर जवान तुम्हें प्रणामतुम पर्वत से भी अटलबिजली जैसे तेजवानतुम्हारी गर्जना सुन काँपतेथर-थर दुश्मनों के पाँवहे वीर जवान तुम्हें प्रणामहे वीर जवा...
राहें...
Tag :
  August 14, 2017, 6:32 pm
 # रक्षाबंधन पर कविता दूर देश से आई बहनाछोटे भाई को बांधने डोरीआज बहुत हर्षित लगती है पहनकर नई हरी साड़ी हाथ में पूजा की थाली लेकरमन ही मन विनती करती रहे खुशहाल मेरा भैया  है मंगल कामना करती झट से फिर भईया ने भी अपनी कलाई आगे कर दीराखी बँधने के बाद में द...
राहें...
Tag :रक्षाबंधन
  August 3, 2017, 4:30 pm
ये बारिश की बूंदेदेखकर के दिल झूमेये मिट्टी की खुशबूकर जाए कुछ जादूजो चलें ठंडी हवाएँमन खुद ही गुनगुनाएकोई चिड़िया पंख फड़फड़ाएलगे धुन मधुर सुनायेकहीं मेंढक की टर-टरकहीं कोयल भी गायेहम कागज की कश्ती को फिर से बनाएँचलो झूला झूल आयें  ऊंची पेंग भी बढ़ाएँलदे अंबियों ...
राहें...
Tag :सावन
  August 1, 2017, 9:19 am
ये कैसे हैं अनजान रास्ते जिस ओर हम हैं बढ़े चलेलगता है डर कहीं बीच मेंये साथ हमारा ना छूट लेआँधी भी है तूफान भी हैऔर आग का दरिया भी हैदुआ है अब खुदा से यही इन सबको पार कर सकेंये कैसे हैं अनजान रास्ते जिस ओर हम हैं बढ़े चलेखुशियाँ कम और गम भरकर हैंयहाँ रहना आंसू पीकर ...
राहें...
Tag :कविता
  July 20, 2017, 5:55 pm
कैसा है यह जीवन- संग्रामहोता है बड़ा कठिन यह कामपूरे जीवन इसके ही खातिरहम ना करते बिलकुल आरामजीवन के हर इक मोड़ परसंग्राम बिना कहे संग चल देअपने ही भाई-बहनों संग हमबचपन में खिलौंनों पर झगड़तेऔर जब समझदार हो जाते तोउनसे जायदाद पर उलझ पड़तेरोज सुबह आफिस के लिएबसों में ह...
राहें...
Tag :
  July 11, 2017, 12:40 pm
आओ भोले बाबा कभीमेरे घर भी आओकब से मैं हूँ आस कियेअब के मान जाओकब से मैं हूँ आस कियेअब के मान जाओहाँ मान जाओ भोले आओ बाबा आओ आ भी जाओकभी डमरू बजाते हुए तो कभी नृत्य तुम दिखाते हुएकभी गंगा को साथ लिए या कभी त्रिशूल हाथ लिए नटराजन तुम किसी भी रूप में तो आओगंगाधर तु...
राहें...
Tag :
  July 10, 2017, 1:25 pm
भटक गया कुछ समय के लिएमैं अपनी मंजिल से तोक्या हुआ बस थोड़ा सा थका हुआ हूँ  लेकिनहारा मैं बिल्कुल भी नहीं हूंफिर से कर लूंगा  नई शुरुआतजिंदगी कीबाजुओं पर अपने तो मुझको हैपूरा यकीनकमजोरी को अपनी मैं ताकतबना दिखाऊंगाजो खोया था हर हसीन पल मैंनेएक-एक गिनकर के वापसल...
राहें...
Tag :
  July 6, 2017, 7:06 pm
कैसे बताऊँ शब्दों में मैं तेरी मेहरबानियाँकण-कण में तू ही तो बसती  माता शेरावालियाहर एक रूप में बहुत ही जचती माता शेरावालियाहर एक रूप में बहुत ही जचती माता शेरावालियाहो शेरावालिया  पहाड़ावालियाहो भर दे झोलियाँ जो दिखती खालियाँकैसे बताऊँ शब्दों में मैं तेरी मेहर...
राहें...
Tag :माता
  July 3, 2017, 7:19 pm
वर्षा ऋतु पर कविता "उजली-सी हर कली है दिखती"उजली-सी हर कली है दिखतीऔर धरती ने कर लिया श्रृंगारवर्षा ने तो प्रसन्न कर दिया हर एक डाली हर एक पात खुशबू मिटटी की फैली हैएक-एक कण में आया निखारक्या कोयल और क्या पपीहासुना रहे हैं मिलन का राग अब तो सब के पंख आ गयेथमते नहीं धर...
राहें...
Tag :वर्षा
  June 21, 2017, 8:17 am
उजली-सी हर कली है दिखतीऔर धरती ने कर लिया श्रृंगारवर्षा ने तो प्रसन्न कर दिया हर एक डाली हर एक पात खुशबू मिटटी की फैली हैएक-एक कण में आया निखारक्या कोयल और क्या पपीहासुना रहे हैं मिलन का राग अब तो सब के पंख आ गयेथमते नहीं धरती पर पाँवक्या इंसान और क्या पशु-पंछीहर्ष...
राहें...
Tag :वर्षा
  June 21, 2017, 8:17 am
हाँ तुमने सही कहा था माँहाँ तुमने सच ही कहा था माँलेकिन मैं ही था नादान शायद मैं ही था अंजानइस दुनिया के इंसानों सेमुखोटे पहने हुए हैवानो सेकि कुछ ऐसे गलत लोग तेरे जीवन में भी आयेंगेफिर अपनी चिकनी-चुपड़ीबातों से तुम्हे भ्रमित करवायेंगेबस तुम रहना इनसे बहुत हीसावध...
राहें...
Tag :माँ
  June 3, 2017, 8:04 pm
आओ बच्चों तुम्हे समझाऊँएक बात पते की मैं बतलाऊँजीवन में कुछ हांसिल कर सकोउस रास्ते पर चलना सिखलाऊँघर से ही तुम यह शुरुवात करोमाता–पिता,बड़ों का सम्मान करोगुरुओं को भी हमेशा करो नमनऔर सत्य के मार्ग पर बढ़े चलोनित्य सुबह तुम जल्दी से उठकेनहा–धोकर प्रभु से विनती करकेनि...
राहें...
Tag :बालकविता
  May 31, 2017, 5:38 pm
मंजिल की तलाश में मैं भटक रहा हूँ इधर-उधरन जाने कब शाम हुई न जाने कब हुई सहरन जाने कब हंसी थी आईअब दर्द बढ़ रहा हर पेहर डर लगता है के ये जिंदगीबन जाये न मुश्किल सफ़रजिसे समझा हमने हमनवा वही न समझे अब हाल-ऐ-दिलन जाने ये किस्मत को है मंजूरया अरमानो से खेलना बनाहमारे यार...
राहें...
Tag :मंजिल
  May 31, 2017, 5:26 pm
ओ मेरे ख्यालों के शहजादे बताओ हकीक़त मेंतुम कब आओगेनहीं गुजरता लम्हा तुम बिनकब तक यूँही मुझको तड़पाओगे जब तुम मेरे साथ होतेसारे आलम हसीं है होतेऔर जब खुल जातीं अंखियारेत की तरहा सब जा फिसलतेतेरे दीदार को पाने को हम पहरों तलक सोया हैं करतेलेकिन ख्वाब तो ख्वाब ह...
राहें...
Tag :
  May 22, 2017, 6:14 pm
बाबुल तेरे घर का अंगनारा लगता हैजहाँ से प्यारा आँखें अब भी नम हो जातींजब होता हैछोड़ कर के आना वो माँ के हाँथ से सर की मालिश करवानावो दादी की गोद मेंसब गम भुला लेट जानावो भाई का अनोखे मुंह बना के चिढ़ानाकैसे पंख लगा केउड़ गया वो जमानाआँखें अब भीनम हो जातींजब ह...
राहें...
Tag :कविता
  May 7, 2017, 5:59 pm
पड़ोस के घर में रहने वालीमोटी आंटी बड़ी हैं प्यारीअंकलजी तो हैं दुबले–पतले जोड़ी इनकी लगती न्यारीकाम हैं उनको दो ही भातेएक खाना और करनी बातेंजब वो हमारे घर पर आयेंदो–तीन घंटे बैठ के जाएँइधर-उधर की सारी ख़बरेंसबसे पहले उनसे मिल जाएँअंकलजी की आधी तनखा तोवो तो शॉपिंग पर उड़...
राहें...
Tag :मोटी आंटी
  May 2, 2017, 5:31 pm
परी रानी ओ मेरे सपनों में आने वालीसफेद और सुंदर बड़े परों वालीपरी रानी तुम असली में आओढेर सारी मांगे हैं मेरी तुमएक – एक कर पूरा कर जाओटॉफी का एक पेड़ लगा दोऔर जूस की एक नदी बना दोबहुत सारे खिलौने दिलवा दोऔर उड़ने वाली कार भी ला दोमम्मी – पापा पर टाइम नहीं होताएक लम्बा सा हॉ...
राहें...
Tag :बाल कविता
  May 2, 2017, 5:24 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167880)