Hamarivani.com

कुछ हम कहेँ

माँ के अंदर बहन के अंदर बसी होती है लङकियाँगर समझो तो अमूल्य होती है लङकियाँघर को सँजोने वाली भी होती है लङकियाँखुद से भी प्यारी होती है सबको अपनी बेटियाँघर सुना-सुना हो जाता है जब रुखसत होती है बेटियाँकाँटे की चुभन सी बितती है एक पल और एक घङियाँहर किसी को प्यारी जब हो...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  March 8, 2016, 8:03 am
आपकी मुस्कुराहट भी हमसे कुछ कहती हैखुबसुरती आपके रग-रग मेँ दिखती हैवफा ए मुहब्बत की बेमिशाल मुरत हो आपआप ना सही मगर आपकी नजरेँ ये बयाँ करती है ।...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  February 29, 2016, 11:32 am
हर लम्हा मेरे आसपास तेरी यादोँ का पहरा रहता हैये वक्त भी ना जाने अब कहाँ ठहरा रहता हैना रात को करार है ना दिन को सकून हैअब तो बस जहाँ देखुँ तेरा ही चेहरा रहता है । ...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  February 13, 2016, 1:24 pm
हमसफर अच्छा हो तो राह कैसी भी होगुजर जाती है ।मुहब्बत की राह मेँ कोई मिलता है तोकोई साथ छोङ जाती है ।हर किसी को यहाँ नहीँ मिलता मुहब्बत मेँसाथ देने वालामुहब्बत मेँ कोई लुटता है और कोई किसी को आबाद कर जाती है । ...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  February 13, 2016, 1:21 pm
वो कहती है ए दिल क्योँ तुने मुहब्बत की कभी जो तुने ना किया क्योँ ऐसी शरारत कीनहीँ लगता कहीँ भी दिल अब बिना उनके मुझसे बिना पुछे कैसे तुने ये जुर्रत कीमैँ कहता हुँ क्योँ कहती हो तुम इस पागल दिल कोये दिल तो अभी नादान है कैसे बतलाऊँ तुझ कोहाल मेरा वही है जो तुम्हारा हाल हैतु...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  February 13, 2016, 1:18 pm
वफा-ए-मुहब्बत हम ना करते तो क्या करतेउसकी यादोँ मेँ छुप-छुप कर ना रोते तो क्या करतेउसने तो एक लफ्ज मेँ कह दिया भुल जा मुझेहम जख्म-ए-दिल ना दिखाते तो क्या करते...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  February 13, 2016, 1:16 pm
मेरी मुहब्बत का युँ इम्तहान ना लोमुहब्बत है तु मेरी बस ये जान लोनहीँ आता मुझे तेरी मुहब्बत के सिवा कुछ भीगर यकीँ ना हो तो मेरा खुन-ए-दिल माँग लो...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  February 12, 2016, 5:48 pm
इश्क मेँ मैने ये कैसी ठोकर पाईकी थी मुहब्बत और मिली बेवफाईए खुदा अगर अंजाम ए ईश्क ये थातो क्योँ लिखी मेरे किस्मत मेँ मुहब्बत और फिर जुदाई...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  February 7, 2016, 2:29 pm
वफा-ए-मुहब्बत हम ना करते तो क्या करतेउसकी यादोँ मेँ छुप-छुप कर ना रोते तो क्या करतेउसने तो एक लफ्ज मेँ कह दिया भुल जा मुझेहम जख्म-ए-दिल ना दिखाते तो क्या करते...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  February 7, 2016, 2:26 pm
नफरत भरी दुनिया मेँ मुहब्बत कहाँ होती हैदिल तो मिलते हैँ मगर ईबादत कहाँ होती हैमिल कर बिछङ जाते हैँ यहाँ पर दिलदिल से कोई चाहे ऐसी चाहत कहाँ होती है...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  January 31, 2016, 8:28 pm
मेरे अंदर कुछ हलचल बस युँ ही चलती हैतेरे बिन मेरी जिँदगी बस माचिस सी जलती हैपास मेरे तुम हो तो परवाह नहीँ अब दुनिया कीमेरी साँसे भी शायद तेरे साँसोँ से चलती है...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  January 31, 2016, 8:20 pm
तुझे दिल तुझे धङकन तुझे जानम मैँ लिखुँगातुझे सावन तुझे बादल तुझे रिमझिम मैँ लिखुँगाजो तेरे लब छु गए मेरे लबोँ से अबतुझे अपनी मुहब्बत की तकदीर मैँ लिखुँगारहा जाता नहीँ अब बिन तेरे मेरी जाँ ये तु सुन लेतु सामने बैठो तुझे एक गीत लिखुँगा...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  January 27, 2016, 2:01 pm
वफा मैनेँ की है वफा चाहता हुँखुद से भी ज्यादा मैँ तुझे चाहता हुँ ना दिन की फिकर ना रात का गम हैजो केवल तुझे देखे वो नजर चाहता हुँबैठे रहो तुम पास मेरे ना हो दुरियाँजुदा ना हो हम कभी ऐसा हमसफर चाहता हुँ...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  January 24, 2016, 6:47 am
तेरी खुबसुरती का ये फसाना हुआये चाँद भी आज तुम्हारा दिवानाहुआजुल्फोँ को तुम बिखराओ तो घटा बरसती हैहर किसी की जान अब तेरी जान मेँ बसती हैदुपट्टा गर लहराओ तो ही हवा भी चलती हैतेरी साँस को छुने को हर अरमाँ तङपती हैतुम हँसो तो बहारोँ के फुल भी तब खिलते हैँभँवर भी तब कहीँ जा...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  October 11, 2015, 10:10 am
बेबसी ने मुझे इस कदर सताया हैखुद की लाचारी पर अब मुझे रोना आया हैजिन्दगी तुझसे मैँ एक सवाल पुँछता हुँतुने दिया किया है मुझे केवल खोया हुँकिरदार भी दिया तुमने तो ये कैसा दियाखुद को ही तुमने खुद से जुदाकियाना खुशी दी ना खुशनुमा संसार दियाना दिल दी ना मुहब्बत और प्यार दि...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  October 11, 2015, 10:09 am
मंजिल वही रहती है बस सफर बदल जाते हैमुहब्बत भरी दुनिया मेँ हमसफर बदल जाते हैँआरजू होती है तुझ मेँ खो जाने कीबेवफा तुम ना हो जाओ कहीँ ये सोच ख्यालात बदल जाते है...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  October 11, 2015, 10:07 am
तमन्ना होती है तुम्हेँ हमसफर बना लुँदुनिया की नजरोँ से तुझ को बचा लुँकर के एलान हाँ मुहब्बत है तुमसेसारी दुनिया से कहकर खुद मेँ छुपा लुँभुल कर दुनिया की रश्म-ओ-रिवाजतेरी झील से आँखो मेँ खो जाउँ आजतेरी सादगी मेँ कुछ ऐसा कर जाऊँतुम मेरी गजल बनो मैँ तेरा शायर बन जाऊँतुम म...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  October 11, 2015, 10:06 am
साँसोँ का क्या भरोसा ये तो टुट जाते हैँचंद लम्होँ मेँ सारे रिश्ते-नाते छुट जाते हैँजिसे आज तुम अपना-अपना कहते होशव पर आकर तेरे बस ये ही कुछ देर रो जाते हैँशमशान पर पहुँच कर तेरे ये अपनेजलने मेँ कितना वक्त लगेगा ये सवाल पुछते हैँ कुछ नहीँ जाता साथ तेरे ए मनुष्यबस तेरे अच...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  October 11, 2015, 10:04 am
चाहत मे तेरी मैँ जिँदगी सँवार दुँजितना किसी ने ना दिया वो मैँ प्यार दुँखुदा के बेमिशाल कारीगरी का तोहफा हो तुमफिर क्युँ ना तेरी जिँदगी मेँ सारी दुनिया वार दुँ...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  October 11, 2015, 10:02 am
मेरे लफ्जोँ मेँ तेरे सिवा कोई नाम ना होतेरे बिना मेरी पुरी कोई शाम ना होसाँस भी चले तो बस तेरे पास होने पे चलेहमारी जिँदगी मेँ गम का कोई नामो निशान ना हो...
कुछ हम कहेँ...
Tag :
  October 11, 2015, 10:01 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165974)