Hamarivani.com

Writer-BaBu (Sanju)

चारों   और  पानी  ही पानी चारों  और  हानि   ही हानि चारों और अँधेरा ही अँधेरा हो जाये  अब जल्दी सवेरा चारों और  फैला  हाह&#...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  December 5, 2015, 12:45 pm
मुस्कराती दिखे   कलियाँ लहराती  पेड़ों  की  डाली हर  हरे   भरे खेत यहाँ के दिखे  चहुंओर   हरियाली रहते  लोग खुशहाल यहां...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  November 21, 2015, 3:02 pm
आई है मुस्कान येअलग- सी सालो से उदास इस चेहरे पर मौका मिला है कितना प्यारा ये दिवाली  मनायेंगे  घर  पर खूब जली  चाइनीज लड़ि...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  November 21, 2015, 3:01 pm
सूखे  पड़े रिश्तों के बगीचे रंग   बिरंगे फूल खिला दो      बनी है  नफरत की दीवारें      सबको  अब तुम मिटा दो बुझती  हुई  आशाè...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  November 21, 2015, 3:00 pm
बाल दिवस के दो चेहरे पहला दृश्य  :-आई एस बी टी  से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की और जाते हुए मैंने कुछ बच्चे देखे जो शायद किसी झु&...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  November 21, 2015, 2:59 pm
ए मेरी  धरती , ए मेरे घर अब  मुझको  तू  बुला ले थक  चूका  हूँ बहुत अब अपने आँचल में सुला ले आता  है  याद  बहुत  तू पूरा   ही  द...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  November 21, 2015, 2:59 pm
हरपल  मुस्कराने  वाली कभी  न  घबराने  वाली दिखती नही चिंता कभी रहे  सदा चेहरे पर लाली था   अनजान   उससे  मैं न  जाने कहा...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  October 30, 2015, 6:57 pm
आने लगी है इक जानी पहचानी खूशबू  अपने  गाँव  की  और से             चल रहा है  पता  इस  बात  का             हिलोरें खाती हुई &...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  October 17, 2015, 2:13 pm
बनाना पड़ा साथी कागज कलम को दुनियाँ में साथ मिलता है कहीं  कहीं विश्वास  है  मुझे  इन   बेजुबानों  पर देंगे   मुझे  धोखा&nb...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  October 13, 2015, 10:08 pm
एक रचना वरिष्ठ नागरिकों को समर्पित ........साथ  छोड़ने  लगी  टहनियाँ निकलने वाले है अब   प्राण दूसरो  के  लिये  रहा  तैयार रख&#...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  October 13, 2015, 10:07 pm
पहले  तोड़ी  साइकिल  हमने फ़िर  आई  पहिये  की   बारी रिम को लगाया छत पर और पहिये  से  गलिया छान मारी गाड़ी थी सबकी अपनी सबका थ...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  October 13, 2015, 10:06 pm
जिस देश का दिल है दिल्ली और कश्मीर जिसका ताज हैजिसमे हो पाँच नदियों का पंजाब उस भारतवर्ष पर हमें नाज़ हैंहरा भरा हरियाणì...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  October 13, 2015, 10:05 pm
जब तक पैदा करता हूँ अनाज हर कोई करता मुझ  पर  नाज़ मेरे ही कारण करता था हमारा ये  भारतवर्ष दुनियाँ  पर  राज़ पर नही  बरसते&n...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  October 13, 2015, 10:03 pm
खुश हूं  मैं  या  उदास  ये देखने मेरे आँसुओं पर  कभी  न जाना क्यों भीगो देतेआँखें खुशी में भी जान  न पाया अब तक  जमाना न जा...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  September 28, 2015, 8:54 pm
घर से ये जो मेरी  दूरी है खुशी नही ये मजबूरी है निकला था घर से तन्हा पाने चैन और राहत को भटक रहा हूं दर - बदर पाने को अपनी चाहत ...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  September 26, 2015, 4:08 pm
लो जी हमारा भी एक साल पूरा के वी में न जाने कितनों ने  सताया ,न जाने कितनों ने रखा ख्याल ,कभी खुश हुए,कभी मायूस ,और कट गया एक सा...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  September 25, 2015, 12:01 pm
रहने लगा हूं खामोश मैं आके मुझे दुलार दे नही लगता मन अब मेरा मुझे अब अपना प्यार दे मँझदार में है नैया मेरी इसे अब कर पार दे ल...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  September 25, 2015, 12:00 pm
हिन्द देश है तन हमाराहिन्दी हमारी जान हैइसी से धड़कता है ये दिल इसी से हमारा मान है ! रखती है हमें बांधकर एक सुगंधित माला म&...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  September 15, 2015, 1:26 pm
सीख लो दोस्तों मिलकर रहना,है अनजान परदेश ये,आज नही तो कल यहां से चले जाना है ! ख़ुदगर्ज है ज़माना ये,यहां कैसे कैसे लोग आते है...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  September 12, 2015, 2:56 pm
क्या है जिंदगी तू क्या है तेरी कहानी क्या है तेरा अपना तू तो हरपल है बेगानी क्यों हर कोई तुम्हे हीपाने  की कोशिश करता है स...
Writer-BaBu (Sanju)...
Tag :
  August 11, 2015, 12:26 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169634)