Hamarivani.com

सृजनयात्रा

पाता हूँ अपने आपको तन्हा जहान मेंघबरा रही है रूह बदन के मकान मेंकिस्मत ने पर कतर के ही फेंका ज़मीन परउड़ना जो चाहा हमने कभीे आसमान मेंभरते थे यूं तो दोस्ती का हर नफ़स ही दमअपने पराये हो गए इक इम्तहान मेंतुमको न भूल पाने का बस है यही सबबइक तुम ही तो मुक़ीम हो दिल के मकान मेंसर ...
सृजनयात्रा...
Tag :
  July 26, 2016, 12:14 am
तुम्हारे सामने आते हीदिल कि बातजुबां तक आकररुक जाती है,तुम्हे देखने के लिएझुकी नज़रउठती है तोसारे राज़ कह जाती हैसब जानकर भी तुम,फिर अनजान सेबन जाते होकह दो न...आखिर,क्यों सताते हो...?...
सृजनयात्रा...
Tag :
  March 10, 2016, 3:06 pm
हर अश्क कहता है कहानी देखियेबहते हुए अश्कों के मानी देखियेभूख के कारण चुराई एक रोटीउसके पिटने की कहानी देखिये...
सृजनयात्रा...
Tag :
  September 3, 2015, 11:20 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3905) कुल पोस्ट (190765)