POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: sangwaribagwani

Blogger: chaitan singh
                           खट्टे मीठे  बेर की नाम सुनते ही मुँह  में पानी आ जाता है।  आजकल हाइब्रिड किस्म के बहुत सारे ऐसे बेर आ गये है। जिन्हें हम अपनें गार्डनिंग में सुन्दरता के लिए लगा सकते है। दिखने में बिल्कुल सेव के समान, इन्हे हम Apple बेर कहते हैं , इसक... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   3:49pm 23 Feb 2017
Blogger: chaitan singh
gardening tips in hindiफूलों से लदा एक वृक्ष कचनार जब यह अपने फूलों से पूर्ण रूप से लदी होती , बहुत ही आकर्षित लगती हैं , रोड  किनारे जब हम गुजरते रहते हैं , तो यह हमारे मन को बरबस ही आकर्षित  कर लेती हैं ,कचनार फूलों से लदा एक वृक्ष हैं , साथ ही साथ यह auषधिय गुणों से भरपूर एक वृक्ष हैं |वै... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   1:33pm 21 Feb 2017
Blogger: chaitan singh
                                        बसंत की बिदाई और पतझड़ की स्वागत फाल्गुन का महिना और टेंशु के फुल से होली रंग, क्या कहने ? टेंशु की वृक्ष जिसकी ऊँचाई ज्यादा नहीं होती, यह बहुत ही सुदर भारतीय वृक्ष है, जो फूलने के बाद पूरा पेड़ ही लाल फूलों से ढक जाता है, इ... Read more
clicks 104 View   Vote 0 Like   12:39am 20 Feb 2017
Blogger: chaitan singh
यह एक  बहुत उपयोग  वृक्ष हैं ,इसे अलग – अलग क्षेत्रों मै  अलग –अलग नामों से जाना जाता हैं, इस वृक्ष के  पत्ते, फुल और फल सभी की सवादिष्ट  व्यंजन बनाई जाती  हैं , इसके पत्ते की सब्जी हम हर मौसम मैं युज कर सकते हैं , सहजन जिसे इंग्लिश मैं Drumstick tree तथा इसका वान्स्पनिक  ना... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   6:13am 17 Feb 2017
Blogger: chaitan singh
करोंदा का पौधा नीबू के पौधे जैसे झाड़ीनुमा होता है .इसका झाड़ी लगभग 6 से 7 फीट उचा तक होता है ,इसका पत्ता नीबू के पत्ते से छोटा होता है .इसके झाड़ी में कांटे होते इसलिए इसका उपयोग हम अपने बगीचे मैं हेज के रूप में ,अपने बगीचे को घेराव के लिए करते हैं , वैसे हम करौदे का फल का उपयोग क... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   3:09pm 18 Sep 2016
Blogger: chaitan singh
स्टार फ्रूट जिसे हिंदी में हम कमरख कहते है . देखने में खूब सूरत फल जिसे देख कर ही मुह में पानी आ जाता है . जब फल कच्ची होती ,तब यह फल हरे रंग की दिखाई देती है .पकने पर यह पिली हो जाती है .यह रसीला फल स्वाद में खट्टा व मीठा दोनों का अनुभव कराती है .जिसमे खट्टापन की मात्रा की मात्र... Read more
clicks 105 View   Vote 0 Like   8:55am 17 Sep 2016
Blogger: chaitan singh
मीठा नीम इसे भारत मैं कढ़ी पत्ता के नाम से भी जाना जाता हैं . मीठा का झाड़ी होता हैं , इसके पत्तों का भारतीय  खाने मैं बहुत महत्व हैं , विभिन्न खट्टे –मीठे व्यजनों में तथा दलों में  इसकी पत्त्ती का उपयोंग छोंक के रूप में  किया जाता हैं , इसके पत्ते नीम की पत्ती की तरह ही चम... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   10:28am 30 Aug 2016
Blogger: chaitan singh
धतुरा के पुष्प और फल का हिन्दू धर्म में  एक अलग ही मान सम्मान हैं , इसके पुष्प और फल, शंकर भगवान की प्रिय पुष्प और फल हैं ! पूरे भारत मैं यह पुष्प हमें मिल जाती हैं ,इसका पौधा हिमालय से लेकर कन्याकुमारी तक कही भी लगाया जा सकता हैं ! धतुरा के पुष्प विभिन्न  रंगों में  हमें ... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   1:41pm 13 Aug 2016
Blogger: chaitan singh
गेंदे  का फुल पुरे भारत वर्ष में  बड़ी आसानी से उगाया जाता हैं ,हम इसे खेती के रूप मैं उपयोग कर सकते हैं ,क्योंकि गेंदे का फुल का डिमांड पुरे वर्ष भर रहती हैं ,हम इसका उपयोग कई कामों मैं करते हैं ,विभिन्न त्योहारों ,शादी –विवाह में गुलदस्ते ,विभिन्न सजावट के लिए ,माला की ल... Read more
clicks 91 View   Vote 0 Like   3:44am 4 Aug 2016
Blogger: chaitan singh
बालसम जिसे हम हिंदी में  “ गुलमेहंदी ” कहते हैं , एक ऐसा पुष्प है , जिसे हम कंही भी लगा सकते है .यह ग्रीष्म तथा वर्षा कालीन पौधा है . जिसे हम जून जुलाई से लेकर अगस्त के प्रथम सप्ताह तक लगा सकते हैं .इसका मुख्यतः तीन वैरायटी आता है , जिसमे सिंगल पुष्प व गुच्छों में पुष्प ,तथा ए... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   9:12am 31 Jul 2016
Blogger: chaitan singh
पोर्टलाका , एक बहुत ही सुन्दर पुष्प होता है, जो बहुत सारे वैराइटी में पाई जाती है , इनके सिंगल किस्म और डबल किस्म बहुत ही सुन्दर लगते हैं |पोर्टलाका को हम स्थानीय भाषा में अलग – अलग नामों से जानते हैं, जैसे कहीं – कहीं इसे गंगा दूब, “गुलदुपहरिया आदि नामों से जाना जाता है , इस... Read more
clicks 105 View   Vote 0 Like   2:22am 25 Jul 2016
Blogger: chaitan singh
अलमंडा एक सदाबहार लता जिसके पीले तथा बैगनी पुष्प को हम सालभर ले सकते हैं इसकी लम्बाई 15 – 20 फिट तक हो सकती है, इससे हम समझ सकते हैं की हम इसे बहुत ऊंचाई तक चढ़ा सकते हैं, इसकी पौधा हमेशा हराभरा और पतियां चमकदार होती है, इसके अलावा यह parple, Red  और सफ़ेद  allanandsकी किस्में विकसित किया ... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   3:50am 24 Jul 2016
Blogger: chaitan singh
येलो ओलिएन्डर मुख्यतः तीन रंगों में पाई जाती है , पिली ओलिएन्डर,सफ़ेद ओलिएन्डर और हलकी गुलाबी ओलिएन्डर यह झाड़ीनुमा पौधा है जिसे हम बीजों की सहयाता से बहुत आसानी से लगा सकते हैं ,इसकी लम्बाई लगभग ३.५ मीटर से ४ मीटर तक होती है, येलो ओलिएन्डर की पिली प्रजाति सबसे ज्यादा पाय... Read more
clicks 86 View   Vote 0 Like   10:17am 23 Jul 2016
Blogger: chaitan singh
मौलश्री का पौधा सड़क किनारे मन को अपने आप आकर्षित कर लेती है  | इसके चमकीले हरे पत्ते, पेड़ की सुन्दर बनावट अत्यंत सुन्दर लगती है, मौलश्री के सुगन्धित सफ़ेद फूल जिसकी भीनी – भीनी  सुगंध  हवाओं को महका देती है, इसके सफ़ेद पुष्प की हम मालाएं भी बना सकते हैं, मौलश्री को अने... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   8:22am 19 Jul 2016
Blogger: chaitan singh
वैसे तो बागवानी हमें प्रकृति से जोड़े रखती है,यह एक अच्छाhobbyहोता है। जिससें हमें पेड़ पौधा के नजदीक रहने का मौका मिलता है। जहां पेड़ पौधा होगें वहां छोटे बड़े जीव भी होगें,पक्षियों की चहचाहट होगी,पेड़ पौधो के बीच एक अलग सुकुन होगा ,एक अलग आनंद होगा,हमारे आस पास मौजुद पेड... Read more
clicks 254 View   Vote 0 Like   5:50am 9 Jun 2015
Blogger: chaitan singh
कलिहारीयाग्लोरीलिलीकेपुष्पबहुतहीविष्ष्टिहोतेहै।जोअपनीआकर्षकडि़जाईनतथालालऔरपीलेरंगोंकामिश्रणसेमनकोमोहलेतीहै।आजकलग्लोरीलिलीयाकलिहारीकाव्यपारिकउपयोगकियाजाताहै।इसकेकंदऔरबीजकाउपयोगहमविभिन्नप्रकारकेऔषधियांबनानेमेंकरतेहै।यहछत्तीसगढ़केजंगलों... Read more
clicks 292 View   Vote 0 Like   12:59am 7 Jun 2015
Blogger: chaitan singh
मोंगरा और बेला के फूल अपनी खुशबु के लिए प्रसिध्द है। इसकी चटक सफेद रंग मन को मोह लेती है। वास्तव में मोंगरा और और बेला दोनो एक प्रकार के पौधें है। बेला के पौधो  में लता ज्यादा होता है और इसके फूल पंखुडियों एक कली में होती है ,जबकि मोंगरा की पुष्प गुच्छो में होती है। इसे ... Read more
clicks 306 View   Vote 0 Like   1:24am 29 May 2015
Blogger: chaitan singh
गुलमोहर अपने लालीमा लिये पुष्पों तथा छाया के कारण राहगीरों तथा आम जनों को बरवस की अपनी ओर आकर्षित करती  है। गुलमोहर के पुष्प मुख्तः लाल रंगो में होती है। इसके अलावा यह लाल तथा केसरिया मिक्स, सफेद तथा लाल मिक्स आदि रंगों में उपलब्ध होती है। गुलमोहर के पुष्प् को ‘‘पी क... Read more
clicks 306 View   Vote 0 Like   3:44am 28 May 2015
Blogger: chaitan singh
वैसे तो लिलि की बहुत सारी प्रजातियाँ पायी जाती है, लेकिन फुटबॉल अपने विचित्र बनावट के कारण अपनी ओर आँखों को तुरंत ही आकर्षित कर लेता है। प्रचंण्ड गर्मी में , फूलों की कमी के बीच फुटबॉल लिलि मन को राहत देती है।फुटबॉल लिलि का प्रसारण कंदों के द्वारा होती है, इसके... Read more
clicks 247 View   Vote 0 Like   12:47am 28 May 2015
Blogger: chaitan singh
                   ... Read more
clicks 187 View   Vote 0 Like   3:26am 25 May 2015
Blogger: chaitan singh
कोचिया वैसे तो गर्मीयों में लगायें जाने वाले पाधौं की तथा फुलों की संख्या ज्यादा नहीं होती फिर भी कुछ पौधे हमें गर्मी में भी शीतलता और सुकुन महसुश कराते हैं इन्ही में एक पौधा है कोचिया जो गेंद के आकार में हरियाली लिए हुए मन को शीतलता प्रदान करती है।चाहे कितनी भी चिलचि... Read more
clicks 240 View   Vote 0 Like   3:18am 25 May 2015
Blogger: chaitan singh
यह अनोखा पौधों जिसका फूल बिल्कुल अलग है, यदि आप बगिया के लिए कोई अनोखा पौधा ढूँढ रहे है, तो एक बार जरूर हैलिकोनिया को आजमाइए ‘‘यह प्रकिृति की विचित्र देन है, इसकी फूल की बनावट तथा विभिन्न रंगों की संयोजन अद्भूत होती है हैलिकोनिया का पौधें केले के पौधे से मिलता जुलता है अ... Read more
clicks 239 View   Vote 0 Like   12:22pm 24 May 2015
Blogger: chaitan singh
– अपने सुन्दर फूलों तथा रगों के कारण लोगों को अपने और खिचती है इसके पत्ते गाजर के पत्तों के सामान होती है और बहुत ही मुलायम होती है | कॉसमॉस के फूल कई रंगों में प्राप्त होती है | सामान्यत: सर्दी वाले पुष्प गुलाबी,सफ़ेद  तथा हलकी गुलाबी रंगों में पाई जाती है  इसके अलावा क... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   12:21pm 24 May 2015
Blogger: chaitan singh
आज के इस भाग दौड़ भरी जींदगी में लोगों के पास टाईम की बहुत कमी है कि वह प्रकृति से जुड़ सके इसके अलावा भी शहरों में जगह की कमी एक बहूत बड़ी समस्या है। फिर भी हमारे पास ऐसे पौधों की कमी नहीं है जो ,हमें प्रकृति का अहशास दिला ना सके ? आज गार्डनिंग में बहुत सारे नई टैक्नोलोजी त... Read more
clicks 308 View   Vote 0 Like   10:08am 24 May 2015
Blogger: chaitan singh
वर्षा ऋतु का आगमन पर में एक  उमंग लेकर आती है।हमें प्रचंड धुप और गर्मी की उमस  से छूटकारा मिलती है। मन में प्रकृति के प्रति एक अलग ही उल्लास होती है। वास्तव में यह मौसम बागवानी का होता है।जो गार्डनिंग से प्यार भी नहीं करता ओ भी एक बार पौधो की तरफ आर्किषित हुए बिना नही... Read more
clicks 297 View   Vote 0 Like   2:25am 24 May 2015
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3911) कुल पोस्ट (191547)