Hamarivani.com

मिथिलाञ्चल शायरी

हम बादल केर बिछौना परसपनाक सिरमा साटिअकाशक तरेगन सभकेलीला देख'बला मनुखहम अपने कविताक पियास छीहमर सभ अंग जा धरिसाहित्य केर रससँ नै माततता धरि हमरा निन्न नै लागत ....कारण हम साहित्य प्रेमी छीहम अपने टुकड़ी-टुकड़ी भेल मोनप्रेमक बिछोहमे फाटल हिया केरअपन गजलक शेर सभसँपच्चर...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  January 17, 2018, 8:01 pm
दिल   धडकलै  तऽ  धडकलै   कोनाई  मोनमें  हलचल   मचललै  कोनासब  टाऽ  जादू   अहिंक कएल अछिपागल  दिल  हमर  सम्हल्लै  कोनावर्षो    सँ     प्यासल     छली    अहाँबिन   बादलक  वर्षा  बरस्लै   कोनानसोनस टूटि  रहल अछि  तनबदनआजु&nbs...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :गज़ल
  January 16, 2018, 11:34 am
अहाँके आद अछि ओ दिनआईसँ ठिक १२ बर्ष पहिनेआजुके दिन भेल छलैनिबन्ध लेखन प्रतियोगिता२५० शब्दमेतँहिमे धन्यवादके पात्र बनल छली हमअहाँ तरफसँआअहाँ प्रथम भेल छलीहमर लिखल निबन्धसँअहाँ लेल ओ दिन स्मरणटा मात्र भऽ सकैएमुदा, हमरा लेल ओ दिनअवीसर्णि अछि  ।ओ दृश्य अखनोहमरा आख...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :राम सोगारथ यादव
  January 16, 2018, 11:14 am
हमरा लेल  बिरहक आगि  में किए जरैत रहब !कहिया तक अहाँ एना घुटि-घुटिक मरैत रहब !!आकाशक   तारा   बनि जाएब  एक  दिन  हम !तब  धर्ती  सँ  अहाँ  हमरा  सदैत  देखैत  रहब !!हम  तऽ  ई  जनम  में भऽ  नई सकलौं अहाँक !जनम-जनम  तक  अहाँक  बाट  जोहैत  रहब !!दिल...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :गज़ल
  January 15, 2018, 1:24 am
भोरके सुरजक लाली सन ओ माथक सेनुर आ मृगनैनी सन आँखिमे काजर कएनेललका बिन्दिया आललके ठोरङा सँ ठोर रंङने पायल छमकाबैत जखनससुराल मे दाहिना डेग अपना साजन के द्वार पर रखलैन तऽघरमे लक्षमी सन पुतौह देखिमन हर्सित भेल ससुरभरिगाँउमे भोज खुआ खुसी सँनाचिरहल छलाह।एम्हर :हरिण सन ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :दिनेश कुमार राम
  January 15, 2018, 12:54 am
तिले      तिल     आब    बढ़त    दिनसभक   मोनमें   ई   बात  गढ़त  दिनभोरे   भिन्सर  उठि  नहाँ-सोनांह  कऽबौआ   बुच्ची  लाई'  लेल  लड़त  दिनमिथिला   में   तिला  संक्रांति  अबितेसब   कहैत  अछि   आब  चढ़त  दिनजे  सब  नई  न...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :Tila Sankranti Vishesh
  January 14, 2018, 3:08 pm
आबू सबकिओ मिलि करैछीऔझका दिनके स्वागत यौपुत्रक घर सूर्यदेब पहुँचलकरियौन आगत भागत यौ ।।शनी देवता पुत्र छयनि हिनकऽमकर राशीके स्वामी यौउत्तरायणके समय थिक ईमोक्ष प्राप्ति हेतु असानी यौ ।।औझके दिनमे भागिरथ बाबागंगा पृथ्वीपर लौने छलाहसगर सन्तती अपन पुर्खाकेनिश्कलं...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  January 14, 2018, 2:51 pm
 किछ पाबैक लेल ,दिन राति मेहनत करे परैत अछि !...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :
  January 14, 2018, 1:08 am
अहिं   हमर    जान   छि    अहिं    हमर   प्राण   छीकरेजामे    अहाँक    बैठाबि    अहिं    भगवान   छीछोड़ परतै तऽ छोड़ि देबै दुनिया अहाँक पाब'क लेलअहाँ पऽ अप्पन जिनगी लुटा देब अहिं अरमान छीतरेगन गिन-गिनक राति कटैय अहाँक इन्तजारमे...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :गज़ल
  January 13, 2018, 1:05 am
हमरा छोडि एना नई जाऊँहमर सजनी !!हम अहाँ बिनु कोनाक जी पाएब  !!!हमर सजनी !!अहाँक ऊ वादा कोनाक बिसरि जाऊँ !!एना ई दिल तोडिक नई जाऊँहमर सजनी !!हमर नस-नस मे अहाँ बठि'ल छी !!किए एना नराज छीहमर सजनी !!हमरा छोडि एना नई जाऊँहमर सजनी !!हमर दिल तोडिक नई जाऊँहमर सजनी !!_______________________________________✍ महेश ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  January 13, 2018, 12:14 am
तोरे  यादमे   हम   गंजेरी  भऽ गेलियौतोरे  नामके   हम   पुजेरी  भऽ गेलियौबिडि   सिकरेट  सभ  छोडा   गेलही तोंमुदा   तोरे  प्रेमक   नसेरी  भऽ गेलियौछातीकें   चिरीबथियर  कऽ  गेलही तोंओहे छाति सि-सि कऽ धुनेरी भऽ गेलियौतासकें  पता ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :गज़ल
  January 12, 2018, 6:55 pm
ताराक बूनका रातुक सियाही चान एसगर कते छैसोचू किए हम लोक ओम्हर कते छै एम्हर कते छैछोड़ि चतुरंगिनी सेना पार्थ मांगि लेलकै जे केशवजीति सकलै की कौरव धूआ साँचक नम्हर कते छैसिनूर परने मन-प्राण भ'जेतै की दाखिल-खारिजकहतै साँसक अबरजात हमर कते अनकर कते छैओ खखरी बुझय हमरा जेना आ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :गज़ल
  January 12, 2018, 11:35 am
पडल  महंग  जे  कनी  हंसि  गेलहुँ  हमअोकर  प्रेमक  जाल मे फसि  गेलहु हम !!छै अोकर  प्रेम  पाकिस्तानी   सुरूङ सनबिच   बाटेमे जा मिता  धसि  गेलहुँ  हम !!मारि  मुस्कि अो नयन मटकौलकै जखनभऽ मुर्छित अोकर दिलमे बसि गेलहुँ हम !!पडलै प्रेमक अछार  बात पुछ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :गज़ल
  January 12, 2018, 1:40 am
एक अमीर आदमीक शादी बुद्धिमान स्त्री सँ भेल। अमीर हरसठि अप्पन पत्नी सँ तर्क आओर वाद-विवाद मेँ हारि जाएत छल। पत्नी कहलक की स्त्रिसब सेहो मर्द सँ कम नहि छथि.... तब अमीर आदमी कहैत छैक "हम दु वर्षक लेल परदेश चलि जाएत छी। अहाँ ई दु वर्ष में एक महल, बिजनेस मेँ आम्दानी आओर एक बच्चा ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कहानी
  January 11, 2018, 10:15 pm
  माई गई मनसा भेल चूईल्ह फुकना आब दिन कोना कऽ जेतैय गई माई गई मनसा भेल रोटी गिनना आब दिन कोना कऽ जेतैय गई  ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :
  January 11, 2018, 11:52 am
एक दिन ८० बर्खक बुढ़बा मरे-मरे पऽ रहे त उ अप्पन बुढ़िया के कहैत अछि ....!बुढ़बा :हे सुनै है कहलाऊँ हँ की, आब हम अप्पन जिनगी के अंतिम क्षणमें आबि'चुकल छी । जल्दी सँ हमर बेटा के बुलाबू तऽ....बुढ़िया :हँ बेटा एतहि हँ....बुढ़बा :पुतौह के बुलाबू....बुढ़िया :पुतौहो एतहि हँ....बुढ़बा :हमर बेटी के बुल...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :चुटकुला
  December 28, 2017, 10:25 pm
हम तऽ  मजबुर छी ते छि परदेश मेअहाँ रहु अपने देश मेहम तऽ ....अहाँ सँ दुर छी मोनो नऐ लगैएरहि-रहि सुर्ता घरे पऽ भगैएबिश्वास अछि निके सँ हेब आओर कि कहु सन्देश मेहम तऽ....जेना-तेना रह परैए रहै छीसब दुख तकलिफ सहै छीअब तऽ खनो खाइ परैए कंपनी के मेस मेहम तऽ .....कामेकाज मे ल...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  December 28, 2017, 8:24 pm
जानो सँ ज्यादा अहाँ पऽकरैत छी सजनी भरोसा !देब नई सजनी कहियोहमरा के धोखा !!घर द्वार छोडि देलौअहाँक लेलसमाज सँ लडि गेलौं !छोड़ब नई कखनोजिनगीक डगर मेंपाबिक मौका !!जान प्राण आ मान अहाँकमानिगेलौं हम अप्पन !भूलियो के भूलि नई जाएबदिलमें दऽकऽ टिसक झोका !!करेज चिरक द...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  December 27, 2017, 5:32 pm
जानो सँ ज्यादा अहाँ पऽकरैत छी सजनी भरोसा !देब नई सजनी कहियोहमरा के धोखा !!घर द्वार छोडि देलौअहाँक लेलसमाज सँ लडि गेलौं !छोड़ब नई कखनोजिनगीक डगर मेंपाबिक मौका !!जान प्राण आ मान अहाँकमानिगेलौं हम अप्पन !भूलियो के भूलि नई जाएबदिलमें दऽकऽ टिसक झोका !!करेज चिरक द...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  December 27, 2017, 5:32 pm
जानो सँ ज्यादा अहाँ पऽ करैत छी सजनी भरोसा !देब नई सजनी कहियो हमरा के धोखा !!घर द्वार छोडि देलौ अहाँक लेल  समाज सँ लडि गेलौं !छोड़ब नई कखनो जिनगीक डगर में पाबिक मौका !!जान प्राण आ मान अहाँक मानिगेलौं हम अप्पन !भूलियो के भूलि नई जाएब दिलमें दऽकऽ टिसक झोका !!करेज...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :गज़ल
  December 27, 2017, 5:32 pm
ओ मोनजे बताह भेल करयअहाँकेँ देखिते सोचितेएखनो बताह अछिअपन हृदय पर परलअहाँकेँ पदचापसँहम भजारति छी बाट घाटभरिसकजेना माय-बाप-भाइसँ नुका-चोरापहिनेबड़ पहिनेहमरासँ भेंट करय आयल करीआबहमरासँ नुका अपन माय-बाप-भाइसँत'नहि भेंट करय आबैत छीमुदा नहिअहाँ नहि अबैत छीहम बुझैत छ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  December 26, 2017, 2:08 pm
लड़की :मरि जेबै अहाँ बिनु ,जहिया छोड़लौं हमर संग - २जरि जेबै अहाँ बिनु ,जहिया दुनिया करे तंग मरि जेबै अहाँ बिनु ..... लड़का :छोड़ि देबै ई दुनिया ,अहिंक लेल सजनी  -२तोड़ि देबै ई समाजकऽ ,सब बन्धन सजनी स्वर्ग सँ सुन्दर घर बनेबै ,सजनी अहिंक लेल - २अलग दुनिया हम बसेबैसजनी अहिंक ल...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :Songs Lyrics
  December 26, 2017, 12:01 am
प्रवासी जिनगीक सात बर्षमेबदलि गेल छैक जिनगीक खिस्सापरिवर्तन भऽ गेल छैकजिनगीक सबटा एकाइखानपान, रहनसहनअतेकधरि किखनाइ, सुतनाइ आश्वास लेनाइधरि।मुदा,समय केर अतेक परिवर्तन संगेकिए नै बदलले तो ?किए नै बदललौ तोहर चरित्र ?विवाह केर अतेक दिवस उपरान्तोनित किए अबैत छे तोहमर...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  December 20, 2017, 12:26 am
रोवके दिन अछि, तैयो नोर बचाक रखने छी !धोका भेल जतेक, सब टा सजाक रखने छी !!आब बितल याद कैयो कऽ, हम कि कऽ सकैत छी !बस अपना मनमे एकटा घाउ जगाक रखने छी !!एकहि सँ अपना बनि धोका खैलौँ एह दुनियाँं मे !मुदा आब हम अपना मनके बुझाक रखने छी !!हम तऽ अपन जान लुटा देने रहि खास ओकरे पऽ !मुदा आ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :गज़ल
  November 1, 2017, 9:14 pm
हम अतेक बुझितोछवि : मैथिली कलाकार - सरिता साह अपन मनघबाह कर पऽ बिवस भगेलहुँ ।कि तोरा मनमे धोंइध छौजतऽपहिलेसँ कतोको मन घायल छैतोहर चेछरल घाउघायल सभहक चमरीसँमेटा जाए छैमुदामनमे पिजुवाईत रहै छै बर्षो बर्ष धै'रजँबैठ लगैत छै ओकरा सभहकघाउ पऽ खैंटीतखन चटसँ तों ओदारि दैत ...
मिथिलाञ्चल शायरी...
Tag :कविता
  October 30, 2017, 3:17 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3719) कुल पोस्ट (172817)