Hamarivani.com

शरारती बचपन

स्वतंत्र सद्गुरु -- लल्ला इसीलिए कश्मीरी लोग कहते थे , ''हम दो ही नाम जानते है ; एक अल्लाह और दुसरा लल्ला |'---------------------------------------------------------------------------------योग मार्ग स्त्री - पुरुष , दोनों के लिए समान रूप से उपलब्ध है | लेकिन न जाने क्यों स्त्रिया उस मार्ग पर बहुत कम चली | और जो चली भी उनमे पहुचने ...
शरारती बचपन...
Tag :
  November 30, 2018, 12:53 pm
सवाल वोटो का ?समाज केवल अधिकाधिक सम्पन्न एवं साधनहीन बनते वर्गो में ही नही बटा है , बल्कि वह चुनावी वोट लेकर शासन सत्ता पर चढने वाले राजनेताओं पार्टियों तथा उन्हें वोट देकर शासन सत्ता पर पहुचने वाले बहुसंख्यक जनता में भी बटा हुआ है | वोट लेने वाले राजनेताओं पार्टियों क...
शरारती बचपन...
Tag :
  November 21, 2018, 2:22 pm
किसानो का राजधानी --, मार्च - प्रदर्शन {क्या यह किसानो को उनकी समस्याओं मांगो के प्रति जागरूक , संगठित व आंदोलित कर सकेगा ? }किसानो की समस्याओं व मांगो को लेकर किये जाते रहे प्रचारों में आते रहे किसान मोर्चो आंदोलनों से सार्थक परिणाम निकलने की कोई आशा नजर नही आ रही है | इसक...
शरारती बचपन...
Tag :
  November 20, 2018, 1:28 pm
राफेल - बोफोर्स - का माजरा ?फ्रांस के राफेल विमान सौदे की चर्चा पिछले दो - तीन माह से लगातार चल रही है | इस सौदे के जरिये वर्तमान केन्द्रीय सरकार तथा प्रधानमन्त्री पर इस सौदे के भारतीय भागीदार रिलायंस डिफेन्स कम्पनी के मालिक अनिल अम्बानी को अधिकतम एवं अवाछ्नीय लाभ पहुचा...
शरारती बचपन...
Tag :
  November 15, 2018, 2:45 pm
क्रान्तितीर्थ काकोरी - भाग चारनौजवानों का असहयोग आन्दोलन से मोहभंग और क्रांतिकारी आन्दोलन में प्रवेश..................................................................................1915 में दक्षिण अफ्रिका से लौटने के बाद गांधी जी ने भारतवर्ष की राजनीति में भी हलचल पैदा करना शुरू कर दिया था |उधर 1 अगस्त 1920 को लोकमान्य ति...
शरारती बचपन...
Tag :
  November 14, 2018, 6:00 pm
क्रान्ति तीर्थ काकोरी -- भाग तीन व्यापक क्रान्ति आन्दोलन का सूत्रपात्र ..........................................................क्रान्ति के रथं विस्फोट के कुछ ही वर्ष बाद ऐसी परिस्थितिया बनी जिनसे क्रान्ति की उस श्रृखला का आरम्भ हुआ जिसकी कडिया देश में और देश से बाहर जुडती चली गयी | 1903 में इंग्लैण्ड की स...
शरारती बचपन...
Tag :
  November 11, 2018, 2:40 pm
काकोरी - क्रान्तितीर्थ भाग - दो भारत के क्रांतिकारी आन्दोलन की पृष्ठभूमि .................................................................भारत में अंग्रेजी राज का इतिहास उनके छल और बल की कथा है तो वह हमारी यानी भारत के लोगो की कमजोरी , चरित्र की गिरावट के साथ उनके त्याग , तपस्या और बहादुरी की दास्ताँ भी है | 1600 ई. ...
शरारती बचपन...
Tag :
  November 10, 2018, 1:53 pm
विकास की लपट में झुलसता हुआ विश्व भारत ऐसे भविष्य के लिए तैयार रहे जहाँ जीवन ही नही होगा यदि हम इस विश्व में फ़ैल रहे प्र्दुष्ण की बात करे तो औध्योगिक क्रान्ति का समय आधार रेखा माना जाता है | तब से आज तक धरती का तापमान 1 डिग्री सेल्सियस बढ़ चुका है जो महासागरो के स्तर को ऊँच...
शरारती बचपन...
Tag :
  November 7, 2018, 3:09 pm
''नोटा''पर मतदान : बौद्धिक विलासिता या आक्रोश विरोध का हथियार !!बिहार विधान सभा अध्यक्ष श्री विजय कुमार चौधरी का ''नोटा''के विरोध में लिखा लेख 29 अगस्त के हिंदी दैनिक 'हिन्दुस्तान 'में प्रकाशित हुआ था | लेखक ने सभी पार्टियों प्रत्याशियों को नकार कर 'नोटा'के चुनावी बटन पर मतदा...
शरारती बचपन...
Tag :
  October 13, 2018, 3:48 pm
आंकड़ो के खेल में भारत 6ठवें अमीर देशो में दिनाक 21 मई 2018 के समाचार पत्रों में अफ्रोशिया बैंक की ताजा रिपोर्ट प्रकाशित हुई है | इस रिपोर्ट में भारत का विश्व का 6 ठवां अमीर देश बताया गया है | इस रिपोर्ट में 62 हजार अरब डालर से भी अधिक दौलत वाला अमेरिका पहले नम्बर पर है | दूसरे , त...
शरारती बचपन...
Tag :
  September 17, 2018, 6:23 pm
वो अपने चेहरे में सौ आफ़ताब रखते हैंइसीलिये तो वो रुख़ पे नक़ाब रखते हैं ------------- हसरत जयपुरीआज है उनका पूण्य तिथिसलाम प्यार को , चाहत को , मेहरबानी को , सलाम जुल्फ को खुशबु की कामरानी को सलामसलाम गाल के तिलों को जो दिलो की मंजिल है ऐसी शायरी के अजीमो शख्सियत हसरत जयपुरी का ज...
शरारती बचपन...
Tag :
  September 17, 2018, 1:50 pm
शिक्षक दिवस ---ऐतिहासिक त्रासदी भारतीय शिक्षा व्यवस्था की भारतीय शिक्षा व्यवस्था की त्रासदी की चर्चा आमतौर पर ब्रिटिश इंडिया कम्पनी के शासन काल में लागू की गयी मैकाले की शिक्षा नीति के साथ की जाती है | एक हद तक यह बात ठीक भी है | कयोकी मैकाले और उनसे पहले इसाई मिशनरियों ...
शरारती बचपन...
Tag :
  September 5, 2018, 6:17 pm
बुनकरों का संग्राम ...............1777--------------- 1800{ अंग्रेजो ने भारत के कपडे उद्योग को बर्बाद किया था }क्या आज के दौर में देशी व विदेशी कम्पनियों के लूट ने ठीक वही काम नही किया है ? क्या वर्तमान समय में ये कम्पनिया लागत बढाने के साथ -- साथ बड़े उद्योगों के देशी व आयातित विदेशी मालो सामानों...
शरारती बचपन...
Tag :
  September 4, 2018, 3:47 pm
इंकलाबी आवाज:दुष्यंत कुमार सैंकड़ों नारे न देखघर अँधेरा देख तू आकाश के तारे न देख दुष्यंत का नाम भी जब भी आता है , तो उसके नाम के साथ एक इंकलाबी आवाज नजर आती है दुष्यंत ने अपनी पूरी जिन्दगी समाज के उन कुरीतियों और और दुष्यंत विद्रोह के लिए समर्पण कर दिया और उसके लिए वो त...
शरारती बचपन...
Tag :
  September 1, 2018, 8:26 pm
आम आदमी के लिए जी एस टी धोखा है ?30 जून 2018 को जी एस टी अर्थात वस्तु एवं सेवा कर को लागू हुए एक वर्ष का समय पूरा हो गया पहली जुलाई को जी एस टी की पहली वर्ष गाठं मनाई गयी | इस अवसर पर केंद्र सरकार एवं जी एस टी परिषद द्वारा इसकी सफलता का बखान करते हुए बताया गया कि इस वित्तीय वर्ष 2018-19 ...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 31, 2018, 6:49 pm
किसानो के लिए आंतक का पर्याय बने छुट्टा पशु --------------------------------------------------------------कृषि क्षेत्र सदियों से प्राकृतिक आपदा का शिकार बनता रहा है | कभी सुखा कभी अति वृष्टि कभी ओला व तूफानी हवाओं के साथ बाढ़ की त्रासदी का निवाला बनता रहा है | प्राकृतिक आपदाओं का भुक्त भोगी किसान भी इसे ईश्व...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 23, 2018, 3:20 pm
कृषि भूमि का बढ़ता विखंडन भूमिहीन या लगभग भूमिहीन खेतिहर मजदूरो दस्तकारो अत्यंत छोटे जोतो से लेकर एक हेक्टेयर से कम जोतो के सीमान्त किसानो तथा एक से दो हेक्टेयर भूमि की जोत वाले छोटे किसानो में भूमि के बढ़ते विखण्डन के साथ ही भूमिहीनता बढती जा रही है | उन्हें अधिकाधिक स...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 5, 2018, 3:28 pm
जब दर्द नही था सीने में तब ख़ाक मजा था जीने में -----------इन गीतों को सुर देने वाले किशोर दा का -------- ============== आज है जन्म दिन ===================सपनो के शहर ,हम बनायेगे घर पल भर में ये बनाके गिरा .............चल सपनो के शहर में तुझे ले जाता हूँ , तेरी राहो में मैं सितारे बिखराता हूँ ....जैसे गीतों से इस भौतिकत...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 4, 2018, 4:31 pm
आज है उनका जन्म दिन हरि ॐ --- मन तरपत हरि दर्शन को आज , मोरे तुम बिन बिग्रे सब काज -- शकील बदायूनी जीवन के दर्शन को अपने कागज के कैनवास पर लिपिबद्द करने वाले मशहूर शायर और गीतकार शकील बदायूनी का अपनी जिन्दगी के प्रति नजरिया उनके शायरी में झलकता है | शकील साहब अपने जीवन दर्शन क...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 3, 2018, 5:42 pm
ब्राह्मण -- भाग - पाँचननदों के बाद पिछले शुद्र ( नव ) ननदों के साथ मैंने राजनीति में साझा किया और सारे क्षत्रिय राजाओं का उच्छेद कर डाला | परन्तु मेरा यह सौभाग्य बहुत दिनों न चल सका | शुद्र के भावी उत्कर्ष के भय से अंग ने अंग पर प्रहार किया और चाणक्य -- रक्षित चन्द्रगुप्त ने नन...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 2, 2018, 2:19 pm
अतीत के झरोखे से आजमगढ़ -चकलेदारो का शासन - विकास का नया दौरमुगलकाल के गिरते हुए राज्य में चकलेदारी की नई प्रथा शुरू हुई जो पहले से प्रचलित कृषि कार्य में ''कूत'''अधिया 'प्रथा पर आधारित थी | कूत में रबी और खरीब की फसल में उभय पक्ष की सहमती से अन्न का निश्चित कोटा तय कर देता ''अध...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 1, 2018, 7:37 pm
दानबहादुर सिंह 'सूँड़ फैजाबादी''''आज जन्मदिन है उनका ''हरे - हरे नोटों में लगता प्यारा पेड़ खजूर का |बनिया तो बदनाम बेचारा किसे नही दरकार है ||हास्य का नाम लेते ही मेरे सामने प्रख्यात संचालक सूँड़ फैजाबादी का चेहरा सामने आ जाता था , मेरा सौभाग है कि मैंने उनके संचालनो में अनेक क...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 1, 2018, 5:40 pm
आज मीना जी का जन्म दिन है ------------------चालीस साल लम्बी दर्द की कविता खत्म ----------गुलजारमीना जी ने अपनी डायरी गुलजार को सौपी | गुलजार ने उनकी मृत्यु पर कहा था की चालीस साल लम्बी दर्द की कविता खत्म हुई |गुलजार ने मीना जी की भावनाओं की पूरी इज्जत की | उन्होंने उनकी नज्म , गजल, कला और शेर ...
शरारती बचपन...
Tag :
  August 1, 2018, 12:42 pm
ब्राह्मण - भाग - चार मैंने भी इसके विरुद्ध अपनी आवाज उठायी | 'धिग्बल क्षत्रियबल ब्रम्हतेजोबल बलम 'का सबल नाद किया | यजमान को निरस्त करने का सब प्रकार से प्रण किया परीक्षित ने मेरे गले में मरा नाग डाल मेरी समाधि का उपहास किया , उसे ढोंग कहा | मैंने भी सीमा प्रांत के उन नागो को ...
शरारती बचपन...
Tag :
  July 31, 2018, 4:03 pm
ब्राह्मण भाग - तीन मैंने अधिकतर उन दासो को अपने घरो में रखा , जो अपनी सभ्यता में पुरोहित रह चुके थे | उनमे झाड - फूंक की बड़ी मान्यता और प्रभुता थी | मैंने उनसे मन्त्र पूछ लिए | फिर मैंने उनका समुचित प्रयोग किया | मैंने उन्हें अपनी भाषा में लिख डाला और उनकी संहिता अथर्ववेद बना ...
शरारती बचपन...
Tag :
  July 30, 2018, 4:06 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3828) कुल पोस्ट (184361)