Hamarivani.com

deepti saxena

समय अपनी धुरी पे सदा ही घूमता है, समय की सार्थकता उसकी प्राथमिकता को शायद कोई भी नहीं पहचान सकता आप और हम भी नहीं, हर वर्ष हमें कुछ ना कुछ सीखा कर अवश्य ही जाता है, साथ लाता है बहुत सारी आशा और जोश और साथ लेकर जाता है बहुत सारी उपलब्धिया , यह वर्ष तो ” मोदी जी ” का था, जहा दे...
deepti saxena...
Tag :सोशल इश्यू
  December 26, 2014, 5:15 pm
अभी पिछले ही दिनों टीवी पर धर्म का फिर से आडम्बर दिखा, की हिन्दू धर्म में लोगो की फिर से वापसी हो रही है, हम उन्हें घर वापस लेकर आ रहे है, राम मंदिर पर ” अमित शाह ” का क्या कहना है? क्या बीजेपी हिन्दुवाद से ग्रसित है , बहुत तरीके के विचार परामर्श और हज़ारो की संख्या में वा...
deepti saxena...
Tag :सोशल इश्यू
  December 16, 2014, 11:40 am
या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संसिस्था, नमस्तस्यै , नमस्तस्यै ,नमस्तयै , नमो नमा नारी को शक्ति का रूप माना जाता है. इतिहास गवाह है की यदि नारी जीवनदायिनी है, तो जीवन पथ पर एक कुशल योद्धा भी है, जो हर कसौटी क...
deepti saxena...
Tag :जनरल डब्बा
  December 13, 2014, 7:52 pm
इतिहास हमेशा बलिदानो का होता है, मिटटी पर मर मिटने वालो का होता है, युद्ध के बाद हम राजा की जीत को उसके रणकौशल का स्मरण करते है, जैसे ” छापामार ” युद्ध कौशल , जिसके द्वारा मुगलो की सेना के दात खट्टे हो गए, हम सब ” शिवाजी ” ” लक्ष्मीबाई” का नाम बड़े ही सम्मान और गर्व क...
deepti saxena...
Tag :जनरल डब्बा
  December 11, 2014, 11:08 am
गंदगी की बिसात है, या मटमैला जाल, अज़गर और सांपो से भी ज्यादा है खतरनाक फितरत इनकी. कहते कुछ , करते कुछ , चाल क्या है इनकी? विपक्ष है सिर्फ दहाड़ने को. कलात्मकता है ही कहा, पार्लमेंट नहीं, जूतो और बकवास की है जमात . कभी ऍफ़, दी आई, तो कभी “अच्छे दिन ” पर ही है नयी बिसात. कुर्सी का ह...
deepti saxena...
Tag :जनरल डब्बा
  December 8, 2014, 8:06 pm
सरहद पर जो ना आये कभी बाज़ , बहरा है जो सदियो से , ना सुने जो कभी इंसांनियत की आवाज़……… नाम तो है पाक , पर हरकते है नापाक ? सदियों से खून से रंगी है वादियाँ , सुकून नहीं , प्यार नहीं सिर्फ है दहशत गरदो का राज….. सर्द रातो में, खिलखिलाती धूप में, सिर्फ है सिसकियो की आहट. थम जा क...
deepti saxena...
Tag :सोशल इश्यू
  December 7, 2014, 1:01 pm
देखा है मैंने मुखौटे के पीछे के भयानक चेहरे को, देखा है दम तोड़ती सांसो को, जीवन के इस मंज़र पर आज पाना ही है सुब कुछ, दौड़ को है जीतना चाहे परिणाम कुछ भी हो अपना , आगे बढ़ना है बस फिर चाहे कीमत हो कुछ भी , भोपाल गैस कांड आज भी है ताज़ा, पर है फिर भी प्रकृति के साथ खिलवाड़…… इराक जान...
deepti saxena...
Tag :जनरल डब्बा
  December 4, 2014, 6:59 pm
एक इंसान जब धरती पर जन्म लेता है, तो उसके साथ ही उसे कई अधिकार प्राप्त होते है, जैसे ज़िन्दग़ी ज़ीने का अधिकार , समानता का अधिकार , स्वतंत्रता का अधिकार , और भी ना जाने कितने अधिकार प्राप्त होते है, जो देश की सीमाओ के साथ बदलते है, जैसे अमेरिका और कनाडा अपने नागरिको को ६०% बेरोज़...
deepti saxena...
Tag :जनरल डब्बा
  December 4, 2014, 9:21 am
हर इंसान कुदरत का एक अनमोल हीरा है. अग्नि पुराण के अनुसार ” मनुष्य ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना है”, भगवान ने हर मानव को कोई न कोई हुनर ज़रूर दिया है, ज़रूरत है तो उसे पहचानने की, आज मैं आप सबको कुछ ऐसे ही इंसानो के बारे में जानकारी दूंगी जिनके पास कोई डिग्री नहीं थी, न ही कि...
deepti saxena...
Tag :जनरल डब्बा
  November 28, 2014, 8:53 pm
एक समय था जब प्यार को ज़ीने की वज़ह बताया जाता था.हमारी इस दुनिया में सोनी महिवाल, हीर रान्ज़ा, लैला मज़नू की मिसाले दी जाती है, लोग अपने प्यार को पाने के लिए ना जाने कैसी कैसी “अग्नि परीक्षा ” दिया करते है , सच्चा प्यार तो दो आत्माओ का मिलनं कहा जाता है, समय के साथ सब बदल जात...
deepti saxena...
Tag :लोकल टिकेट
  November 25, 2014, 6:57 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167929)