Hamarivani.com

MaiN Our Meri Tanhayii

....अश्कों की दास्तां है, यूँ ही दर्ज हुआ करती है ऐ 'हर्ष',वरना अहसासों से उठे सैलाब ज़िन्दगी को तोड़ देते हैं ।... --------------------–हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  August 3, 2017, 10:55 pm
..ज़ख्म दर ज़ख्म अपने अहसास इन शेरों में प्रवेश करता हूँबस दिल के कुछ टुकड़े हैं जो रोज़ किश्तों में पेश करता हूँ ।_______________________हर्ष महाजन ।...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  August 3, 2017, 10:51 pm
...इतनी उम्मस है फलक को तू हिलाने वाले,ये घटा बरसेगी कब....दुनियाँ चलाने वाले ।---------------------हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  July 20, 2017, 7:39 pm
...ये तोपें हिन्द की गर खुल गईं दुश्मन का क्या होगा,मिटेगा हर निशाँ दुनियाँ के नक्शे से बयाँ होगा ।जो घाटी से मुहब्बत की दुहाई दे रहे दुश्मन,उठेंगी अर्थियां इक-इक डगर दुश्मन फनां होगा ।अरुणाचल डोकलम की मार्फत गर छेड़ दिया हिन्द को,तो बीजिंग से शिंगाई तक यहां हिन्दोस्तां ...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  July 18, 2017, 8:02 pm
...तेरे इश्क में गर है जुनूं, मेरी इल्तजा कि खुदा से कर,तेरा बेवफाई का मन करे तो है ये दुआ तू अदा से कर |तुझे ज़िंदगी की किताब का कोई हर सफा क्यूँ सौंप दे,जो हिफाज्तें तू न कर सका उनको खुदा की दुआ से कर |---------------हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  July 15, 2017, 6:54 pm
...जब आँखों ही आँखों में, मिलते जवाब, कह दूँ कैसे नहीं होती उनसे मुलाक़ात |लोग कहते हैं मुझसे...खफा वो जनाब,उठता फिर भी नहीं मेरे लब पे सवाल |हर्ष महाजन ...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  May 29, 2017, 1:14 pm
“क्षण की अनुभूति को चुटीले शब्दों में पिरोकर परोसना ही क्षणिका होती है।"अर्थात् मन में उपजे एक क्षण के गहन भाव को अपने कम से कम शब्दों में कैद करना  ।...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :शिल्प ज्ञान
  February 10, 2017, 9:23 am
...दूरियां बढाने सेदिलों में,प्यार बढ़ता है ।मगरदूरियां !! इतनी भी न हों जाएँकि वोभूल ही जाए ।-- हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  February 9, 2017, 10:53 am
क्षणिका*******ऐ दिल !धड़को !!खूब धड़को !!!मगर ----इतना नहीं ?कि अपनीपराकाष्ठा ही भूल जाए ।--हर्ष महाजनपराकाष्ठा = चरम सीमा...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  February 9, 2017, 9:44 am
कितने फख्र से लिखा उसने....100 साल पुरानीपड़्पूंझे की दूकान ।अपनी तरक्कीदो लफ़्ज़ों में बयाँ कर गया वो ।***हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  January 7, 2017, 7:34 pm
...आँखों के समंदर में जो ख़्वाबों की है कश्तीले जाए न भर-भर के वो अरमानों की बस्ती ।अफ़साने जो दिल में हैं न अश्क़ों को ले जाएँये सोच के बचपन की तड़प भूले वो मस्ती ।--------------हर्ष महाजन221 1221 1221 112...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  January 2, 2017, 12:42 pm
...ग़लतफहमी इतनी कि वफाओं में भी गम निकले,तूफ़ां उठा ऐसा कि पुराने खत भी सभी नम निकले ।हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  December 25, 2016, 5:31 pm
...रिश्तों में अब अहसासों का,ये कैसा दौर चल निकला,किसी ने.......संवारने में ज़िन्दगी लगा दी,कहीं पिटारी में...नफरतों का बम निकला । ------हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  December 25, 2016, 5:29 pm
...कितनी दफा, __अर्ज़ी लगायी है उसके दरबार में, __लगता है ! असर नहीं आया,हमारी दुआओं में अभी ।___हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  December 20, 2016, 12:47 pm
भूला नहीं हूँ *********उद्विग्न हूँ, लाचार हूँ ।क्या कहूँ,धरा पे खड़ा,मगर बेकार हूँ ।सुबह का वक़्त ,जाने कितनी रेलगाड़ियांपटरी पर गुजर गयीं , बरबस ही,बहुत सी यादें,दिलो दिमाग में उभर गयीं ।भूला नहीं हूँ----अध्यापिका की भांति,तेरा....दीवारों पे लिखना,घंटो,.....अकेले,लक्कड़ की बनी,अलमार...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  December 20, 2016, 12:40 pm
...काले धन की क्या है कीमत.....रखते जो शौचालयों में,समझे थे धनवान मगर क्या सीख लिया विधालयों में |नज़र पड़ी जब मोदी की तो.......कीमत पड़ गयी भारी,दो और दो जो चार करे थे........रह गये सब ख्यालों में |हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  December 12, 2016, 6:05 pm
काला-धनधूम मची है गलियारों में संसद ने क्या अब ठानी है,शोर मचा नोट-बंदी पे ज्यूँ अपनी बात मनवानी है |काले धन के हितकारी जब उठ-उठ तंज बदलने लगे,अपनी कला दिखा मोदी जी इक-इक ‘पर’ कुचलने लगे |क्लेशी बोल रहा दिल्ली में, लो वापिस, मोदी खंज़र को, कलकत्ता, यू० पी० भी गुर्राया, पप्पू स...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  December 12, 2016, 2:35 pm
एक मुक्तक ...लोग जाने शहर में....किस तरह जी रहे हैं,इन हवाओं में शामिल ज़हर तक पी रहे हैं |गाँव जब से उठे हैं....शहर की चाल लेकर, तब से चादर ग़मों की....शहरिये सी रहे हैं | हर्ष महाजन 'हर्ष'...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :मुक्तक
  August 31, 2016, 5:23 pm
कलयुगी राखीभरे काँटों में खिलते फूलों को भी तोड़ना सीखा,है भैया का ये रिश्ता बहिनों ने तो जोड़ना सीखा |हिफाज़त ज़िन्दगी भर की लिया करते थे कसमें वो,मगर कलयुग में भैया ने ये रिश्ता तोडना सीखा |मुहब्बत से वो ज़ख्मों पर जो मरहम वो लगाती थी,मगर नोटों से भैया ने इसे अब मोड़ना सीखा |क...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  August 20, 2016, 12:22 pm
...यूँ किस्से अपने लिक्खे खूब उसने खुद सफीनों पर,मेरी इच्छा है वो गजलों में सब तब्दील हो जाएँ |हर्ष महाजन1222-1222-1222-1222...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  August 10, 2016, 9:43 pm
.....कब तलक निभाओगे ये दिखावटी रिश्ते,कब तलक बताओ तुम गफलत में रहोगे ।----------------हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  July 23, 2016, 7:19 pm
....गर्द ओ गुबार इतना है मुझमें कि कह न सका,किस्से और भी याद आये उनकेे जाने के बाद ।-----------------हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  July 17, 2016, 10:47 am
...रत्ती सा भी रब्त नहीं रहा उन दोनों में शायद,उदास हो गया है मौसम उनके जाने के बाद ।----------------हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  July 17, 2016, 10:28 am
...तेरे मसलों में न जाने किस जगह मंजिल मिले,इतना भी अनमोल न रखना दिल में बस रंजिश मिले |कौन जाने किस सफ़र में कोई कब आकर मिले,मुझको लफ़्ज़ों में यूँ रखना राग में बंदिश मिले |हर्ष महाजनबहरे रमल मुसम्मन महफूज़ 2122-2122-2122-212 *आपकी नज़रों ने समझा प्यार के काबिल मुझे...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  June 20, 2016, 5:10 pm
...तेरी हर अदा, हर जनून में मुझे बेहद असर लगता है,मगर ऐ दोस्त मुझे बस तेरी रुकस्ती से डर लगता है ।हर्ष महाजन...
MaiN Our Meri Tanhayii...
Tag :
  June 13, 2016, 9:50 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167971)