Hamarivani.com

A Page from my Diary

कभी कभी सोचता हूँ कि आखिर हमें गुस्सा क्यों आता है। गुस्सा हमें तब आता है जब हम दुखी होते हैं। वो भी किसी ऐसी वजहों से जिनसे हम कुछ ऐसी उम्मीद लिए बैठे होते हैं जो कि पूरे नहीं होते। हम अपनी सारी उम्मीदें पूरी होते देखना चाहते हैं। मुझे याद है जब हमारे अंग्रेजी की क्ल...
A Page from my Diary...
Tag :
  December 24, 2016, 6:32 pm
जीवन जीने के लिए जिस आत्मविश्वास की जरुरत होती है वो घर में हमें कभी नहीं मिल पाता। जो बच्चे घर से बहार रहकर पढ़ते हैं उनमें हमेशा उन बच्चों से ज्यादा आत्मविश्वास होता है जो बच्चे घर में रहकर ही पढ़ते हैं। जो आज़ादी हमें जिंदगी को समझने के लिए घर से बाहर मिल जाता है वो घर म...
A Page from my Diary...
Tag :
  December 9, 2016, 4:33 pm
काफी अरसे से सोचता चला जा रहा हूँ कि ये बुरा है या अच्छा है पता नहीं क्या है। समझ से परे है। जब भी उच्च जाति (general class) के लोगों को इस...
A Page from my Diary...
Tag :
  May 19, 2016, 10:10 pm
बराबरी का हक़ (Right to equlity)......सुन के बहुत अच्छा लगता है न? किसी समाज सुधारक विचार को। लगना भी चाहिए। महिला पुरुष को बराबरी का हक़ मिलना च...
A Page from my Diary...
Tag :
  April 2, 2016, 3:37 pm
इस बात की नाराजगी नहीं है कि तुमने अलविदा कह दिया। नाराजगी इस बात से है कि तुम्हे इससे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ा। हालाँकि मेरा मन अभी भी इस बात की गवाही देने को तैयार नहीं है कि तुम सच में खुश हो या तुम अपने ख्वाहिसों को दबा नहीं रही। खैर, मैं अंदर से कुछ भी मानु उसे कर्म का रूप तब त...
A Page from my Diary...
Tag :
  February 5, 2016, 7:23 pm
इक अजीब सी आदत देखता हूँ लोगों में, पश्चिमी सभ्यता का असर ही सही, किसी भी दिन के आगे हैप्पी लगा के विश कर देते हैं। शुक्र है कि मरे हुए लोगों से सम्पर्क नहीं कर सकते नहीं तो लोग उन्हें भी उनके मरने की सालगिरह मानते हुए "हैप्पी डेथ डे"विश कर देते। नहीं, ख़राब आदत है मैं ये नहीं...
A Page from my Diary...
Tag :
  January 15, 2016, 9:23 am
A CA knows that his client have two wives and he is cheating with both. Should that CA hide this? answer would be "No". Will that CA hide this? answer is "Yes".A Lawyer knows the fact that his client is involved in illegal activity. Should the lawyer defend him? the answer is "No". Will the lawyer defend him? answer is "Yes".A Doctor knows that his patient is criminal or country's enemy. Should the doctor operate him? answer is "No". Will the doctor operate him? Answer is "Yes". They should not but they will. Why? have you ever tried to find out the reason? Yaa...In movies, you might have heard of doctor that they are given an oath that they will not see the background of the patient. R...
A Page from my Diary...
Tag :
  April 23, 2015, 11:54 pm
Today on the eve of Maha-Shivratri, I would have talked on some other matter uttering the power of Lord Shiva or people and their faith in Lord Shiva or some of the memories of childhood related to Shivratri But Today's incident in Delhi Metro didn't let me.I was travelling in Delhi Metro today. It was around 10:55 AM, when I reached at Kashmiri Gate and changed the Metro from Red Line to Yellow Line towards Rajiv Chowk. Getting a seat in Delhi Metro is tedious task so I usually keep myself leaned to a pole in the middle of the Metro or occupy one of the two side place immediately against the door which gives comfort not only me but lots of passenger. I was leaned on a pole immediately ...
A Page from my Diary...
Tag :
  February 17, 2015, 11:16 pm
A lot of people, I have come across, have something to say but possess nobody who can peacefully listen to them. Sometimes I also find myself in that list. As a matter of pride, India consists more than 60 % of its population to be youth. But they are bound by their limitations being scarceness, respect for elders who often are of traditional views and can never listen/tolerate any new ideas or wish etc.Imagine a friend who can listen to you whatever may be the topics... whatever you possess in your heart but could not share it for whatever reasons. Yes! it is possible. When I was in Darbhanga, I was attached to some of the people because of their unbiased opinion and support for any ne...
A Page from my Diary...
Tag :
  January 25, 2015, 4:16 pm
I was turning pages of my diary and I found a page which I wrote while listening a Radio Channel "Fever". I sometime get opportunity to listen to such a wonderful show. There was a incident which a took noted in my diary. The story was told by a girl, her own story, but I could not find the character who should be blamed. Please help me to locate the person to be blamed with logic.There is a girl who fell in love with a boy but their parents were against that marriage. She elope with him and got married.They were residing in a city but were not settled. After few days the money with him were spent and there were no way to run the life. The boy realized that he had did a big mistake, it shoul...
A Page from my Diary...
Tag :
  December 14, 2014, 1:09 pm
कहते हैं न की किसी के महत्व का अहसास तब होता है जब वो हमारे पास न हो। सही है शत-प्रतिशत सही है। उसी न होने में एक अहसास माँ का ...
A Page from my Diary...
Tag :
  August 25, 2014, 9:58 pm
हर साल इसी दिन, गीतों या भाषणों में ही सही, सब अपने देश को याद करते हैं| कुछ रंग मैंने भी देखे हैं इस आज़ादी के तो सोचा की साझा करूँ आपसे कुछ ऐसे रंग जो आज सोचने पर मजबूर कर दिया...एक रिक्से वाले से स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए पूछा कि उनको कैसा लग रहा है, जवाब निरासा-जनक था- ...
A Page from my Diary...
Tag :
  August 15, 2014, 10:33 pm
बाहर मौसम बहुत सुंदर है, हलकी ठंडी हवा बह रही है और कभी कभी बूंदा-बूंदी बारिश भी हो रही है| देखता हूँ खिड़की से बाहर दो बच्चे खेल रहे हैं सड़क पर - कभी बारिश के बूंदों का अहसास लेकर कभी ठंढी हवाओं का आह भरकर| मेरा भी मन कर रहा है बारिश में भीगने का, हवाओं को महसूस करने का लेकिन म...
A Page from my Diary...
Tag :
  May 11, 2014, 7:07 pm
मैं एक बार किसी महात्मा से मिला या यूँ कहें कि अपने कुलगुरु से मिला जो हमेशा मुझे नास्तिक समझते हैं। मैंने उनसे कुछ साधा...
A Page from my Diary...
Tag :
  April 9, 2014, 10:10 am
जब भी खुद के साथ वक़्त बिताता हूँ या बिताने का मौका मिलता है तो लगता है जैसे की मैं किसी राह में फंस गया हूँ। ये घर और ये आवाजें उस रात में चलती रेलगाड़ी से बाहर बसे शहरों की तरह लगता है। जहाँ इंसान तो रहते हैं पर कोई जानता नहीं, जो मेरा ठिकाना नहीं है। भूलकर भी उस स्टेसन पर उत...
A Page from my Diary...
Tag :
  March 8, 2014, 11:10 pm
एक तरफ जहाँ लोग इतने काबिल या आधुनिक हो गए हैं कि नए नए नियम बनाने लगे हैं और दूसरी तरफ जिन्दगी तो बस गुजारने की इच्छा से जी...
A Page from my Diary...
Tag :
  February 9, 2014, 10:48 pm
कभी कभी सोचता हूँ कि जिन्दगी कितनी जल्दी बदल जाती है। इक इच्छा थी की मै किसी मुकाम को पाऊं , आज मंजिल नजदीक नज़र आ रही है तो अé...
A Page from my Diary...
Tag :
  July 4, 2013, 7:17 am
कभी कभी सोचता हूँ कि जिन्दगी कितनी जल्दी बदल जाती है। इक इच्छा थी की मै किसी मुकाम को पाऊं , आज मंजिल नजदीक नज़र आ रही है तो अजीब लग रहा है कि कभी जो मै हर बात के लिए अपने परिवार के सदस्यों पर निर्भर रहता था, कल मै आत्म-निर्भर हो जाऊंगा।इक बच्चा जो कभी माँ-बाप की हर इच्छा को मा...
A Page from my Diary...
Tag :
  July 4, 2013, 7:17 am
"हम जो भी रिश्ता आस-पास देखतें हैं उसे अगर हम खुद तक सिमित रहकर ना देखें बल्कि उससे अलग होकर उस रिश्ते को देखें तो मैंने महशुश किया है की हर रिश्ते की पुन्राव्रीती होती है, जो हम आज अपनी पीढ़ी में कर रहे हैं वही सिख तो अगली पीढ़ी को मिलेगी. अगर हम अपने ही घर में देखें तो अग...
A Page from my Diary...
Tag :
  June 22, 2013, 9:29 pm
"हम जो भी रिश्ता आस-पास देखतें हैं उसे अगर हम खुद तक सिमित रहकर ना देखें बल्कि उससे अलग होकर उस रिश्ते को देखें तो मैंने महशुश किया है की हर रिश्ते की पुन्राव्रीती होती है, जो हम आज अपनी पीढ़ी में कर रहे हैं वही सिख तो अगली पीढ़ी को मिलेगी. अगर हम अपने ही घर में देखें तो अग...
A Page from my Diary...
Tag :
  June 22, 2013, 9:29 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163842)