Hamarivani.com

उलूक टाइम्स

फिर हुवा हुवा का शोर हुवा इधर से गजब का जोर हुवा उधर से जबरजोर हुवा हुवा हुवा सुनते ही मिलने लगी आवाजें हुवा हुवा की हुवा हुवा में हुवा हुवा से माहौल सारा जैसे सराबोर हुवा चुटकुला एक एक बार फिर अखबार में खबर का घूँघट ओढ़ दिखा आज छपा हुवा खबरों को उसके अगल बगल की पता ही नहीं ...
उलूक टाइम्स...
Tag :खबर
  February 24, 2019, 6:31 pm
फिर से आ गया लिखने एक और बकवास चल बोल अब क्या रह गया है जिसे कहना है फरवरी का महीना है वेतन नहीं निकाल पायेगा मार्च के महीने में लग जा भिड़ाने में हिसाब किताब आयकर का बाकी होनी को तो अपनी जगह उसी तरह से होना है जैसा ऊपर वाले ने करना है प्रश्नों को डाल दे कबर में किसी फिर कभी ख...
उलूक टाइम्स...
Tag :कटी
  February 18, 2019, 10:20 pm
तेज दौड़ते रहने से दिखायी नहीं देती है प्रकृति रुक लेना जरूरी होता है कहना अपनी बात और लिखना उसी को मजबूरी हो सकता है उसके लिये जो बोलना और लिखना सीखते सीखते भटक जाता है कवि और साहित्यकारों के बीच में रहने से भ्रम हो ही जाता है सामान्य लोग और मानसिक रूप से बीमार साथ में चल...
उलूक टाइम्स...
Tag :चूहे
  February 16, 2019, 8:12 pm
विश्व के एक विद्यालय में जल्द ही संघ का चुनाव होने जा रहा है मजे की बात है हर लड़ने वाला इस चुनाव में अपना झंडा छुपा रहा है बुद्धिजीवी बड़ी बात है किसी एक बुद्धिजीवी को वोट देने जा रहा है मुद्दे किसी के पास हैं और क्या हैं पूछने पर कोई कुछ नहीं बता रहा है विश्व का यही एक विद्...
उलूक टाइम्स...
Tag :चुनाव
  February 11, 2019, 8:38 pm
(उलूक को बहुत दूर तक दिखायी नहीं  देता है । कृपया दूर तक फैले देश से जोड़ कर मूल्याँकन करने का कष्ट ना करें। जो  लोग  पूजा में व्यस्त हैं  अपनी आँखे बंद रखें। बैकुण्ठी  के फिर से अवतरित होने के लिये मंत्र जपने शुरु करें)कई दिन हो गये जमा करते करते कूड़ा फैलाने की हिम्...
उलूक टाइम्स...
Tag :खबर
  January 30, 2019, 9:00 pm
गिरोह पर्दे के पीछे से जल्दी ही कुछ उल्टा करने जा रहा है सामने से हो रही अच्छी सीधी बातों से समझ आ रहा है अखबार सरदार की भेजी खबर को सजा कर दिखा रहा हैजरूरत मंदों के लिये संवेदना देख कर सब गीला हो जा रहा है शहर में कुछ नया अजूबा होने के आसार मौसम विभाग सुना रहा है आंकड़े...
उलूक टाइम्स...
Tag :अनार
  January 17, 2019, 8:21 pm
दैनिक हिन्दुस्तान 15/01/2019नये साल जरूर फिर से कोई बबाल होगाबिकेगा एक बार औरबिका घर अलग धमाल होगा उस घर से उठाया था घर कभी सोचे बिना कोई सवाल होगाइस घर में मिलाया था सोच कर कल सब अपना ही माल होगाघर बेच कर बना घर का मालिक कितना निहाल होगा कफनतीसरे साल बदल देने वाला कितना खुशहा...
उलूक टाइम्स...
Tag :घर
  January 15, 2019, 7:14 pm
ना खबर पर कुछ लिखना है ना अखबार पर कुछ कहना है सोच बैठा एक दिनलिखना लिखाना ही बन्द हो गया दस साल से करते हुऐ बकवास पर बकवास समझ बैठा सब तो लिख दिया होगा सोचना ही सोच पर ही एक बड़ा पैबन्द हो गया हर दूसरे के चाहने और उसके साथ हाथ आकर बटाने उसके हिसाब से अपना सारा हिसाब एक किताब...
उलूक टाइम्स...
Tag :झण्ड
  January 13, 2019, 7:54 pm
तीन अक्षर शब्द शिशिर दिशाहीन की कोशिश लिखने की दिशायें धवल उज्जवल प्रयास लिखे में दिखाने की कड़ाके की ठण्ड सिकुड़ती सोच शब्द वाक्यों पर बनाता हुआ एक बोझ कम होता शब्दों का तापमान दिखती कण कण में सोच ओढ़े सुनहली ओस वसुन्धरा अम्बर होते एकाकार आदमी के मौसम होने की जैसे हो उन...
उलूक टाइम्स...
Tag :अलाव
  December 15, 2018, 6:56 pm
स्वतंत्र एक शब्द है स्वतंत्रता एक ख्वाब है गुलाम और गुलामी आम है और खास है नकारते रहिये हो गये तो सीढ़ी आपके पास है नहीं हो पाये अगर का मतलब साँप कहीं ना कहीं है और बहुत नजदीक है और आसपास है साँप और सीढ़ी के बीच एक रिश्ता है इसीलिये खेला भी जाता है हर गुलाम अपने नीचे बस ग...
उलूक टाइम्स...
Tag :गुलामी
  December 13, 2018, 8:41 pm
कुछ चूहे सुना जा रहा हैनाच रहे हैंकुछ पता चल रहा हैभाग रहे हैंकिसी जलजले का डर है या किसी साँप की हलचल कहीं आसपास रेंगने की भाँप रहे हैंसफेद चूहों को देखा है खोदते हुऐ एक मकानकी जड़ों को कल तकआज काले उधर की तरफ झाँक रहे हैंबहुत हड़बड़ी के साथ एक दूसरे के ऊपर चढ़ कूद उछल कर शोर ...
उलूक टाइम्स...
Tag :चूहे
  December 11, 2018, 9:47 pm
नियमावली जरूर छापिये  मोती जैसे अक्षरों में छपे हुऐ पन्ने घर घर में हर एक को जा जा कर बाँटियेकरा क्या है किस ने आकर किससे और क्यों पूछना है कुछ अपने जैसों के साथ मिल कर  नियमों की धज्जियाँ टाँकिये मूँछों हों तो ताव दीजिये नहीं हों तो खाँचे में मूँछ के अँगुलिया फेर घुम...
उलूक टाइम्स...
Tag :कुलपति
  December 9, 2018, 8:13 pm
फिर एक साल निकल लिया संकेत होनी के होने के नजर आना शुरु हुए अपनी ही सोच में खुद की सोच का ही कुछ गीला हिस्सा शायद फिर से आग पकड़ लिया धुआँ नहीं दिखा बस जलने की खुश्बू आती हुयी जैसा कुछ महसूस हुआ निकल लिया उसी ओर को सोचता हुआ देखने के लिये अगर हुआ है कुछ तो क्या हुआ लेकिन इस सब...
उलूक टाइम्स...
Tag :कसम
  December 7, 2018, 10:39 pm
कपड़े सोच के उतार देने के बाद दौड़ने वाले की सोच में केवल और केवल यही होता होगाअब इसके बाद कौन क्या कर लेगा इससे ज्यादा सोच में उसके होना भी नहीं होता होगाकपड़े सोच के उतरे होते हैं कौन देखता है ना सोच पाता है ऐसा भी जलवा पहने हुऐ कपड़ों का होता होगाकोशिश जारी रखता है उतारने ...
उलूक टाइम्स...
Tag :कपड़े
  December 5, 2018, 10:04 pm
गिरोह बनाना अलग बात है गिरोह बनाते बनाते एक गिरोह हो जाना अलग बात है पिट्सबर्ग़ के कुत्तों का कुछ दिनों तक खबरों में रहना अलग बात है पैंसेल्विनिया के सियारों का सब कुछ हो जाना समय बदलने के साथ अलग बात है गिरोह में शामिल होकर भी कुछ अलग नजर आना अलग बात है गिरोहबाज के साथ रह...
उलूक टाइम्स...
Tag :गिरोह
  December 2, 2018, 9:59 pm
समर्पित समाज के लिये समर्पित करता रहता है समय बे समय अपना सब कुछ अर्पितछोटे से गाँव से शुरु किया सफर शहर का हो गया कब रहा हमेशा इस सब से बेखबरनाम बदलता चलता चला गया  स्कूल से कालेज कालेज से विद्यालय  विद्यालय से विश्वविद्यालय हो गया अचानक सफर के बीच का एक मुसाफिरआई...
उलूक टाइम्स...
Tag :विश्वविद्यालय
  December 1, 2018, 8:29 pm
भौंकने की आवाजें कुछ एक तरह की कुछ अलग तरह की अलग अलग तरह की पूँछें अलग अलग तरह का उनका लहराना कुछ पूँछे झबरीली कुछ पतली पलती कुछ काट दी गयी पूँछे कुछ कुत्तों का कुछ जानी पहचानी गलियों में नजर आना कुत्ते काटने वाले कुत्ते खाली भौंकने वाले कुत्ते खाली कुत्ते कुत्ते बे...
उलूक टाइम्स...
Tag :कुत्ता
  November 29, 2018, 9:31 pm
ये अलगबात है हर तरफ तमाशा नजर आता है लम्हा-ए-सुकूँ सुकूँ ख़याल में फिर भी आ जाता है जिसे आता है उलझाना सुकूँ को उलझा कर ले जाता है सुकूँ-मआब है सुकूँ उलझने के बाद भी आ ही जाता है शराब आमेजिश-ए-सुकूँ बनाने में माहिर है कई तरह की बनाता है पिलाने से पहले सोच का रंग मगर पूछना शुरु...
उलूक टाइम्स...
Tag :बाजार-ए-सुकूँ
  November 25, 2018, 7:47 pm
शेर लिखते होंगे शेर सुनते होंगे शेर समझते भी होंगे शेर हैं कहने नहीं जा रहा हूँ एक शेर जंगल का देख कर लिख देने से शेर नहीं बन जाते हैं कुछ लम्बी शहरी छिपकलियाँ हैं जो आज लिखने जा रहा हूँ भ्रम रहता है कई सालों तक रहता है कि अपनी दुकान का एक विज्ञापन खुद ही बन कर आ रहा हूँ लोग...
उलूक टाइम्स...
Tag :कब्र
  November 22, 2018, 7:24 pm
तैयार हो जाइये खबर आई है अलीबाबा की मेहनत रंग लायी है गुफा खुल गयी है अशर्फियाँ दिखने लगी हैं मतलब मिल गयी हैं चालीस चोरों का पता नहीं चल पा रहा है खबर केचलने के बाद से ही उनका सरदार भी मुँह छुपा रहा है जल्दी ही तराजुओं की दुकानें खुलना शुरु हो जायेंगी तली में गोंद लगाने ...
उलूक टाइम्स...
Tag :अशर्फी
  November 20, 2018, 10:50 pm
हर गधे के पास एक कहानी होती है 'उलूक'कल फिर कविता से मुलाकात हो पड़ी बीच रास्ते में पता नहीं रास्ता रोककर ना जाने क्यों हो रही थी खड़ी हमेशा ही कविता से बचना चाहता हूँ फिर भी पता नहीं कहाँ जा कर किस खराब घड़ी में उसी के आगे पीछे अगल बगल कहीं अपने को उलझन में खड़ा पाता हूँ समझाते ...
उलूक टाइम्स...
Tag :उलूक
  November 13, 2018, 6:02 pm
कुछ रंगीन लिखना ज्यादा ठीक होता है शायद रंगहीन कुछ लिखने से रंग जो होते ही नहीं हैं कहीं भी वो रंग जो बन भीनहीं पाते हैं कुछ रंगों को आपस में मिला देने से किसलिये लिखने ?आभास होना जरूरी है आभासी भी हो तब भी तितलियाँ मधुमक्खियाँ भटक जाती हैं या ऐसा प्रतीत होता है कागज के फ...
उलूक टाइम्स...
Tag :काला
  November 10, 2018, 10:12 pm
फेसबुक पर की  गयी किसी की एक टिप्पणी “ मन्दिर के स्थान पर अगर कोई अस्पताल की मांग करता है तो वह श्री राम की कृपा से जल्द ही अस्पताल मे भर्ती होकर इसका लाभ ले लेगा”  परकभी कभी जानवरों के स्वभाव से भी बहुत कुछ सीखा जाता हैअच्छा नहीं होता है अपनी सीमा से  बाहर जाकर ज...
उलूक टाइम्स...
Tag :दूत
  November 8, 2018, 7:57 pm
दिग्विजय जी के 'उलूक'कीपिछली बकबक पर पूछे गये प्रश्न का ‘उलूकोत्तर’आभारी रहता है      हमेशा ‘उलूक’ आप का आप आ ही जाते हैं बकवास है मानते भी हैं फिर भी उकसाने को कवि का तमगा टिप्पणी में चिपका ही जाते हैं खुद ही प्रश्नों में उलझे हुऐ एक प्रश्न के सर पर एक फूल प्रश्न ...
उलूक टाइम्स...
Tag :उलूक
  November 5, 2018, 8:11 pm
कैसे बनती होगी एक कविता रस छन्द और अलंकार से सराबोर  कैसे सोचता होगा एक कवि क्या देखता होगा और किस दिशा की ओर कौन पढ़ लेता होगा आँखें कवि की खोल मन में अपने हो लेता होगा उतना ही विभोर इन्द्रियाँ बस में होती होंगी किस की इतनी अवशोषित कर लेता होगा जो केवल संगीत छान कर सारे ...
उलूक टाइम्स...
Tag :कवि
  November 4, 2018, 11:22 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3854) कुल पोस्ट (187317)