Hamarivani.com

काव्य वाणी

आँखों ने आँखों से बाते  कर ली । लबो ने लबो से मुलाकाते कर ली  ॥ एक यही कमी थी मेरे जीवन में । तुमने पूरी जीसे गुनगुनाते कर ली॥ © Shkehar Kumawat ...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :
  June 10, 2013, 8:52 am
आँखों ने आँखों से बात कर ली । लबो ने लबो से मुलाकर कर ली  ॥ एक यही कमी थी मेरे जीवन में । तुमने पूरी जीसे गुनगुनाते कर ली॥ © Shkehar Kumawat ...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :
  June 8, 2013, 5:25 pm
मुझे यकीन है की तेरा आइना टूट गया होगा . तुझे भी चहरे का नकाब दिख गया होगा. तेरी तो निगाहे ही कुछ ऐसी है झालिम. की आइना खुद - ब - ख़ुद टूट गया होगा. © Shkehar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :HOSLA
  May 3, 2013, 1:12 am
 ये मोहब्बत की क्या खूब इबादत है |फरिस्ते भी दुआ मांगे ऐसी जियारत है ||गजब का करिश्मा है उनकी कारीगरी में |जो हर शक्श कहे @ " वाह क्या ताज है "||© Shkehar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak .pyar
  April 25, 2013, 7:42 pm
एक खता हमसे नहीं होती । एक खता उनसे नहीं होती ॥ न जाने कोनसी खता हुई हमसे । जो ये खता फिर से नहीं होती  ॥  © Shkehar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :mohabbat
  April 22, 2013, 7:20 pm
फासला तुम्हे भूलने नहीं देता.खुली आँखों में खवाब दिखा देता.ये कैसी कसम दिलाई है तुमने.जो जीकर भी जीने नहीं देता ....© Shkehar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :dard
  March 22, 2013, 10:14 pm
मोहब्बत भी गजब की शय होती है..कभी दर्द तो कभी दवा होती है .गर हो जाये ये हसीन खता किसी से ..तो खता भी खुदा की इबादत होती है ...... © Shkehar Kumawat ...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :mohabbat
  March 21, 2013, 10:01 pm
तड़फोगे तुम भी उतना जितना तड़फाओगे |हाले दिल तमाम खुद ब खुद जान जाओंगे ||गर है कोई शिकवा मुझसे तो दूर करलें |वरना एक रोज तुम बहुत पछताओगे ||© Shekhar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :DIL KI BAAT
  February 16, 2013, 7:41 pm
बंद आंखो के सपने कहा साकार होते |बातो से रास्ते कहा आसान होते || वतन  की मांग है जागो-उढो-चलो | क्योकी तबदिली बुलन्द होसलो से होते || © Shekhar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :INDIA
  January 25, 2013, 10:08 pm
कोई धरतीको, तोकोईआसमाकोतरसता |बे-दर्द-दुनियामेंकोईअपनोंकोतरसता ||गरइतनाआसाहोताजीनाइसदुनियामें |तोफिरक्यूँकोईबेदर्दमोतकोतरसता ||"शेखरकुमावत"...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  January 28, 2012, 10:30 pm
कोईजमी तोकोईआसमां कोतरसता |बेरहम दुनियामेंकोईअपनोंकोतरसता ||गरइतनाआसांहोताजीनाइसदुनियामें |फिरक्यूँकोईबेदर्दमौतकोतरसता ||"शेखरकुमावत"...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  January 28, 2012, 10:30 pm
२०११ रा अणि आखरी दन में राजस्थानी विषय माय M.A. (पूर्वार्द्ध ) रो पेलो पर्चो दियो (आधुनिक राजस्थानी गघ साहित्य MARJ 01 ) अन अपने मन मे गणों ही चौखो लाग रियों है | जानेक मारी मायड माटी रो करज उतारवन वास्ते मे पेलो कदम उठायो अन अणि अनुभव सु मारो मन और भी तगडो वैंग्यो माटी री अणि भाष...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :आप रे मन री बात
  December 31, 2011, 6:20 pm
निकलगएकुछलोगतिरंगालेकर | निकलेकुछहाथोमैमशाललेकर || चलपड़ेहजारो'अन्ना'अन्नाटोपीपहने | आयेंगे बेशककलनयासवेरालेकर || :- Shekhar Kumawat ...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  August 22, 2011, 4:35 pm
आजजोतुम से बेवफाई कर रहा हूँ |दिल पर एक पत्थर सा रख रहा हूँ ||यु ही नहीं ठुकराता कोई सच्चे प्यार को |बस यही बात खामोशी से कह रहा हूँ ||For Sweet MetuShekhar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  July 16, 2011, 1:14 pm
गमइसबातकानहीं, किमेरीकश्तीक्यूँडुबोई |गमइसबातकाहै , किअपनोंनेक्यूँडुबोई ||हमतोफिरभीजीलेतेकश्तीबदलकर |फिरमगरउसकम्बक्तनेअपनीक्यूँडुबोई ||Shekhar Kumawat :-...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  July 6, 2011, 11:09 am
मेंहंदी लगी है तेरे हाथों में ,वो मुझे भी देखनी है |रची है कितनी मेरे प्यार की ,वो भी देखनी है ||आज होगी आजमाईश मेरी भी मुहब्बत की |क्योंकि मेहंदी की ''खुशबू'' में मेरी दुआ मिली है ||:-Shekhar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  May 16, 2011, 1:16 pm
दिये हाथो मे लिए आज भी घूम रहा हूं |उस हसीन हम सफ़र को खोज रहा हूं |खो गया वो किसी अनजानी महफ़िल मे |इस लिए हर दर पर उसे खोज रहा हूं |:- Shekhar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  May 16, 2011, 12:40 pm
हैं माँमेने देखामैंने समझाये दुनिया कितनी छोटी हेऔर तेरा आँचल कितना बड़ा हेतेरेआँचलमेंमिलेमुझेलाखफूलदुनिया में मिले हर कदम पर शूलतुने हर कदम पर संभालाजहाँ ने हर कदम पर गिरायासबसे बड़ा तेरा दिलबाकी ये सब पत्थर दिलबस माँ तेरा तेरा आँचल मिलेरखकर उसमें सिरमीठी मी...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :Kavita
  May 9, 2011, 1:38 pm
लबोसेछुंकरजोपिलाई है हाला |दिलमे अजीबसीजगीहै ज्वाला ||कैसेबताऊँकीक्याहुवाहैमुझे |जैसेकिसीनेपिलाईहैमधुशाला ||:- Shekhar Kumawat ...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  February 13, 2011, 4:01 pm
वादाहैआजमेरातुमसेनिभाएंगे साथदिलसेहोगाहरखवाबपूरातेरानाछोड़ेंगेसाथदिलसेलिंक">लिंक" class="gl_link" border="0">Happy Promise Day To YouShkehar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  February 11, 2011, 9:03 pm
मेरेइश्ककीबसयहीकहानीहै |दोनोंकीआँखोंमेसिर्फपानीहै||प्यारतोवोभीकरतेहैमगर |उसकीआँखोंमेभीकोई कहानीहै |...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  February 9, 2011, 10:50 pm
दर्द का ये सेलाब , अब कम न होगा |आंसुओ का बहना, अब बंद न होगा ||फिर कैसे भूल जाऊ तेरी यांदो को |बिन तेरे तोजीना भी आसान होगा ||:- शेखरकुमावत...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  January 22, 2011, 10:58 am
शबनमकेयेघूंटमुझेऔरनापिलासाकी |मंजिलहैदूरमेरेकदमोकोनारोकसाकी ||यहींडगमगानाजाऊतेरेइश्कमेकहीं |मेरेखवाबभीहकीकतमेबदलनेदेसाकी ||:- Shekhar Kumawat...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  December 16, 2010, 11:31 am
तुमसेरूठकरकहाँजायेंगेहम |दिलतेरातोड़करक्यापाएंगेहम ||येतोदुनिया कारिवाजहैप्रीतम |जोबिछड़करहीमिलपाएंगेहम ||:- Shekhar Kumawat ...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  November 24, 2010, 11:23 am
पूर्णिमा की रात, होगा बेशक तेरा दीदार किसी तरह |मगर निकल गया बेवफा ये आसमां भी तेरी तरह ||उस रात, रात भर छाई घटायें फलक में चारो ओर |चाँद दिखा ना तुम दिखे , अमावस्या की तरह ||शेखर कुमावत ...
काव्य वाणी...
Shekhar Kumawat
Tag :muktak
  October 23, 2010, 8:59 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163829)