Hamarivani.com

मुहम्मद ज़करिया खान

अपना जुक्कू (मार्क जुकरबर्ग) क्या दिमाग और टीम रखा है,भाई ! दाद देना पडेगा ! बोले तो पीठ थपथपा कर शाबाश कहना चाहिये। मगर जुक्कू व्यस्त बहुत है। आजकल फेसबुक का होमपेज पे नये-नये फीचर आये हैं। ब्राऊज़ बटन जो अभी-अभी एड की गयी है नज़र से गुज़री, सोचा ऑरकुट का ज़माना भी याद कर लिया ज...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  March 31, 2014, 11:51 am
मामला कुछ ऐसा ही है,गुजरात नरसंहार के बाद से ही प्राशसनिक सपोर्ट मोदी को मिलता रहा है। गृह,रक्षा और न्यायपालिका मे मोदी के द्वारा किये गये नरसंहार से उसके समर्थकों का एक बडा वर्ग तैयार हुआ। असल मे मोदी को कुछ उसी तरह के लोग पसंद करते हैं,जो देश के मुस्लिम समाज को किसी दू...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  March 26, 2014, 5:06 pm
“कि यारों हम इस धरती को न टूटने देंगे ।कि क़ातिल को गद्दी मे न बैठने देंगे।।ki Yaaro ham is dharti ko na Tootne na Denge.ki Qaatil ko Gaddi me na Baithne Denge. बापू का देश है ये, आज़ाद का मुल्क है ये।कि अब हम,और इसे टूटने न देंगे॥Bapu ka desh hai ye,Azad ka mulk hai ye.ki Ab ham Aur is mulk ko Tootne na denge. देखी थीं लाशें हमने, सालों पहले यहाँ पर।वोह लाशें अब हम, और बिछ...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  March 25, 2014, 5:10 pm
संदिग्धों को आतंकवादी कह कर सम्बोधित किया और क्या वाहियात वजह बताई कि “मकान मालिक के सामने क़ुरान पढते थे” और हेडिंग मे भी उसका उपयोग । वाह रे वाह, शर्म करो संघ भास्कर और ज़ी संघ टीवी वालों । क्या साबित करना चाहते थे,कि क़ुरान आतंकवाद की शिक्षा देता है । थोडा अकल लगा लेत...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  March 24, 2014, 9:53 am
{पेश है, मेरा लेख “संघ का षडयंत्र” का अगला भाग “संघ का षडयंत्र (1947-1999)} देश आज़ाद हुआ, मुल्क जश्न मना रहा थ, और ये देश का झंडा जला रहे थे। सरज़मीन-ए-हिंद के खिलाफ एक साज़िश की शुरूआत कर चुके थे वोह। एक लम्बी फौज इस काम को अंजाम दे रही थी? वोह सिसटम के अंदर घुसे, बाद मे वोह एक खास प...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  March 14, 2014, 9:58 am
आज पेपर पढ रहा था, हंसी नही रोक पाया देश के स्वघोषित अर्थशास्त्री, विशुद्ध दवा व्यापारी रामदेव बाबा अपने व्यापारिक गुण का उपयोग भाजपा से सीट के सौदेबाजी मे कर रहे थे। छोटू बोल रहा था आखिर जो तीस सीट्स रामदेव बाबा मांग रहे हैं,कहीं ये उन झूठ के पुलिंदे के बदले मे तो नही, ज...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  March 13, 2014, 10:04 pm
भाईसाब बडा विरोध हुआ था, बोल रहे थे ईस्टइण्डिया कम्पनी का दौर वापस आ जायेगा । अब इन लोगों को देखो , विरोध करने वाले ही एफडीआई की बात कर रहे हैं! जब यू.पी.ए. नीत केंद्र सरकार ने एफडीआई लाने की तैयारी की तो इसका विरोध हुआ था, संसद नही चलने दी गयी। संसद के न चलने देने से विदेशी नि...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :राजनीति
  February 28, 2014, 9:20 am
राष्ट्र को समर्पित मेरी ये कविता:-“राजनीति की सांस में.वोह इस क़दरतप गया, रच गया..सौहार्द को छोड़कर, राष्ट्रवाद की चादर ओढ़कर,वोह छुप गया, गुम गया.संगठन है,है एक ऐसा शैतान है,जो देश को, समाज को निगल गया, डकर गया.छल से ,कपट से ,उसने अपनी बात कोफैला दिया, बिठा दिया.हत्याओं का, ऐसा ज...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :राष्ट्रवाद
  February 27, 2014, 3:46 pm
बात मर्दानगी की करते हैं, छप्पन इंच की छाती का दावा भी करते हैं। मगर मासूमों के क़ातिल भी हैं, लोकतंत्र के विनाशक भी हैं। इतने बडे घपलेबाज़ हैं कि डर के मारे लोकायुक्त से खुद को मुक्त रखा। इस मुक्ति मे एक युक्ति ये भी है कि जहाँ दस आरटीआई कमिश्नरों की नियुक्ति होना चाहिये, ...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :नपुंसक
  February 27, 2014, 1:13 pm
-दर्द खत्म करने के लिए घमंड खत्म करना होगा। -राजनीति में गुस्से, घमंड की जगह नहीं है। क्योंकि हमारे अंदर गुस्सा है, घमंड है तो हम कभी किसी की बात नहीं समझेंगे।-जून महीने में यहां आपदा आई, मैं यहां आया तो शांति से आया और आपके बीच गया। तब दुनिया ने उत्तराखंड की ताकत देखी। यह...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  February 23, 2014, 8:22 pm
धर्मनिर्पेक्ष बनने का नाटक करना आसान है, और धर्मनिर्पेक्ष होना बहुत मुशकिल है। मौका परस्ती के हिसाब से गिरगट रंग बदलता है,मगर जब इंसान ये सब करने लगें तो उन इंसानों को ढोंगी कहा जाता है। वोट फोर ईण्डिया का नारा दे रहे थे साहेब । मगर पूर्वोत्तर मे हेड्गेवार वाला रंग लेक...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :देश और दुनिया
  February 22, 2014, 5:06 pm
बहस चल रही थी जनाब , ज़ी-टीवी पर ! टॉपिक और बहस दोनो पर ज़मीन और आसमान का फासला था। कह रहे थे मुस्लिमों को आरक्षण देना संविधान के विरुद्ध है। जबकि बहस का विषय #अल्पसंखयक आरक्षण था। और उनकी नज़र मे ये धार्मिक आधार पर दिया जा रहा है। फिर कुछ लोग कह रहे थे कि आर्थिक आधार पर दिया जा...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :राजनीति
  February 21, 2014, 8:54 am
देश की राजधानी दिल्ली और जगह थी होटल रेडिसन ब्लू (Hotel Reddison Blue), मौका था कांग्रेस की एक पहल “अ बिलियन आईडियाज़” (A billion Ideas) के बैनर तले आयोजित ब्लॉगर्स मीट (Bloggers Meet) का ! सभी आमंत्रित मित्र चयनित विषयों पर अपने-अपने आइडियाज़ पेश कर रहे थे। प्रथम सत्र मे मैंने “शिक्षा के केंद्रीयकर...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :शिक्षा
  February 20, 2014, 1:43 pm
विरोध और हल्ले की राजनीति करने वाले जिनका कभी देश के विकास से नाता नही रहा, आज खुद को सबसे बडे प्रगतिवादी बताने की कोशिश करते हैं। मगर इतिहास गवाह है कि जब-जब देशहित मे संसद मे कोई बिल लाया गया, जिसके पास होने पर देश को एक नयी दिशा मिली, हर उस बिल का इन संघियों ने विरोध किया...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :देश और दुनिया
  February 12, 2014, 9:13 am
{यह लेख संघ का षडयंत्र का पहला भाग है, अगला भाग (1947-1999) होगा। कृपया इसे पूरा पढें और सार्थक कमेंट करें। गालियों का उपयोग न करें उससे आपकी परवरिश की पहचान हो जाती है! } 1905 में 16 अक्टूबर को भारत के तत्कालीन वायसराय लार्ड कर्जन द्वारा बंगाल का विभाजन किया गया था। बंगाल विभाजन तो ...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :इतिहास
  February 11, 2014, 4:28 pm
कृपया इसे पूरा पढें>>>>> विश्व की बहुत बडी समस्या आतंकवाद है, आतंकवाद का कहीं न कहीं अतिवाद से एक ऐसा रिश्ता है,कि जहाँ अतिवाद के साथ बेवजह नफरत का मिलन होता है, वहां आतंकवाद जन्म लेता है। कई बार सताय गये और अन्याय की मार झेल रहे लोग भी न्याय न मिलने की बिना पर आतंकवाद क...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :इतिहास और अन्याय
  January 30, 2014, 4:21 pm
(“इस्लाम की शिक्षा और आज का मुस्लिम समाज” लेख का पहला हिस्सा प्रस्तुत है कृपया पूरा पढें! और अपने सुविचार कमेंट बॉक्स मे प्रस्तुत करें) “इस्लाम की शिक्षा” और “आज का मुस्लिम समाज”, ये दो अलग-अलग शब्द और अलग विषय हैं। मगर इन्हे जब जोड दिया जाये तो एक ऐसा सच सामने आ...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :इस्लाम
  January 29, 2014, 11:21 am
शायद मै जो लिख रहा हूँ उससे कई लोग सहमत न हों ! बहुत से लोग अपनी विचारधारा के प्रचार के लिये देशप्रेम के शब्द को देशभक्त मे परिवर्तित करके बात करते हैं। जबकि वोह जानते हैं,कि एक समुदाय विशेष के लिये भक्ति या इबादत शब्द कोई खेल नही । समुदाय विशेष भक्ति या इबादत सिर्फ इस सं...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :इतिहास और अन्याय
  January 26, 2014, 10:09 pm
फतह-ए-मक्का विश्व इतिहास की बडी ही अदभुत घटना है। पैगम्बर मुहम्मद सल्ल. के सामने वोह सारे लोग थे, जिन्होने उन्हे सताया था, गालियां दी थीं। वोह लोग भी थे जो आपसे लडने पर उतारू थे, आपकी जान के दुशमन थे। वोह लोग भी थे जिन्होने आपके चचा को क़त्ल करके उनके कलेजे को चबाने का वहशिय...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  January 25, 2014, 9:52 am
अक्सर देश अस्थिरता का शिकार जिन वजहों से होते हैं, वोह हैं आतंकवाद, फौज से नियंत्रण समाप्त होना । और मुख्य वजह बनती है बेवजह प्रदर्शन ! जब सरकार को काम ही नही करने दिया जायेगा,कई ऐसी स्थितियां उत्पन्न होती हैं जिससे अराजकता जन्म लेने लगती है। मगर जब सरकार खुद ही काम ना कर...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :आलोचना
  January 21, 2014, 10:58 am
कृपया इसे पूरा पढें………….कहानी की शुरूआत होती है लगभग 4 साल पहले! मतलब यूपीए2 के शुरूआती दौर मे ।ये वोह दौर था जब सारे के सारे लोग मनमोहन सिंह जी की कार्यशैली की तारीफ विपक्षी भी दबे ज़ुबान किया करते थे । किसानों के लियी कर्ज़ा माफी हो या रोजगार गारंटी स्कीम,किसान और म...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  January 20, 2014, 9:48 pm
आजकल भाजपा समर्थित लेखकों और पत्रकारों की खीज देखते ही बनती है, लोकमत समाचार मे अवधेश कुमार का रोज़ कोई ना कोई लेख ज़रूर छ्पता है। मैंने टीवी बहस मे भी इन महाशय को कई बार देखा है, अंधभक्त हैं ये भाजपा के। हद तो तब हो गयी थी, जब ये आसाराम के समर्थन मे बहस कर रहे थे। आज 19 जनवरी 2014 ...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :राजनीति
  January 19, 2014, 10:28 am
ताईफ मे पत्थरों की बरसात हो या नमाज़ पढते हुये मस्जिद-अल-हराम मे आप सल्लललाहु अलैहि वसल्लम की पीठ के ऊपर डाली गयी ऊंट की ओझढी हो । फिर शैबे अबि-तालिब की पहाडियों मे बिताये वोह दिन,कि खाना न होने पर बच्चों के भूख से बिलखने पर उन्हे सूखा चमडा पानी मे भिगोकर भूख मिटाना पडता थ...
मुहम्मद ज़करिया खान...
Tag :
  January 18, 2014, 12:50 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163590)