Hamarivani.com

क्षितिज(horizon)

                 जब हम हिमालय बेल्ट या क्षेत्र की बात करते हैं तो उसका विस्तार हिमाचल, जम्मू-कश्मीर से लेकर उत्तर पूर्व के उपेक्षित राज्यों तक जाता है । जिसमे उत्तराखंड भी सम्मलित है । मोटे तौर पर भौगोलिक रूप से यह ऊंची-ऊंची पहाडियों, घने जंगलों, वेगवती नदि...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  September 10, 2018, 11:06 am
देश के किसी शहर मे किसी महिला के साथ  बलात्कार होता है तो मोमबत्तियां लिए एक सैलाब सड़कों पर आ जाता है |नारे,धरना-प्रदर्शनों का सिलसिला ही चल पड़ता है और भारतीय मीडिया तो वहां अपना तम्बू ही गाड़ देता है |टीवी न्यूज चैनलों पर तीखी बहसें शुरू हो जाती हैं |लेकिन जब पूरे समाज क...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  June 11, 2018, 11:49 am
गौर से देखें तो महिला संगठन अपनी नेतागिरी और मध्यमवर्गीय समाज मोमबत्तियां जला कर रोष व शोक व्यक्त कर अपनी पीठ थपथपा रहे हैं | राजनीतिक दल अवसर का लाभ उठा एक दूसरे की टांग खींचने को ही अपनी भूमिका मानने लगा है | दर-असल देखा जाए तो दुष्कर्म की यह घटनाएं ,कम से कम शहरो व म्हान...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  June 4, 2018, 1:47 pm
आज जब दुनिया से हंसी गायब हो रही है बरबस याद आते है चार्ली चैपलिन । दुनिया भर के बच्चे जिस चेहरे को आसानी से पहचान लेते है वह चार्ली चैपलिन का ही है। चैपलिन की फिल्म 'द किड' 1921 में बनी थी उसमे चैपलिन के साथ एक चार साल के बच्चे जैकी कूगन ने अदभुत अभिनय किया था । 'द किड के बाद चै...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  April 16, 2018, 11:10 am
साहित्य में कामदेव की कल्पना एक अत्यन्त रूपवान युवक के रूप में की गई है और ऋतुराज वसंत को उसका मित्र माना गया है ।कामदेव के पास पांच तरह के बाणों की कल्पना भी की गई है ।य़ह हैं सफेद कमल, अशोक पुष्प, आम्रमंजरी, नवमल्लिका, और नीलकमल । वह तोते में बैठ कर भ्रमण करते हैं । संस्कृ...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  February 28, 2018, 1:21 pm
“ हमे काश तुमसे मुहब्बत न होती,कहानी हमारी हकीकत न होती ......... शायद यह किसी को भी न पता था कि सिनेमा के परदे पर अनारकली बनी मधुबाला पर फिल्माया यह गीत उनकी असल जिंदगी का भी एक दर्दनाक गीत बन  जाएगा  और बेमिसाल हुस्न की मलिका की जिंदगी नाकाम मोहब्बत की एक दर्दनाक  दास्ता...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  February 23, 2018, 11:50 am
एक लड़की ने आंख क्या मारी पूरा देश मानो उसका दीवाना हो गया |अपने को जिम्मेदार चौथा खंभा कहने वाले भारतीय मीडिया को तो मानो मन मांगी मुराद मिल गई हो |वह आंख मारने के तौर तरीकों,किस्मों और उसके विशेष प्रभावों पर चौपाल लगाने लगा |बड़े बड़े मुद्दे पीछे छूट गए |यहां तक की सीमा पर र...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  February 20, 2018, 4:39 pm
वाकई हम एक भेड़चाल समाज है |एक सुर मे चलने वाले लोग |जब पहला सुर टूटता है तब दूसरे को पकड़ लेते है और इसी तरह तीसरे सुर को |इस तरह ताले बजाने वाले इस सुर से उस सुर मे शिफ्ट हो जाते है |       आजकल महिला सशक्तिकरण का शोर है |शोर ही नही जोश भी है और इस जोश मे कहीं होंश की भी कम...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  January 23, 2018, 1:40 pm
       आश्चर्य होता है कभी कभी कि राजनीति से जुडी एक घटिया गोसिप पर मीडिया के सभी माध्यमों से लेकर सोशल मीडिया मे भी कई कई दिन तक बहस हो सकती है लेकिन प्रयोगवादी फिल्म के लबादे मे प्रदर्शित हाल की दो फिल्मों यानी “ बेगम जान “ व लिपिस्टिक अंडर माई बुर्का “ पर कुछ ...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  August 9, 2017, 1:09 pm
      वसंत के बाद अगर किसी के स्वागत के लिए पलकें बिछाई जाती हैं तो वह है सावन । कौन ऐसा अभागा होगा जिसका सावनी फुहारों मे मन मयूर नृत्य करने के लिए मचलने न लगे । तपती हुई दोपहरियों और आग बरसाते सूर्य देवता के ताडंव के बाद् सावन की रिमझिम फुहारें मन को शीतलता प्रदा...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  July 5, 2017, 2:05 pm
नींद की पांखों पर / उडा मैं स्वप्न में / ओस से तरबतर घाटी के उस पार / छ्तों से भी ऊपर / जंगल से भी ऊपर / जंगल के अंदर तक / सांभर पुकारते थे जहां अपने प्रिय को / और मोर जहां उडते थे / और फिर भोर हुई.... ..        पहाडों की रानी मसूरी की खूबसूरत वादी से  हिमालय को बेहद करीब से निह...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  May 18, 2017, 1:12 pm
हिंदु दर्शन के तहत रिश्तों मे सबसे ऊंचा स्थान हमने मां को दिया है और यही भावना हमारी गंगा, गाय और जमीन से जुडी है । हम इन तीनों को मां से संबोधित करते हैं । गंगा मां का पावन जल, गाय माता का अमृत समान दूध और धरती मां से उपजा अन्न हमारे जीवन का आधार है । लेकिन हम कितने दुर्भाग्...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  April 12, 2017, 4:13 pm
     दिनहैसुहानाआजपहलीतारीखहै।खुशहैजमानाआजपहलीतारीखहै।कभीयहगीतरेडियोसेहरमाहकीपहलीतारीखकोसुनायाजाताथा।यहसिलसिलावर्षोंतकचला।दर-असल70और80कावहएकदौरथाजबइसगीतकाजुडावहमअपनीजिँदगीसेगहरेमहसूसकरतेथे।बचपनकीयादोँमेआजभीउसपहलीतारीखकीअनगिनतधुधंलीया...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  March 1, 2017, 11:06 am
जब फिजा मे वेलेंटाइन यानी प्यार की खुशबू हो तो बरबस ही याद आती है प्यार की सपनीली दुनिया । वह भी एकदौरथाजबदर्शकोंकोरूलानेवालीफिल्मेंबहुतायतमेबनतीथीं।लोगसिनेमाहालमेबैठकरसुबक-सुबककररोतेभीथे।इनमेंएकबडाहिस्सादुखदप्रेमकहानियोंपरबनीफिल्मोंकाहुआकरताथा।नजा...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  February 9, 2017, 10:51 am
अगर आज के दौर को थोडा गहरी निगाह से देखने का प्रयास करें तो यह बात साफ हो जाती है कि राजनीति ने हमारे मूल्यों और सामाजिक सरोकारों को बहुत हद तक डस लिया है । हमारी सोच मे राजनीति हावी है और हमारी चिंताएं भी उसके इर्द गिर्द ही घूमती दिखाई देती हैं । पता नही हम कब और कैसे राजन...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  December 27, 2016, 4:11 pm
भारतीय संसदीय इतिहास मे संभवत: यह पहला अवसर है जब विपक्ष ने बौखलाहट मे जनसमर्थन को नकारते हुए आत्मघाती कदम उठाने का दुस्साहस किया है  । जन भावनाओं को अनदेखा कर कालेधन को लेकर विपक्ष ने जिस तरह की राजनीति की और नोटबंदी के खिलाफ हुंकार भरी उसने राजनीति की दिशा पर सोचने ...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  November 30, 2016, 12:16 pm
कभी गोमती के किनारे बसा तहजीब का एक शहर था लखनऊ । नवाबों की नगरी, बागीचों का शहर लखनऊ | नवाबी काल मे अवध की राजधानी का अपना एक अलग चेहरा था परंतु एक महानगर में तब्दील होते इस शहर मे अब सब कुछ खडंहर व उजाड मे बदलने लगा है ।अब लखनऊ नवाबों की नगरी नहीं, बल्कि ” साहबों ” और ” बाबू...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  November 28, 2016, 12:02 pm
 मौजूदा समय मे देश दो बडी समस्याओं से जूझ रहा है । एक तरफ देश मे बढता भ्र्ष्टाचार है तो दूसरी तरफ बढता प्रदूषण  । ऐसा भी नही कि इन्हें गंभीरता से नही लिया गया । सरकारी स्तर पर प्रयास भी किये गये । लेकिन कुल मिला कर वही ढाक के तीन पात । अभी हाल मे सर्द मौसम की शुरूआत मे जि...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  November 16, 2016, 12:06 pm
      समय  के साथ हमारे  त्योहारों का स्वरूप तेजी से बदल रहा है |  यह बदलता स्वरूप हमें त्योहार के सच्चे उल्लास से कहीं दूर ले जा रहा है | यही कारण है कि आज तीज त्योहारों के अवसर पर वह खुशी चेहरों मे नही दिखाई देती जो कभी नजर आया करती थी ।  सच् तो यह है कि अपने  बदल र...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  October 28, 2016, 12:53 pm
वोट बैंक की राजनीति के चलते जिस धर्मनिरपेक्षता के नाम पर मुस्लिम तुष्टिकरण का राजनीतिक खेल खेला जा रहा था उसका बिगडेल चेहरा अब सतह पर स्पष्ट दिखाई देने लगा है । बहुसंख्यक हिंदुओं ने देश व समाज हित मे बनाये गये कानूनों पर कभी कोई संदेह नही किया । लेकिन अब  जब बात समान न...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  October 15, 2016, 2:01 pm
आखिरकार नाउम्मीदों का वह अंधेरा जिसने पूरे देश को निराशा के गर्त मे डाल दिया था, खत्म हुआ । एकबारगी फिर जयकारों से पूरा देश गूंज रहा है । बार बार के आतंकी हमलों और उसके बाद भारत की कमजोर् राजनीतिक प्रतिकिया से ऊबी देश की जनता को मानो एक नया टानिक मिल गया हो । दर-असल आतंकी ...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  October 4, 2016, 12:54 pm
इसबारउरी ।सीमापरगोलियोंऔरबमकीआवाजोंसेकिसीकोसिहरननहीहोती।लेकिनजबयहीआवाजेंघरकेअंदरजहांहमअपनेकोसबसेज्यादासुरक्षितसमझतेहैंसुनाईदेतीहैंतोडरनास्वाभाविकहीहै। हमारे सुरक्षित समझे जाने वाले सैन्य बेस पर चार आतंकीआएऔरफिरहमेघावदेगये।सोते हुए हमारे 18 जवान...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  September 20, 2016, 5:28 pm
भागलपुर जेल से रिहा हुए बाहुबली नेता शहाबुद्दीन की रिहाई ने बिहार  की राजनीति को एक बार फिर गरमा दिया है । इस सियासी घमासान मे सत्तारूढ जेडीयू-आर.जेडी सरकार मे उथल पुथल मची है । बात सिर्फ इतनी भर नही । बल्कि  जेल से छूटते ही शहाबुद्दीन के इस वक्तब्य ने कि मुख्यमंत्री ...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  September 17, 2016, 9:08 am
अपनी पत्नी की लाश को अपने कंधों पर ढोते दाना मांझी के मामले मे सिर्फ़ शासन-प्रशासन, व्यवस्था ही जिम्मेदार नही बल्कि सवाल उस पत्रकार पर भी जिसने सिर्फ़ अपने पेशेवर जिम्मेदारी का निर्वाह भर किया | माना ऐसे मामलों को बतौर पत्रकार सामने लाने की भी एक नैतिक जिम्मेदारी होती ह...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  August 28, 2016, 12:44 pm
(L. S. Bisht  )ईरोम चानू शर्मीला, जी हां यही नाम है मणिपुर की उस महिला का जिसे "आयरन लेडी "यानी लौह महिला भी कहा जाता है । पूर्वोत्तर मे लागू भारत सरकार के विवादास्पद कानून 'आफस्पा 'यानी सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून के खिलाफ उसकी लडाई की अपनी कहानी है । राष्ट्रीय - अंतरराष्ट्री...
क्षितिज(horizon)...
Tag :
  July 31, 2016, 2:12 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3806) कुल पोस्ट (180792)