Hamarivani.com

बालमन की बातें

झरने के शोर ने,पर्वत की शांति को ,हवाओं की सरसराहट से कहलाया है –स्वागत करो की नया वर्ष आया हैजंगल में मोर ने, कानन के पथिको के,राह में पत्तियां बिछावाया है –स्वागत करो की नया वर्ष आया हैचाँद के लिए चकोर ने, जाड़े की भोर में, कोहरे की चादर लिपटवाया है-स्वागत करो की नया वर्ष ...
बालमन की बातें...
Tag :स्वागत
  January 8, 2014, 7:34 pm
श्री  गणेशाय नमः                                शुरुआत "बालमन"से |बाबा जी ने मुझे यह नाम क्यों दिया यह नहीं जानता किन्तु बाबाजी के  द्वारा  इस नाम से पुकारा जाना अच्छा लगता था | और आज जब बाबा जी नहीं हैं तो यह नाम मुझे उनके होने का एहसास कराता है क्योंकि सिर...
बालमन की बातें...
Tag :बालमन
  November 30, 2013, 3:24 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167803)