Hamarivani.com

ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग लपेट के जो कहा जाए वही सच है "

हर साल की तरह इस साल भी इंटरनेशनल बुक फेयर दिल्ली में लगा सो मेरा जाना निश्चित था। मैं सालो से इस इवेंट में जाती हूँ पहले माँ के साथ जाती थी फिर अकेले पर क्रम जारी हैं। मुझे किताबे खरीदने से ज्यादा किताबो की सोहबत और संगत से प्यार हैं ऐसा मुझे लगता हैं। अपने को किताबो की ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 12, 2017, 10:15 am
हे  रावण भक्तो सादर सप्रेम नमस्तेपता चला की तुम्हारे इष्ट में कितनी अच्छाईया थी इस बार फेसबुक पर।  कितना विलाप हुआ उसके पुतले जलने पर इस बार इस फेसबुक भूमि पर इतना तो लंका की भूमि पर तब नहीं हुआ होगा जब वो मारा सॉरी "मरे "होंगे।  ख़ैर उनका गुणगान करने वालो ने अभी तक ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  October 12, 2016, 12:36 pm
Its really ridiculous to keep circulating posts about Raven being a good brother and why his effigy is being burnt year after year . Ram did not kill Ravan because he kidnapped Sita . There is much more to all this. Kidnapping of Sita was the last straw ,Ravan had been using his power to destroy all goodness and every one wanted respite from him . If mythological stories are to be believed then Ram was born to destroy Ravan . Raven is the symbol of all that is bad . And all brothers are good and it does not matter if you are good for your sister and to your sister It matters if you are good to other people around you other woman around you who are not related to you. When we burn Ravan we tr...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  October 11, 2016, 12:38 pm
किसी को उसकी लड़ाई हारते हुए देखने के बाद भी उसको लड़ते रहने के लिये , लड़ाई जारी रखने के लिये उकसाने से आप उसको उसकी हार को स्वीकार ना करने देने के दोषी हैं।  जैसे लड़ाई के कई कारण होते हैं वैसे ही जीतने और हारने के कारण भी होते हैं।  समय और परिवेश का भी रोल होता हैं।  ये ज...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 20, 2016, 9:47 am
अपनों के बीच में लौट सकना ही अपने देश या अपने गाँव लौटना होता हैं। जिसको अपना समझे और जो बिना प्रश्न किये आप के आते ही आप को एक गिलास पानी पिलाये। आप से कोई कारण ना पूछे की अब क्यों वापिस आये वही आप का गाँव या देश हैं। प्यार का अर्थ ही होता हैं अक्सेप्टन्स...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 18, 2016, 9:48 am
किताबे तो पहले भी बहुत सी छपती थी विमोचन लोकार्पण इतने कभी नहीं देखे विमोचन लोकार्पण के रैलो में पुस्तक मेले में मुझे पुस्तक प्रेम नहीं केवल और केवल आत्म मुग्धता ही दिखीबड़ा साहित्यकार दिखने की होड़ मेअच्छा साहित्य पढ़ने की इच्छाकहीं दफ़न सी ही दिखीतुमने मेरी ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 16, 2016, 9:48 am
एक सो कॉल्ड कॉमेडियन अरेस्ट हुआ अपने भोंडे मजाक के लिये। सवाल ये नहीं हैं की उसने किसका मजाक बनाया सवाल ये हैं क्या विद्रूप और भोंडापन किसी को कॉमेडियन बना देता हैं। पलक और गुथी का किरदार बना कर निरंतर स्त्रियों की शारीरिक संरचना पर कॉमेंट किये जाते हैं। दादी का किरदा...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 14, 2016, 9:49 am
इस सरकार से लोगो की इतनी उम्मीद अच्छी लगती हैं। ५ साल के अल्प समय मे कितना सही कर पाएगी ये सरकार पता नहीं पर उम्मीद नहीं छोड़नी चाहिये। दिल्ली यूनिवर्सिटी ने बहुत कुछ देखा हैं , जे पी की मीटिंग देखी हैं , बिना भाषण दिये अनेक लोगो की मौरिस नगर चौराहे पर गिरफ्तारी देखी हैं। ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 11, 2016, 9:50 am
सुबह गेट से निकली तो गार्ड आस पास का कचरा जमा करके उसमे आग लगा कर धुँआ फैला रहे थे. मैंने कहा इस तरह जलाने का फाइन २५०० रूपए हैं। बत्तीसी फाड़ दी। फिर आवाज ऊँची करके मैंने कहा की गाडी वालो की गाड़ियां रोकी जा रही हैं और आप प्रदूषण बढ़ा रहे हैं और समझा कर कहने पर दांत फाड़ रहे है...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 9, 2016, 9:51 am
ऐसे किसी भी राष्ट्र के साथ मैत्री के सम्बन्ध स्थापित नहीं हो सकते हैं जहां की आर्मी वहाँ के प्रधानमंत्री और संसद और वर्तमान शासन की बात ना सुनती हो। ऐसे सम्बन्ध को स्थापित करने की कोशिश में अपने सैनिको की बलि देना एक अपराध हैं और इसके लिये कोई क्षमा नहीं हो सकती हैं।बा...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 4, 2016, 9:52 am
नव वर्ष आने को हैंकुछ कहेंगे ये हिन्दू नव वर्ष नहीं हैंकुछ कहेंगे ये अंग्रेजो की देन हैंयानी साल कितने भी आये जाएमानसिकता नहीं बदलती तो कुछ नहीं बदलताबचपन से साल के कैलेंडर कोबदलते देखा हैंसमय फिर भी शायद नहीं बदला हैंहाँ समय भी बदल जाए परहम खुद ना बदले तो समझिएजीव...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  December 30, 2015, 9:53 am
मार्क ज़ुकेरबर्ग को समझ नहीं आ रहा की इंडिया उनकी जी हुज़ूरी क्यों नहीं कर रहा हैं , उनके आगे बिछ क्यों नहीं रहा हैं। वो तो अपनी बेटी के लिये एक अच्छी दुनिया बसाना चाहते हैं इस लिये इंडिया में फ्री बेसिकस देना चाहते क्युकी ये गरीब गाँव के लोगो , किसानो के लिये सही हैं।बीजू ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  December 29, 2015, 9:54 am
Till the time rape is declared as "rarest of rare crime " no change will come . its not about culture and its not about clothes and also not about west effect its only a tool to prove that woman should be punished with rape it they dont do what "she is expected to do " now what is she expected to do , indian man and also else where think she is expected to be available always for the lust of man and any woman who does not confer to this should be "raped " sometimes physically and sometime "verbally " . STOP jokes on woman , STOP making woman a object . Be a role model for others and system will change ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  December 24, 2015, 9:55 am
दिवाली के आस पास दिल्ली ट्रैफिक पोलिस ने अपना बूथ हमारे फ्लैट के सामने फुट पाथ पर खड़ा खड़ा कर दिया। वहां बैठे कांस्टेबल से कहा तो बोले इस से आप को क्या फरक पड़ेगा। ये कहने पर की आप जब चालान करते हैं तो लोग यहां मजमा लगाते हैं और अंदर तक आवाजे आती हैं। इसके अलावा फुट पाथ पर आप...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  December 19, 2015, 9:56 am
दो दिन से एक फोटो को सब शेयर   कर रहे हैं जिस मे एक वृद्ध व्यक्ति अखिलेश यादव के पैर छू रहा हैं।  उस व्यक्ति को साहित्यकार होने का कोई पुरूस्कार मिला हैं।  हिंदी में पुरूस्कार की परम्परा बहुत पुरानी हैं जैसे हमारी संस्कृति मे पैर छूने की।  अगर किसी को किसी के प्रति ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  September 16, 2015, 9:37 am
हिंदी सम्मलेन हो रहा हैं फेसबुक पर और ब्लॉग पर हिंदी में लिखने वाले परेशान , उन्हे नहीं न्योता गया।  अरे क्या आप ने  ब्लॉग और फेसबुक पर हिंदी में इसलिये लिखना प्रारंभ किया था की आप हिंदी के स्थापित लेखक और कवि या व्यंगकार कहलाये ? जो इतने व्यथित दिख रहे हैं उन सब को...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  September 10, 2015, 11:43 am
आज कल तमाम रिफ्यूजी समस्या चर्चा में हैं।  कुछ दिन पहले रवांडा रिफ्यूजी चर्चा मे थे आज कल सीरिया के हैं।  लोग यूरोप पर थूक रहे हैं क्युकी उन्होने इनलोगो को शरण नहीं दी।  हमलोगो के आस पास कितने हमारे अपने आर्थिक रूप से कमजोर रिश्तेदार परिवार हैं क्या हम सब उनको आर्थ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  September 4, 2015, 1:23 pm
अमीरो के लिये कानून ,गरीबो के लिये कानून ,इतना फरक क्यों हैं।  सलमान खान ने शराब पीकर गाडी चलाई ,गाड़ी पर काबू नहीं रहा , गाड़ी एक फुटपाथ  पर चढ़ गयी , फुटपाथ पर कुछ लोग सो रहे थे , कार के नीचे आने से उनकी जान चली गयी।  बहुत अफ़सोस हुआ था ये सब जान कर। १३ साल केस चला फैसला में सल...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  May 7, 2015, 10:37 am
अर्णव गोस्वामी जैसे लोग जो टाइम्स नाउ पर # लगा कर बेफिजूल मुद्दो को उठाते हैं वो पत्रकार हैं ही नहीं।  कभी भी उनका चेंनेल देखो केवल उनका ही पक्ष सुनाई देता हैं और दूसरा कोई अपना पक्ष नहीं रख पता हैं ब्रेकिंग न्यूज़ के नाम पर हर बात को ले कर हल्ला मचाना और अपने को बेस्ट न...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  April 16, 2015, 10:32 am
अर्णव गोस्वामी जैसे लोग जो टाइम्स नाउ पर # लगा कर बेफिजूल मुद्दो को उठाते हैं वो पत्रकार हैं ही नहीं।  कभी भी उनका चेंनेल देखो केवल उनका ही पक्ष सुनाई देता हैं और दूसरा कोई अपना पक्ष नहीं रख पता हैं ब्रेकिंग न्यूज़ के नाम पर हर बात को ले कर हल्ला मचाना और अपने को बेस्ट न...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  April 16, 2015, 10:32 am
ना जाने क्यों लोग आज कल किसी व्यक्ति के पार्टी बदलने से उसके पुराने ब्यान पर संवाद कर रहे है।  क्या एक बदलाव नहीं दिख रहा हैं हमे अपने देश की राज नैतिक व्यवस्था मे।  अब प्रोफेशनल लोग हैं  जिनके लिये पार्टी महज एक नौकरी की तरह हैं जहां अगर वो परफॉर्म नहीं कर पाते हैं ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  January 23, 2015, 1:24 pm
हिंदी भाषा देश की भाषा हैं यानी हमारी "नेशनल लैंग्वेज" . लेकिन आज भी हिंदी पूरे देश में नहीं बोली जाती हैंक्यों देश के हर राज्य में हिंदी नहीं पढ़ाई जाती हैं।  हिंदी को पढ़ना या ना पढ़ना वैकल्पिक क्यों हैं , जरुरी क्यों नहीं ?आज़ादी के इतने साल बाद भी हम राज्यों में बांटे जा च...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  August 9, 2014, 1:45 pm
सरदार पटेल की मूर्ति पर जो खर्च आएगा उसको लेकर तमाम फेसबुक स्टेटस पढ़ लिये।  लोगो को लगता हैं ये गलत हैं लेकिन मुझे इसमे कुछ  गलत नहीं लगता मुझे लगता हैं जरुरी हैं की बी जे पी ये सिद्ध करे की पटेल अन्य कई नेता "हाथ वाली कांग्रेस "की जागीर नहीं हैं . ये सब इंडियन नेशनल कां...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  July 11, 2014, 1:55 pm
  आर. अनुराधा  से बस एक बार २००८  में दिल्ली हाट में मिलना हुआ था।  उन से परिचय नेट पर उनकी एक पोस्ट चोखेर बाली ब्लॉग पर पढ़ कर हुआ था।  उस पोस्ट में उन्होने कैंसर पर अपनी विजय के विषय में लिखा था।  उस पोस्ट पर मैने कॉमेंट भी  किया था और फिर नारी ब्लॉग पर उन पर एक पोस...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  June 30, 2014, 1:27 pm
कल एक सर्वे मे बताया   जा रहा था की इस इलेक्शन मे प्रति वोटर ४३७ रूपए का सरकारी खर्च होगा अगर ७५ % फीसदी से उपर मतदान हो जब भी मैं कहीं पढ़ती हूँ कि किसी पार्टी ने वोटर को  लालच देने के लिये रूपए बांटे तो मन मे विचार आता हैं कि काश इलेक्शन मे वोट डालने  कि सरकारी फ़ीस होती ...
ब्लॉगर "रचना "का ब्लॉग "बिना लाग...
Tag :
  May 3, 2014, 12:53 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)