Hamarivani.com

सृजन मंच ऑनलाइन

क्यों नहीं होती है सृष्टि-निर्माता ब्रह्मा जी की पूजा, और क्यों है इनके सिर्फ़ कुछ ही मंदिर ++++++++ ( वस्तुतः हिन्दू धर्म के मूल तत्वों में --- अनैतिकता का कहीं स्थान नहीं है , वैदिक धर्म या सनातन धर्म या हिन्दू धर्म की यह विशिष्टता है कि हिन्दुओं ने अपने महामहिमों के भ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  March 31, 2017, 2:00 pm
                         . ------हरि अनंत हरि कथा अनंता .... ब्रह्म, माया और ब्रह्माण्ड -----                         ( सृष्टि सृजन के दिवस चैत्र प्रतिपदा १ - पर विशेष आलेख-) ----------- हरि अनंत हैं और सृष्टि अनंत हैं | इस अनंतता के वर्णन म...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :वैदिक विज्ञान--परब्रह्म
  March 31, 2017, 1:46 pm
                  प्रतिपदा --नव संवत्सर ---डा श्याम गुप्त...                         प्रतिपदा --नव संवत्सर ---सृष्टि रचयिता ने किया, सृष्टि सृजन प्रारम्भ |चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से, संवत्सर आरम्भ ||गुड़ी-पडवा, उगादी, चेटीचंड, ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :सृष्टि रचयिता
  March 29, 2017, 9:52 pm
पुरुषार्थ ...विश्व सत्यं शिवं सुन्दरं क्यों...... कहानी .डा श्याम गुप्त .....                  पुरुषार्थ ...विश्व सत्यं शिवं सुन्दरं क्यों...... कहानी ...------------------------------------------                       आधुनिक विज्ञान, दर्शन, अद्यात्म व अनुभ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :धर्म
  March 6, 2017, 6:33 pm
पुस्तक - पहला शूद्र (वैदिककालीन उपन्यास) लेखक - सुधीर मौर्य प्रकाशक - रीड पब्लिकेशन पृष्ठ - १५२ पेपरबैक ISBN-13: 978-8190866446समीक्षक - गंगाशरण सिंह Sudheer Maurya जी जी ऐसे लेखक मित्र हैं जो अमूमन न मुझे पढ़ते हैं न मैं उन्हें :)कहा जा सकता है कि हमारी मित्रता के बीच हमारा लिखना पढ़ना...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  March 5, 2017, 3:28 pm
जनकवि कोदूराम “दलित” की साहित्य साधना :( 5 मार्च को 107 वीं जयन्ती पर विशेष)मनुष्य भगवान की अद्भुत रचना है, जो कर्म की तलवार और कोशिश की ढाल से, असंभव को संभव कर सकता है । मन और मति के साथ जब उद्यम जुड जाता है तब बड़े बड़े  तानाशाह को झुका देता है और लंगोटी वाले बापू गाँधी की ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  March 5, 2017, 7:33 am
साहित्यकार सम्मलेन----दि-१-३-२०१७..डा श्याम गुप्त...                               ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  March 4, 2017, 8:49 pm
४६ वें साहित्यकार दिवस, का आयोजन----- -----डा रंगनाथ मिश्र सत्य के जन्म की ७६वीं वर्षगाँठ एवं ४६ वें साहित्यकार दिवस, १ मार्च, २०१७ --सिटी कोंवेंट स्कूल राजाजीपुरम के हाल में डा रसाल स्मृति संस्थान एवं अ.भा. अगीत परिषद् द्वारा आयोजित किया गया, इस अवसर पर देश के साहित्यकारों ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :पुस्तक लोकार्पण
  March 4, 2017, 7:18 pm
गुरुवासरीयव गोष्ठी दि.२-३-१७ को डा श्याम गुप्त के आवास पर ----डा श्याम गुप्त                   गुरुवासरीय गोष्ठी दि.२-३-१७ गुरूवार              प्रत्येक माह के प्रथम गुरूवार को होने वाली गुरुवासरीयव गोष्ठी दि.२-३-१७ को डा श्याम गु...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  March 4, 2017, 7:00 pm
प्रायः यह कहा जाता है कि कपडे पहनने की बात लोग स्त्रियों पर छोड़दें, हमारी इच्छा , पुरुष अपनी सोच बदलें ----परन्तु प्रत्येक कार्य का एक तार्किक कारण होता है न---- निम्न चित्र देखें जहां तीन पुरुष सम्पूर्ण कपडे पहने हुए हैं तो उपस्थित महिला अध् नंगे वस्त्रों में क्यों है --- क...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  March 4, 2017, 5:33 pm
                               ४६ वें साहित्यकार दिवस, १ मार्च, २०१७ पर प्रस्तुत किया गया आलेख----            वर्त्तमान सन्दर्भ में साहित्यकारों के दायित्व-- (डा श्याम गुप्त )                  साहित्य व साहित...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  March 1, 2017, 10:56 pm
                            --------- बात गीतों की----- भाग चार --अंतिम क़िस्त ------ -------------- आज यदि हम किसी पत्रिका या पत्र या अंतरजाल पत्रिकाओं या अंतरजाल पर चिट्ठों ( ब्लोग्स-आदि ) को उठाकर देखें तो विविध रूप में कविताओं आदि के साथ-साथ गीत अपने वि...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :श्रृंगार गीत
  February 27, 2017, 7:29 pm
मेरी सद्यप्रकाशित प्रेम व श्रृंगार गीत संग्रह---डा श्याम गुप्त ---                               ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...                            मेरी सद्यप्रकाशितप्र...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  February 26, 2017, 11:36 pm
----------------मेरी सद्य प्रकाशित आध्यात्मिक कृति--"ईशोपनिषद का काव्य भावानुवाद ----इस कृति में ईशोपनिषद जो यजुर्वेद का चालीसवां अध्याय है जिसमें उपनिषदकार ने १८ मन्त्रों में , मानव आचरण व व्यवहार हेतु भारतीय, वैदिक ज्ञान एवं जीवन व्यवहार के सिद्धांतों का मूल प्रस्तुत कर दि...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :यजुर्वेद
  February 26, 2017, 11:27 pm
-------कवि का वेलेंटाइन-- उपहार ---गीत---प्रिय तुमको दूं क्या उपहार |मैं तो कवि हूँ मुझ पर क्या है , कविता गीतों की झंकार |प्रिय तुमको दूं क्या उपहार |गीत रचूँ तो तुम ये समझना,पायल कंगना चूड़ी खन खन |छंद कहूं तो यही समझना ,कर्ण फूल बिछुओं की रुन झुनमुक्तक रूपी बिंदिया लाऊँ ,या नगम...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :कवि
  February 24, 2017, 11:55 pm
                    ----------बात गीतों की--आगे ---भाग तीन --------------------------लय साधने हेतु गीतों व छंदों में तुकांत का प्रयोग सनातन परम्परा से प्रारम्भ हुआ जो हिन्दी में तुकांत वर्णिक व मात्रिक छंदों युत गीतों का प्रयोग महाकाव्यों की लम्बी कवितायें एवं शास्त...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :छायावाद
  February 24, 2017, 11:51 pm
                           बात गीतों की ----भाग दो-------डा श्याम गुप्त-----                        वैदिक गीत स्वर-प्रधानथे| लौकिक संस्कृत में लयसाम्य और नाद-सौन्दर्य आधारित गीत परंपराप्राप्त होती है | लौकिक काव्य ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :आदिकवि
  February 20, 2017, 10:22 pm
                        बात गीतों की ----डा श्याम गुप्त )....... -----भाग एक ------ -----------आज गीतों के ऊपर तमाम प्रश्न उठाये जा रहे हैं | गीत मर गए , अब तक प्रचलित सनातन गीत आज के समय के अनुकूल नहीं है, आदि आदि | उत्तर में नवगीत आदि विविध प्रकार की कविता विधा...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :लय साम्य ..
  February 19, 2017, 7:43 pm
                                        ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :रोबोट चिकित्सा
  February 18, 2017, 12:44 pm
        -----बात ग़ज़ल की -----. ( -----कविता व शायरी ---- कविता, काव्य या साहित्य किसी विशेष, कालखंड, भाषा, देश या संस्कृति से बंधित नहीं होते | मानव जब मात्र मानव था जहां जाति, देश, वर्ण, काल, भाषा, संस्कृति से कोई सम्बन्ध नहीं था तब भी प्रकृति के रोमांच, भय, आशा-निराशा, सुख-दुःख आद...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :रुबाइयां ...
  February 15, 2017, 12:37 pm
                    पांच त्रिपदा अगीत छंद ---- मेरे द्वारा सृजित , अगीत कविता विधा का एक छंद ----तीन पंक्तियाँ, प्रत्येक पंक्ति में 16 मात्राएँ , अतुकांत ....१.जग में खुशियाँ है उनसे ही,हसीन चेहरे खिलते फूल; .हंसते रहते गुलशन गुलशन | 2.चमचों के मज़े देख हमने,आ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  November 28, 2016, 11:08 pm
                                                                 युद्ध व मानव तथा दाशराज्ञ-युद्ध         आज सिन्धु सतलुज व्यास व रावी नदी के जल में से पाकिस्तान को जल की एक बूँद भी नहीं ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :युद्ध
  November 26, 2016, 12:35 pm
अखिल भारतीय अगीत परिषद् एवं नवसृजन साहित्यिक सांस्कृतिक संस्था के संयुक्त तत्वावधान में एक सरस काव्य गोष्ठी -डा श्याम गुप्त                               .                                &n...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :युवा कवि
  November 22, 2016, 7:40 pm
आजाद हिन्द फ़ौज के स्थापना दिवस पर शौर्य दिवस व काव्य गोष्ठी का आयोजन --डा श्याम गुप्त ..                                 ....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...अध्यक्ष श्री राधेश्याम दुबे, मुख्य अतिथि डा श्याम गुप्तएवं ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  October 22, 2016, 9:13 am
              राम के सीता-वनवास के निर्णय पर प्रायः प्रश्न उठाये जाते रहे हैं, आज के नव-विकास के युग में कुछ अधिक ही , परन्तु वस्तुतः ये गहन राजनीति के तथ्य हैं ---प्रस्तुत है एक कथा---***यक्ष-प्रश्न ...कहानी****               पुष्पाजी अपनी महि...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  October 15, 2016, 6:57 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163831)