Hamarivani.com

सृजन मंच ऑनलाइन

                     श्याम मधुशाला \\शराव पीने से बड़ी मस्ती सी छाती है ,सारी दुनिया रंगीन नज़र आती है ।बड़े फख्र से कहते हैं वो ,जो पीता ही नहीं ,जीना क्या जाने ,जिंदगी वो जीता ही नहीं ।।पर जब घूँट से पेट में जाकर ,सुरा रक्त में लहराती ।तन के रोम-रोम ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :मदिरा
  October 13, 2017, 10:21 pm
                                                 भुज्यु-राजकीसागरमेंडूबनेसेरक्षा               (अश्विनीकुमारबंधुओंकाएकऔरसफलआपात-चिकित्सकीयअभियान)          श्रीकांतजीघू...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :चिकित्सकीय आपात-सेवा
  October 12, 2017, 11:30 pm
गुरुवासरीय काव्य-गोष्ठी ---\प्रत्येक माह के प्रथम गुरूवार को होने वाली विशिष्ट काव्य-गोष्ठी दिनांक ०५-१०-२०१७ गुरूवार को प्रातः ११ बजे डा श्यामगुप्त के आवास सुश्यानिदी, के-३४८, आशियाना, लखनऊ पर संपन्न हुई | \गोष्ठी का शुभारम्भ डा श्यामगुप्त के वाणी वन्दना से हुआ | डा योग...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :डा श्याम गुप्त
  October 6, 2017, 9:15 am
भारत में विदेशी ताकतें किस प्रकार इस देश समाज धर्म संस्कृति को तोड़ने में व्यस्त---                                                                     भारत में विदेशी ताकतें किस प्रक...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :विदेशी षड्यंत्र
  September 28, 2017, 5:31 pm
                              ----ब्रह्मरूप-पुरुष –उठो जागो बोध प्राप्त करो ---------माँ शक्ति रूपा के आगमन के प्रथम दिवस पर---- -----आदिशक्ति...नारी सृष्टि का आधार है, परन्तु ‘एकोहं बहुस्यामि’ के सृष्टि-विचार का आधार तो ब्रह्म...पुरुष ही है |   ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :ब्रह्म-पुरुष
  September 21, 2017, 5:13 pm
                     *****भाषा, हिन्दी, छंद, साहित्य एवं काव्य ****** \\ -------भाषा ---------..संकेतों की -.–मोनोसिलेबिक. भाषा .में अलग-अलग चिन्ह या अक्षर में पूर्ण अर्थ निहित होता है यथा – प =पानी तथा .....एग्लूटीनेटेड= जिसमें अक्षर यूंही जोड़कर अर्थ व कथ्य बनाते ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :छंद
  September 10, 2017, 8:55 pm
                   डा रंगनाथ मिश्र सत्य                    शिक्षक दिवस पर विशेष – गुरु और भारत ----      भारतवर्ष में गुरु की सदैव ही विशिष्ट महत्ता रही है | गुरु अर्थात जो कोइ विशिष्ट दिशा दे समाज, राष्ट्र को, विश्व को, मा...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :शिक्षक
  September 6, 2017, 12:26 pm
ईश्वर का जन्म कैसे व क्यों, अवधारणा, आस्तिकता, आस्था एवं उसका भविष्य ?..\\इस विषद विषय को हम निम्न विभागों में वर्णित करेंगे----१.ईश्वर का जनक कौन है२.ईश्वर की अवधारणा एवं उसकी की व्यापक स्वीकार्यता ३.आस्तिकता के आधार का आधार -- ४.ईश्वर की अवधारणा और इसके विकास का स्वरूप - ५.ईश...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  August 30, 2017, 7:25 pm
कहानी माधवी की – नारी की महत्ता या यौन शोषण - एक पौराणिक कथा----                 \\                 बुराइयां मानव का एक स्वाभाविक भाव है वे समाज में सदैव से ही रही हैं, हाँ उन्हें छुपाने व जोर जबर्दस्ती से मिटाने के प्रयत्न की अपेक्...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :माधवी
  August 21, 2017, 2:08 pm
राष्ट्रीय पुस्तक मेले में दिनांक १९-८-१७---\\राष्ट्रीय पुस्तक मेले में दिनांक १९-८-१७ शनिवार कोलेखक से मिलिए कार्यक्रम में पाठक साहित्यभूषण साहित्याचार्य श्री डा रंगनाथ मिश्र सत्य, महाकवि साहित्याचार्य डा श्याम गुप्त, एवं कविवर श्री त्रिवेनी प्रसाद दुबे मनीष से रूब...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :लेखक
  August 20, 2017, 7:28 pm
श्रीमती उषा सिन्हा जी को माल्यार्पण करती हुई सुषमा गुपता                                                       दिनांक 13/08/2017 को राजधानी की प्रसिद्धि 'नवसृजन'साहित्यिक संस्था का नवाँ वार्षिकोत्सव मनाया...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :साहित्याचार्य
  August 17, 2017, 10:51 pm
    कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष------ \\श्रीकृष्ण--त्रिगुणात्मक प्रकृति से प्रकट होती चेतना सत्ता--- \श्रीकृष्ण आत्मतत्व के मूर्तिमान रूप हैं। मनुष्य में इस चेतन तत्व का पूर्ण विकास आत्मतत्व का जागरण है। जीवन त्रिगुणात्मक प्रकृति सत रज व तम से उद्भूत और विकसित होता है ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :द्वारिका
  August 15, 2017, 12:40 pm
                                   भारत जैसे विश्व के प्राचीनतम देश जो विश्व में अग्रणी देश था , उसकी गौरव गाथा आज हम व हमारी वर्त्तमान पीढ़ी भूल चुकी है , अतः वर्त्तमान पीढ़ी में देशभक्ति के गौरव को , स्वाभिमान को जगाना इस कविता...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :श्याम सवैया
  August 14, 2017, 11:49 pm
कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर दो पद-----\\१.ब्रज की भूमि भई है निहाल |सुर गन्धर्व अप्सरा गावें नाचें दे दे ताल |जसुमति द्वारे बजे बधायो, ढफ ढफली खडताल |पुरजन परिजन हर्ष मनावें जनम लियो नंदलाल |आशिष देंय विष्णु शिव् ब्रह्मा, मुसुकावैं गोपाल |बाजहिं ढोल मृदंग मंजीरा नाचहिं ब्रज...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :गोपाल
  August 13, 2017, 1:39 pm
ज़िन्दगी--गज़लराहोंकेरंगन जीसके,कोईज़िन्दगीनहीं।यूहींचलतेजानादोस्त, कोईज़िन्दगीनहीं।कुछपलतोरुककेदेखले, क्याक्याहैराहमें,यूहींराहचलतेजानाकोईज़िन्दगी नहीं।चलने काकुछतोअर्थहो, कोईमुकामहो,चलनेकेलियेचलनाकोईज़िन्दगीनहीं।कुछखूबसूरतसेपडाव, यदिराहमे...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :सफ़र प्यार
  August 11, 2017, 8:05 pm
                       ३० वर्ण की दो घनाक्षरी-----सूर घनाक्षरी...व श्याम-घनाक्षरी.......  \\१. श्याम-घनाक्षरी, ...वर्ण- १६-१४ ..८ ८, ७ ७ पर यति, अंत में तीन गुरु (sssमगण)-- \बहु भांति पुष्प खिलें, कुञ्ज क्यारी उपवन,रंग-विरंगी ओढे, धरन रजाई है |केसर अबीर रोली, कुंक...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :
  August 11, 2017, 2:03 pm
-----श्याम स्मृति-१२६. --- *****काव्य -- मानवीय सृजन में सर्वाधिक महत्वपूर्ण – *** -------- काव्य मानव-मन की संवेदनाओं का बौद्धिक सम्प्रेषण है--मानवीय सृजन में सर्वाधिक कठिन व रहस्यपूर्ण ; क्योंकि काव्य अंतःकरण के अभी अवयवों ---चित्त (स्मृति व धारणा ), मन ( संकल्प ), बुद्धि ( मूल्यांकन ), अह...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :नवीन युग बोध
  August 10, 2017, 10:31 am
                                                        १.भारत ७० साल का होगया है -----एक समाचार , हिन्दुस्तान--------हम भूल जाते हैं कि यह देश -जो भारत है - का जन्म १९४७ में नहीं हुआ ,अपितु लाखों वर्ष प्राचीन यह ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :भारत की आयु
  August 10, 2017, 10:28 am
रिश्ता सारमेय सुत का.-----..डा श्याम गुप्त की कहानी ---- \\कालू कुत्ते ने झबरीली कुतिया का गेट खटखटाया और बोला,-'भौं .s.s.भौं ऊँ भुक -अरे कोई है। 'झबरीली ने गेट की सलाखों के नीचे से झांका और गुर्राई, 'भूं ऊँ ऊँ भौं, कौन है ?'भूं s भुक , मैं कालू ।ओ s sभूं अक , क्या है, क्यों आये हो? \      ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :दहेज़
  August 9, 2017, 11:04 pm
          ब्रज कुमुदेश पत्रिका में  डा श्याम गुप्त की कृति---कुछ शायरी की बात होजाए --की समीक्षा---...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :कृति
  August 8, 2017, 11:10 am
               प्रेमचंद आदि गरीबों के मसीहा एवं आजकल कवियों, लेखकों, व्यंगकारों , समाज के ठेकेदारों, नेताओं, मीडिया का प्रिय विषय है...गरीबी, भूखे को रोटी-दूध .....मंदिरों, भगवान, मूर्तियों आदि आस्थाओं को तोड़कर उंनके स्थान पर ---गरीबों, भूखों को देना चाहिए .....
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :भूख
  August 2, 2017, 8:17 pm
मुंशी प्रेमचंद्र का आलेख-----साम्प्रदायिकता व संस्कृति--चित्र में देखें ---- यह आलेख मुंशी जी ने १९३४ में लिखा था | \\ -------मुंशी जी ने यहाँ संस्कृति , साम्प्रदायिकता --के बारे में लिखते हुएहिन्दू व मुस्लिम दोनों को एक ही पलड़े पर रखा था, दोनों के रहन सहन, व्यवहार, खान-पान एक ही से थ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :मुंशी प्रेमचंद
  August 2, 2017, 3:25 pm
                           सृष्टि केआदिपुरुष - शिव                                          आदि-पुरुष शिव—सृष्टि, व्याप्ति व विनाश  के देवता शिव, विश्व के सभी ज्ञान, धर्म, दर्शन, समाज, ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :महादेव
  July 31, 2017, 10:12 pm
                              ललिता चन्द्रावली राधा का त्रिकोण --- प्रेम, तपस्या एवं योग-ब्रह्मचर्य का उच्चतम आध्यात्मिक भाव-तत्व ----अंतिम -क़िस्त--- राधा ..... \\३.राधा                         एक प्रतिभावान,...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :आदि शक्ति
  July 28, 2017, 10:03 pm
-ललिता चन्द्रावली राधा का त्रिकोण ----- \\ --- प्रेम, तपस्या एवं योग-ब्रह्मचर्य का उच्चतम आध्यात्मिक भाव-तत्व ---- \ ------आगे-------चन्द्रावली सखी---- \२.चन्द्रावली करेह्ला गाँव में रहती थी | गोवर्धन मल्ल की पत्नी थी, जो चन्द्रावली के साथ कभी सखीथरा (सखी स्थल) में कभी गोवर्धन निकट रहते थे ...
सृजन मंच ऑनलाइन...
Tag :त्रिकोण
  July 27, 2017, 11:36 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169584)