Hamarivani.com

हँसी की महफ़िल

शिक्षा हा वही हैजिससे हासिल कर यक्ति अपनी पहचान बनाता हैऔर अपने लक्ष्य तक पहुचता है ! हा वही शिक्षाजो जीवन काएक आधार हैबिना शिक्षा जीवनमानो ऐसा है जैसे बिना जल के सागर अच्छाई और बुराई बुराई की नीव है शिक्षा ,व्यक्ति के व्यवहारका वर्णन करती है मुश्किल भरे रास्तोका ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  October 8, 2013, 10:50 pm
                             सुबह-2 का दिन था सुर्येदेव की पहली किरण के साथ मेरा दिन शुरुर हुआ ! उठा और स्नान गृह की और चल दिया तो दिमाग में एक ख्याल आया और सोचने लगा तभी दरवाजे की घंटी बजी और देखा तो दूध वाला था !.......उससे दूध लेकर टेबल पर रख में स्नान करने चला गया ! ज...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  October 2, 2013, 1:12 am
सफ़र के साथ वक़्तभी बदल जाएगा !जो छुट गया आज वोकल नहीं आएगा !खो जायेगा वो कलहज़ारों “ कल ” मेंजैसेज़मीं से उड़ता धुआ बादलो में मिल जायेगारह जायेगा तू इंतज़ार करतावह न जाने कबनिकल जायेगाबच जायेगे वही पछतावे के पलपर वो बीता कल नहीं आयेगा !!रह जाएगी सिर्फ यादे जीने कोऔर हल ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  September 25, 2013, 3:30 pm
दोस्त जो की भगवन ने एक ऐसा हम सफ़र भेजा है जिसकी हर किसी न किसी को जरुरत होती है ! ऐसा कह सकते है दोस्तों के बिना जीवन अधुरा सा है !                 लेकिन जीवन में कुछ दोस्त ऐसे होते है जो अपने दोस्त का भविष्य बना देते है               ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  September 25, 2013, 3:22 pm
     “ बीता कल “सफ़र के साथ वक़्तभी बदल जाएगा !जो छुट गया आज वोकल नहीं आएगा !खो जायेगा वो कलहज़ारों “ कल ” मेंजैसेज़मीं से उड़ता धुआ बादलो में मिल जायेगारह जायेगा तू इंतज़ार करतावह न जाने कबनिकल जायेगाबच जायेगे वही पछतावे के पलपर वो बीता कल नहीं आयेगा !!रह जाएगी सिर्फ ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  September 25, 2013, 2:37 pm
“माँ “जब में छोटा बच्चा था बड़ी शरारत करता था !माँ की दिखाई आँखों सेतब बड़ा डरता था !!कभी भागा इधर कभी उधरभागा करता था !माँ सुनाती थी कहानी जब देरतक जागा करता था !!अगर मारे कोई माँ की गोदमें जा पड़ता था !!माँ सहलाती जब प्यार से और हँसीसे उछल पड़ता था !!जो करता है प्यार “माँ “से ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  September 9, 2013, 2:41 pm
” साया “ बचपन में खिलाना घोड़ा बन बच्चे को झुलाना, कभी रुलाकर कभी हंसाना बहार लेजा खिलौना दिलाना फिर हँसता देख खुश हो जाना उनकी लाठी बनने का दिन वो आज आया है, पिता बचपन से ही हर बच्चे का साया है ! सही रास्ता बता गलत पर जाने से बचाना, गलती हो जाने पर फिर धाटी लगाना, संस्कार द...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  June 18, 2013, 12:26 pm
”साया “बचपन में खिलाना घोड़ा बन बच्चे को झुलाना,कभी रुलाकर कभी हंसानाबहार लेजा खिलौना दिलाना फिर हँसता देख खुश हो जानाउनकी लाठी बनने का दिन वो आज आया है, पिता बचपन से ही हर बच्चे का साया है !सही रास्ता बता गलत पर जाने से बचाना, गलती हो जाने पर फिर धाटी लगाना, संस्कार दे अच...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  June 18, 2013, 12:26 pm
             बावले हो तुम “दिल्ली “भारत की राजधानी है ! जिसमे कुछ लोग ऐसे है जो अच्छे है तो कुछ ऐसे है जो थोड़े कम अच्छे है !  और कुछ ऐसे है जो बुरे है उनकी तो बात ही मत करो वैसे भी बुरे लोगो की बात कर के समय बर्बाद नहीं करना चाहिए .....!! छोड़िये यह तो हर शहर की कहानी है ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,!!!!यह ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  June 2, 2013, 3:46 pm
हाँ हाँ में पतला हूँ !!आजकल पतला होना भी कितना गुनाह हो गया न ! लेकिन अब कोई क्या करे इस दुनिया में कोई मोटा है तो कोई पतला कोई ऊँचा है तो कोई नीचा !लेकिन कुछ लोग दुसरो का मजाक बनाते समय हिचकिचाते नहीं !अरे .......! मुझे ही ले लो पूरे 19 साल का सो गया बीस का अब हो जाऊंगा लम्बाई तो 5 फिट ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  June 2, 2013, 3:29 pm
“एक तोते की कहानी उसी की जुबानी  ”मै हरा हूँ मेरे पंख भी हरे उड़ता हूँ जंगलो में हरे भरे !!बच्चे मुझे करते हैबड़ा प्यार अपनी छवि से उन्हें देता हूँ निहार !!पेड़ पर हूँ में घर अपना बनाता !मीठी बाते अपनी सबको सुनाता !!खता हूँ मिर्च हरी और लेता हूँ सबका नाम !अपने मूँह से अपनी तार...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 16, 2013, 12:27 pm
औक़ात में रहकर ही मैं कोई बात करता हूँ,अपना ही नहीं हर किसी के भाव समझता हु करता नहीं मै कभी अपनी -अपनी सबको बराबर अपने मै समझता हूँ न ही कोई घमंड है न ही कोई बुरी आदत है मुझमें  हर किसी को उसकी बातो से ही परखता हूँ कह देता हूँ मूँह पर ही उसके अगर वो कह रहा गलत है यूँही नहीं ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 3, 2013, 3:25 pm
औक़ात में रहकर ही मैं कोई बात करता हूँ,अपना ही नहीं हर किसी के भाव समझता हु करता नहीं मै कभी अपनी -अपनी सबको बराबर अपने मै समझता हूँ न ही कोई घमंड है न ही कोई बुरी आदत है मुझमें  हर किसी को उसकी बातो से ही परखता हूँ कह देता हूँ मूँह पर ही उसके अगर वो कह रहा गलत है यू...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 3, 2013, 3:25 pm
पहले तुम लंगूर थे अब बन गए इन्सान करले बेटा शादी बहुत मिलेगा ज्ञान !!सोजा मुन्ना सोजा अब नहीं रही तेरी उम्र जागने की !बाल हो रहे सफ़ेद तेरे नहीं रही उम्र अब लड़की ताकने की !!जरा वक्त दे दो मुझे, मैं भी रो लूँ करे कोई प्यार मुझे शायद किसी का हो लूँमज़ा नहीं आया दोबारा करो तुम...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 3, 2013, 3:15 pm
पहले तुम लंगूर थे अब बन गए इन्सान करले बेटा शादी बहुत मिलेगा ज्ञान !!सोजा मुन्ना सोजा अब नहीं रही तेरी उम्र जागने की !बाल हो रहे सफ़ेद तेरे नहीं रही उम्र अब लड़की ताकने की !!जरा वक्त दे दो मुझे, मैं भी रो लूँ करे कोई प्यार मुझे शायद किसी का हो लूँमज़ा नहीं आया दोबारा कर...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 3, 2013, 3:15 pm
तुम समुन्दर की बात करते होलोग आँखों मे डूब जाते हैं ,दो पेग पीकर दारु के जन्नत ए जहाँ घूम जाते है !!रह जाती है बस यादे उनकी वो हमे ही भूल जाते है इंतज़ार करते है उन लम्हों का वो लम्हे आंसुओ में घूल जाते है रह जाती है बस यादे जीने को वो याद न आने के बहाने बना जाते है झूटा कह ब...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 3, 2013, 2:58 pm
तुम समुन्दर की बात करते होलोग आँखों मे डूब जाते हैं ,दो पेग पीकर दारु के जन्नत ए जहाँ घूम जाते है !!रह जाती है बस यादे उनकी वो हमे ही भूल जाते है इंतज़ार करते है उन लम्हों का वो लम्हे आंसुओ में घूल जाते है रह जाती है बस यादे जीने को वो याद न आने के बहाने बना जाते है ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 3, 2013, 2:58 pm
“जरुरी है”अपने जीवन में मंगल है या नही, ये खोज करनी जरुरी नहीं है ,खुद ही खुद खुश होकर क्या फायेदा,दुसरो को भी खुश करना जरुरी है,ज्यादा खुश मत होना लेकिन,खुश होना भी जरुरी है,ख़ुशी चाहिए सभी को,लेकिन दुःख होना भी जरुरी है,याद किसी न किसी को करना हर,किसी की यह मज़बूरी है,दूर ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 1, 2013, 1:50 pm
__यारी __साथ रहकर उसके आदत कुछ सीखी ,बुरी तो कुछ प्यारी ,यही तक थी दोस्ती,  यही तक थी यारी !!रोज़ देखता था तस्वीर उसकी, एक नहीं बहुत सारी, कभी लगता सेठ,कभी लगता पनवारी !!कुछ तो बात थी उसमे ,और थोड़ी समझदारी,बार-१ यही कहता बुरी आदत है तुम्हारी !!ऐसी ही थी कुछ दोस्ती हमारी,यही तक थी द...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 1, 2013, 1:32 pm
__यारी __साथ रहकर उसके आदत कुछ सीखी ,बुरी तो कुछ प्यारी ,यही तक थी दोस्ती,  यही तक थी यारी !!रोज़ देखता था तस्वीर उसकी, एक नहीं बहुत सारी, कभी लगता सेठ,कभी लगता पनवारी !!कुछ तो बात थी उसमे ,और थोड़ी समझदारी,बार-१ यही कहता बुरी आदत है तुम्हारी !!ऐसी ही थी कुछ दोस्ती हमारी,यही तक थी ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  April 1, 2013, 1:32 pm
तुम समुन्दर की बात करते होलोग आँखों मे डूब जाते हैं ,दो पेग पीकर दारु के जन्नत ए जहाँ घूम जाते है !!रह जाती है बस यादे उनकी वो हमे ही भूल जाते है इंतज़ार करते है उन लम्हों का वो लम्हे आंसुओ में घूल जाते है रह जाती है बस यादे जीने को वो याद न आने के बहाने बना जाते है झूट कह दे...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  March 31, 2013, 12:25 am
तुम समुन्दर की बात करते होलोग आँखों मे डूब जाते हैं ,दो पेग पीकर दारु के जन्नत ए जहाँ घूम जाते है !!रह जाती है बस यादे उनकी वो हमे ही भूल जाते है इंतज़ार करते है उन लम्हों का वो लम्हे आंसुओ में घूल जाते है रह जाती है बस यादे जीने को वो याद न आने के बहाने बना जाते है ...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  March 31, 2013, 12:25 am
“बेटी है तो कल है  “       जो समझते खुद को बड़ा और समझते सब कुछ उन्हें आवत है !जो करते है भ्रूण हत्या बेटी............ उनको बेटी लगती आफत है !!वो नहीं जानते....................... बेटी है तो कल है !कर देते है भ्रूण हत्या और सोचते यही अच्छा हल है !!लालत है उन लोगो पर जो करते भ्रूण हत्या है !इतना बड़ा जुर...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  March 30, 2013, 3:31 pm
“पागल आंटी “सड़क पर खड़े कर रहे थे इरादा पक्का !सामने खड़ी आंटी से हो रहा था नैन मटक्का !!तभी एक आदमी आया और कहे अपने विचार !सामने से आया उसका पति बच्चे लेकर चार !!लड़के थे सयाने वो भी नहीं माने !लेकर गए चॉकलेट बच्चो को मानाने !!औरत भी थी बड़ी सायानी वो नहीं मानी !गई सामने दुका...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  March 30, 2013, 2:49 pm
"समय की लीला "वक़्त का कोई मोल नहीं होता यह बड़ा अनमोल है रुकता नहीं कभी किसी के लिए इसका यही  झोल हैकभी आता किसी के पास अच्छा कभी आता किसी पर बुरा है बिना वक़्त के जीवन बिकुल अधुरा है वक़्त ही सिखाता है वक़्त ही रुलाता है यही ज़िन्दगी के हर उतर चड़ाव  व्यक्ति को जीवन मे...
हँसी की महफ़िल ...
Tag :
  March 21, 2013, 12:23 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163666)