Hamarivani.com

मेरे विचार मेरी अनुभूति

दोहे (व्यंग )हमको बोला था गधा, देखो अब परिणाम |दुलत्ती तुमको अब पड़ी, सच हुआ रामनाम||चिल्लाते थे सब गधे, खड़ी हुई अब खाट|गदहा अब गर्धभ हुए, गर्धभ का है ठाट ||हाथ काट कर रख दिया, कटा करी का पैर |बाइसिकिल टूटी पड़ी, किसी को नहीं खैर ||पाँच साल तक मौज की, कहाँ याद थी आम |एक एक पल कीमती, तरसत...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  March 12, 2017, 7:57 am
.एक बार फिर राम जी,तारो नैया पार |यू पी में सरकार हो, मंदिर हो तैयार ||झूठ नहीं हम बोलते, पार्टीहै मजबूर |हमें करो विजयी अगर,बाधा होगी दूर ||जाति धर्म सब कट गया, वजह सुप्रीम कोर्ट|आधार कुछ बचा नहीं, कैसे मांगे वोट ||तुम ही हो मातापिता, बंधू भ्राता यार |साम दाम या भेद हो,ले जाओ उस प...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  January 31, 2017, 7:45 am
मधुरआम उपवन उपज, करते सब रस पान |तिक्त करेला कटु बहुत, करता रोग निदान ||काला जामुन है सरस, मत समझो बेकार |दूर भगाता मर्ज सब, पेट का सब बिकार ||पपीता बहुत काम का, कच्चा खाने योग्य |पक्का खाओ प्रति दिवस, है यह पाचक भोज्य ||खट्टा मीठा रस भरा, अच्छा है अंगूर |खाओ संभल के इसे, अम्ल कारी ...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  January 3, 2017, 4:02 pm
न किसी को कभी रुलाना हैहर दम हर को तो हँसाना है|१कर्मों के फुलवारी से ही यह जीवन बाग़ सजाना है |२ दुःख दर्द सबको विस्मृत कर जश्न ख़ुशी का ही मनाना है |३ मौसम का मिजाज़ जैसा हो प्रेम गीत तो गुनगुनाना है |४ रकीब की मरजी पता नहीं अपना घर नया बसाना है |५ चश्मा द्वेष का उतार देखो दुनि...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  December 22, 2016, 2:34 pm
कमजोर जो हैं तुम उन्हें बिलकुल सताया ना करोखेलो हँसो तुम तो किसी को भी रुलाया ना करो |दो चार दिन यह जिंदगी है मौज मस्ती से रहोवधु भी किसी की बेटी है उसको जलाया ना करो |चाहत की ज्वाला प्रेम है इस ज्योत को जलने ही दोलौ उठना दीपक का सगुन उसको बुझाया ना करो |अच्छी लगी हर बात जब ब...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  December 6, 2016, 11:30 am
प्रदूषणब्रह्म राक्षस अबनहीं निकलता है घड़े सेडर गया है मानव निर्मितब्रह्म राक्षस से |वह जान गया हैमानव ने पैदा किया हैएक और ब्रह्म राक्षसजो है समग्र ग्राहीधरा के विनाश के आग्रही |यह राक्षस नहीं खर दूषणयह है प्रदूषण |काला गहरा धुआंनिकलता है दिन रातकारखाने की चमनी से,म...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  November 15, 2016, 8:39 am
फागुन में होली का त्यौहारलेकर आया रंगों  का बहारलड्डू ,बर्फी,हलुआ-पुड़ी का भरमारतैयार भंग की ठंडाई घर घर।पीकर भंग की ठंडाईरंग खेलने चले दो भाईसाथ में है भाभी  और घरवालीऔर है साली ,आधी घरवाली।भैया भाभी को प्रणाम करपहले भैया को रंगा फिर भाभी संगपिचकारी मारना ,&...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  November 6, 2016, 5:15 pm
ग़ज़ल अवाम में सभी जन हैं इताब पहने हुएसहिष्णुता सभी की इजतिराब पहने हुए |गरीब था अभी तक वह, बुरा भला क्या कहेघमंडी हो गया ताकत के ख्याब पहने हुए |मसलना नव कली को जिनकी थी नियत, देखोवे नेता निकले हैं माला गुलाब पहने हुए |अवैध नीति को वैधिक बनाना है धंधावे करते केसरिया कीनखा...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  November 3, 2016, 8:07 am
ग़ज़ल अवाम में सभी जन हैं इताब पहने हुएसहिष्णुता सभी की इजतिराब पहने हुए |गरीब था अभी तक वह, बुरा भला क्या कहेघमंडी हो गया ताकत के ख्याब पहने हुए |मसलना नव कली को जिनकी थी नियत, देखोवे नेता निकले हैं माला गुलाब पहने हुए |अवैध नीति को वैधिक बनाना है धंधावे करते केसरिया कीनखा...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  November 3, 2016, 8:07 am
मिटटी से मेरा जनम हुआ, मिटटी में मिल जाता हूँछोटी सी है जिंदगी मगर, जगत को जगमगाता हूँ | दीवाली हो या होली हो, प्रात:काल या सबेरा जब भी जलाया मुझे तुमने, किया दूर सब अन्धेरा |जलना ही मेरी नियति बनी, जलकर प्रकाश देता हूँ मिटटी से मेरा जनम हुआ, मिटटी में मिल जाता हूँछोटी सी है ज...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  November 1, 2016, 10:29 am
...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  October 27, 2016, 6:18 pm
हम हैं जवान रक्षक देश के,  अडिग जानो हमारा अहद,प्रबल चेतावनी समझो इसे, भूलकर पार करना न सरहद |अत्याचार किया अबतक तुमने, हमने भी सहन किया बेहद,सर्जिकल का नमूना तो देखा, अब तो पहचानो अपनी हद |मानकर तुम्हे पडोसी हमने, दिया तुम्हे समुचित मान ,उदारता को तुम कमजोरी समझे, हमारी श...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  October 22, 2016, 5:27 am
करवा चौथ समाज में कुछ है आस्थाउससे ज्यादा प्रचलित है व्यवस्था,प्रगतिशील वैज्ञानिक युग में ज्ञान का विस्फोट हो चुका है उसके रौशनी में छटपटा रही है कुछ आस्था तोड़ना चाहती है पुरानी व्यावस्था |  मानते हैं सब कोई ..,कुछ रस्मे रीति रिवाजेंमुमूर्ष साँसे गिन रही हैं,फिर भी उ...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  October 19, 2016, 4:12 pm
स्वदेश :जन्मभूमि को कभी भूलो नहीं, यही है स्वदेश पढ़ लिख कर हुए बड़े, तुम्हारा परिचित परिवेश एक एक कण रक्त मज्जा, बना इसके अन्न से कमाओ खाओ कहीं, पर याद रहे अपना देश |विदेश :विदेश का सैर सपाटा सब सुहाना लगता है नए लोग, परिधान नई, दृश्य सबको भाता है‘वसुधैव कुटुम्बकम’ जिसके मन म...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :स्वदेश /विदेश
  October 18, 2016, 11:00 am
गीतिका ----नौ दुर्गा –प्रार्थनाबहर: २१२२ २१२२ २१२२ २१२रदीफ़ : चाहिए ; काफिया : “आ” नौ दिनों की माँग भक्तों की माँ सुनना चाहिएवे बुलाते तो माँ उनके घर में आना चाहिए |शांति की देवी तू, संकट मोचनी दुख नाशिनीभक्त को सुख शान्ति का वर दान देना चाहिए |खड्ग हस्ता, ढाल मुद्गर, शूल अस्...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :प्रार्थना-
  October 6, 2016, 3:47 pm
ना करो ऐसे कुछ, रस्म जैसे निभाती होआरसी भी तरस जाता, तब मुहँ दिखाती हो |छोड़कर तब गयी अब हमें, क्यों रुलाती होयाद के झरने में आब जू, तुम बहाती हो |रात दिन जब लगी आँख, बन ख़्वाब आती होअलविदा कह दिया फिर, अभी क्यों सताती हो ?जिंदगी जीये हैं इस जहाँ मौज मस्ती सेगलतियाँ भी किये याद क...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :विरह
  October 3, 2016, 7:59 am
उरी में शहीद हुए,शहीदों को समर्पितपकिस्तान मिट जायगा !कश्मीर होगा अब से देखो, भारत देश की शानपाकिस्तान का मिट जायगा, सभी नामो निशान|सोना, मरना एक जैसा, निर्जीव शव है जैसा सोता अनजान होता है, आस पास कौन कैसा|कायर हो तुम अधम, सोते में उनकी जान लीनिर्जीव शव को मार कर, बहादुरी ...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :शहीद
  September 21, 2016, 8:09 am
बुद्ध, जैन, सिख, ईशाई, हिन्दू, मुसलमान सबका मत एक ही है, क्षमा ही महा दान |हर धर्म मानता है क्षमा,शांति का है मूल जानकर भी फैलाते नफरत, क्यों करते यह भूल?त्यागना होगा खुद का स्वार्थ, करके अंगीकारत्यागना होगा भेद भाव, धन जन का अहंकार |धर्म के नाम से धंधा कर, बोते हैं विष वेल क्...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :सहनशीलता
  September 20, 2016, 8:37 am
अर्ज करो भगवान से, वे हैं बड़े महान |सफ़ल करे हर काम में, सबको देते ज्ञान ||गए नहीं गर स्कूल तुम, आओ मेरे पास |उन्नति होगी वुद्धि की, छोडो ना तुम आस ||वर्णों का परिचय प्रथम, बाकी उसके बाद |याद करो गिनती सही, होगे तुम आबाद ||पढ़ो लिखो आगे बढ़ो, करो देश का नाम |पढ़ लिख कर सब योग्य बन, करना वि...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  September 18, 2016, 12:24 pm
कर्मणि अधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन भाग इंसान भागतेरा भाग्य तभी उठेगा जाग,सुस्त पड़ा सोता रहेगायह जग तेरे आगे निकल जायगा |यह शरीर मिला है तुझेइसका कुछ कर्म हैहर अंग का कुछ धर्म हैउसका तू पालन कर |श्रीकृष्ण ने कहा,“बिना फल की इच्छातू कर्म कर .......”किन्तु बिना फल की इच्छा,ते...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  September 17, 2016, 8:46 am
प्रजातंत्र के देश में, परिवारों का राजवंशवाद की चौकड़ी, बन बैठे अधिराज|वंशवाद की बेल अब, फैली सारा देशपरदेशी हम देश में, लगता है परदेश|लोकतंत्र को हर लिये, मिलकर नेता लोगहर पद पर बैठा दिये, अपने अपने लोग|हिला दिया बुनियाद को, आज़ादी के बादअंग्रेज भी किये नहीं, तू सुन अंतर्न...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :वंशवाद
  September 14, 2016, 7:40 am
मौसम है बरसात का, मच्छर के अनुकूल डेंगू और मलेरिया , गन्दी नाली-कूल      मसक भगाने वास्ते, उत्तम पत्ती नीम    जलाओ इसे शाम को, नीम का गुण असीम  छत की टंकी साफ़ हो, घर में पहुँचे धूप बचने दोनों मर्ज से, करो कुछ दौड़–धूप  राग द्वेष सब दूर हैं, मन जब होता शांत   मन व...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  August 21, 2016, 7:21 am
हम अपनी आज़ादी का जश्न, बोलो अब कैसे मनाएँ अमर शहीदों के बलिदान की, गाथा किसको सुनाएँ ?भूखे रहे, गोली खाए वे, लड़ते लड़ते सब शहीद हुए मजबूत आंग्ल डंडा भी, हौसला वीरों का तोड़ न पाये |गोरे अंग्रेज तो चले गए, काले अंग्रेज को कौन भगाएँ हम अपनी...जालियाँवाला बाग़ को देखा, देखा नोआखाली ...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  August 17, 2016, 8:23 am
आपसी झगडा भूलकर बोलो, भारत एक परिवार हैएक स्वर में बोलो सभी, कश्मीर पूरा हमारा है |अलग अलग हैं रहन सहन, अलग अलग है भाषाअलग अलग खान पान हैं, अलग अलग वेश भूषामज़हब का कोई बंदिश नहीं, इबादत की आजादी हैविविधता में एकता है, यही हमारी अंतर्धारा है |आपसी झगडा भूलकर बोलो, भारत एक परि...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  August 11, 2016, 7:07 am
उस ने सोचा सही आदमी की तरहभावना से भरा दिल नदी की तरह  |हर समर जीतना, है नहीं लाज़मीमैं न माना है, बेचारगी की तरह |अडचनों से कभी, हम डरे ही नहींहम ने देखा नहीं, जिंदगी की तरह|इंतजारों  के पल तो, गुज़रता नहींहर घडी बीतती, चौजुगी की तरह |होती वर्षा कभी, मूसलाधार भीनाली बहती है क...
मेरे विचार मेरी अनुभूति...
Tag :
  July 23, 2016, 9:46 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163572)