Hamarivani.com

संस्कृति -विरासत

आखिर कब तक................झूठे वादों से तुम कब तक लुभाओगे अपने गुनाहों को कब तक छिपाओगे बदल गया है बहुत कुछ जरा गौर से देखोशराफत का चोल कब तक ओढ़ पाओगेहमारे खेतों की सब्जी जहरीली हो गयीविदेशी दुकानों का मॉल कब तक खिलाओगेपी गए डीजल पेट्रोल कोयला भी खा गयेऐसे महंगाई का चूल्हा कब ...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  January 17, 2013, 4:22 pm
Nov. 13, 2008 — In archaeological excavations the Israel Antiquities Authority is carrying out at the behest of the Western Wall Heritage Foundation, in the northwestern part of the Western Wall plaza in Jerusalem, a rare and impressive Hebrew seal was discovered that dates to the latter part of the First Temple period. The seal was found in a building that is currently being uncovered, which dates to the seventh century BCE – to the time when the kings Manasseh and Josiah reigned.The seal will be shown today (Thursday, October 30, 2008) during a study day dealing with “Innovations in the Archaeology of Jerusalem and its Surroundings”, organized by the Jerusalem Region of the Israel...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  January 9, 2013, 4:32 pm
1st Century AD Roman Bronze Yoked Bulls - RARE!www.fragmentsoftime.com...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  January 9, 2013, 4:26 pm
यूँ खिलाता रहे मदहोश तेरा यौवन और सलामत रहे सनम तेरा चितवन तू मुस्कुराये तो हसें सारा आलम खिलाता पारसा हो निज तेरा तन मन काफी है तेरी मस्त निगाही साकी मयखाने की रौनक तेरा अल्लहड़ पन मस्ताने रिंद को जमीं से क्या मतलबये फिजा, ये रात, ये सितरों का बाकपनतेरी मदिरायी आँखो...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  January 9, 2013, 4:11 pm
कभी रुलाती हैं आँखें कभी हसाती हैं आँखें और गम गर दिल का हो तो बताती हैं आँखें रिश्ते नाते प्यार मोहब्बत संसार की बातें हमारे दिल में हर ख्वाब को सजाती हैं आँखेंदिल के सहरा में कोई आस का जुगुनू भी नहींतेरी याद आती है तो साथ निभाती हैं आँखें..................................सुलक्षणा-मनु...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  January 9, 2013, 4:06 pm
HAPPY NEW YEAR all of you My Friends.............
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  January 1, 2013, 12:53 pm
संवेदनाओं को खोते आप और हम.............                             मै बहुत असमंजस और ऊहापोह की उलझनों की कशमकश में हूँ ....। क्या कहूँ क्या लिखूँ नहीं आ रहे शब्द उसके लिये जिसने समाज को हम सबको जन्म दिया उसके सम्बन्ध में लिखने के लिये कलम काँप रही है होंठ थर्रा रहे .............हैं । अनादि काल से नार...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  December 25, 2012, 9:09 pm
दोस्तो आज मैं आपलागों के समक्ष एक बेहद गम्भीर प्रश्न रख रहा हूं कृपया इस पर अपने विचार जरूर दें...............भारत एक आदि देश है और इसकी संस्कृति, सभ्यता एवं परम्परायें अनादि काल से चली आ रही हैं किन्तु आधुनिक भारतीय इतिहास में यह पढ़ाया या बताया जाता है कि सन् 1498 ई. में भारत की खो...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  December 18, 2012, 8:33 pm
लौह पुरूष सरदार बल्लभ भार्इ पटेललौह पुरूष सरदार बल्लभ भार्इ पटेल भारत के देश भक्तों में एक अमूल्य  रत्न थे । वे भारत के राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम के अक्षय शकित स्तम्भ थे । आत्म त्याग, अनवरत सेवा तथा अन्य दूसरों को दिव्य शकित की चेतना देने वाले एक युग पुरूष थे । उनका...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  December 18, 2012, 1:19 pm
JANE KYA HO GAYA....मौसम के मिज़ाज को जाने क्या हो गया है जबसे तुम गये हो ये भी खफा हो गया है चमन की कलियों में ना दमक ना खुश्बू है आज पैमाना भी कुछ नपा तुला हो गया हैकतरा कतरा भी तेरे लबों का प्यासा है मनुफिर भी मुझे ना जाने कैसा नशा हो गया है...................................सुलक्षणा-मनु...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  December 8, 2012, 2:37 pm
तुम मेरे करीब होते हम नहीं गरीब होते मुश्किलों में जी लेता तुम मेरे नसीब होते हर शाम हसीन होती गर  मेरे मज़ीद होते ख्वाहिशें जिंदा होती गर  मेरे रक़ीब होते तुम मेरे करीब होते हम नहीं गरीब होते ..........सुलक्षणा-मनु ...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  November 4, 2012, 10:05 am
...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  October 12, 2012, 8:09 pm
FIGHT FOR DELHIIt was a tough seven day battle. Most of the fighting was hand to hand with the every inch having been fought for. The operations began on the morning of 14th of September 1857. The revolutionaries put up a strong fight and by the 15th the situation in the British camp was so bad that their commander, General Wilson, was contemplating withdrawal, but Nicholson forced him to stay on in the fight. The following days - 16th, 17th, 18th September - also did not bring much cheer into the British camp.But the revolutionaries had nothing else but raw courage and the undying will to fight. The thing they lacked (as has been the case at many decisive moments in Indian history), were g...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  September 18, 2012, 5:05 pm
ज़िन्दा जिन्दगी में क्यों रहने ना दिया दिल के ज़ज्बात कभी कहने ना दिया मालूम था ढूंढेंगें मेरे चले जाने के बाद मगर पता मेरी मज़ार का किसने बता दिया...............................................सुलक्षणा-मनु...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  September 14, 2012, 2:30 pm
तड़प दिल की जाने ना अंजाम क्या होगा तुम घर आये नहीं इन्तज़ाम क्या होगा हवायें तो आज भी आती हैं तुम्हे छू कर मनु और इससे ज्यादा अब इम्तहान क्या होगा............................................सुलक्षणा-मनु...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  September 14, 2012, 2:27 pm
गज़ल की जुबानी डूबकर भी कस्ती पार हो जायेगी ये देखकर दुनिया हैरान हो जायेगी कैसे चले थे दो प्यार करने वाले ये मुश्किलें भी आसान हो जायेगी सिर्फ जिस्म बदल जायेंगें तेरे मेरे रूहें एक दूजे में फना हो जायेंगी मुश्किल है हमें अलग करना मनु जब गज़ल की जुबानी हो जायेगी ..............
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  September 1, 2012, 10:38 pm

...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  July 19, 2012, 9:55 am
en aasuo ki ...
संस्कृति -विरासत...
Tag :
  June 29, 2012, 5:06 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165905)