Hamarivani.com

जिरह

इतना भी बुरा नहीं यह वक्त, जितना सब कोसते हैंकल की कल देखेंगे, हम तो बस आज की सोचते हैंबेफिक्र होकर तू सपने पाल, भर ले अपनी उड़ान पूरीअपनी जिद पर अड़े हम, शायद कुछ ज्यादा सोचते हैंदिल्ली में तो रोशनी है, पर गांव का है मेरे बुरा हालकैसे छोड़ आए बूढ़े बाबा को, रात-दिन हम सोचते ...
जिरह...
Tag :अनुराग अन्वेषी
  January 26, 2014, 3:00 am
खूबसूरत शहर की यह अजब बात हैसंभलो यारो, कदम-दर-कदम घात है।मेरे दिए खून से बची जिसकी जिंदगीवही मुझसे पूछता है, तेरी क्या जात है।खुद ही सबको लड़नी है अपनी लड़ाईकिसका भरोसा, अब किसका साथ है।तू सिर्फ अपना काम किए चला चलमत सोच जिंदगी शह या कि मात है।मेरी हिम्मत का राज अब तू भी...
जिरह...
Tag :अनुराग अन्वेषी
  January 24, 2014, 11:19 am
दिल की बात कहो जब, बंद किवाड़ समझते हैंअजब अहमक हैं वो, तिल को ताड़ समझते हैंकितनी बार कहा कि खुली हवा में घूम आएंघर में बैठे हैं और घर को तिहाड़ समझते हैंतकलीफें तो हैं, पर मन है अब भी हरा-भराउनसे क्या कहूं जो मुझको उजाड़ समझते हैंयह उसका असर नहीं, आपमें बसा वह डर हैकि उसक...
जिरह...
Tag :अनुराग अन्वेषी
  January 23, 2014, 12:30 pm
मन की बात बोलना कोई मर्ज नहींमुझसे कुछ भी बोलो, कोई हर्ज नहींसीधेपन पर मेरे तुम मत करो शकघटनाएं याद हैं, नाम कोई दर्ज नहींहां यह सही है कि मैं जिद्दी हूं बहुतउतारूंगा सारे, रखूंगा कोई कर्ज नहींजरूरी नहीं कि तुम रखो मेरा ख्याललगे जो मजबूरी, वह कोई फर्ज नहींअनगढ़ रास्तों ...
जिरह...
Tag :अनुराग अन्वेषी
  January 21, 2014, 11:56 am
मन की बात बोलना कोई मर्ज नहींमुझसे कुछ भी बोलो, कोई हर्ज नहींसीधेपन पर मेरे तुम मत करो शकघटनाएं याद हैं, नाम कोई दर्ज नहींहां यह सही है कि मैं जिद्दी हूं बहुतउतारूंगा सारे, रखूंगा कोई कर्ज नहींजरूरी नहीं कि तुम रखो मेरा ख्याललगे जो मजबूरी, वह कोई फर्ज नहींअनगढ़ रास्तों ...
जिरह...
Tag :अनुराग अन्वेषी
  January 21, 2014, 11:56 am

खुद की सांसों से जब लिहाफ गरम होता हैपस्त पड़ती है ठंड, शरीर नरम होता है।अजब शहर है दिल्ली, रौनक देखो यहां कीजिससे भी मिलो, सगे होने का भरम होता है।अजब हाल है, शक होने लगा है खुद पर भीक्योंकि अब तो हर मर्द में एक हरम होता है।वह संस्कार गुम हो गया है हर घर से कहींशायद जानवरो...
जिरह...
Tag :
  January 20, 2014, 11:21 am
यह कोई नयी बात नहींयह सब जानते हैंकि मां माने आश्वस्तिमैंने यह तब जाना था अपने छुटपन में हीजब बहुत कुछ नहीं था हमारे पासपर थी मेरी एक मांजिसके आंचल में मेरी हर परेशानीऔर जरूरत का हल भरा होता थाकुछ और बरस बादजब मेरे भीतर पलने लगे थे सपनेपसरने लगे थे कई-कई शौक, जिन्हें पू...
जिरह...
Tag :
  January 6, 2014, 7:18 pm
खुद की सांसों से जब लिहाफ गरम होता हैपस्त पड़ती है ठंड, शरीर नरम होता है।अजब शहर है दिल्ली, रौनक देखो यहां कीजिससे भी मिलो, सगे होने का भरम होता है।अजब हाल है, शक होने लगा है खुद पर भीक्योंकि अब तो हर मर्द में एक हरम होता है।वह संस्कार गुम हो गया है हर घर से कहींशायद जानवरो...
जिरह...
Tag :
  January 6, 2014, 7:17 pm
अनुराग अन्वेषी11 अक्टूबर की बिग पार्टी का हैंगओवर उतरा भी नहीं था कि बिग बी को जूनियर बी ने उठा दिया। एक बुड्ढा मिलने आया है आपसे। खुद को सत्तर का हीरो बता रहा है – जूनियर बी ने कहा था। बिग बी चौंके कि अरे, अभी तो रात में मिले थे दिलीप साहेब...फिर इतनी सुबह-सुबह क्यों आए भला। ...
जिरह...
Tag :जयप्रकाश नारायण
  October 12, 2013, 1:52 am
इरोम चानू शर्मिला पर अदालत ने आरोप तय कर दिया है और अब उन पर आत्महत्या की कोशिश का मुकदमा चलेगा। यह वाकई दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने 4 नवंबर 2000 को अपना अनशन शुरू किया था, इस उम्मीद के साथ कि 1958 से अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, मणिपुर, असम, नगालैंड, मिजोरम और त्रिपुरा में और 1990 से ...
जिरह...
Tag :नॉर्थ-ईस्ट
  March 9, 2013, 11:47 am
जरूरी नहीं कि सारे सच कहे ही जाएंया कि देखे जाएंसच कहना नहीं चाहते तो न कहेंनहीं देखना चाहते, तो न देखेंपर ऐसा कुछ भी करने सेसच का चेहरा जरा भी नहीं बदलताजो बदलाव होता है वह आप में होता हैकि आप जानते हैं कि सच आपने नहीं देखाकि आप जानते हैं कि सच आपने नहीं सुनाकि आप जानते ह...
जिरह...
Tag :समय
  February 12, 2013, 10:17 am
दिल्ली में हुए गैंगरेप की सुनवाई कोर्ट में इन कैमरा चल रही है। मेरे पड़ोसी ने मुझसे पूछा – इस मामले में न्याय पाने के लिए जितना तीखा विरोध हुआ, उसे उतने ही जबर्दस्त तरीके से मीडिया में जगह भी मिली। पर जब अब मामला कोर्ट में है तो उसकी खबर उतने विस्तार से नहीं है, आखिर बात क...
जिरह...
Tag :निर्भया
  February 11, 2013, 12:27 pm
यह लेख मैंने पांच दिन पहले लिखा था। उस वक्त तक वह जिंदा थी। आज फर्क इतना है कि वह हम सबों के भीतर जिंदा है। पर अगर उसे सचमुच जिंदा रखना है तो इस मर्दवादी समाज को बदलना होगा, उसे स्त्रियों के बारे में अपने सोचने के तौर-तरीके में बदलाव करना होगा। अन्यथा वह बार-बार मरती रहेगी ...
जिरह...
Tag :
  December 30, 2012, 12:52 am
प्यार क्या है एक अदृश्य ताकत?जो आपको खड़ा होने की हिम्मत देता है खिलाफ बह रही तमाम हवाओं के खिलाफजो आपको सिखाता है कि जीना है तो मरने के लिए रहो हरदम तैयार और आप मेमने को खाने पर अड़े भूखे शेर से भी लड़ने को हो जाते हैं खड़ेजब तक यह अदृश्य ताकत आपके भीतर बहती हैतेज से तेज ...
जिरह...
Tag :
  December 2, 2012, 12:34 pm
संसद की स्थायी समिति के पास है लोकपाल विधेयक। सरकार उसे वापस ले सकती है। इस बीच अरुणा राय और अन्ना हजारे के प्रस्तावित बिल भी संसदीय समिति के पास भेजे जा चुके हैं। अनशन के नौवें दिन बिल के विभिन्न बिंदुओं पर सर्वदलीय बैठक में कोई सहमति नहीं हो सकी और अन्ना टीम के साथ क...
जिरह...
Tag :जनलोकपाल
  August 26, 2011, 9:29 am
किसी गर्म, कुरमुरी, जायकेदार जलेबी को मुंह में रखनेऔर उसे गप कर जाने से पहलेउसकी खुशबू और उसके रस का पूरा आनंद लेने के बीचक्या आपने ध्यान दिया हैकि हमारी भाषाकैसे-कैसे बेख़बर अत्याचार करती है?अगर किसी को आप जलेबी जैसा सीधा कहते हैंतो ये उसके टेढ़ेपन पर व्यंग्य भरी टिप...
जिरह...
Tag :
  September 30, 2010, 11:31 am
मोह जब हो भंग, तो आदमी खुद को ठगा सा महसूस करता है। उसे लगता है कि वह अब तक खुद को छल रहा था। वैसे खुद को छलने वाले लोग भी होते हैं, आत्ममुग्ध, आत्मरति के शिकार। पर जब वाकई दूसरों के हाथों छले जाएं, तो उनकी पीड़ा मुखर हो जाती है। पीड़ा के ऐसे क्षणों में आखिर आदमी क्या करे, कहां...
जिरह...
Tag :
  April 11, 2010, 5:39 pm
अनिता, अनुनय और मान्या के बिना शुरू के दो दिन तोमैंने खूब चैन से गुजारे। लगा कि 17 मार्च की खुशियां बरकरार हैं। अगर स्वर्ग होता होगा तो शायद उसका सुख यही है। पर तीसरे दिन से ही मेरा भ्रम टूटने लगा। मुझे मेरा घर अचानक पराया लगने लगा। दफ्तर से लौटता तो यहां का सूनापन मुझे का...
जिरह...
Tag :
  March 24, 2010, 8:07 am
सुबह 5 बजे सोने गया और अब 10:30 बजे सो कर उठा हूं। कोई शोरगुल नहीं। खूब गहरी नींद आई। सोकर उठा तो मोबाइल में 18 मिस्ड कॉल दिखी। चार बार मेमसाब (मेरी श्रीमती जी) ने फोन किया था। बाकि 14 साथी-संगतियों की कॉल थी। सोचा था इन सात दिनों में पुराने बचे कई काम निबटा लूंगा। कुछ लेख लिखने थे...
जिरह...
Tag :
  March 18, 2010, 10:35 am
पिछले कई दिनों से इस सत्रह मार्च का मैं बेसब्री से इंतजार कर रहा था। रोज जीटॉक के स्टेटस मेसेज में इस दिन के इंतजार में मेसेज बदल रहा था। संगी-साथी पूछ रहे थे कि क्या मामला है। मैं क्या बताता उन्हें। डरा मैं भी था कि श्रीमती जी ने कहीं टिकट कैंसल करा दिया तो? बहरहाल, श्रीम...
जिरह...
Tag :
  March 17, 2010, 1:46 am
प्यारी बेटा,कैसी है तू? पढ़ाई-लिखाई का क्या हाल है? समय का इक्वल डिस्ट्रिब्यूशन किया है न? देख बेटा, पढ़ाई के साथ मस्ती भी बेहद जरूरी है। जितनी ईमानदारी से पढ़ती है उतनी ईमानदारी के साथ मस्ती भी कर। किसी एक चीज पर पिले रहने से मुकाम तो हासिल कर लेगी, पर पर्सनैलिटी नहीं। इस...
जिरह...
Tag :
  February 14, 2010, 2:59 am
इलेक्ट्रॉनिक मीडिया दूर से जितना लुभावना लगता है उसका सच उतना ही भयानक है। मेरी एक बेहद करीबी मित्र जो दिल्ली के एक न्यूज चैनल में काम करती थी। पर वहां उसे अपने बॉस के अप्रोच ने इस कदर डरा दिया कि उसने नौकरी छोड़ दी। उसने कसम खाई कि वह कभी किसी इलेक्ट्रॉनिक चैनल में काम ...
जिरह...
Tag :
  January 23, 2010, 1:20 pm
पामें न अमिताभ दिखते हैं, न उनकी एक्टिंग की ऊंचाई। दरअसल, उस करेक्टर में अभिनय की गुंजाइश ही नहीं थी। अमिताभ की एक्टिंग देखनी हो तो ब्लैक जैसी दर्जनों फिल्में हैं। इसलिए कहना पड़ता है कि यह फिल्म किसी एक्टर के लिए नहीं याद की जाएगी। कर्स्टन टिंबल और डोमिनिक के लाजवाब म...
जिरह...
Tag :पा
  December 19, 2009, 12:13 pm
पामें न अमिताभ दिखते हैं, न उनकी एक्टिंग की ऊंचाई। दरअसल, उस करेक्टर में अभिनय की गुंजाइश ही नहीं थी। अमिताभ की एक्टिंग देखनी हो तो ब्लैक जैसी दर्जनों फिल्में हैं। इसलिए कहना पड़ता है कि यह फिल्म किसी एक्टर के लिए नहीं याद की जाएगी। कर्स्टन टिंबल और डोमिनिक के लाजवाब म...
जिरह...
Tag :बिग बी
  December 19, 2009, 12:13 pm
रामदास कदम को एनडीटीवी पर बोलते सुना। शुक्र है उनका कि यहां वह हिंदी में बोल रहे थे। उसी हिंदी में जिसमें शपथ लेते समाजवादी पार्टी के विधायक अबू आजमी के साथ उन्होंने हाथापाई की। इसे कहते हैं दुकानदारी। मराठियों के बीच अपनी जगह बनाने के लिए (यह बहस का अलग मुद्दा हो सकता ...
जिरह...
Tag :
  November 9, 2009, 9:56 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165980)