Hamarivani.com

वीणा के सुर

आज एकदुष्कर्म पीड़ित की मौत नहीं हुईमौत हुई हैएक सभ्यता कीएक संस्कृति कीनारी की अस्मिता कीहर मां मरी है बेवक्तहर बहन का आंचल हुआ है तार-तारदफन हुई हैं भावनाएंवासना के कौफीन मेंसारी चिरैया उड़ चुकी हैंमां के आंगन सेतिनके चुगने भी नहीं उतरेंगीधरा परकहीं फिर से ना फंस ...
वीणा के सुर...
Tag :अनामिका
  December 29, 2012, 5:56 pm
  मुझसे किसी ने कहाकविता हैपार्थिव शब्दों का संसारमैं नहीं मानतीइन शब्दों में भरी हैमकरंद की मिठाससुमन की गंध की महकप्रिया के श्रंगार कारोमांच भरता संसारप्रियतम के हाथों का स्पर्शइन शब्दों में बसी हैमां का ममताबहन का प्यारपिता की छांवभाई का सहारादुखों की वेदनारू...
वीणा के सुर...
Tag :शब्दों की किलकारी
  December 28, 2012, 12:08 pm
बहुत प्रयास किया सुखा सकूंगरीबी से झरते आंसूसुखाड़ ने सुखा दिएखेत-खलिहान सारेकाश! झरने-सा बहता ये खारा पानीसींच सकता बंजर धरा कोतो खिल उठती मुस्कुराहटों की फसललहलहा उठतीदूर क्षितिज तक फैली वसुधाबहुत प्रयास कियागरीबों को दे सकूंदो जून की रोटीताकि सो सकें वो एक रात ...
वीणा के सुर...
Tag :पूंजीवाद
  December 19, 2012, 11:18 am
समय ने आज फिर दिखाया दर्पण मुझेकितना बदल गया है चेहरा मेरावो भाववो मासूमियतवो अल्हड़पनवो बचपनकहीं छूट गया पीछेमैं अभी भी भाग रही थीउन्हीं संबंधों के पीछेजिनके सिरेबंधे हुए थे बचपन सेअकेलेपन के आंगन मेंकितना रीता-सा हो गया है जीवनपरछांई बनकर चलने वाले रिश्तेकहीं ग...
वीणा के सुर...
Tag :
  December 6, 2012, 3:05 pm
मित्रों यहां रांची में नेशनल बुक फेयर चल रहा है. कल वहां कवयित्री सम्मेलन का आयोजन किया गया जिसमें मैने भी कविता पाठ किया. प्रस्तुत है हिंदी दैनिक प्रभात खबर, दैनिक भास्कर और दैनिक जागरण में छपी खबरें....
वीणा के सुर...
Tag :
  December 5, 2012, 7:14 pm
मित्रों,सभी को दीवाली की हार्दिक शुभ कामनाएं...दीपकों के प्रकाश से आपकी राह का अंधकार दूर हो..भविष्य उज्जवल हो, यही कामना है. कुछ समय पूर्व मैने एक सूचना पोस्ट की थी. कुछ लखनऊ के काम ऐसे रहे जिसके चलते हर महीने लखनऊ के चक्कर लगते रहे और मेरी मां को भी दोबारा फ्रैक्चर हो गया ...
वीणा के सुर...
Tag :
  November 16, 2012, 4:12 pm
मित्रों कल मेरे काव्य संग्रह 'मचलते ख्वाब'और रश्मि प्रभा जी के संपादन में संपादित 'अनुगूंज'और 'खामोश खामोशी और हम' का विमोचन हुआ. आज विभिन्न समाचार पत्रों में उसकी विस्तृत खबर छपी.......
वीणा के सुर...
Tag :
  October 9, 2012, 2:59 pm
प्रिय मित्रों,नमस्कार।काफी लम्बे अंतराल बाद आपसे मुखातिब हूं. दो बातें हैं जो आपसे साझा करनी हैं.पहली ये कि रांची में 8 अक्टूबर को सायं 5 बजे विकास भारती सभागार में मेरे काव्य संग्रह मचलते ख्वाब का और दो अन्य कविता संग्रहों जिनमें मेरी भी कविताएं संकलित हैं, का विमोचन ह...
वीणा के सुर...
Tag :
  October 5, 2012, 9:13 am
आजकल  भागता है मन तुम्हारी तरफअधिकार नहीं रहास्वयं परप्रत्येक क्षणमिलने की प्रबल इच्छातुम्हें देखने की चाहततुम्हारी बाहों में स्वयं को पाने का आभासजानती हूंसम्भव नहीं यहजो सम्भव नहींमन क्यों भागता है उसी तरफक्यों चाहता है तोड़नासारे बंधनक्यों चाहता है उड़नास...
वीणा के सुर...
Tag :स्वच्छंद
  August 5, 2011, 1:36 pm
ज्ञान का भंडार हैंये पुस्तकेंबंद हैहमारा भविष्य इनमेंनन्हें हाथों की शक्तिआने वाले कल की तस्वीर है इनमेंइन्हें खोले औरगहराई में उतरे बिनाहम नहीं कर सकतेअपने कल का निर्माणकल के सवालों के उत्तर मिलेंगे यहां-वहां बिखरीसजी किताबों मेंलेकिन हमारे पाससमय कहां हैहम त...
वीणा के सुर...
Tag :पुस्तक. प्यार
  July 13, 2011, 3:28 pm
घुटन भरी थी वो रातजिसने छेड़ी तेरी बातमन की यादों में सिमटे हैंपल जो साथ बिताए रातमरते दम तक साथ रहेगीतेरी चाहत की सौगातचंदा को भी तरसेगी अबझिलमिल तारों की बारातमन की प्यास बढ़ा जाएगीजब-जब आएगी बरसात...
वीणा के सुर...
Tag :पल सौगात
  June 19, 2011, 1:54 pm
आज से 11 साल पहले 23 तारीख को ही पापा हम सबको रोता-बिलखता छोड़कर परमात्मा में लीन हो गए थे...मुझे हमेशा लगता रहा है वो आज भी मेरे पास हैं और मुझे हर मुसीबत से उन्होंने बचाया...तभी कहते हैं कि माता-पिता रहे या न रहें उनकी आत्मा हमेशा बच्चों के पास रहती है...यह रचना पहले भी पोस्ट क...
वीणा के सुर...
Tag :श्रद्धांजलि
  May 23, 2011, 4:06 pm
क्या भाता हैक्या नहीं भातामन सम्भवत: नहीं जानताक्योंकिजो भाता हैसमय आने परवह नहीं भाताभाने और न भाने के मध्य हैंकुछ परिस्थितियांजो आएंगी अवश्यजिन्हें आना ही हैदेश,काल,वातावरण कीशरीर की, आत्मा कीजिन्हें हमेंसहना ही हैजो देंगीनई दिशाहमारे भाने कोयही कारण हैप्रकृत...
वीणा के सुर...
Tag :जीवन
  April 21, 2011, 12:47 pm
इसी घर के किसी कोने मेंउस मां नेझेली होगीप्रसव पीड़ानौ महीने पेट में रखने के बादपाला होगा लाड़-प्यार सेआंचल फाड़करढांपा होगा अपने लाल को सिमटते हुएगुजारी होंगी रातें उसनेदूध की जगह पिलाया होगाअपना लहूनिचुड़ गईं होंगी छातियां उसकीक्षीण हो गई होगी काया उसकीनिवा...
वीणा के सुर...
Tag :आशा
  April 13, 2011, 1:55 pm
वो रोज जलाती है चूल्हायादों की लकड़ियों सेभावों के कंडे परसेंकती है रोटी मुस्कुराहटों  कीपकाती है भातअरमानों केअश्कों से पकाती है दालरख देती है कल के लिएअच्छे खाने कालालच देकरबांट देती है रोटीसिल पर घिसकरचटनी की सुगंध के साथखुद चाट लेती है सिलपीकर पानीबुझा लेती ...
वीणा के सुर...
Tag :सिसकियां
  March 1, 2011, 4:35 pm
आज है द्वंद्वयुवा मानस में सत्य का, संघर्ष काकर्त्तव्य का अनभिज्ञ चाहत काद्वंद्वजो पलता हैअस्थिरता मेंअनुगामी है चिंतन काआकांक्षाएंउड़ान भरती हैंअभिलाषाएंवीथिका ढूंढती हैंवीथिका जो अग्रसर हैंअनभिज्ञ लक्ष्य की ओरमनसब कुछ पाना चाहता हैअल्प अवधि मेंपांवपार कर...
वीणा के सुर...
Tag :कर्त्तव्य
  January 31, 2011, 1:12 pm
धरा से जुड़ी हकीकतहोती हैनभ से ऊंचीप्यार की पूजाहोती हैईमान से ऊंचीएक बार केवलएक बारजुड़ के देखोधरा सेडूब के देखोप्यार मेंआत्मीयता मेंपाओगे खुद को ऊंचाआकाश सेगहराई में उतर जाओगेपाताल कीबिना पंखछुओगे ऊंचाई गगन कीनापोगे गहराईसमुंदर कीआकाश धरतीदिल के संगम सेमिले...
वीणा के सुर...
Tag :आयाम
  January 24, 2011, 3:53 pm
आज मैं कोई रचना नहीं पोस्ट कर रही हूं बल्कि  इस ब्लॉग जगत को लेकर कुछ और विचार आपसे बांटना चाहती हूं...। हालांकि मैंने काफी पहले ब्लॉग बनाया था और बनाकर कुछ खास पोस्ट नहीं किया....मगर पांच-छ: महीने पहले ही सक्रिय हुई हूं...यानि दोबारा ब्लॉग जगत से जुड़ी हूं...मुझे कुछ बहुत अच...
वीणा के सुर...
Tag :फॉलोअर
  January 15, 2011, 11:10 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163636)