Hamarivani.com

पल्लवी

कव्वालीआ गई हैं सर्दियाँ सुस्ताइए।बैठकर के धूप में मस्ताइए।।पड़ गई हैं छुट्टियाँ स्कूल की.बर्फबारी देखने को जाइए।बैठकर के धूप में मस्ताइए।।रोज दादा जी जलाते हैं अलाव,गर्म पानी से हमेशा न्हायिए।बैठकर के धूप में मस्ताइए।।रात लम्बी, दिन हुए छोटे बहुत,अब रजाई तानकर स...
पल्लवी...
Tag :कब्बाली
  December 18, 2012, 6:11 pm
सभी मित्रों कोनवरात्रि कीहार्दिक शुभकामनाएँ!...
पल्लवी...
Tag :शुभकामनाएँ
  October 14, 2012, 7:30 pm
काव्यानुवाद (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")टीचर जी!मत पकड़ो कान।सरदी से हो रहा जुकाम।।लिखने की नही मर्जी है।सेवा में यह अर्जी है।।ठण्डक से ठिठुरे हैं हाथ।नहीं दे रहे कुछ भी साथ।।आसमान में छाए बादल।भरा हुआ उनमें शीतल जल।।दया करो हो आप महान।हमको दो छुट्टी का दान।।जल्...
पल्लवी...
Tag :बाल कविता-अनुवाद
  January 16, 2012, 3:57 pm
...
पल्लवी...
Tag :
  September 28, 2011, 10:57 pm
तू नहीं...तो कोई और भी नही!तेरे बिन...जीकर दिखा देंगे!काँटों पर...चलकर दिखा देंगे!आग में... जलकर दिखा देंगे!जा बेवफा...बेवफाई पे भी तेरी...वफा करके दिखा देंगे!...
पल्लवी...
Tag :नज़्म
  September 28, 2011, 10:39 pm
ऐ ज़िन्दगी आजा अब मैदान में...देखें....किसमें कितना है दम?जब तू नहीं कम,तो हम भी नहीं कम!तेरे पास तो-देने के लिए हैं ग़म,हमारे जिगर में-उसे सहने का है दम!माना काँटों भरा है-जीवन का रास्ता,तो फूलों से-क्या रखना वास्ता!!...
पल्लवी...
Tag :ज़िन्दगी
  September 28, 2011, 10:32 pm
सभी मित्रों को नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ.....
पल्लवी...
Tag :शुभकामनाएँ
  September 28, 2011, 10:04 pm
खटीमा (उत्तराखण्ड)दिनांक-17.04.2011समय- रात्रि 8.453 घण्टे तक भयंकर आँधी चलती रहीइतने लम्बे समय तक आँधी कभी नहीं आयी। गेहूँ के खेत जलकर भस्मीभूत हो गये।  दो मंजिले की छत पर भीखेतों में लगी आग की गरमीहम अनुभव कर रहे थे। खटीमा, टनकपुर तथा मिलिट्री कैंट बनबसा सेफायरब्रिगेड की गाड...
पल्लवी...
Tag :समाचार
  April 18, 2011, 4:11 pm
खटीमा में 9 जनवरी को सम्पन्न हुएब्लॉगर्स सम्मेलन की गूँजसाप्ताहिक समाचार पत्र में भी सुनाई दी!दैनिक जागरणअमर उजाला दैनिक...
पल्लवी...
Tag :ब्लॉगर मीट
  January 13, 2011, 10:08 am
लोकार्पण समारोह एवं ब्लॉगर्स मीट सम्पन्न>> रविवार, ९ जनवरी २०११खटीमा। साहित्य शारदा मंच के तत्वावधान में डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ की सद्यःप्रकाशित दो पुस्तकों क्रमशः सुख का सूरज (कविता संग्रह) एवं नन्हें सुमन (बाल कविता का संग्रह) का लोकार्पण समारोह एवं ब्लॉ...
पल्लवी...
Tag :रपट
  January 10, 2011, 6:40 am
"नववर्ष-2011 की शुभकामनाएँ!"...
पल्लवी...
Tag :बधाई
  January 1, 2011, 12:03 am
मेरे शहर खटीमा में देखिए!बाढ़ का दृश्य-...
पल्लवी...
Tag :बाढ़
  August 22, 2010, 8:02 pm
(श्रीमती रजनी माहर)तबरुपये किलो था आटा,अब है कितना घाटा,नानी संग जाती बाजार, नौ रुपये किलो था अनार,एक रुपये में दो किलो ज्वार,गेहूँ चावल की भरमार,कम मिलती थी बहुत पगार,कभी न होते थे बीमार,तन चुस्त थेमन दुरुस्त थे,थोड़े मेंसब लोग मस्त थे,दूध-दही सब कुछ था शुद्धवातावर...
पल्लवी...
Tag :अकविता
  January 26, 2010, 1:49 pm
चापलूसी की अदा हमे आती नही. धोखे हम ने किसी को दिए ही नही. आईना पर परदा डालने की अदा हमे आती नही. उनको जो आयना दिखलाया हमने देख अस्क अपना नफ़रत करने हमसे लगे झूठ पर परदा डालने की अदा हमें आती नही. सच जो उनसे कहा हमने नफ़रत करने हमसे लगे पाप करने की अदा हमें आती नही. पुण्य के रा...
पल्लवी...
Tag :कविता
  January 16, 2010, 9:45 am
नव-वर्ष 2010 आप सबको मंगलमय हो!डॉ.इन्द्र देव माहर,श्रीमती रजनी माहरनन्दिनी एवं पल्लवी...
पल्लवी...
Tag :बधाई
  December 31, 2009, 5:46 pm
!! मुक्तक !!जीवन के झंझावातों में,अब तक इतना उलझा था मैं,प्रीत-रीत मर्यादाओं के, बन्धन ने इतना घेरा था!जीवन के पग-पग पर मैंने, सारे जग को अपना जाना,आँख खुली तो बोध हुआ, दुनिया मे सब तेरा-मेरा था!!...
पल्लवी...
Tag :मुक्तक
  October 31, 2009, 8:05 pm
भूल चुके हैं आज सब, ऊँचे दृष्टिकोण,दृष्टि तो अब खो गयी, शेष रह गया कोण।शेष रह गया कोण, स्वार्थ में सब हैं अन्धे,सब रखते यह चाह, मात्र ऊँचे हो धन्घे।कह मयंक उपवन में, सिर्फ बबूल उगे हैं,सभी पुरातन आदर्शो को, भूल चुके हैं।...
पल्लवी...
Tag :कुंडलियाँ छंद
  March 16, 2009, 9:07 am
मेरी गुड़िया जब से,मेरे जीवन में आयी हो।सूने घर आँगन में मेरे, नया सवेरा लायी हो।पतझड़ में बन कर बहार,मेरे उपवनमें आयी हो।गुजर चुके बचपन को मेरे, फिर से ले आायी हो।सुप्त हुई सब इच्छाओ को, तुमने पुनः जगाया।पानी को मम कहना, मुझको तुमने ही सिखलाया।तुमने किट्टू को तित्तू ,त...
पल्लवी...
Tag :बचपन
  March 10, 2009, 7:57 pm
जिन्दगीजिन्दगी धूप ही धूप है, छाँव का नाम-औ-निशां नही।जिन्दगी एक पतझड़ है, बसन्त का नाम-औ-निशां नही।जिन्दगी सेज है काँटों की,जहाँ फूलों का नाम-औ-निशां नही।जिन्दगी आँसुओं का सैलाब है,यहाँ मुस्कान का नाम-औ-निशां नही।जिन्दगी निराशा का नाम है,यहाँ आशा का नाम-औ-निशां नही।जिन...
पल्लवी...
Tag :
  February 23, 2009, 4:55 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167835)