POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मेरा आपका प्यारा ब्लॉग

Blogger: shikha kaushik
मैडम बिल्ली मुंबई वाली पहने हाई हीलमटक मटक कर चलती हैं जब होता गुड गुड फील एक दिन पीछे पड़ गया उनके डॉगी  एक शैतानदौड़ी लेकर हाथ में सैंडिल तभी बची फिर जान उस दिन से वे घूम रही हैं बच्चो नंगे पैरइसी वजह से बिल्ली मैडम का डॉगी से बैर                &... Read more
clicks 327 View   Vote 0 Like   5:18pm 1 Oct 2014 #
Blogger: shikha kaushik
 पापा हमको ''डॉगी  ''ला दो हम डॉगी संग खेलेंगे ;उसको पुचकारेंगे जी भर कभी गोद में ले लेंगे .पूंछ हिलाएगा जब आकर उसको हम सहलायेंगे ;                                                    मिटटी में गन्दा होगा जब उसको हम नहलायेंगे .पापा हमको ...बन्द... Read more
clicks 294 View   Vote 0 Like   5:54pm 7 Jun 2014 #
Blogger: shikha kaushik
आज सभी बन्दर बाराती ;सूट-बूट में घूम रहे हैं ,टिमटिम-रिमझिम नन्हे बन्दर ;आज ख़ुशी से झूम रहे है ,बंदरिया भी ओढ़ दुपट्टाढपली -ढोलक बजा रही है ,घर- आँगन दुल्हे की बहनाआम-पत्र से सजा रही है ,बाजे वाले बन्दर आज जोर सेढोल बजाते है ;सेहरा बांध के बन्दर मामादुल्हन लेने जाते है .दुल्... Read more
clicks 300 View   Vote 0 Like   5:47pm 26 May 2014 #
Blogger: shikha kaushik
कण-कण में  स्वर्णिम आभा है ,निर्मलता यहाँ के तृण-तृण में  ,सरस्वती का वर-स्वरुपयह भारत-वर्ष महान  है !...........................................महापुरुषों की  प्रिय -भूमि  ,सज्जनता की  है ये मशाल  ,धर्म की सुरभि चहुँ -दिशा  में ,हाँ ! इस  पर  हमको  अभिमान  है !यह भारत-वर्ष महान  है !........... Read more
clicks 336 View   Vote 0 Like   4:44pm 5 May 2014 #
Blogger: shikha kaushik
रंग बिरंगें फूल सजाकरचिंटू ने एक कार्ड बनाया ,हैप्पी न्यू ईयर मम्मी-डैडीलिखकर चिंटू था मुस्काया !........................................कार्ड दिया मम्मी -डैडी को ,दोनों का मन था हर्षाया ,गोद उठकर फिर डैडी नेचिंटू को था गले लगाया !................................मम्मी ने उसके हाथों मेंचॉकलेट का एक गिफ्ट थमाया ,मम्... Read more
clicks 332 View   Vote 0 Like   4:35pm 1 Jan 2014 #
Blogger: shikha kaushik
मम्मी ने सुबह जगाकर कहा पापा ने गलेलगाकर कहादादा ने टॉफी देकर कहादादी ने गोद बिठाकर कहाआया बाल दिवस ;मुबारक हो तुमको .तुम हो आशाओं के दिएँकुछ न मुश्किल  तुम्हारे लिएजो सपने 'चाचा' के अब तक अधूरेतुमको ही तो अब करने हैं पूरेबगिया के फूलों ने हँसकर कहाकोयल ने कू... Read more
clicks 393 View   Vote 0 Like   11:06am 14 Nov 2013 #
Blogger: shikha kaushik
विक्की घोडा तेज़ दौड़ता ;खुद पर था इतराता ,हिन्-हिनाकर जोर-जोर से ;हाथी पर रौब जमाता !***********************हाथी ने फिर अर्जी लिखकर ;शेरू से करी शिकायत ,जंगल के राजा ने रखी ;जंगल में पंचायत !***********************विक्की बोला इतराने कामुझको पूरा हक़ है ,हाथी भी चिंघाड़ के बोलातू तो नालायक है !************************दोनो... Read more
clicks 356 View   Vote 0 Like   5:03am 3 Oct 2013 #
Blogger: shikha kaushik
चींटी  मैडम ने सोचा मॉडल  मैं बन जाऊं !!चींटी  मैडम ने सोचा किस्मत  आजमाऊँ  ,जीरो मेरी फिगर है मॉडल  मैं बन जाऊं !!हाई हील पहनकर चली थी वो इतराकर ,मुड़ी हील सैंडिल की धम्म से गिरी धरा पर  !!उसे देखकर हंसी सहेली ,बोली उसे उठाकर ,काम नहीं ये सीधा-सादा कुछ तो तू समझाकर !!ऐ... Read more
clicks 395 View   Vote 0 Like   5:18pm 5 Aug 2013 #
Blogger: shikha kaushik
डिम्पी बन्दर घर के अन्दर म्यूजिक तेज बजाता था मम्मी-डैडी के शोर से  सिर में दर्द हो जाता  था !मम्मी  डैडी ने  समझाया     धीरे   जरा   बजा   लो   बोला डिम्पी मुंह   बिगाड़कर  ऐसे  नहीं  मज़ा  हो !एक दिन डैडी से मिलनेडॉक्टर अंकल थे घर आयेडिम्पी की  गन्... Read more
clicks 323 View   Vote 0 Like   6:15pm 8 Jul 2013 #
Blogger: shikha kaushik
  टीटू बन्दर चला एक दिन बन-ठन कर ससुराल ,जेठ की गर्मी में लू खाकर हाल हुआ बेहाल !सासू माँ ने  पिलवाई  उसको   कोकाकोला ,दम में दम आई तब जाकर टीटू बन्दर बोला !सासू माँ तुम कितनी अच्छी ठंडा मुझे पिलाया ,मैं भी गठरी में रखकर कुछ तुम को देने आया !गठरी खोली सासू माँ ने उसमे था खरबूजा ... Read more
clicks 406 View   Vote 1 Like   6:49pm 27 May 2013 #
Blogger: shikha kaushik
चुन्नी और चुन्नू का बेटा ,चीनू बन्दर बड़ा शैतान  ,मोबाइल पर गेम खेलता ,पढने का न लेता नाम !हालत उसकी हो गयी पतली ,सिर पर जब आये एक्जाम ,मॉम ने उसको गोद बिठाकर ,याद कराये पाठ तमाम !डैडी बोले चीनू बेटा ,आगे से तुम रखना ध्यान ,खेल के चक्कर में पढाई का ,करना मत अब नुकसान !माफ़ी मांग... Read more
clicks 351 View   Vote 0 Like   6:08pm 16 May 2013 #
Blogger: shikha kaushik
    पिंकी  बिल्ली गई  थी दिल्ली लेकर सूटकेस ,सूटकेस में थे गहने कंगन, रिंग, नेकलेस ,ऑटो में  वो ज्यों ही बैठी साथ चढ़ा एक चोर ,सूटकेस लेकर वो भागा , मचा जोर का शोर पिंकी भागी उसके पीछे , मारा पीठ पे पंजा ,चोर गिरा वही सड़क पर पापी नीच लफंगा ,पिंकी ने फिर गला दबाकर उसको यूँ धमकाय... Read more
clicks 347 View   Vote 0 Like   7:19am 11 May 2013 #
Blogger: shikha kaushik
'हौले हौले बह समीर मेरा लल्ला सोता है 'नन्हे फरिश्तों रामनवमी का पर्व आप सभी ने आनंद  के साथ मनाया होगा .राम जी जब छोटे से थे तब उनकी माँ भी उन्हें लोरी सुनाकर सुलाती होगी जैसे आपकी माँ आपको सुलाती हैं .तो आज ये लोरी आप सभी के लिए -हौले हौले बह समीर मेरा लल्ला सोता है ,मीठी न... Read more
clicks 325 View   Vote 0 Like   5:36pm 23 Apr 2013 #
Blogger: shikha kaushik
'हौले हौले बह समीर मेरा लल्ला सोता है 'नन्हे फरिश्तों रामनवमी का पर्व आप सभी ने आनंद  के साथ मनाया होगा .राम जी जब छोटे से थे तब उनकी माँ भी उन्हें लोरी सुनाकर सुलाती होगी जैसे आपकी माँ आपको सुलाती हैं .तो आज ये लोरी आप सभी के लिए -हौले हौले बह समीर मेरा लल्ला सोता है ,मीठी... Read more
clicks 308 View   Vote 0 Like   5:36pm 23 Apr 2013 #
Blogger: shikha kaushik
    गोलू है  डॉगी शैतान , करता सबको है परेशान ,सारे बच्चे डरते उससे ,इसे मानता अपनी शान .निकली एक दिन अकड़ थी सारी ,गाड़ी ने जब टक्कर मारी ,हालत पतली हो गयी उसकी ,बिगड़ी सूरत प्यारी प्यारी  गिरा सड़क पर हाय ! धडाम .बच्चों ने इलाज कराया ,हल्दी  वाला दूध पिलाया ,गोलू डॉगी   को ये भाया ,... Read more
clicks 310 View   Vote 0 Like   4:08am 17 Apr 2013 #
Blogger: shikha kaushik
  "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 30विषय - "शिशु/ बाल-रचना" में तीसरी प्रविष्टि एक बार एक बार गद्दी पर बैठा दे ,भैया हमको साइकिल चलाना सिखा दे !पैडिल पर कैसे  करते हैं वार ?कैसे हो साइकिल पर हम भी सवार ?हैंडिल का बैलेंस करके दिखा दे !भैया हमको साइकिल चलाना सिखा दे ! कैसे लगाते ... Read more
clicks 364 View   Vote 0 Like   8:00am 8 Apr 2013 #
Blogger: shikha kaushik
     "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 30विषय - "शिशु/ बाल-रचना" में मेरे द्वारा प्रस्तुत दूसरी रचना दादा -दादी में हुई लड़ाई , दोनों ही जिद्दी हैं भाई ,दादा जी ने मूंछे ऐंठी   ,दादी ने त्योरी थी चढ़ाई ! यूँ मुद्दा था नहीं बड़ा पर लड़ने का शौक चढ़ा ,दादा चाहते मीठा खाना ,दादी का डंडा ... Read more
clicks 358 View   Vote 0 Like   8:05am 7 Apr 2013 #
Blogger: shikha kaushik
 चंदा मामा चंदा मामा बतला दो अपना मोबाइल नंबर !!"ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक - 30विषय - "शिशु/ बाल-रचना" में मेरे द्वारा प्रस्तुत रचना  चंदा मामा चंदा मामा तुम हो कितने सुन्दर !जल्दी से बतला दो अपना तुम मोबाइल नंबर !!मिला के नंबर रोज़ करेंगें दिन में तुमसे बात ,छत पर चढ़कर रात ... Read more
clicks 310 View   Vote 0 Like   8:24am 6 Apr 2013 #शिशु/ बाल-रचना-shikha kaushik
Blogger: shikha kaushik
फूलों जैसे कोमल मन के तितली जैसे चंचल हैं ,हम बच्चे हैं प्यारे-प्यारे सदा ह्रदय से निर्मल हैं .होंठों पर मुस्कान सजाये उछल-कूद हम करते हैं ,अपनी मीठी बोली से सबका मन हर लेते हैं .पापा के हम राज दुलारे माँ की आँख के तारे हैं ,हमको ही तो सच करने अब उनके सपने सारे हैं शिखा कौशि... Read more
clicks 362 View   Vote 0 Like   7:51am 27 Jan 2013 #
Blogger: shikha kaushik
       काम पप्पा ने कितना  चंगा किया ,लाकर मुझको ये प्यारा तिरंगा  दिया !इस तिरंगे की शान निराली बड़ी ,इसको छत पर फहराने की हसरत चढ़ी ,वानर दल से मैंने  पंगा लिया !जब फहरता है ताली बजता हूँ मैं ,मम्मी-पप्पा को पास बुलाता हूँ मैं ,मैंने अब न कोई भी दंगा किया !      गणतंत्र दिवस की हा... Read more
clicks 346 View   Vote 0 Like   9:37am 25 Jan 2013 #
Blogger: shikha kaushik
                 तोता चाचा   चले बाज़ार साइकिल पर होकर सवार , साइकिल को नहीं किया चैक साइकिल के थे फेल ब्रेक ,  तेज चलाकर जाते थे हवा से वे बतियाते थे , तभी सामने दिखी थी बस ब्रेक दिए थे हाथ से कस , हुई न जब धीमी रफ़्तार छोड़ साइकिल भरी उड़ान , बस-साइकिल की हुई भिड़न्त पिचकी साइकिल तोता... Read more
clicks 319 View   Vote 0 Like   10:20am 14 Jan 2013 #
Blogger: shikha kaushik
नन्ही चिड़िया देर से जागी,जाना था स्कूल ,जल्दी जल्दी बैग उठाया ,गई वो पुस्तक भूल .क्लास में मैडम उससे बोली चलो सुनाओ पाठ ,नन्ही चिड़िया रोकर बोली पुस्तक भूली आज . मैडम ने फिर पास बुलाकर प्यार से था समझाया ,काम करो सब सोच समझकर क्यों पीछे पछताया ! नन्ही चिड़िया ने रखीमैडम की सी... Read more
clicks 377 View   Vote 0 Like   4:58pm 3 Jan 2013 #
Blogger: shikha kaushik
 मैडम बिल्ली मुंबई वाली पहने हाई हील मटक मटक कर चलती हैं जब होता गुड गुड फील एक दिन पीछे पड़ गया उनके डॉगी  एक शैतान दौड़ी लेकर हाथ में सैंडिल तभी बची फिर जान  उस दिन से वे घूम रही हैं बच्चो नंगे पैर इसी वजह से बिल्ली मैडम का डॉगी से बैर                                शिखा कौशिक 'नू... Read more
clicks 364 View   Vote 0 Like   10:00am 29 Dec 2012 #
Blogger: shikha kaushik
.टिंकू चूहा करे शरारत ;शैतानी की उसको आदत ,मम्मी जब भी डांटे उसको ;टिंकू को लगती वे आफतएक दिन लेकर लम्बा डंडा उसने चारो और घुमाया ,टकराया दीवार से जाकर धक्का खा वो संभल न पाया . लगी चोट फिर नाक पर आगे ,खून निकल कर बाहर आया ,दर्द हुआ फिर बड़ी जोर से ,रोकर टिंकू था चिल्लाया . पापा ... Read more
clicks 338 View   Vote 0 Like   7:21pm 5 Dec 2012 #bal kavita
Blogger: shikha kaushik
 कितनी मुसीबत की थी घडी !छोटी सी गिल्ली के सिर पर पड़ी , पूसी नाम की बिल्ली गिल्ली के पीछे थी पड़ गयी . गिल्ली थी थर थर थर कांप रही ,फर फर फर भाग रही ,सामने जब घर आ गया ,जल्दी से जाकर घर में घुसी ,कितनी मुसीबत की थी घडी ! पूसी थी लेकिन जिद पर अड़ी ,गिल्ली के घर के बाहर खडी ,गिल्ली ने सो... Read more
clicks 372 View   Vote 0 Like   6:21pm 20 Nov 2012 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3954) कुल पोस्ट (193553)