Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/hamariva/public_html/config/conn.php on line 13
The Heritage : View Blog Posts
Hamarivani.com

The Heritage

धूप !तुम धूप सी महका करोतनिक झुक जाओइतनी मत तना करोधूप !तुम पीठ पर रेंगोरेशमी छुअन बनबिच्छू बन दंश न् दिया करोधूप !तुम दिसंबरी बनोजेठ की  कामना मत बनोधूप !तुम हर उस जगह जरूर पहुंचोजहां नमी है , सीलन भीउगाओ कुछ धरती के फूलमत झुलसाओबहार ले आओराघवेंद्र,अभी-अभी...
The Heritage...
Tag :
  August 22, 2017, 3:18 pm
मैं नहीं रहूँगा तो तुम्हारी दुनियाकितनी सूनी और बेरौनक हो जाएगी ।इसकी सारी चहल पहलइसका सारा जगर मगर मेरे होने से है ।एक मेरे उदास होने सेदूर का चाँद उदास होता हैएक मेरे खोने सेतुम्हारा सूरज भी आस खोता है ।एक दिन सब यकीन करेंगेकि कोई बागड़ बिल्ला नहींकोई अवतार और उसका ...
The Heritage...
Tag :
  August 22, 2017, 2:52 pm
तमाशा हो रहा हैऔर हम ताली बजा रहे हैंमदारीपैसे से पैसा बना रहा हैहम ताली बजा रहे हैंमदारी साँप कोदूध पिला रहा हैंहम ताली बजा रहे हैंमदारी हमारा लिंग बदल रहा हैहम ताली बजा रहे हैंअपने जमूरे का गला काट करमदारी कह रहा है-'ताली बजाओ जोर से'और हम ताली बजा रहे हैं।बोधिसत्व, म...
The Heritage...
Tag :
  August 20, 2017, 9:42 pm
भले रोक दे राज्य तुम्हारा रथ फिर भी,भले रोक दे भाग्य तुम्हारा पथ फिर भी,जीवन  कभी नहीं  रुकता है, चाहे वक्त ठहर जाए।जीवन तो  पानी  जैसा  है, राह  मिली  बह जाएगा,चाहे जितना कठिन सफ़र हो, राह  बनाता जाएगा,कोई सुकरात नहीं मरता है, चाहे  ज़हर उतर जाए।काट  फेंक  दे &n...
The Heritage...
Tag :
  August 20, 2017, 8:51 pm
हम बस आपसे निवेदन करते हैं,कि प्रत्येक शहर में एक लाइब्रेरी होती हैऔर हमारे शहर इलाहाबाद में भी एक लाइब्रेरी हैजो अब कबूतरों और धूल का अड्डा बन चुकी हैकभी गुलजार रहने वाले उनके बगीचे अब घास और झाड़ियों से अटे पड़े हैंऔर साइकिल स्टैण्ड जुआरियों और नशेडियों की पनाहगाह।ऐ...
The Heritage...
Tag :
  June 5, 2017, 11:42 am
कुछ अजीब सा माहौल हो चला है,मेरा रायपुर अब बदल चला है….ढूंढता हूँ उन परिंदों को,जो बैठते थे कभी घरों के छज्ज़ो परशोर शराबे से आशियानाअब उनका उजड़ चला है,मेरा रायपुर अब बदल चला है…..होती थी ईदगाह भाटा सेकभी तांगे की सवारी,मंज़िल तो वही हैमुसाफिर अब आई सिटी बस मेंचढ़ चला हैमेरा...
The Heritage...
Tag :
  January 10, 2017, 8:42 pm
महाश्वेता देवी जी की एक बहुत अच्छी कविता ***आ गए तुम ?द्वार खुला है अंदर आ जाओपर ज़रा ठहरोदहलीज़ पर पड़ेपॉयदान परअपना अहम् झाड़ आनामधु मालती लिपटी हैमुंडेर सेअपनी नाराज़गीउस पर उंडेल आनातुलसी के क्यारे मेंमन की चटकन चढ़ा आनाअपनी व्यस्तताएँबाहर खूँटी पर टाँग आनाजूतों के सा...
The Heritage...
Tag :
  September 11, 2016, 5:22 pm
न मैं हँसी, न मैं रोईबीच चौराहे जा खड़ी होईन मैं रूठी, न मैं मानीअपनी चुप से बांधी फाँसीये धागा कैसा मैंने कातान इसने बांधा न इसने उड़ायाये सुई कैसी मैंने चुभोईन इसने सिली न उधेड़ीये करवट कैसी मैंने लीसाँस रुकी अब रुकीये मैंने कैसी सीवन छेड़ीआँतें खुल-खुल बाहर आईंजब न ...
The Heritage...
Tag :
  September 11, 2016, 5:12 pm
यह एक पीठ हैकाली चट्टान की तरहचौड़ी और मजबूतइस पर दागी गयींअनगिनत सलाखेंइस पर बरसाये गयेहज़ार-हज़ार कोड़ेइस पर ढोया गयाइतिहास कासबसे ज़्यादा बोझयह एक झुकी हुई डाल हैपेड़ की तरहउठ खड़ी होने को आतुर - एकांत श्रीवास्तवसौजन्य : जय प्रकाश मानस...
The Heritage...
Tag :
  September 11, 2016, 5:06 pm
बाढ़ के बीच उस आदमी की हिम्मतटँगी है आकाश में और धरती डूबती जा रही हैपाँव के नीचे बचाने के लिएअब उसके पास कुछ नहीं है सिवाय अपनेवह बचा हुआ हैबचाने को बाढ़बाढ़ बची रहेगीतो बाढ़ से घिरे आदमी के फ़ोटू बचे रहेंगे - डॉ. श्याम सुंदर दुबेसौजन्य : जय प्रकाश मानस ...
The Heritage...
Tag :
  September 11, 2016, 5:02 pm
रात चूसती, दिन दुत्कारेदुख-दर्दों के वारे-न्यारे।परसों मिली पगार हमें हैऔर आज जेबें खट्-खालीचौके की हर चुकती कुप्पीलगती भारी भरी दुनालीकिल्लत किच-किच में डूबे हैंअपने दुपहर, साँझ, सकारे।पिछला ही कितना बाक़ी हैऔर नहीं देगा पंसारीसूदखोर से मिलने पर भीसुनना वही राग-द...
The Heritage...
Tag :
  September 11, 2016, 4:56 pm
(सभी महिलाओ को समर्पित)बेटी से माँ का सफ़र बेफिक्री से फिकर का सफ़ररोने से चुप कराने का सफ़रउत्सुकत्ता से संयम का सफ़रपहले जो आँचल में छुप जाया करती थी  ।आज किसी को आँचल में छुपा लेती हैं ।पहले जो ऊँगली पे गरम लगने से घर को उठाया करती थी ।आज हाथ जल जाने पर भी खाना बनाया करत...
The Heritage...
Tag :
  May 7, 2016, 11:52 am
नये साल में फिर से याद आयी कविता ---------------------------------------एक बार हमारी मछलियों का पानी मैला हो गया थाउस रात घर में साफ़ पानी नहीं थाऔर सुबह तक सारी मछलियाँ मर गई थींहम यह बात भूल चुके थेएक दिन राखी अपनी कॉपी और पेंसिल देकरमुझसे बोलीपापा, इस पर मछली बना दोमैंने उसे छेड़ने के लिए काग...
The Heritage...
Tag :
  March 7, 2016, 12:48 pm
पता नहीं क्योंअक्सर जी करता हैयाद करूँबचपन के उस क्षण कोकाका ने लिवाया था मुझेएक नया जूता का जोड़ा ।नए जूते की महक कोपहली बार जाना थाकाला जूता, चमकीलापूरे मन को भा गया थाकाका की हामी ने मेरा दिल भर दिया थाजैसे मेरे लिए ही बना था यह जूताक्यूँ न याद करूँ उस क्षण कोपहली बा...
The Heritage...
Tag :
  March 7, 2016, 12:40 pm
चाहे हाड़ तोड़कर - चाहे हाथ जोड़कर सबसे अंतिम में पाँव पकड़कर इन सबसे पहले गुल्लक फोड़करले ही आते हैं अनाज पीठ लादकरसबसे मनहूस - अंधेरी गलियों मेंदिन ढ़लने से पहले जो पिता होते हैं जो पिता होते हैं वे कभी नहीं थकतेपालनहार देवता, उनके पिता ईश्वर थक हार भले मुँह छुपा लेंव...
The Heritage...
Tag :
  March 7, 2016, 12:27 pm
हमारे भीतर होता था खिलखिलाता मनमन के बहुत भीतर सबसे बतियाता घरघर के भीतर उजियर-उजियर गाँव गाँव के भीतर मदमाते खेतखेत के भीतर बीज को समझाती माटी माटी के भीतर सुस्ताते मज़ूर और सिर-पाँवपाँव के भीतर सरसों, गेहूँ, धान की बालियाँबालियों के भीतर रंभाती गायगाय के भीतर हंकड़...
The Heritage...
Tag :
  March 7, 2016, 12:21 pm
जल बचा था दिखना बचा हुआ थाकहीं-न-कहीं कम-से-कम कोई तालाब तालाब बचा था दिखना बचा हुआ थाकभी-न-कभी कम-से-कम कोई घाटघाट बचा था दिखना बचा हुआ थाकुछ-न-कुछ कम-से-कम कोई चित्र चित्र बचा था दिखना बचना हुआ थाकैसे-न-कैसे कम-से-कम कोई मित्र एक दिन जब मित्र न बचा था न दिखना बचा हुआ था चित्...
The Heritage...
Tag :
  March 7, 2016, 12:09 pm
कुहरे की चादर कोभूरी एक चिड़िया ने नोकदार चोंच सेकाटा पहले,फिर चीरती चली गईदूर आसमान से सूरज ने अचानक अपना ररक्तवर्णी चेहराउठाया आसमान मेंलड़ते हुए कुहरे सेनदी ने खुली बाँहों मेंभर लिया सूरज कोफिर सूरज चिड़िया से,नदी से,काव्य पाठ करता रहामैंने सिर्फ़ सूरज का काव्य ...
The Heritage...
Tag :
  March 3, 2016, 11:10 am
जिन पेड़ों पर बैठे बगुलेउन पेड़ों के दिन गिनती के।कैसे-कैसे लोग पालतेकैसी-कैसी आकांक्षाएँएक-एक कर टूट रही हैंइंद्रधनुष की प्रत्यंचाएँजिन नातों के नेह अचीन्हेउन नातों के दिन गिनती के।फसलें उजड़ गईं खेतों कीघर-आँगन छाया सन्नाटागाय बेच,गिरवी जमीन रखहरखू तीर्थाटन से लौ...
The Heritage...
Tag :
  March 3, 2016, 10:57 am
सतपुड़ा जब याद करे, फिर आनाआना जी नर्मदा बुलाए जबधवल कौंच पंक्ति गीत गाएँ जबचट्टाने भीतर ही भीतर जब सीझ उठेंआना जब सुबह शाम झरनों पर रीझ उठेछरहरी वन तुलसी गंधिल आमंत्रण देंआना, जब झरबेरी लदालद निमंत्रण देंमहुआ की शाखें जब याद करें. फिर आना । घुंघची का पानी जब दमक उठेअं...
The Heritage...
Tag :
  March 3, 2016, 10:54 am
मैं कुछ झूठा, वह कुछ सच्चाना मैं पूरा झूठाना वह पूरा सच्चा मैंने चाहा पर हो न सका पूरा-पूरा झूठाउसने चाहा पर हो न सका पूरा-पूरा सच्चाकुछ झूठा हूँ मैं मतलब कुछ मुझमें भी सच्चाईकुछ सच्चा है वह मतलब कुछ उसमें भी झूठाईहम दोनों ही करते हैं हर पल - हर क्षण - हरदम लड़ाईकरे कोई अगव...
The Heritage...
Tag :
  March 3, 2016, 10:53 am
ज़मीन पर जो दिख रहा है ख़ून नहीं ख़ून का धब्बा है ख़ून तो सोख लिया है ज़मीन ने शरीर पर जो दिख रहा है जख़्म है दर्द तो सोख लिया है शरीर ने कुछ ही दिनों में ख़ून के धब्बे पर जम जाएगी धूल की परत धीरे-धीरे फिर मिट जाएगा जख़्म का निशान भी कोई आँख नहीं देख पाएगी दिल के जख़्म को ज़म...
The Heritage...
Tag :
  March 3, 2016, 10:52 am
चावल के दो दाने संगचुटकी भर नमक रखाफटे जूते, दूरिहा मंजिल पाँवों की धमक रखा तन सूखा, धन भी सूखामन अविकल धमक रखा काँटे मीत, प्रीत और रीतमुरझाने के पहले गमक रखा रख सकता था महल अटारी, नहीं रखारख सकता था कृपाण कटारी, नहीं रखारख सकता था सोन थारी, कहाँ रखा रख सकता था सोलह तरकारी, ...
The Heritage...
Tag :
  March 3, 2016, 10:49 am
पराजय का अर्थ विजय हैयह कौन जानता है मुझ से अधिकजो सबसे बुरासबसे अधिक सुन्दर हैइसे कौन जान सकता है सिवाय मेरेजो डूबते हैं, जानते हैं वे हीउस ज़मीन का पताजिसमें छुपा है आनन्द जीवन कामैं तो हूँ पराजय का मित्रलोग इसे अनुभव कहते हैं बस- लीलाधर मंडलोई  ...
The Heritage...
Tag :
  March 3, 2016, 10:47 am
जब-बगैर किसी आंधी के गिरने लगते हैं पेड़बगैर किसी युद्ध के मरने लगते हैं महारथीपूरा हो जाता है ब्रह्मा का दिनसदी हिलने लगती हैयूं ही-यूं ही मच जाती है चिल्ल-पोंयूं ही पसर जाता है शोरमनबोध बाबूआप क्यों शामिल हैं इस गैर ज़रूरी होड़ मेंजब कोई आवाज़ साफ़ सुनाई नहीं देतीरास्ता ...
The Heritage...
Tag :
  March 3, 2016, 10:38 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3710) कुल पोस्ट (171496)