Hamarivani.com

क़ुरआन सबके लिए

पढि़ए यह किताब और जानिए आखिर विकसित और अग्रणी कहे जाने वाले देशों के यह मशहूर लोग क्यों अपना रहे हैं इस्लाम? इस किताब में है इस्लाम की सुकून भरी छांव में आने वाले प्रसिद्ध हस्तियों की दास्तां। इस्लाम की छांव में by islamicwebdunia...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :
  May 22, 2013, 8:59 am
जमाने की कसम। इंसान दर हकीकत घाटे में  हैं। सिवाय उन लोगों के जो ईमान लाएंऔर नेक आमाल करते रहें और एक दूसरे को हक की नसीहत और सब्र की तलकीन करते रहें।   अस्र  103: 1-3  अल्लाह के नजदीक दीन सिर्फ  इस्लाम है । आले इमरान  3: 19हकीकत में तो मोमिन वे हैं जो अल्लाह और उसके रसूल (स.अ.व.) पर...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :मकसद
  September 27, 2011, 9:59 am
मगर जो लोग सूद (ब्याज) खाते हैं उनका हाल उस आदमी का सा होता है जिसे शैतान ने छूकर बावला कर दिया हो। और इस हालत में उनके शामिल होने की वजह यह है कि वे कहते हैं  'तिजारत (व्यापार) भी तो ब्याज ही जैसी चीज है' हालांकि अल्लाह ने व्यापार को हलाल  किया है और ब्याज को हराम (अवैध, कान...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :ब्याज/रिश्वत/खयानत
  September 26, 2011, 6:14 pm
तबाही है डंडी मारने वालों के लिए जिनका हाल यह है कि जब लोगों से लेते हैं तो पूरा-पूरा लेते हैं, और जब उनको नाप कर या तौल कर देते हैं तो उन्हें कम देते हैं।   मुतफ्फिफीन  83: 1-3और नाप तोल में इंसाफ  करो। जब बात कहो तो इंसाफ की कहो भले मामला रिश्तेदार ही का क्यों न हो ।            अनआम ...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :नाप तोल /चोरी /जमाखोरी और मुनाफाखोरी
  September 25, 2011, 1:12 pm
ऐ लोगो जो ईमान लाए हो जब पुकारा जाए नमाज के लिए जुमे के दिन तो अल्लाह के जिक्र की तरफ  दौड़ो और खरीदना बेचना छोड़ दो, यह तुम्हारे लिए बेहतर है अगर तुम जानो।                      जुमुआ 62: 9उनमें से ऐसे लोग सुबह व शाम उसकी तसबीह करते हैं जिन्हें तिजारत और खरीदना-बेचना अल्लाह की या...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :फिजूलखर्ची/खरीदना बेचना
  September 25, 2011, 1:00 pm
और यह हकीकत है कि हमने इन्सान को अपने मां बाप के हक पहचानने की खुद ताकीद की है। उसकी मां ने निढ़ाल (दु:ख) पर निढ़ाल होकर उसे पेट में रखा। दो साल उसके दूध छूटने में लगे (इसीलिए हमने उसको नसीहत की) कि मेरा शुक्र अदा कर और अपने मां बाप का शुक्र बजा ला। आखिर तुम्हें मेरी ही तरफ  प...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :माँ बाप के अधिकार
  September 16, 2011, 9:42 am
अपने घरों में चैन से बैठी रहो और जाहिलियत की सी सज धज दिखाती न फिरो, नमाज कायम करो, जकात दो, अल्लाह और उसके रसूल की इताअत करो।                                     अहजाब 33: 33और अपने पांव जमीन पर इस तरह मारती हुई न चला करो कि उनकी छिपी हुई जीनत लोगों को मालूम हो जाए और अपने सीनों पर दुपट्टे डा...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :इस्लाम में पर्दा
  September 16, 2011, 9:19 am
तुम में से जो मर्द और औरत बगैर शादी के हों उनका निकाह कर दो और अपने गुलाम व लोंडियां जो नेक हों उनका निकाह कर दो। अगर वे गरीब होंगे तो अल्लाह अपने फजल से उनको मालदार कर देगा और अल्लाह बड़ी समायी वाला और इल्म वाला है।                             नूर 24: 32और अल्लाह की निशानियों में एक अहम ...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :
  September 15, 2011, 8:26 am
 सब मिलजुल कर अल्लाह की रस्सी को मजबूत पकड़ लो और तफरके (अलग अलग फिरकों में बंट जाना) में न पड़ो।                                             आले इमरान 3: 103       (अल्लाह की रस्सी का अर्थ कुरआन मजीद) मोमिन तो एक दूसरे के भाई हैं  इसलिए अपने भाइयों के दरमियान ताल्लुकात (संबंधों) को ठीक करो और अल्...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :समाज में रहने के नियम
  September 15, 2011, 8:15 am
ऐ लोगो जो ईमान लाए हो सब्र और नमाज से मदद लो, अल्लाह सब्र करने वालों के साथ है। और जो लोग अल्लाह की राह में मारे जाएं उन्हें मुर्दा न कहो, ऐसे लोग तो हकीकत में जिन्दा हैं, लेकिन तुम्हें उनकी जिन्दगी का शऊर (समझ) नहीं होता,  और हम जरूर तुम्हें डर और खतरे, भुखमरी, जान व माल के नुक...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :सब्र
  September 6, 2011, 10:45 am
नेकी यह नहीं है कि तुमने अपने चेहरे पूरब की तरफ  कर लिए या पश्चिम की तरफ, बल्कि नेकी यह है कि आदमी अल्लाह को और अन्तिम दिन (कयामत) और फरिश्तों को और अल्लाह की उतारी हुई किताब और उसके पैगम्बरों को दिल से माने, और अल्लाह की मोहब्बत में अपना दिल पसंद माल रिश्तेदारों, और यतीमों ...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :नैतिक मूल्य
  August 30, 2011, 6:18 am
बेशक सबसे पहली इबादतगाह जो इंसानों के लिए बनाई गई वही है जो मक्का में है। इसको खैरो बरकत दी गई थी और तमाम दुनिया वालों के लिए मार्गदर्शन (हिदायत) के लिए केन्द्र बनाया गया था। इसमें खुली हुई निशानियां हैं। इब्राहीम का इबादत का स्थान है और इसका हाल यह है कि जो इसमें दाखिल ह...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :हज
  August 29, 2011, 6:32 am
हिदायत है उन परहेजगारों (वे लोग जो अल्लाह से डरते हुए पापों से दूर रहते है) के लिए जो  गैब पर ईमान लाते हैं, नमाज कायम करते हैं, और जो कुछ हमने इन्हें दिया है उसमें से (अल्लाह की राह में) खर्च करते हैं।                                                   बकर 2: 2-3बेशक कामयाब हो गए ईमान वाले जो अपनी नम...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :जकात
  August 29, 2011, 6:07 am
ऐ लोगो जो ईमान लाए हो, तुम पर रोजे फर्ज कर दिए गए हैं, जिस तरह तुमसे पहले पैगम्बरों के मानने वालों पर फर्ज किए गए थे । उम्मीद है कि  इनसे तुम्हारे अंदर तकवा (परहेजगारी) पैदा होगा । चंद तय दिनों के रोजे हैं। अगर तुम में से कोई बीमार हो, या सफर पर है तो दूसरे दिनों में इतनी गिनत...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :रोजा
  August 28, 2011, 6:52 am
ऐ इन्सानो!  इबादत (बन्दगी, वंदना) करो अपने रब की जिसने तुमको पैदा किया और उनको जो तुमसे पहले हुए हैं - ताकि तुम जहन्नम (नर्क, दोजख) से बचे रहो। उस परवरदिगार की इबादत करो, जिसने तुम्हारे लिए जमीन को फर्श बनाया और आसमान को छत की तरह ऊँचा किया। फिर ऊपर से पानी बरसाया और इससे तरह-...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :नमाज
  August 28, 2011, 6:21 am
कुफ्र (इनकार) व शिर्क (अल्लाह के साथ किसी को साझी  बनाना)कह दो: ऐ इनकार करने वालो (न मानने वालो) मैं उनकी इबादत (बन्दगी, पूजा) नहीं करता जिनकी इबादत तुम करते हो। न तुम उसकी इबादत करने वाले हो जिसकी                                                                                             इबादत मैं करता हूँ। और न म...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :शिर्क व कुफ्र
  August 27, 2011, 5:57 am
 ऐ ईमान लाने वालो!  ईमान (पक्का यकीन ) लाओ अल्लाह पर, और उसके पैगम्बर पर और उस किताब पर जो उसने अपने पैगम्बर पर उतारी है और हर उस किताब पर जो उससे पहले वो उतार चुका है। और जिसने अल्लाह और उसके फरिश्तों और उसकी किताबों और उसके पैगम्बरों और आखिरी दिन से इनकार किया तो वह भटककर ब...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :ईमान व अमल
  August 25, 2011, 6:42 am
हमने हर उम्मत (कौम, गिरोह, समाज)  में रसूल भेजा।और उनके जरिए से सबको खबरदार कर दियाकि अल्लाह की बंदगी (वंदना) करोऔर  तागूत की बंदगी से बचो।(तागूत-देवता और नेता जो इंसान और ईश्वर के बीच में खड़े होकर  इंसान को बुराई की तरफ  ले जाए -शैतान और बुराई की शक्तियां)                              ...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :पैगम्बर व रसूल
  August 25, 2011, 6:06 am
कहो, वो अल्लाह है यकता (एक ही है)।अल्लाह सबसे बेनियाज (वह किसी का मोहताज नही,जो बालातर है, जो लाजवाब हो, जो कामिल होऐसे गुणों  में सबसे ऊँचा)हैसब उसके मोहताज हैं ।न उसकी कोई औलाद हैन वह किसी की औलाद।और कोई उसका हमसर (मानिंद,रुतबे में बराबर) नहीं है ।                                            ...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :अल्लाह
  August 23, 2011, 6:10 am
अलफातिहाअल्लाह के नाम से जो बेइंतेहा मेहरबान और रहम करने वाला है।तारीफ अल्लाह ही के लिए है जो तमाम कायनात (जहानों) का रब है। निहायत मेहरबान और रहम फरमाने वाला है । रोजे जजा (इंसाफ का दिन ) का मालिक है । हम तेरी ही इबादत करते हैं और तुझी से मदद मांगते हैं । हमें सीधा रास्ता ...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :अलफातिहा/पहली वही/दूसरी वही
  August 21, 2011, 8:00 am
   यहअल्लाह की किताब है  इसमें कोइ शक नहीं ।    हिदायत है उन परहेजगार लोगों के लिए      जो गैब (बिनदेखे) पर ईमान लाते हैं ।        नमाज कायम करते है।  जो रिज्क (धन-दौलत, सामान ) हमने उनको दिया है  उसमें से खर्च करते है।  और जो किताब (कुरआन) तुम पर ...
क़ुरआन सबके लिए...
क़ुरआन सबके लिए
Tag :क्या कहता है
  July 3, 2010, 9:28 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163559)