Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/hamariva/public_html/config/conn.php on line 13
रौशन सवेरा : View Blog Posts
Hamarivani.com

रौशन सवेरा

कई साल पहले सिएटल (अमेरिका) में विकलांगो के लिये विशेष औलंपिक खेल आयोजित किये गए। औलंपिक की 100 मीटर दौङ के मुकाबले में 9 प्रतियोगी शामिल हुए। सभी शारीरिक और मानसिक रूप से असहाय थे। दौङ की घोषणा हुई। घावको ने जगह संभाली और रैफरी के बंदूक के इशारे पर ही धावक लक्ष्य की ओर दौङ...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 26, 2012, 1:22 pm
     गुजरात का डाडींया आज लगभग पूरे भारत में जोर शोर से मनाया जाता है। शनिवार की शाम डांडिये की मनोहारी प्रस्तुती हमारी संस्था में भी हुई। पूरे जोश एवं उल्लास के साथ बच्चियों ने गरबा नृत्य किया जो बहुत ही स्पेशल था क्योंकि ये गरबा दृष्टीबाधित बच्चियों द्वारा प्रस्तुत...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 21, 2012, 10:30 pm
मेरी बस इतनी सी तमन्ना है किमुझे छूना है आकाश कोन चाँद तक जाना है,न सूरज को पाना है।दुनिया से ऊँचे उठ कर मुझे, साबित करना है अपने आप को।।मेरी बस इतनी सी तमन्ना है कि मुझे छुना है आकाश को।।कोई साथ दे या न दे,कोई साथ चले या न चले।अपने ही हाँथों से मुझे, बनाना है अपनी राह को।।म...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 19, 2012, 6:25 pm
शक्ति की उपासना का पर्व शारदेय नवरात्र प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल से मनाया जा रहा है। ऐसा कहा जाता है कि सर्वप्रथम श्रीरामचंद्रजी ने इस शारदीय नवरात्रि पूजा का प्रारंभ समुद्र तट पर किया था और उसके बाद दसव...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 16, 2012, 1:14 pm
             एक महान विचारक, विद्वान, विज्ञानविद और उच्च कोटी के मनुष्य,भारत के 11वें राषट्रपति डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम, एक ख्याती प्राप्त वैज्ञानिक इंजीनियर जिन्होने भारत को उन्नत देशों के समूह में सबसे आगे लाने के लिये प्रक्षेपण यानो तथा मिसाइल प्रऔद्योगिकी के क्षेत्र...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 13, 2012, 11:50 am
 ऐसा कौन व्यक्ती होगा जो हल्दी से परिचित न होगा। यह इतनी लोक प्रियवस्तु है कि मनुष्य प्रतिदिन इसका उपयोग करता है। हल्दी मसाला ही नही धार्मिक, आर्थिक और स्वास्थ की दृष्टी से भी अपना प्रथम स्थान रखती है। विभिन्न भाषाओं में हल्दी को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। जैसे- सं...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 11, 2012, 6:38 pm
अपने पूर्वजों के प्रति स्नेह, विनम्रता, आदर व श्रद्धा भाव से किया जाने वाला कर्म ही श्राद्ध है। यह पितृ ऋण से मुक्ति पाने का सरल उपाय भी है। इसे पितृयज्ञ भी कहा गया है। हर साल भाद्रपद पूर्णिमा से अश्विन मास की अमावस्या तक श्राद्ध पर्व का आयेजन चलता है।ब्रह्मपुराण के अन...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 8, 2012, 10:43 am
बेटी तो बेटी होती है,चाहे वो कानून के रखवालों की हो या आम जनता की या स्वयं कानून की रक्षाकर्मी,किसी को भी दहेज रूपी वायरस अपना निशाना बना सकता है। ये विषाणु अमीर गरीब, साक्षर-निरिक्षर, क्या नेता, क्या अभिनेता किसी को भी नही देखता, इसके लिये तो सिर्फ बेटी नाम ही काफी है।  ब...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 4, 2012, 11:27 pm
वर्षों पूर्व एक ही दिवस परन्तु वर्षकाल का अंतर, दो सितारे भारत की पुण्य भूमि पर अवतरित हुए । दोनो ही विभूतियों ने लोगों में भाई-चारा, शान्ती, सत्य़ एवं अहिंसा का संदेश स्वयं के शालीन एवं सौम्य कर्तव्यों के माध्यम से जन मानस में जागृति का आह्वान किया। एक अहिंसा का पुजारी ...
रौशन सवेरा...
Tag :
  October 1, 2012, 3:43 pm
   शरद ऋतु की भीनी भीनी ठंडके मौसम में मित्रों, सुबह – सुबह अदरक की चाय मिल जाए तो पूरा दिन ताजगी भरा हो जाता है। चाय के साथ – साथ भोजन को जायकेदार बनाने वाले अदरक की दिलचस्प बात ये है कि वो खूबसूरती को भी बढाता है। अदरक को फल, सब्जी या दवा भी मान सकते हैं। वास्तव में अदरक भू...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 27, 2012, 6:34 pm
उत्सव जीवन दर्शन है। कहते हैं, सात वार नौ त्यौहार वाला देश है भारत। भारतवर्ष में विभिन्न संस्कृतियों का समागम है। सर्व विदित है कि प्रथम पूज्य मंगल मूर्ती श्री गणेंश उत्सव से ही सभी त्यौहारों का श्री गणेश होता है। जिस तरह सात रंगो के इंद्रधनुष से आकाश की खूबसूरती में ...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 23, 2012, 9:51 pm
  रिद्धी सिद्धी के देवता, काटो सर्व कलेश।सर्व प्रथम सुमिरन करें, गौरी पुत्र गणेश।।गणेश जी बुद्धि के देवता  हैं। हमें जीवन में लक्ष्य की प्राप्ति गणेश जी कीअनुकंपा (बुद्धि) से ही मिल सकती है। गणेश जी,पूजा-पाठ के दायरे से बाहर निकलकर हमारेजीवन से इतना जुड गए हैं कि किसी भ...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 19, 2012, 6:42 am
    आज जहाँ देखो वहाँ युवा वर्ग बड़े रौष में नजर आता हैं जरा-जरा सी बात पर इरीटेट(irritate)हो जाना उसकी आदत बनती जा रही है। समाचार पन्नों में आये दिन पढऩे को मिलता है कि किसी 14-15साल के बच्चे ने अपने सहयोगी की हत्या कर दी या कहीं किसी ने अध्यापक को मार दिया। कहीं किसी युवा ने लडक़ी प...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 16, 2012, 10:08 am
    हिन्दी संवैधानिक रूप से भारत की राजभाषा है। संसार में जितनी भी भाषा बोली जाती है उनकी अपनी विषेशता होती है एवं अपना साहित्य होता है। संसार में जितनी भी भाषा बोली जाती है उनके ज्ञान से मानवीय विचारों का आदान प्रदान सरलता से होता है, किन्तु अपनी भाषा में अपनापन है। इस...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 14, 2012, 10:57 am
 मानव एक सामाजिक प्राणी है। वह अपने हर कार्य के लिये प्रत्यक्षतः या अप्रत्यक्षतः किसी न किसी का सहयोग चाहता है। उसे अपने हर कार्य में दूसरों के सहयोग की आवश्यकता होती है। ईश्वर ने भी हम सब को ऐसे सिसटम में बांधा है कि बिना सहयोग के हम सरवाइव नही कर सकते। प्रकृति के सहयो...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 9, 2012, 2:48 pm
 भारत भूमि पर अनेक विभूतियों ने अपने ज्ञान से हम सभी का मार्ग दर्शन किया है। उन्ही में से एक महान विभूति शिक्षाविद्, दार्शनिक, महानवक्ता एवं आस्थावान हिन्दु विचारक डॉ. सर्वपल्लवी राधाकृष्णन जी ने शिक्षा के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दिया है। उनकी मान्यता थी कि यदि सही...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 4, 2012, 10:23 pm
आज की भागम भाग जिंदगी में, दफ्तर से घर– घर से दफ्तर के चक्कर में हम कहीं खो गये हैं। हम सभी अपनी – अपनी जिमेदारियों में व्यस्त हैं। सबकी पसंद नापसंद का ख्याल रखते हुए अक्सर खुद को भूल जाते हैं।सब कुछ फिट रखने के चक्कर में  खुद को सबसे ज्यादा अनफिट रखते हैं। रूटीन लाइफ जीत...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 4, 2012, 11:39 am
कुछ पाकर खो देने का डर कुछ न पा सकने का भय, जिन्दगी की गाङी पटरी से उतर न जाए इन्ही छोटी-छोटी चिन्तओं के डर से घिरी रहती है जिन्दगी लेकिन जिस वक्त हम ठान लेते हैं कुछ नया करने का तभी जन्म लेता है साहस। साहस तभी आता है जब आपके पास एक मकसद हो, एक जूनून हो। कह सकते हैं कि साहस एक ...
रौशन सवेरा...
Tag :
  September 1, 2012, 11:05 am
                        यह कैसी आधुनिकता          हमें वो वक्त याद आता है जब संयुक्त परिवार हुआ करते थे, हर कोई एक दूसरे के सुख-दुख का साथी था। आज जाने अनजाने में या मजबूरी में खुशियों केवो पल हम सबसे दूर हो गयेहैं। आज पैसा सर्वोपरिहो गया, रिश्ते गौंण हो चुके है, मोह-माया का अर्थ  ...
रौशन सवेरा...
Tag :
  August 29, 2012, 11:12 pm
                                       हँसने केफायदेआज की भाग दौङ भरी जिंदगी, ऊपर से काम का प्रेशर हममे में से कई लोगों को तो याद भी न होगा कि पिछली बार कब खिलखिला कर हँसे थे। जबकी हँसना हम सभी के लिये अति महत्वपूर्ण है किन्तु हम उसे नजर अंदाज कर देते हैं। मित्रों हँसने से हमारी जि...
रौशन सवेरा...
Tag :
  August 28, 2012, 11:54 pm
        मन के हारे हार है, मन के जीते जीत है      मनुष्य के जीवन में पल-पल परिस्थितीयाँ बदलती रहती है। जीवन में सफलता-असफलता, हानि-लाभ, जय-पराजय के अवसर मौसम के समान है, कभी कुछ स्थिर नहीं रहता। रात है तो दिन भी है।‘इंद्रधनुष के बनने के लिये बारिश और धूप दोनों की जरूरत होती है...
रौशन सवेरा...
Tag :
  August 28, 2012, 11:37 pm
            स्वामी विवेकानंद जी ने कहा है कि--विश्वमें अधिकांश लोग इसलिए असफल हो जाते हैं, क्योंकि उनमें समय पर साहस का संचार नही हो पाता और वे भयभीत हो उठते हैं।स्वामीजी की कही सभी बातें हमें उनके जीवन काल की घटनाओं में सजीव दिखाई देती हैं। उपरोक्तलिखे वाक्य कोशिकागो की ...
रौशन सवेरा...
Tag :
  August 28, 2012, 11:21 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3712) कुल पोस्ट (171561)