Hamarivani.com

गीतों की महफिल

जुलाई महीने में सूरत में भतीजी का विवाह था और वहां पूजा घर में कौड़ियों से सजी एक इडाणी (इडोनी/इढोनी...सर पर मटकी रखने से पहले रखने वाली कपडे की रिंग) दिख गई, फोटो खींचने की वंशानुगत बीमारी के कारण मन ललचा गया तो फटाफट इडाणी के फोटो खींच लिए।इडाणी, ईडो रविवार को छुट्टी थी त...
गीतों की महफिल...
Tag :Rajasthani Folk Music
  August 28, 2016, 8:56 pm
इस बार का सावन भी यूं ही सूखा बीत गया... आँखे तरस गई उन बूंदों के लिए जिन के तन पर गिरने से तन ही नहीं मन झूम भी उठता है। लेकिन तन को शीतलता तो जब मेहा आएंगे और बरसेंगे तब ही महसूस होगी  पर मन की शीतलता के लिए शास्त्रीय संगीत ने हमें बहुत से राग दिए उनमें से एक है राग "मियां की ...
गीतों की महफिल...
Tag :Miyan Ki Malhar
  September 7, 2015, 9:30 am
45-46 डिग्री की गर्मी से हाल बेहाल है। इंतजार है कब बादल आएं और बरसे जिससे तन और मन को शीतलता मिले। लेकिन कुदरत के खेल कुदरत जाने, जब इन्द्र देव की मर्जी होगी तभी बरसेंगे। गर्मी से परेशान तन को शीतलता भी तब ही मिल पाएगी लेकिन मन की शीतलता! उस का ईलाज तो है ना हमारे पास। सुन्...
गीतों की महफिल...
Tag :Lata Ji
  June 2, 2014, 10:13 pm
कभी राजस्थान कोकिला के रूप में राजस्थानी गायकी में अपनी धाक जमाये रखने वाली कलाकार धीरा सेन पर वीणा समूह की कला और संस्कृति को समर्पित मासिक पत्रिका ‘स्वर सरिता’ के जनवरी 2014 अंक में छपा यह आलेख शायद आपको पसंद आये: राजेंद्र बोड़ाइस सुंदर पोस्ट को महफिल्म ब्लॉग पर पोस्ट ...
गीतों की महफिल...
Tag :Dheera Sen
  January 15, 2014, 9:00 am
 रोज सुबह उठते ही मेरा सबसे पहला काम होता है या तो रेडियो सुनना या टीवी पर समाचार देखना, कल सुबह जैसे ही टीवी चालू किया... दिल धक्‍क रह गया। सामने स्क्रीन पर लिखा हुआ दिख रहा था सुप्रसिद्ध गायक मन्‍ना दा नहीं रहे! पूरे समाचार को देखते और बीच-बीच में दिखाए जा रहे गानों को ...
गीतों की महफिल...
Tag :Manna Dey
  October 25, 2013, 12:14 pm
मैने महफिल में अब तक सबसे ज्यादा किसी संगीतकार के गीतों को सुनवाया है तो वे हैं "अनिल विश्वास (अनिलदा)। कई गीत सुनवाने के बाद भी लगता है अभी बहुत से गीत हैं जो संगीत रसिकों के कानोंसे बहुत दूर हैं। मैं ऐसे ही गानों को खोजता रहता हूँ, जिनकी चर्चा कहीं नहीं होती या अगर होती ह...
गीतों की महफिल...
Tag :Anil viswas
  February 10, 2013, 9:00 am
कम चर्चित या अनसुने गीतों की श्रेणी में आज प्रस्तुत है कमल मित्रा द्वारा संगीतबद्ध एवं मन्नाडे द्वारा गाया हुआ एक गीत। सुप्रसिद्ध गायक मन्नाडे के गाए हुए अभी भी बहुत से ऐसे कई गीत हैं जिन्हें मन्नादा के प्रशंसकों ने नहीं सुने हों उनमें से एक गीत यह भी है।  कमल मित्...
गीतों की महफिल...
Tag :कमल मित्रा
  February 2, 2013, 9:00 am
सी रामचन्द्र और लता जी की जोड़ी ने एक से एक मधुर और सुन्दर गीत हमें दिए, पर संयोग से महफिल ब्लॉग में इस जोड़ी का अब तक एक ही गीत आ पाया है। शायद लता जी सी रामचन्द्र के अधिकतम गीतों का बेहद लोकप्रिय होना इस का सबसे बड़ा कारण रहा कि उनके कम चर्चित गीतों को खोजना बहुत मुश्किल है...
गीतों की महफिल...
Tag :C. Ramchandra
  January 31, 2013, 9:00 am
आजकल पंकज राग लिखित पुस्तक (ओनलाईन) "धुनों की यात्रा" को उल्टे सीधे क्रम में पढ़ रहा हूँ, जिस दिन जो पृष्‍ठ सामने आ गया उसी को पढ़ने लगता हूँ।कल अनिल विश्‍वास को पढ़ा आज गुलाम हैदर आदि को अभी कुछ देर पहले स्‍नेहलभाटकर जी का अध्याय पढ़ना शुरु किया है। भाटकर साहब को हम "कभी तन्ह...
गीतों की महफिल...
Tag :केदार शर्मा
  December 23, 2012, 9:00 am
मैनेअबतकमहफिलमेंजिन  गीतोंकोशामिलकियेहैं; कोशिशरहीहैकिवेअनसुने-दुर्लभयाउनमेंकुछखासबातहो।इनगीतोंमेंसेअधिकतरआजरेडियोपरसुनाईनहींपड़ते।इसश्रेणीमेंआजएकऔरअदभुदगीतआपकेलिएप्रस्तुतहै।जैसाकिहम  जानतेहैं  पंनरेन्द्रशर्माकालिखा,  सुधीरफड़के द्वारासंगीतबद...
गीतों की महफिल...
Tag :Sudhir Fadke
  October 5, 2012, 8:00 am
कई बार मैं सोचता हूँ कि अगर कि  कि फंला गीत को फलां गायक के बजाए फंला गायक/ गायिका ने गाया होता तो?  इसी पर शोध करते हुए और युट्यूब पर सर्फिंग करते हुए मुझे कई बार कमाल की  चीजें मिल जाती है।  कई ऐसे गाने मिले हैं जो प्रसिद्ध  हुए किसी और गायक के गाने पर लेकिन उनका दूसरा वर्ज...
गीतों की महफिल...
Tag :श्याय
  July 23, 2012, 8:00 am
मेरी चाहत में तो कोई भी कमी भी नहीं थी। मैने हर पल तुम्हें ही चाहा, हर पल तुम्हें ही पूजा। फिर भी जैसे ही मौका मिला तुमने मुझे टुकरा दिया।वह दिन मुझे आज भी याद हैजब जब मेरी गोदी में सर रख कर सोतेऔर कहते कितुम्हारी गोद में दुनिया का सूकून हैमैं इतरातीअपनी ही किस्मत से इर्ष...
गीतों की महफिल...
Tag :Habib Wali Md.
  February 23, 2012, 5:40 pm
दुनियाँ की सबसे सुरीली आवाज, लता मंगेशकर का आज तिरासीवां जन्म दिन है। लता जी पर इतने शब्द लिखे जा चुके कि और कुछ लिखना सही नहीं होगा।हमने श्रोता बिरादरी ब्लॉगपर लता उत्सव के रूप में पिछले १२ दिनों से कई सुन्दर गीत आपको सुनवाये, पर लता उत्सव मनाने के लिए १२ दिन बहुत कम है...
गीतों की महफिल...
Tag :Sudhir Fadke
  September 28, 2011, 8:12 pm
लताजी ने हजारों गीत गाए, लेकिन आज भी कई गीत हैं जो दुर्लभ से हैं। मैने अपनी पिछली पोस्ट्स में कई बार यथा संभव कोशिश की है कि लता जी के उन दुर्लभ गीतों को महफिल में पोस्ट करूं कि जिन लोगों ने इन्हें नहीं सुना है वे भी लताजी के उन सुमधुर गीतों को सुन कर आनंदित हो सकें। इस श्र...
गीतों की महफिल...
Tag :Anil viswas
  July 23, 2011, 8:50 am
रफी साहब की एक दुर्लभ गज़लआज आपके लिए मो. रफी साहब की एक दुर्लभ गैर फिल्मी गज़ल, इसे लिखा है सुदर्शन फ़ाकि़र ने और संगीतकार के बारे में जानकारी नहीं है। अगर आप इस गज़ल के संगीतकार के बारे में जानते हैं तो टिप्पणी लिख कर बताईये। मैं उसे बाद में पोस्ट में जोड़ दूंगा।एक ही बात ज...
गीतों की महफिल...
Tag :Gazal
  April 6, 2011, 8:50 am
एक और गीत- रफी साहब और हबीब वली मोहम्मद साहब आवाजों में पिछली पोस्ट में आपने हबीब वली मोहम्म्द की आवाज में एक सुन्दर गज़ल शमशीर बरहना माँग गज़बसुनी। चलिए आज आपको आज एक और सुन्दर गीत सुनाते हैं। आज आपके लिए एक प्रश्‍न है कि आप इन दोनों गीतों को सुनकर दिल से और बिना पक्षपात ...
गीतों की महफिल...
Tag :नौशाद
  March 29, 2011, 8:50 am
बहादुर शाह ज़फ़र की एक गज़ल- दो आवाजों मेंइतने दिनों तक ब्लॉग से दूर रहने के बाद कुछ लिखना बहुत मुश्किल काम है। लेकिन पिछले दिनों इनटरनेट के अमृतमंथन में संगीत रूपी कई अनमोल गीत मिले। कई दिनों से सोच रहा हूँ कि फिर से शुरुआत कैसे करूं लेकिन आखिरकार आज मौका मिल ही गया। एकाद...
गीतों की महफिल...
Tag :बहादुर शाह ज़फ़र
  March 26, 2011, 8:50 am
अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा देंकुछ दर्द कलेजे से लगने के लिये हैस्व. मुकेश जी को पुण्य तिथी पर हार्दिक श्रद्धान्जली। आज मैं आपको मुकेशजी की गाई एक नायाब गैर फिल्मी गज़ल सुना रहा हूँ। इस गज़ल को लिखा है जानिंसार अख्तर ने और संगीत दिया है खैयाम साहब ने।आईये सुनते हैं।...
गीतों की महफिल...
Tag :khaiyam
  August 27, 2010, 4:04 pm
आज सुबह अपने खज़ाने में सेइकबाल बानो/Iqbal Banoकी गज़लों को सुन रहा था, अचानक एक ऐसी गज़ल बजने लगी कि दिल झूमने लगा। इसे मैने पहले कभी भी नहीं सुना था, मेरे अपने संग्रह में होने के बावजूद...... एक बार से मन नहीं भरा.. बार बार सुनी। फिर मन हुआ कि क्यों ना आपको भी सुनवाया जाये। वैसे भी मह...
गीतों की महफिल...
Tag :Iqbal Bano
  June 24, 2010, 8:43 am
आज की पोस्ट में कोई गाना नहीं सुनायेंगे पर आपको गाने के खजाने की चाबी नहीं बल्कि चाबियों का गुच्छा ही थमा देंगे। लूट लें जितना लूटने की हिम्मत आपमें है।अन्तर्जाल पर गाने सुनाने वाले बहुत से जालस्थल हैं, पर वे सिर्फ फिल्मवाइज गाने ही सुनाते हैं या फिर गाने डाउनलोड करन...
गीतों की महफिल...
Tag :
  April 26, 2010, 8:50 am
कुछ दिनों पहले मास्साब पंकज सुबीर जी के चिट्ठेपर, महान गायक पं कुमार गन्धर्व के सुपुत्र पं मुकुल शिवपुत्र के बारे में पढ़ा था कि कुमार गंधर्व के सुपुत्र मुकुल शिवपुत्र शराब के लिए भोपाल की सड़कों पर दो- दो रुपयों के लिए भीख मांग रहे हैं। यह समाचार पढ़ कर मन बहुत आहत हो गया...
गीतों की महफिल...
Tag :suresh wadekar
  February 22, 2010, 8:50 am
-गीतकार आदरणीय पंडित नरेन्द्र शर्माजी को उनकी पुण्यतिथी (11 फरवरी) पर सादर समर्पित-आप कल्पना कीजिये अगर हिन्दी के सुप्रसिद्ध गीतकार पंडित नरेन्द्र शर्माजी (Pt. Narendra Sharma), जिनके अधिकांश गीत शुद्ध हिन्दी में लिखे गये हैं; अगर उर्दू में गीत लिखें तो! अच्छा ऐसा कीजिये कल्पना मत ...
गीतों की महफिल...
Tag :Ali akbar khan
  February 14, 2010, 8:50 am
ना; यह गुड्डी फिल्म वाला बोले रे पपीहरा नहीं है! यकीनन आपने यह गीत नहीं सुना होगा।पिछली पोस्ट में गड़बड़ हुई थी ना, सुमन कल्याणपुर जी के गीत को रूना लैला का बता दिया और मैटर सुमनजी की गज़ल का लिख दिया था। बहुत बड़ा घोटाला हो गया था उस दिन। उसे सुधारने का आज नये साल के दिन एकदम ...
गीतों की महफिल...
Tag :रूना लैला
  January 1, 2010, 9:55 am
कल जल्दबाजी में बहुत बड़ी गड़बड़ हो गई। रूना लैला के गीत पर पोस्ट लिखना चाह रहा था, मैटर लिख दिया और कॉफे में कुछ ग्राहक आ गये तो उन्हें निबटाने के बाद जब वापस काम शुरु किया तो यह याद ही नहीं रहा कि गीत कौनसा पोस्ट करना है।गाना सुना... वह मिर्जा गालिब का था। और उस पर मैटर को लिख...
गीतों की महफिल...
Tag :
  December 30, 2009, 5:37 pm
आपने मिर्ज़ा गालिबمرزا اسد اللہ خان की सुप्रसिद्ध गज़लदिलेनादांतुझेहुआक्याहै... कई गायकों की आवाज में सुनी होगी। लगभग सभी गायकों ने इस सुन्दर गज़ल को अपने अपने तरीके से गाया। कुछ बहुत प्रसिद्ध हुई और कुछ गुमनामी के अंधेरे में खो गई।आज सुनिए इस सुन्दर गज़ल को सुमन कल्याणपुर क...
गीतों की महफिल...
Tag :मिर्ज़ा ग़ालिब
  December 30, 2009, 8:30 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163788)