Hamarivani.com

मुक्ताकाश....

[दूसरी किस्त]दूसरे दिन पिताजी इसी निश्चय के साथ उठे और उन्होंने हमें बताया--"मैंने निर्णय ले लिया है, मैं दिल्ली जाउंगा." मैंने झट-से कहा--"मैं जानता था, आप यही निश्चय करेंगे." उन्होंने पूछा--"तुम कैसे जानते थे ?" मैंने उन्हीं का बार-बार का कहा वाक्य दुहरा दिया. वह हंस पड़े और बो...
मुक्ताकाश.......
Tag :
  September 13, 2012, 11:03 am
विक्षुब्ध भाव से दूब वृक्ष से बोली हंसकर--'हे महावृक्ष !तुम्हारी विराट छाया मेंहर्षित-प्रफुल्लित ही रहती हूँ;किन्तु, मुझे धूप नहीं मिलतीखुला आकाश नहीं मिलताइस कारण से--तुम्हारी तरह महावृक्ष बन नहीं पाती,किसी को छाया का सुख दे नहीं पाती;क्या करूँ ?'महावृक्ष थोड़ी देर मौ...
मुक्ताकाश.......
Tag :
  August 13, 2012, 1:21 pm
अपना सारा फल देकरवृक्ष मुस्कुरायाऔर उमंग में भरकरउसने कोमल टहनियों को ऊपर उठाया;जैसे अपने हाथ उठाकर सिरजनहार को धन्यवाद दे रहा हो,कृतज्ञता ज्ञापित कर रहा होऔर भार-मुक्त करने के लिएआभार व्यक्त कर रहा हो !मैंने पूछा--'हे वृक्ष !अपना सब कुछ देकरतुम खुश कैसे होते हो ?क्या अ...
मुक्ताकाश.......
Tag :
  July 31, 2012, 11:16 am
बात औकात की नहीं,बात हिम्मत की है,साहस की है ;लेकिन हाथों में पत्थर लिए लोगपहले से तैयार दीखते हैंऔर छाती ठोंककर पूछते हैं सवाल--'इतना साहस कोई कैसे कर सकता है ?समूचे तंत्र की शक्ल-सूरत बदलने का दमकोई कैसे भर सकता है ?कोई कैसे कर सकता है--अनुचित को अनुचित कहने का साहस ??'और अन...
मुक्ताकाश.......
Tag :
  July 25, 2012, 10:58 pm
कुछ तकलीफेंजी भरकर रो न सकींरुआंसी हो कर रह गईंहमेशा के लिए...!उस पौधे के कंटीले तन परएक गुलाब खिला--मुस्कुराता हुआ !मैंने पूछा--ये हंसी कैसी ?वह बोला कुछ नहीं,काँटों के सलीब परसर्द-सा मुस्कुराया;मैंने समझा--उसने अपनों से दर्द छुपाया !जाने कब और कैसेउसके नाखून खंजर हो गएऔर ...
मुक्ताकाश.......
Tag :
  February 3, 2012, 9:18 am
वर्षनया, उत्कर्षनया, संकल्पनयालायाहै,मेरेमनकेमहावृक्षमेंपत्रनयाआयाहै।इसपल्लवपरलिखनाहैएकगीतनयाजीवनका,नएवर्षमेंबरसपड़ेसुख-मेघसमग्रमेरेमनका ![नव-वर्षपरमेरीमंगल-कामनाएंस्वीकारकरें !--आनंदव. ओझा.]...
मुक्ताकाश.......
Tag :
  January 1, 2012, 12:25 pm
[वर्षांत पर]आदमीबनकेउपजाथा--सामान्यआदमी !ज़िन्दगीभरचाहाआदमीहीबनारहूँ;लेकिनज़िन्दगीतोआदमीबननेकीकोशिशमेंहीगुज़रगई,स्याहकोसफ़ेदबनानेमेंउम्रबीतगई !अबसोचताहूँ,क्याहोगाठीक-ठाकआदमीबनकर ?छोड़ाहुआरास्ताक्याफिरमिलेगा ?औरजोबचीहुईडगरहै--वहइतनीकमहैकिउसेआदमीबनक...
मुक्ताकाश.......
Tag :
  December 28, 2011, 5:50 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163775)