Hamarivani.com

खलील जिब्रान

एक प्राचीन नगर में किसी समय में दो विद्वान रहते थे । उनके विचारों में बड़ी भिन्नता थी । एक - दूसरे की विद्या की हँसी उड़ाते थे, क्योंकि उनमे से एक आस्तिक था और दूसरा नास्तिक।एक दिन दोनों बाज़ार में मिले और अपने अनुयायियों की उपस्थिति में ईश्वर के अस्तित्व पर बहस करने लग...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - छोटी कहानियाँ
  June 30, 2012, 1:07 pm
कल रात मैंने एक नई ख़ुशी का अविष्कार किया और जब मैं पहले-पहल उसका उपभोग कर रहा था तब एक देव और एक शैतान मेरे घर की ओर झपटते हुए आए । वे मेरे दरवाज़े पर एक-दूसरे से मिले और मेरी नई रचना के सम्बन्ध में परस्पर झगड़ने लगे ।एक कहता था,    "यह पाप है।"दूसरा कहता था, "यह पुण्य है।"- ...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - छोटी कहानियाँ
  June 14, 2012, 2:12 pm
बड़ी शानो शौकत और वैभव के साथ मिट्टी मिट्टी में से जन्म लेती है । फिर यह मिट्टी बड़े गर्व और अभिमान से मिट्टी के ऊपर चलती फिरती है ।मिट्टी मिट्टी से राजाओं के लिए राजभवन और धनवानों के लिए ऊँची ऊँची मीनार और सुन्दर सुन्दर भवनों का निर्माण करती है । वह अदभुत पुराण - कथाओं क...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - महान विचार
  April 25, 2012, 3:17 pm
वे मुझे पागल समझते हैं, क्योंकि मैं अपने कीमती दिनों को चंद सोने के टुकड़ों के लिए नहीं बेचना चाहता ।और मैं उन्हें पागल समझता हूँ की उन्होंने समय को भी सोने से खरीदना चाहा।- खलील जिब्रान ...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - अनमोल वचन
  March 15, 2012, 3:23 pm
पूर्णिमा का चाँद अपनी सम्पूर्ण आभा लेकर नगर पर उदित हुआ और सभी कुत्ते चाँद की और देखकर भौंकने लगे ।केवल एक कुत्ता, जो चुप था, अपनी गंभीर वाणी में बोला "व्यर्थ में शांति को जगाकर उसकी निद्रा भंग न करो। तुम्हारे भूंकने से चाँद ज़मीन पर तो आने से रहा ।"इस पर सब कुत्तों ने भौं...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - छोटी कहानियाँ
  February 25, 2012, 12:35 pm
संसार के श्रेष्ठ चिंतक महाकवि के रूप में विश्व के हर कोने में ख्याति प्राप्त करने वाले, देश-विदेश भ्रमण करने वाले खलील जिब्रान अरबी, अंगरेजी फारसी के ज्ञाता, दार्शनिक और चित्रकार भी थे। उन्हें अपने चिंतन के कारण समकालीन पादरियों और अधिकारी वर्ग का कोपभाजन होने से जात...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - एक परिचय
  February 9, 2012, 3:30 pm
मैं मौत के बाद भी जीऊँगा,  और मैं तुम्हारे कानों में गाऊँगा,मैं तुम्हारे आसन पर बैठूँगा हालाँकि बिना शरीर केऔर मैं तुम्हारे साथ तुम्हारे खेतों में जाऊँगाएक अदृश्य आत्मा बनकर,मैं तुम्हारे पास तुम्हारी आग के सहारे बैठूँगा एक अदृश्य अतिथि बनकर,मौत तो कुछ भी नहीं बदलती, ...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - गीत / कविता
  January 25, 2012, 2:32 pm
मैंने सात बार अपनी आत्मा से घृणा की -पहली बार, जब मैंने उसे उच्चता प्राप्ति की अभिलाषा में हतोत्साह पाया|दूसरी बार, जब मैंने उसे अपंग के सामने लंगड़ाते पाया|तीसरी बार, जब उसे सरल या कठिन का चुनाव करना था और उसने सरल को चुना |चौथी बार, जब उसने एक पाप किया और यह सोचकर संतोष कर ...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - महान विचार
  January 9, 2012, 3:11 pm
ओ कुहरे मेरे भाई ! सफ़ेद साँस अभी तक किसी आकार में नहीं ढली हैमैं तुम्हारे पास वापस आ गया हूँ, एक सफ़ेद साँस और बेआवाज़ होकरएक लफ्ज़ भी अभी तक नहीं बोला,ओ कुहरे मेरे पंखों वाले भाई ! अब हम एक साथ है और साथ ही रहेंगे, जीवन के अगले दिन तक कौन सी सुबह तुम्हे ओस कि बूँद बनाकर बग...
खलील जिब्रान...
इमरान अंसारी
Tag :खलील जिब्रान - गीत / कविता
  December 20, 2011, 3:39 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163829)