Hamarivani.com

Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब

प्रकाश यादव "निर्भीक" | Prakash Yadav Nirbheek अक्सर ख़यालों में आना आपका अच्छा लगता है कुछ देर ही सही पर साथ आपका अच्छा लगता है वो बातें वो मुलाकातें जो रह गई अधूरी अब तलक ख्वाबों में ही गुफ़्तगू... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :प्रकाश यादव निर्भीक
  April 23, 2015, 9:28 pm
आबिद रिज़्वी अबरत | Abid Rizvi Abarat वो लड़की याद आती है [x3] वो जो ख्वाबोंं मेंं बसती थी मेरे दिल में उतरती थी वो जो मेरी हंसी मेंं अपनी मुस्कुराहट घोल देती थी जो मैंं दिल मेंं रखता था ज़ुबाँ से... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :आबिद रिज़्वी अबरत
  April 15, 2015, 8:45 pm
फ़रहत शहज़ाद | Farhat Shahzad शाम की फ़िक्र में सहर से गया फिर न लौटा कोई जो घर से गया जिसने देखा भी आसमान की तरफ़ आज बस वो ही बाल-ओ-पर से गया ग़म में तल्ख़ी, न आग ज़ख़्मों में ज़ायक़ा शे'र के हुनर से... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :ज़िंदगी शायरी
  March 26, 2015, 8:10 pm
फ़रहत शहज़ाद | Farhat Shahzad हर साँस में हरचंद महकता हुआ तू है धड़कन का बदन हिज्र के काँटों से लहू है दिल, गिरती हुई बर्फ़ में, ढलता हुआ सूरज जिस सिम्त भी उठती है नज़र, आलम-ए-हू है शायद के अभी... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :तन्हाई शायरी
  March 1, 2015, 1:26 am
फ़रहत शहज़ाद | Farhat Shahzad जब तन्हाई धड़कन में बसे, दिल दुखता है दो आँखों में जब आस ढले, दिल दुखता है जिन राहों पर हमराह मेरे तुम होती थीं जब साथ वहाँ सन्नाटा चले, दिल दुखता है है वक़्त मुक़र्रर,... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :sad shayari
  November 6, 2014, 2:14 am
यार को मैंने, मुझे यार ने सोने न दिया रातभर ताला-ए-बेदार ने सोने न दिया एक शब बुलबुल-ए-बेताब के... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :मोहब्बत
  May 19, 2014, 10:31 pm
सरफ़राज़ शाकिर सम्ते-कुहसार क्या है देखो तो आसमाँ झुक रहा है देखो तो बन गयी झील आइने जैसी अक्स उठा... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :रास्ता
  August 15, 2012, 10:00 am
सरफ़राज़ शाकिर सिवांची गेट, मंगलियान की गली, जोधपुर, राजस्थान पेड़ पर पानी उगायें और देखें धूप के... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :मिट्टी
  August 14, 2012, 8:00 am
अतहर नफ़ीस न मंज़िल हूँ न मंज़िल आशना हूँ मिसाले-बर्ग उड़ता फिर रहा हूँ मेरी आँखों के ख़ुश्को-तर में... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :अतहर नफ़ीस
  August 11, 2012, 8:00 am
मंज़र भोपाली दिल है हीरे की कनी, जिस्म गुलाबों वाला मेरा महबूब है दरअस्ल किताबों वाला हुस्न है -... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :मंज़र भोपाली
  August 9, 2012, 8:00 am
अक़ील नोमानी मिटा के ख़ुद को तुम्हें पाना चाहता हूँ मैं हमेशा अपने ही काम आना चाहता हूँ मैं अजीब... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :दरीचा
  August 7, 2012, 8:00 am
मुनव्वर राना ऐ अहले-सियासत ये क़दम रुक नहीं सकते रुक सकते हैं फ़नकार क़लम रुक नहीं सकते हाँ होश यह... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :प्यार
  August 5, 2012, 8:00 am
आफ़ताब अजमेरी मुहब्बत में तेरे ग़म की क़सम ऐसा भी होता है ख़ुशी रोती है और हँसता है ग़म ऐसा भी होता... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :ख़ुशी
  August 3, 2012, 2:19 pm
ए. एफ़. नज़र, सवाई माधोपुर चूल्हा-चौका फाइल बच्चे दिन भर उलझी रहती है वह घर में और दफ़तर में अब... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :पछुआ पवन
  July 30, 2012, 6:01 pm
शायिर: आफ़ताब अजमेरी यह तजरिबा हुआ है दुनिया में हमको आकर काँटों से दिल लगाओ फूलों से ज़ख़्म खाकर... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :मसलूब
  July 25, 2012, 3:17 pm
शायिर: अहमद शहज़ाद तेरे जहान में बेफल शजर नहीं मिलता बस एक अश्क है जिसका समर नहीं मिलता अन्धेरे... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :बस्ती
  July 20, 2012, 10:03 am
शायिर: प्रो. ओम 'राज़' कौन था वह जो मुझे पहचान देकर चल दिया बे-रिदा1 तहरीर2 को उन्वान3 देकर चल... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :तूफ़ान
  September 8, 2009, 2:42 pm
शायिर: वक़ील ख़ान 'बेदिल' (सम्भल) हर किसी को वफ़ा नहीं मिलती दर्दे-दिल को दवा नहीं मिलती कैसा इंसाफ़... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :दवा
  August 31, 2009, 12:24 pm
शायिर: अमीर अशरफ़ ख़ाँ 'हसरत' (खतौली) सरमाया-ए-हयात1 मुझे कुछ मिला तो है महफूज़ मुफ़लिसी में भी मेरी... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :तन्ज़
  August 21, 2009, 5:07 pm
शायिर: डॉ. इबरत बहराइची आहे-मज़लूम जब अश्कों को हवा देती है शीश महल के चराग़ों को बुझा देती है जब... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :दहलीज्
  August 7, 2009, 12:48 pm
शायिर: मोहसिन नक़वी मन्ज़र यह दिलनशीं तो नहीं दिल ख़राश है दोशे-हवा पे अब्रे-बरहना की लाश है लहरों... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :शीशाए-दिल
  August 2, 2009, 11:37 am
शायिर: कमल किशोर 'भावुक' जो मरुस्थल की प्यास बुझा दे उस सावन की आयु बड़ी है जो स्वर्णिम इतिहास रचा... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :मंदिर
  July 29, 2009, 8:30 am
शायिरा: शिबली हसन 'शैल' गर तुम्हारी कमी नहीं होती बेवफ़ा ज़िन्दगी नहीं होती हर कोई क्यों फ़रेब देता... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :फ़रेब
  July 25, 2009, 2:02 pm
शायिरा: असमा 'शब' आगरा ज़ख़्म दिल का मेरे तुम हरा मत करो बेरूख़ी से मिलो तो तुम मिला मत करो वह अगर... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :बेरुखी
  March 23, 2009, 11:04 am
शायिर: बेदिल संभली जब चमक उट्ठे तेरी याद के जुगनू कितने ख़ून बन-बनके गिरे आँख के आँसू... [यह काव्य का सारांश है, पूरा पढ़ने के लिए फ़ीड प्रविष्टी शीर्षक पर चटका लगायें...]...
Best Shayari । शायरी के खिलते गुलाब...
Tag :ज़िन्दा
  February 25, 2009, 12:49 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163786)