Hamarivani.com

Vineet Kumar Singh

आज१९अप्रैल २०१२एक बहुतगर्वकादिनरहाकीहमारीबहुप्रतीक्षितअग्नि-५आगई| इसअग्नि-५केद्वारायूरोपतककाबहुतबड़ाभूभागहमारेनिशानेपरआसकताहै| इसमिसाइलकेआजानेसेबहुतसेदेशोकेछातीपरसांपलोटरहाहै| लोटनाभीचाहिएक्युकीभारतकीगणनाएकपिछड़ेदेशमेंहोतीथीजिसकाकोईनामोनिश...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 20, 2012, 1:13 pm
कभी किसी ने सोचा की राजीव गाँधी की मृत्यु के बाद सोनिया ने गद्दी नहीं सम्हाली! तब प्रधानमंत्री नरसिम्हा  राव बने! जो काफी समय तक कुर्सी से चिपके रहे! मरने वाले थे और अचानक जीवित हो गए! खैर उनकी बात छोडें... अब बात तब की करें जब अटल बहरी वाजपेयी प्रधान मंत्री बने! ऐसा क्या हु...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 16, 2012, 10:30 pm
आज हमारा हिन्दू धर्म एक ऐसा धर्म बन गया है जहा हिन्दू एक दुसरे का ही गला काटने में आगे रह रहे हैं, पहले कुछ पाखंडियों और नेताओ जो किसी न किसी धर्म विशेष के पालनहार बने फिर रहे थे उनकी बातो में आकार बँटे और कमोबेश आज वो स्थिति और भी भयावह हो चुकी है जो घृणा  का बिज कल बोया गय...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 16, 2012, 12:51 pm
पूर्वोत्तर के आर्चबिशप का नोबल नामांकन - धर्मान्तरण को जायज़ और पवित्र ठहराने का एक भद्दा लेकिन प्रभावशाली तरीकापूर्वोत्तर में "शांति स्थापित करने के प्रयासों" के लिए गुवाहाटी के आर्चबिशप थॉमस मेनमपरामपिल को एक लोकप्रिय "इटालियन मैग्जीन" "बोलेटिनो सेल्सि...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 14, 2012, 10:43 pm
After the independence India faced many communal riots, perhaps riots being every year. But not a single government can stop the riots. Every time political parties blame one another but couldn't give any solution to stop the riots. For the riots Secular parties blame to the communal parties and communal parties blame to the double policy of secular parties but every time only public burned in the fire of riots not the politician.There is no religion, caste and ideology of a politician. But they always talk about the caste and religion, actually politicians are playing with public by these words, every time politicians won the game and public loses. Not only public loses but a nation los...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 7, 2012, 4:52 pm
www.geetagyan.comसनातन धर्म और विश्व कल्याणभारत ही धर्म और आस्था का देश है, लेकिन ऐसा नहीं कि हमारा धर्म हमें अंधविश्वास सिखाता हो या हमारी आस्थाओं के पीछे कोई तर्क ना हो। हम आध्यात्मिक हैं और इस आध्यात्म की जड़ों में भी विज्ञान और गहरी सामाजिक समझ है। आज विश्व को जब ग्लोबल वार्म...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 5, 2012, 3:48 pm
नाश तो भारत की धर्म दृष्टि में कभी स्वीकार ही नहीं किया गया है। कुछ भी नष्ट नहीं होता है। जिसे सब नाश समझते हैं हिन्दू उसमें रुप परिवर्तन मात्र देखता है। इसीलिये मृत्यु देहावसान मात्र है। पंचमहाभूतों का विलयन मात्र है, विलगाव है नाश नहीं। स्थूल से सूक्ष्म तथा सूक्ष्...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 4, 2012, 1:48 am
आजकल हमारे कुछ धर्माचार्यों ने धर्म की परिभाषा ही बदल दी है क्योकि ये सर्वधर्म समभाव तथा धरमनिर्पेक्षता की बातें करते हैं तथा बड़ी बेशर्मी के साथ सर्वे भवन्तुसुखिनः हमारा नारा है का उपदेश देते हैं. ऐसे पाखंड़ी लोग झूठे लोगों द्वारा लिखे गये साहित्य ...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 2, 2012, 11:40 pm
यहसत्यहैकीवैचारिकीऔरचिन्तनकेक्षेत्रमेंभारतीयचिन्तनजिसेहम सबहिन्दुत्त्वकेनामसेजानतेहैं, विश्वकाअकेलाविचारनहींहै. किन्तु यहसत्यहै, औरविरोधपूर्वकअथवाअविरोधपूर्वक, जिसकिसीभीरूपमें प्रत्येकव्यक्तियहस्वीकारकरताहै, किहिन्दूचिन्तनदूनियाँकासबसे पुरान...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  April 1, 2012, 1:45 pm
आए दिन इतने घोटाले होते हैं अपने इस भारत देश में पर क्या कोई बता सकता है की जिम्मेदार कौन है इसका........क्यों सारे नेता जिनपर कोई न कोई आरोप या केस है वो सांसद या विधान सभा में पहुच जाते हैं...........चोरो, लूटेरो, डकैतों, बलात्कारियो, खुनियों और यहाँ तक की देशद्रोहियों तक को हमारे...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  March 30, 2012, 8:21 pm
अंततोगत्वा सोसिअल नेट्वोर्किंग साइट्स का प्रभाव देखने को मिला दुनिया में.......दुनिया के कई कोने में बड़े-बड़े क्रांति आ गई और वहां की भ्रष्ट सरकारे या तानाशाह ख़तम हो गए.....इसमें एक बहुत बड़ा हाथ सोसिअल नेटवर्किंग साइट्स का रहा....पर वो क्रांति हमारे भारत में क्यों नहीं द...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  March 30, 2012, 6:24 pm
अभी तक कहा जाता था की भारत गांवो का देश है.....गाँव मतलब किसान....किसान मतलब  खेती......फिर भी एक और घोटाले की तरफ बढ़ता हुआ हमारा गांवो का देश भारत| घोटाला भी कौन सा.............अनाज घोटाला!अब सवाल उठता है की हमारा देश तो अनाज के उत्पादन में अग्रणी देश रहा है फिर ये अनाज घोटाला कैसे होग...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  March 29, 2012, 5:51 pm
हमारी सबसे बड़ी गलती जिसको हम में से कोई भी नहीं बोलता है!हमारे हिन्दू भाई इतने दूर हो गए हैं अपने ही भाइयो से और इतनी बड़ी खाई खुद गई है जो की पटने का नाम नहीं ले रही है और न ही उसके लिए कोई कोशिस भी कर रहे हैं| पहले हमारे सिख भाई हमसे अलग हुए जो हिंदुत्व की रक्षा के लिए सिख ब...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  March 29, 2012, 5:49 pm
जेनेरल वि. के. सिंह इमानदार या एक अपराधी!जेनेरल ने पहले अपने उम्र को ले कर केस लड़ा.जेनेरल ने सेना में भी छुपे भ्रस्ताचार को उजागर किया ताकि कोई भी देश की सुरक्षा से कोई खिलवाड़ न कर सके चाहे कोई राजनेता या उसका कोई दलाल.जेनेरल ने हमारे मंद बुद्धि प्रधान मंत्री को पत्र लि...
Vineet Kumar Singh...
Tag :
  March 29, 2012, 5:07 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163595)